इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

What is RAM Explain Types and Uses in Hindi | RAM kya hai iske Prkar or Prayog | RAM RANDOM ACCESS MEMORY क्या है

RAM  हमारे कंप्यूटर का एक मेमोरी डिवाइस है. ये एक चिप की बनी होती है जो एक मेमोरी मोड़युल को बनती है. इसे कंप्यूटर मदरबोर्ड के साथ जोड़ा जाता है. इसका काम कंप्यूटर को चलाने के साथ साथ कंप्यूटर को आउटपुट दिखाना भी होता है. बिना RAM के आपका कंप्यूटर काम नही कर पाता.


अपने कंप्यूटर में आप जब भी किसी प्रोग्राम को खोलते हो तो वो प्रोग्राम हार्ड ड्राइव से लोड होकर RAM  में आता है क्योकि RAM  हार्ड ड्राइव से ज्यादा तेज़ गति से डाटा को रीड कर सकता है. आपके कंप्यूटर में जितनी ज्यादा RAM  होगी आपका कंप्यूटर भी उतनी ही ज्यादा गति से काम कर पायेगा और उतनी ही ज्यादा डाटा आपका कंप्यूटर लोड और प्रोसेस कर पायेगा. ऐसा माना जाता है कि आप अपने CPU  को अपग्रेड करने की जगह अपनी RAM  को बढ़ा लो तो आपका कंप्यूटर ज्यादा अच्छी तरह काम करता है. 


ज्यादातर RAM को मेन मेमोरी के रूप में देखा जाता है, जैसेकि अगर आपके कंप्यूटर में 8 GB रैम है तो आपके कंप्यूटर में लगभग 8 मिलियन बाइट ( BYTE ) है,  जिसे आपका कंप्यूटर प्रोग्राम इस्तेमाल कर सकता है. इसी तरह कंप्यूटर में एक और स्टोरेज डिवाइस होता है जिसे ROM कहते है.  ROM  का इस्तेमाल सिर्फ कुछ खास डाटा को स्टोर करने के लिए होता है, जो कंप्यूटर को बूट ( BOOT ) करने में सहायक होती है. इन दोनों में अंतर ये होता है कि RAM  का इस्तेमाल कंप्यूटर प्रोग्राम को पढने और लिखने दोनों में होता है, किन्तु ROM का इस्तेमाल सिर्फ कंप्यूटर प्रोग्राम को पढने में किया जाता है. पर ये दोनों हे कंप्यूटर प्रोग्राम को चलाने के लिए बहुत अहम है.
CLICK HERE TO READ MORE POSTS ...
What is RAM Explain Types and Uses in Hindi
What is RAM Explain Types and Uses

RAM  के प्रकार :

RAM  मुख्यतः 2 प्रकार की होती है. 


1.       DRAM  ( DYNAMIC  RANDOM  ACCESS MEMORY )


2.       SRAM   ( STATIC  RANDOM ACCESS  MEMORY 


दोनों DRM और SRAM टेक्नोलॉजी में एक दुसरे से अलग अलग है और इनका काम कंप्यूटर डाटा को होल्ड करना होता है. कंप्यूटर में DRAM का इस्तेमाल ज्यादा होता है लेकिन अगर हम गति की बात करे तो SRAM की गति उससे ज्यादा होती है. हर सेकंड में DRAM  हजारो बार रिफ्रेश होती है लेकिन SRAM को रिफ्रेश करने की जरूरत नही होती और इसी वजह से ये ज्यादा तेज़ गति के साथ काम कर पाती है.


DYNAMIC  RANDOM  ACCESS  MEMORY

कंप्यूटर प्रोग्राम के फंक्शन को अपने डाटा को प्रोसेस करने के लिए कुछ कोड की जरूरत होती है तो DRAM  का इस्तेमाल कंप्यूटर में उन्ही कोड को इस्तेमाल करने के लिए किया जाता है. ज्यादातर कंप्यूटर में DRAM का ही इस्तेमाल होता है चाहे फिर वो आपका पर्सनल कंप्यूटर है या किसी कार्य करने की जगह का. RAM  कंप्यूटर मदरबोर्ड में लगे प्रोसेस के पास ही लगी होती है  ताकि ये  जल्दी से जल्दी डाटा के कंप्यूटर प्रोसस्सेर तक पहुंचने के सारे मार्गो को खोल सके.
RAM kya hai iske Prkar or Prayog
RAM kya hai iske Prkar or Prayog



DRAM  कापसिटर ( CAPACITOR ) और ट्रांजिस्टर  ( TRANSISTOR ) से बने हुए स्टोरेज सेल ( CELL ) में डाटा की हर बिट को स्टोर करता है. DRAM  को DYNAMIC स्टोरेज सेल इसलिए माना जाता है क्योकि इसे हर मिली सेकंड में रिफ्रेश करने के लिए एक नये इलेक्ट्रॉनिक चार्ज की जरूरत पड़ती है ताकि ये कापसिटर ( CAPACITOR ) से लीक हो रहे चार्ज की कमी को पूरा कर सके.


DRAM  की सबसे खास बात ये है कि इसका आकार साधारण होता है, इसकी स्पीड भी अच्छी होती है और साथ ही साथ इसकी कीमत भी बाकि के मेमोरी डिवाइस  से कम होती है. लेकिन इसमें एक कमी ये भी है कि ये बाकि के डिवाइस से ज्यादा बिजली का इस्तेमाल करता है और अस्थिर होता है.    


DRAM  से संचार के कई प्रकार होते है जैसेकि


1.       FPM  DRAM  ( FAST  PAGE  MODE  DYNAMIC  RANDOM  ACCESS  MEMORY )

कंप्यूटर में सबसे अधिक प्रयोग होने वाली DRAM,  FPM DRAM  ही है, क्योकि ये कंप्यूटर की उसी रो ( Row ) या पेज में डाटा को तेज़ गति से काम करने की अनुमति देता है. इसके लिए इसे पेज या रो के एड्रेस के डाटा की आवश्यकता होती है, जिसे पेज मोड मेमोरी भी कहा जाता है. लेकिन आजकल इसकी जगह SDRAM ने ले ली है.  


2.       EDO  DRAM  ( EXTENDED  DATA  OUT  DYNAMIC  RANDOM  ACCESS  MEMORY ) : ये डाटा के आउटपुट को तब भी एक्टिव रहने की अनुमति देता है जब कंप्यूटर में सिग्नल नही होते है, इसके लिए ये कुछ एडीसनल सिग्नल्स का प्रयोग करता है.


3.       SDRAM   ( SYNCHROMOUS  DYNAMIC RANDOM  ACCES  MEMORY )  : SDRAM  को ज्यादातर  DRAM का ही नाम माना जाता है., जो माइक्रोप्रोसेसर की क्लॉक स्पीड  (CLOCK SPEED ) को SYNCRONIZE  करता है.  इनमे सिंगल डाटा रेट के नाम हैं (SDR)  SDRAM और डबल डाटा रेट के नाम कुछ इस प्रकार है ( DDR )  SDRAM,  DDR2  SDRAM,  DDR3  SDRAM और DDR4 SDRAM.


STATIC RANDOM ACCESS MEMORY

SRAM  जब तक कंप्यूटर को पॉवर सप्लाई मिलती रहती है तब तक कंप्यूटर डाटा की हर बिट को स्टोर और रिटेन करती है. DRAM  जिसको अपना कम करने के लिए लगातार रिफ्रेश होना होता है ये बिना रिफ्रेश हुए ही अपने काम को करती है और इसी वजह से इसकी स्पीड DRAM से कहीं ज्यादा होती है. इसे रिफ्रेश करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक सप्लाई की जरूरत नही होती. इसकी कीमत DRAM  की कीमत से कहीं ज्यादा होती है, साथ ही डाटा को स्टोर करने के लिए इसे DRAM से 4 गुना जगह की जरूरत होती है. इसका इस्तेमाल Level – 1, Level – 2  के cache के लिए किया जाता है जिसे माइक्रोप्रोसेसर DRAM  से पहले चेक करता है.


SRAM  एक तरह का सेमीकंडक्टर होता है, जो डाटा को स्टोर करने के लिए बिस्टेबल लेचीनग सर्किट ( BISTABLE LATCHING CIRCUITRY ) का इस्तेमाल करता है.  साथ ही ये हाई कैपेसिटी पर काम करता है. SRAM  का इस्तेमाल भी आप अपने पर्सनल कंप्यूटर या अपने कार्य स्थल के कंप्यूटर में CPU  की फाइल्स, बाहरी Cache, CPU Cache,  हार्ड डिस्क को बफर करने इत्यादि कार्य में करते है. इसके आलावा LED स्क्रीन्स और प्रिंटर भी अपनी इमेजेज को डिस्प्ले करने के लिए SRAM  का इस्तेमाल करता है. 


SRAM  को इन भागो में बांटा गया है.

1.       ASYNCHRONOUS  STATIC  RANDOM  ACCESS  MEMORY :  इसको 3 कंट्रोल सिग्नल के द्वारा मैनेज किया जाता है. पहला CHIP SELECT ( CS ),  दूसरा OUTPUT ENABLE (OE ),  और तीसरा WRITE ENABLE ( WE ).  इनको कम गति, माध्यम गति, और ज्यादा गति के रूप में भी बांटा जाता है.


2.       SYNCHRONOUS  STATIC  RANDOM  ACCESS  MEMORY : इसमें माइक्रोप्रोसेसर साइकिल  के साथ पढने और लिखने की साइकिल को SYNCRONIZE  किया जाता है और तब ये बहुत तेज़ गति के साथ अपना काम कर पाती है. इनको Interleaved, Linear Burst, Flow – through, Pipelined, ZBT ( Zero Bus Turnaround ), Late – Write, DDR ( Double Data Rate )  और  Dual Port  के आधार पर भी बांटा जाता है.   


3.       SPECIAL  STATIC  RANDOM  ACCESS  MEMORY :  इनको मल्टीपोर्ट, FIFO और  Cache टैग के भागो में विभाजित किया जाता है. मल्टीपोर्ट SRAM चिप का निर्माण काफी खास ढंग से किया जाता है ताकि इसका इस्तेमाल तेज़ गति से काम करने वाले SRAM सेल में किया जा सके. इसमें  Synchronous और Asynchronous  FIFOs  भी साथ में काम करते है.


DRAM vs SRAM

·         DRAM  की कीमत SRAM से काफी कम होती है. क्योकि DRAM  की मेमोरी डिजाईन में एलिमेंट के नंबर हर बिट के हिसाब से कम होते है.


·         SRAM  को काम करने के लिए बार बार रिफ्रेश करने की आवश्कता नही होती क्योकि इसके कम करने का तरीका करंट के भाव पर निर्धारित होता है कि करंट एक या दो दिशाओ में बह रहा है  या फिर स्टोरेज सेल में एक चार्ज को पकडे हुए है.


·         SRAM  बिट लेवल को पढने और लिखने में सक्षम होता है साथ ही साथ इसे DRAM से तेज़ गति में प्रोसेस करने की भी छमता रखता है.


·         एक्टिव स्टेट में DRAM  को अपना काम करने के लिए SRAM  से कम पॉवर की जरूरत होती है किन्तु जब कंप्यूटर स्लीप मोड में होता है तो SRAM  अपना काम करने के लिए DRAM से कम पॉवर पर काम करता है.   

RAM RANDOM ACCESS MEMORY क्या है
RAM RANDOM ACCESS MEMORY क्या है


 What is RAM Explain Types and Uses in Hindi, RAM kya hai iske Prkar or Prayog, RAM RANDOM ACCESS MEMORY क्या है, Random Access Memory, Explain RAM and its uses, How many types of RAM, RAM को अच्छी तरह से विस्तार दो.


YOU MAY ALSO LIKE 

राहू नक्षत्र के अचूक उपाय
- केतु की कुद्रष्टि के अचूक उपाय
- मंगल ग्रह पीड़ा को कैसे शांत करें
- बुध ग्रह के दुष्प्रभाव का टोटका
- ब्रहस्पति की कुद्रष्टि के उपाय
- शुक्र ग्रह की शांति के लिए

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

6 comments:

  1. i want to know about cache memory,RAM,ROM,Mass Storage Device,USB thumb Drive and what is muitimedia in hindi language. my email id is g.badsiwal121@gmail.com please sir help me

    ReplyDelete
    Replies
    1. Hello Aakash,
      We have already given information about RAM in the above post but if you have any query to understand RAM than please comment us your query?
      We will pleased to solve them.
      And we are giving you some links below from where you can get the other information you have asked us.
      Cache Memory – http://www.jagrantoday.com/2015/12/cache-memory-ke-prakar-or-karya-works.html
      ROM – http://www.jagrantoday.com/2015/09/what-is-rom-its-types-and-uses-in-hindi.html
      Mass Storage Device – HDD : http://www.jagrantoday.com/2015/09/explain-hard-disk-parts-and-its-types.html
      USB thumb Drive – http://www.jagrantoday.com/2015/10/pen-drive-kaise-kaam-karti-hai-how-pen.html
      Multimedia - http://www.jagrantoday.com/2015/12/multimedia-or-uske-karya-multimedia-and.html
      If you found any unclear point in any of file than again contact us, we will always ready to assist you.

      Thank you for connecting us.
      Jagran Today Team

      Delete
  2. Sir processor kya hai, simple language me btaye.

    ReplyDelete
  3. Thank you sir I like your study material

    ReplyDelete
  4. kuch samjh nhii aaya mere pta nhi kya likha isme all information is wrong

    ReplyDelete
  5. Explain organization & funtioning of RAM

    ReplyDelete

ALL TIME HOT