इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Aasan Mritu Kaise Paayen | आसान मृत्य कैसे पायें | How to Die Easily

मृत्यु
सावधान : ये लेख सिर्फ उन लोगो के लिए है जो किसी भयंकर और ना ठीक होने वाली बीमारी से ग्रस्त होने के कारण बहुत समय से पीड़ित है और जिनका जीवन इस बीमारी की वजह से कष्टपूर्ण तरीके से मृत्यु की तरफ बढ़ रहा है. साथ ही इस लेख को वो व्यक्ति भी पढ़ सकते है जो किसी नावेल या कहानी को लिखने के लिए मृत्यु प्राप्त करने के तरीके के बारे में विचार कर रहे है. तो अगर आप किसी गलत धारणा के कारण परमेश्वर के दिए इस जीवन का अंत करना चाहते हो तो कृपया आप इस लेख से बाहर निकल जायें.

गीता में कहा गया है कि जैसे जीव के इस देह के लिए बचपन, जावानी, लड़कपन और बुढ़ापा प्रकृति का नियम होता है, उसी तरह मनुष्य का इस देह को छोड़ कर दुसरे देह में जाना ही प्रकृति का नियम है और इसे ही मृत्यु कहा जाता है. साथ ही गीता में लिखा है कि जो व्यक्ति अपनी मृत्यु के समय धीरज रखता है उनको मृत्यु से घबराहट नही होती क्योकि वो जानते है कि आत्मा अमर होती है और जिस प्रकार हम प्रतिदिन पुराने कपड़ो को उतारकर नए कपडे पहनते है, उसी तरह हमारी आत्मा एक शरीर को त्याग कर दुसरे शरीर को अपना लेती है. श्री कृष्ण ने अपने मामा कंस को भी यही कह कर समझाया था कि जीव की आत्मा मृत्यु के पश्चात अपनी करनी के अनुसार बेबसी में एक देह से दूसरी देह में जाती है. CLICK HERE TO READ ABOUT HAPPY AND USEFUL LIFE ...
Aasan Mritu Kaise Paayen
Aasan Mritu Kaise Paayen
इन सब बातों का अर्थ यही निकलता है कि मृत्यु एक प्राकृतिक क्रिया है. लेकिन ये जानते हुए भी कि मृत्यु निश्चित है, फिर भी मरना कोई नही चाहता, बल्कि उससे घबराते रहते है. किन्तु मनुष्य के जीवन में कई बार कुछ ऐसी परिस्थितियाँ भी उत्पन्न हो जाती है जिनके कारण उन्हें अपने जीवन को खुद ही समाप्त करना पड़ता है जैसेकि कोई बीमारी. इस स्थिति में किसी भी व्यक्ति का भावुक हो जाना स्वाभाविक होता है. ऐसे व्यक्ति अपने जीवन में अधिक शारीरिक पीड़ा को भोगते है और उसी पीड़ा का अंत करने के लिए इनमे मृत्यु को प्राप्त करना ज्यादा सही लगता है. जीवन ईश्वर की देन होता है किन्तु जब इन व्यक्तियों के सारे रास्ते बंध हो जाते तो ऐसे व्यक्तियों को ये करना ही होता है. तो आज हम जानते है कि ऐसे लोगो को किस प्रकार अपने जीवन का अंत करना चाहिए ताकि इनकी मृत्यु शीघ्र हो और कष्टदायक न हो. CLICK HERE TO READ HAPPY AND USEFUL LIFE ... 
आसान मृत्य कैसे पायें
आसान मृत्य कैसे पायें 
आसान मृत्य के तरीके :
1.       फांसी लेना ( Hang ) :
फांसी लगाकर जीवन को समाप्त करने की सजा देने का तरीका लगभग हर देश में अपनाया जाता है. इसे मृत्यु के लिए सबसे ज्यादा इसलिए अपनाया जाता है क्योकि इससे तरीके से व्यक्ति बहुत जल्दी और आसानी से अपने शरीर को त्याग देता है. जब व्यक्ति को फांसी पर लटकाया जाता है तो वो लटकाने के बाद लगभग 5 से 10 सेकंड में ही अपनी होशो हवाश खो देता है और बेहोशी की हालत में अपने प्राण त्याग देता है. इसीलिए बहुत से लोग आत्मदाह के लिए भी इसी तरीके का इस्तेमाल करते है.

2.       गोली मारना ( Shoot ) :
गोली मारकर प्राण लेना दिखने में बहुत ही दर्दनाक लगता है किन्तु आपको बता दें इस तरीके से व्यक्ति पलक झपकते ही मृत हो जाता है, साथ ही व्यक्ति को किसी भी तरीका का दर्द तक महसूस नही होता और अगर होता भी है तो वो 1 से 2 सेकंड तक ही होता है. इसके लिए व्यक्ति को अपने दिमाग या फिर दिल पर गोली मारनी होती है. दिमाग मनुष्य के शरीर के हर कार्य को नियंत्रित करता है और इसमें गोली लगने पर शरीर सभी कार्यों को करना बंद कर देता है और उसकी तुरंत मौत हो जाती है. इसी तरह दिल पर गोली मारने से भी आपको जल्द ही मृत्यु मिल जाती है. 
How to Die Easily
How to Die Easily
3.       डूबना ( Drown ) :
मरने के लिए बहुत से लोग डूबने का तरीका भी अपनाते है क्योकि पानी में अपनी सुध खोने के लिए भी व्यक्ति अधिक समय नही लेता और कुछ सेकंड से 1 मिनट के अंदर ही अपने होश खो देता है, जिससे उसकी साँसे अटकना शुरू कर देती है और वो जल्द ही डूबने लगता है और अपनी मृत्यु को प्राप्त हो जाता है. इसीलिए बहुत से लोग आत्मदाह के लिए खुद को किसी नदी या समुद्र में डूबा लेते है.
Jaldi Maut ke Tarike
Jaldi Maut ke Tarike
4.       लेथल इंजेक्शन ( Lethal Injection ) :
बिना दर्द की मृत्यु पाने के लिए इस इंजेक्शन का भी बहुत प्रयोग किया जाता है. इस इंजेक्शन को लेंने के लिए आपको 3 चरणों से गुजरना पड़ता था. जिसमे सबसे पहले सबसे पहले एनेस्थीसिया ( Anesthesia ) के साथ इस इंजेक्शन को लिया जाता है ताकि आपको किसी भी तरह का दर्द न हो सके. दुसरे चरण में व्यक्ति को पंकूरोनियम ( Pancuronium ), इससे व्यक्ति की साँसे फूलने लागित है और अंतिम चरण में व्यक्ति को पोटैशियम क्लोराइड की गोली लेनी होती है जिससे उसका हृदय भी काम करना बंद कर देता है और उसकी मृत्यु हो जाती है. ये बिना दर्द के मृत्यु प्राप्त करनने का सबसे अच्छा तरीका है.

5.       एनेस्थीसिया ( Anesthesia ) :
एनेस्थीसिया का इस्तेमाल ज्यादातर चिकित्सा के लिए किया जाता है ताकि मरीज को ऑपरेशन करते वक़्त दर्द ना हो. इसके सेवन से दिमाग तक कोई भी सिग्नल नही पहुँच पाता और व्यक्ति की महसूस करने की क्षमता खत्म हो जाती है. एनेस्थीसिया से व्यक्ति दो तरह से अपने जीवन को त्याग सकता है. पहला तो वो इसकी ओवरडोज ले लें अर्थात इसका अधिक मात्रा में सेवन कर लें और दूसरा इसके सेवन के बाद व्यक्ति खुद को किसी भी तरीके से मार सकता है.
Smooth Ways to Killing Yourself
Smooth Ways to Killing Yourself
6.       नींद की गोलियां ( Slipping Pills ) :
इसके अलावा व्यक्ति नींद की गोलियों का अधिक सेवन करके भी अपने जीवन को समाप्त कर लेता है. नींद की गोलियों में जहर, पेस्टिसाइड और हाइड्रोजन साइनाइड की मात्रा होती है और इसके अधिक सेवन से ये व्यक्ति के मृत्यु का कारण बन सकती है. किन्तु आपको ये गोलियां आसानी से नहीं मिलती, इसके लिए व्यक्ति को डॉक्टर की इज्जाजत लेनी होती है. इसको लेने से व्यक्ति की नींद में ही मृत्यु हो जाती है और इस तरह वो दर्द से भी बाच जाता है.

7.       कार्बन मोनोऑक्साइड सूंघना ( Inhalation of Carbon Monoxide )

कार्बन मोनोऑक्साइड एक जहरीली गैस है, जिससे आपके शरीर को अनेक तरह की स्वस्थ्य संबंधी हानि पहुँच सकती है जो आपकी मृत्यु का कारण बनती है. कार्बन मोनोऑक्साइड से खतरा इसलिए बढ़ जाता है क्योकि इसका ना तो कोई स्वाद है, ना कोई रंग और ना ही ये दिखाई देती है. साथ ही इसको सूंघने वाले व्यक्ति के शरीर पर शुरुआत में कोई लक्षण तक नही झलकते और इसी वजह से व्यक्ति धीरे धीरे अपनी मृत्यु की तरफ बढ़ता रहता है. ये शरीर में घुसने के बाद हीमोग्लोबिन के साथ मिल जाती है, जिससे खून शरीर में जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन नही पहुंचा पाता.

जीवन मृत्यु से संबंधी अन्य रोचक तथ्यों को जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
बिना दर्द मृत्यु पायें
बिना दर्द मृत्यु पायें
Aasan Mritu Kaise Paayen, आसान मृत्य कैसे पायें, How to Die Easily, Jaldi Maut ke Tarike, Smooth Ways to Killing Yourself, Die Painless, Aasan Mrityu ke Upay, बिना दर्द मृत्यु पायें, Aaram se Mar Jao.



Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

127 comments:

  1. मै एक बात जानना चाहता हु, कि अगर मान लो किसी ने परेशानी से तंग आकर आत्महत्या कर ली तो क्या उसे दोबारा वैसी हि जिन्दगी मिलेगी जिससे तंग उसने आत्महत्या
    कर ली थी या फिर कुछ और

    ReplyDelete
    Replies
    1. राहुल जी,

      जैसाकि शास्त्रों में भी लिखा है कि आत्मा अमर है और शरीर नश्वर. मृत्यु के बाद शरीर तो नष्ट हो ही जाता है किन्तु आत्मा हमारे कर्मों के अनुसार 84 लाख योनियों में घुमती रहती है और एक नए शरीर को वस्त्र की तरह धारण करती है. जैसे व्यक्ति के कर्म होंगे वैसा ही उसको अगला जन्म प्राप्त होगा.

      ऐसा भी तो हो सकता है कि जो आपके साथ इस जन्म में हो रहा है वो आपके पिछले जन्म के कर्मों का परिणाम हो, इसलिए सदा सकारात्मक रहकर अच्छे कर्म ही करने चाहियें, ताकि आपके साथ भी हमेशा अच्छा ही हो.

      इसके बाद भी अगर आपके मन में कोई सवाल हो या आप कुछ और जानना चाहें तो आप हमें दुबारा कमेंट अवश्य करें.

      संपर्क के लिए धन्यवाद
      जागरण टुडे टीम

      Delete
    2. नमस्कार सर , कोई ऐसा तरीका बताये की जिससे हल्का सा भी दर्द महसूस न हो ,,, फांसी लगाने से तो कुछ तो दर्द होगा जरूर ,,,,, कुछ ऐसा बताये की पता भी न चले और मौत हो जाए....

      Delete
    3. YEH EK PROGRAM KI TARAH HE...

      Delete
    4. Muje bhi marna hai vo bhi bina dard ke

      Delete
  2. i just want to know one thing which is the most painless way to commit suicide ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. Amitesh Srivastava Ji,

      Lethal Injection is one of the best way to commit painless suicide and for more information you can read point no 4 above in the post. If you have any doubt left then comment us again.

      Thankyou for Comment
      Jagran Today Team

      Delete
  3. नमस्कार सर , कोई ऐसा तरीका बताये की जिससे हल्का सा भी दर्द महसूस न हो ,,, फांसी लगाने से तो कुछ तो दर्द होगा जरूर ,,,,, कुछ ऐसा बताये की पता भी न चले और मौत हो जाए.....

    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. अंकित जी,

      पहले तो आप ये बताएं कि आप मरना ही क्यों चाहते है, ईश्वर के दिए जीवनरूपी आशीर्वाद को आनंद से जियें.

      संपर्क के लिए धन्यवाद
      जागरण टुडे टीम

      Delete
    2. Lethal injection mujha Mela ga kasa

      Delete
    3. Where I'll get this lethal injection cn u to me

      Delete
  4. नमस्कार सर ,
    मै अपनी ज़िंदगी से बहुत परेशान हूँ । मेरी ज़िंदगी मे कोई भी ऐसा नही है जिसे मै मन से अपना कह सकूँ । यहाँ तक की मै अपने मम्मी पापा को भी अपना नही कह सकता ।
    मरने का कोई ऐसा तरीका बताये की जिससे हल्का सा भी दर्द महसूस न हो ,,, फांसी लगाने से तो कुछ तो दर्द होगा जरूर ,,,,, कुछ ऐसा बताये की पता भी न चले और मौत हो जाए.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ashutosh ji, जो समस्या है उसका समाधान कीजिये, मृत्य किसी भी समस्या का समाधान कभी नहीं होती. अगर संसार में दिल नहीं लगता तो अध्यातम का रास्ता अपनाइए क्योंकि सच्चाई यही है की भगवान् के सिवा अपना कोई नहीं और ध्यान रहे भगवन से मिलन जीते जी ही हो सकता है ...

      Delete
  5. कभी कभी तो लगता है कि भगवान तो है ही नही...

    ReplyDelete
  6. कभी तो लोग कहते हैं कि मनुष्य अपनी किस्मत खुद लिखता है और कभी कहते हैं कि मनुष्य की किस्मत भगवान लिखता है । जो भगवान ने तकदीर में लिखा होगा वही होगा...

    अब अगर कोई मनुष्य अपनी किस्मत अपने हाथ से लिखता है तो क्या वह अपनी किस्मत गलत लिखेगा?? क्या वह जानबूझ कर अपनी किस्मत में दुख लिखेगा?? और अगर भगवान लिखता है तो उससे हमारी क्या दुश्मनी है जो वह हमारी किस्मत में दुख लिख देता है....
    और अगर हमने कोई बुरे काम किए होंगे तो उसके लिए भगवान ही जिम्मेदार है क्योंकि उसने हमारी किस्मत में बुरे काम करना लिखा था ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आशुतोष जी, भगवन ने गीता में कहा है की कर्म के लिए तुम स्वतंत्र हो, यानी अपनी वुद्धि और विवेक से तुम कर्म करो. लेकिन उसके फल के लिए तुम स्वतंत्र नहीं हो. यानी अगर आपने अपनी बुद्धि व् विवेक से अच्छे कर्म किये तो जरूर आपको अच्छा फल प्राप्त होगा जिसको तुम कहोगे की तुम्हारी किस्मत तो बहुत अच्छी है. लेकिन अगर कर्म अच्छे नहीं हुए तब उसका फल भी अच्छा नहो होगा फिर किस्मत को बुरा बोलते है लोग. इसीलिए अपने कर्मों पर ध्यान दो और उसी अनुसार आपकी आने वाली किस्मत तयार होगी. भगवन किसी के कर्मों का भागिदार नहीं बनता इसीलिए वो किसी की किस्मत में भी शामिल नहीं है ...

      Delete
    2. बिल्कुल सत्य वचन

      Delete
    3. Kon so dawai lene se bahut jaldi mar Kate hain

      Delete
  7. धन्यवाद


    लेकिन मुझे स्वयं मृत्यु की बहुत आवश्यकता है
    कृपया यह मुझे प्राप्त करने में मेरी मद्दद करे
    और मुझे यह सुझाव बिलकुल न दे की मुझे जीना चाहिए
    आप केवल इतना बताये की ऐसी कौन सा तरीका है जो सस्ता और मुफ़्त हो। और 1 सेकेंड में मृत्यु प्राप्त क्र सकु

    9819400499
    स्वतंत्र मिश्र

    ReplyDelete
    Replies
    1. मंदिर भी दूर है
      मस्जिद भी दूर है
      आओ किसी रोते हुए को हँसाये

      मै पहले डिप्रेशन का मरीज था
      ओर शायद एक अच्छा डॉक्टर भी बन चूका हूँ

      वक़्त एवम जिंदगी के नए नए अनुभवों के साथ

      कृपया मुझसे सम्पर्क करें

      आशा करता हूँ आपको ज़िन्दगी प्यारी लगने लगेगी
      अमित दिल्ली
      9818294080

      Delete
  8. mujhe maut ki jarurat hai kripya asan trik bataye

    ReplyDelete
  9. जीने का मन नहीं करता मेरा मरना चाहता ,हुँ

    ReplyDelete
  10. मेरा इस दूनिया मैं कोई नहीं हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. मरने के बाद क्या कोई मिलने वाला है आपको? मन लगाने के लिए जीना व्यर्थ है, जियो इस तरह की मन खुद ही लगे... इन बांतों को समझो और अपना जीवन स्टार ऊँचा उठाओ ... याद रखो मृत्यु किसी भी समस्या का हल कभी नहीं हो सकती

      Delete
    2. अब तो मौत आसान है जिंदगी से

      Delete
  11. क्या सचमुच आत्माओं कि दुनिया होती है???

    ReplyDelete
  12. मरने के बाद क्या सचमुच हम दुसरी (आत्माओं कि दुनिया) मे जाते हैं??

    ReplyDelete
  13. Sir
    Mai bimar nhi hu bs apni life se har gya hu muje bs mRNA hai pta nhi smjh mai nhi arha
    Kya kru

    ReplyDelete
    Replies
    1. Parteek Yadav Ji,

      Mrityu kisi bhi smasya ka hal nahi hai, aap apni ko khul kar jiye or tanaav kam len.

      Sampar ke Liye Dhanyavaad
      Jagran Today Team

      Delete
    2. मुझे स्वयं मृत्यु की बहुत आवश्यकता है
      कृपया यह मुझे प्राप्त करने में मेरी मद्दद करे
      और मुझे यह सुझाव बिलकुल न दे की मुझे जीना चाहिए
      आप केवल इतना बताये की ऐसी कौन सा तरीका है जो सस्ता और मुफ़्त हो। और 1 सेकेंड में मृत्यु प्राप्त क्र सकु

      Delete
  14. sir me ek bhout bdi bimari se garasth hu.dard sahn nhi hota ab.or iska ilaj bi nhihe.plz plz plz help me i req u.muge koi marne ka or sasta sa rasta bataye.jisme bilkul bhi pain na ho plz

    ReplyDelete
  15. Mere ko asthma hai main marna chahta hu

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ashish Ji,

      Agar aapko asthmaa hai to uska upchar krne ke baare mein sochen naaki marne ke baare mein. Neeche diye link se aap asthmaa rog se nijat paane ke upayon ko jaane or unhe apnayen.

      http://www.jagrantoday.com/2016/02/asthma-ki-bimari-ke-liye-aushdhiya-upay.html

      Sampar ke Liye Dhanyavaad
      Jagran Today Team

      Delete
    2. Sir aap sidhe sidhe bataiye na ki marne aasan tarika kyaaa hai?

      Delete
  16. आपके कॉमेंट न0,5 में कहा है कि आशुतोष जी, भगवन ने गीता में कहा है की कर्म के लिए तुम स्वतंत्र हो, यानी अपनी वुद्धि और विवेक से तुम कर्म करो. लेकिन उसके फल के लिए तुम स्वतंत्र नहीं हो. यानी अगर आपने अपनी बुद्धि व् विवेक से अच्छे कर्म किये तो जरूर आपको अच्छा फल प्राप्त होगा जिसको तुम कहोगे की तुम्हारी किस्मत तो बहुत अच्छी है. लेकिन अगर कर्म अच्छे नहीं हुए तब उसका फल भी अच्छा नहो होगा फिर किस्मत को बुरा बोलते है लोग. इसीलिए अपने कर्मों पर ध्यान दो और उसी अनुसार आपकी आने वाली किस्मत तयार होगी. भगवन किसी के कर्मों का भागिदार नहीं बनता इसीलिए वो किसी की किस्मत में भी शामिल नहीं है .


    उपरोक्त के सम्बन्ध में ये बताये की कर्म के लिए हम स्वतंत्र है,,अपनी बुद्धि से जो हम करेंगे उसका फल भगवान् देगा ...लकिन ये भी तो सच है की बुद्धि और विवेक भगवान् ही तो प्रदान करता है? जिसमे बुद्धि कम हो वो इस जनम में तो कस्ट भोगेगा ही साथ ही अगले जन्म में भी इस जन्म के कर्मो की वजह से भी परेशान हे रहेगा।। क्या ये न्याय सही है?

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. Sir mai jo bhi padhta hu turant kuch second me hi puri tarike se bhul jata hu aur kuch bhi sochta rahta hu dimag kam hi nhi karta jabki mai job lena chahta hu I am 18 year old aur sir masturbation ki bhi aadat hai dimag kam hi nhi karta isliye marna chahta hu please help

    ReplyDelete
  19. koi bhi marna nahi chahta agar koi marta hai toh wo bahut hi majboor hota hai.... pal pal ke marne se ek baar ka marna achha hota hai...... its a state of mind ..... but aapke marne se aapki maa ko bahut farak padta hai so plz dont think so.... 9796611131.. u can whats up me one who think so

    ReplyDelete
  20. Meri kismat to esi h ki kuch v karu har hi milti h chahe wo roz ka hi kam kyo na ho khub kosis ki thik ho sab lekin nhi aur jis chiz k liye meri positive thinking hogi wo kam to ulta hona hi h aur wese v is duniya me muje samjne wala koi nhi h aur na hoga sayad to kya karu me i m very dipress ab to bhagwan se v man uth gya h aur lagta h ki ya to wo h hi nhi aur h to sayad me unka bahut kuch bigad aaya hu

    ReplyDelete
  21. marta wahi hai jiske paas paisa nahi hota.....isliye marne se pehle itna paisaa kamaao ki aap us moh m doob jaaao aur aatmhatya krne ka vichaar hi na aaye...........koi sandeh to baat kro 8394837620

    ReplyDelete
  22. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  23. Sir mai bhi marna chHtA hu mujhe cancer h last stage pls pls pls sir help me
    Mai garib bhi hu ilaaj nhi karwa sakta pls sir

    ReplyDelete
  24. Hello sir mujhe silikoshish h doctor ne bola h ki koi ilaj nhi h family ki condition kharab h mujhe laker to aap hi btaiye

    ReplyDelete
  25. Sir mere silikoshish h doctor ne bola h ki koi ilsj nhi h family meri condition ko leker tention me rhti h kya aap hi btaiye

    ReplyDelete
  26. Mujhe v marna h sir 3 baar try kar lia but kuch v nhi hua
    Ret kill khaya 3 baar poora kek but.......
    Aap hi kuch btaao jisse jaldi secendon me mout ho jay

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bhai yadav Sahab marna mushkil nahi h. Kyunki jitna hum dard leke jeete h us se kahi aasan maut h. Agar tum sach me pareshan ho to marne se darna kya. Vaise kya pata agla janam aur bekar mile to jeene ka socho

      Delete
  27. Plss help ....... Koi v aasan upaay btaaiye jaldi or abhi

    ReplyDelete
  28. मुझे स्वयं मृत्यु की बहुत आवश्यकता है
    कृपया यह मुझे प्राप्त करने में मेरी मद्दद करे
    और मुझे यह सुझाव बिलकुल न दे की मुझे जीना चाहिए
    आप केवल इतना बताये की ऐसी कौन सा तरीका है जो सस्ता और मुफ़्त हो। और 1 सेकेंड में मृत्यु प्राप्त क्र सकु

    ReplyDelete
  29. I want to die ........i m very disoppinted from my life .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Everyone have problems in life and suicide is not the best solution Neelam Ji. Life is precious so dont think such foolish things

      Delete
  30. में और मेरापन हमेशा मृत्सा मन

    ReplyDelete
  31. मरण काल की पीड़ा का विवरण करना आसद्य्य
    शारीर - आत्मा को छोड़ना नहीं चाहता
    आत्मा -शारीर को छोड़ना नहीं चाहता
    मन -भुद्धि को छोड़ना नहीं चाहता
    बुद्धि -मन को छोड़ना नहीं चाहता
    सुखः -दुखः को छोड़ना नहीं चाहता
    दुखः -सुखः को छोड़ना नहीं चाहता
    मरण काल की पीड़ा का विवरण क्या कारु
    इसे लब्ज़ों से कहा नहीं जाता
    कलम से लिखा नहीं जाता
    पुस्तक से पड़ा नहीं जाता
    इसे मस्तक सिर्फ मेहसूस किया जाता है
    आत्मा हत्या की 97% कारण सिर्फ मन होता है
    अगर मन को मारोगे तो शरीर को मारने की इच्छा नहीं होगी
    सब का कारण मन है ख़ुशी,दुखः,आच्छा,बुरा,सबका कारण मन है
    (काम,क्रोध,लोभः,मोहः,माध,मसत्तार)
    मन एक बेलगाम घोडा है
    शारीर ही इसकी सवारि है
    वक़्त ही इसकी लाठी है
    ख़ुशी ही इसकी मंज़िल है
    इस बेलगाम घोड़े को सूक्ष्म बुद्धि नाम की लगाम की जरूरत होती है
    7888131283

    ReplyDelete
  32. Ab main Jeena nhi chahta , jis par mujhe sabse jyada bharosa tha , jo Meri jindgi me sab Kuch tha , jo kabhi mujhse kahti thi ki tumhari hi Rahugi, pyar kiya, shadi ki, 1 bachcha ho gaya 8 saal shadi ko ho gaye ab wo Kisi or ke liye mujhe Marne ka plan bana Rahi he, Main bahut tut gaya hu andar se.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. मंदिर भी दूर है
      मस्जिद भी दूर है
      आओ किसी रोते हुए को हँसाये

      मै पहले डिप्रेशन का मरीज था
      ओर शायद एक अच्छा डॉक्टर भी बन चूका हूँ

      वक़्त एवम जिंदगी के नए नए अनुभवों के साथ

      कृपया मुझसे सम्पर्क करें

      आशा करता हूँ आपको ज़िन्दगी प्यारी लगने लगेगी
      अमित
      9818294080

      Delete
  33. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  34. Plz tell me the easiest way to acquire death without any pain u can tell me also on WhatsApp no 8896754096 and where will I get lethal injections....

    ReplyDelete
  35. Plz tell me the easiest way to acquire death without any pain and you can contact me on my WhatsApp 8896754096 and also tell me where will I get lethal injections

    ReplyDelete
  36. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  37. i found all comments very funny.....hahahahaha

    ReplyDelete
  38. Hi,sir-mein apni life restart karna chahta hun
    plz,koi aasan sa tarika btaiye na??

    ReplyDelete
  39. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  40. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  41. Men deppresion ka mariz hun mujhe maut chahiye

    ReplyDelete
    Replies
    1. मंदिर भी दूर है
      मस्जिद भी दूर है
      आओ किसी रोते हुए को हँसाये

      मै पहले डिप्रेशन का मरीज था
      ओर शायद एक अच्छा डॉक्टर भी बन चूका हूँ

      वक़्त एवम जिंदगी के नए नए अनुभवों के साथ

      कृपया मुझसे सम्पर्क करें

      आशा करता हूँ आपको ज़िन्दगी प्यारी लगने लगेगी
      अमित दिल्ली
      9818294080

      Delete
  42. I want to die plz suggest me how to leave this world.

    ReplyDelete
  43. Agar hum galti se Bach Gaye toh .... Kyoki marna hamare bas me nahi bhagvaan ke bas me hai

    ReplyDelete
  44. mai marna ni chahta bs chahta hu ki marne ka natak kru jisase mere mata pita ko lge ki mai marna chahta hu
    or mai mru bhi ni.......
    iska koi upaay jaldi bataiye

    ReplyDelete
  45. i want commit suicide now.... Thanks for this... Sleeping pills is better

    ReplyDelete
  46. Mai janna chata hu ki abhi ke samay me agar koi painless suicide karna chaye to WO kar sakta hai ki nai or agar WO kar sakta hai to kaise pls reply fast

    ReplyDelete
  47. Bhai phasee kese lgate please tell me hury up.......

    ReplyDelete
  48. 27 December se soya nh hu me depression ki vajah meri gf hai 7 saal relationship hone ke baad ab chhod di
    Agar please koi aasan tarika hai marne ka to please
    btaiye
    Mummy papa bhi hokar na hone ke jese hai
    Koi vajah nh bachti hai mere jine ke liye

    ReplyDelete
  49. sir mujhko marna hai pls koi aaan trika btawo plssss sir

    ReplyDelete
  50. Mere dimagme tapkan si hoti hi aisa lagta hi mar jau yaddast kam ho jati krpya koi upay bataye

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपने आप को अकेला मत रहने 2

      अकेलापन आप जिस अवस्था में है

      जहर से भी ज्यादा घातक सिद्ध हो सकता हैं

      Delete
  51. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  52. maut to wese hi badnam he log to jindagi Ko koshte he....

    jo bhi Marne ki icha rakh rha h usk liye ye msg padh le...jeene ki wajah mil jaygi...
    logo Ko Marne ki bahut jaldi he ..har bat m har kam me...Marne ki b..ho log ye soch karna chahta he ki meri life me bahut pareshani h koi nhi samjhta .meko me kya krunga ji kr...to bhai log Marne k baad atma Ko na Mukti milti he na moksh ye ek maha pap h .. jindagi Ko har ki Nazar se mat dekho.....jivan m bahut kuch rakha he ..marna to sub Ko he ..Amar koi nhi he ..agar phir b ESA lage ki me Akela hi koi nhi sjhta to waha apne Thakur ji sath dety he bole to shree Krishna ji...ap dharmik Marg chun ke b khush reh skty he

    ReplyDelete
  53. दुःख इंसान का सबसे सच्चा दोस्त होता है ।इंसान इससे भागता रहता है ,डरता रहता है ,दूर करने के अनेकों यत्न करता रहता है ,पर यह है कि अपनी दोस्ती निभाने से बाज नहीं आता ।कहीं न कहीं अपनी उपस्थिति जताता ही रहता है ।
    सुख सबसे बेवफा होती है ,इंसान पाने की कोशिश करता जाता है पर यह कभी वफादारी नहीं निभाती ।कभी इसके यहाँ कभी उसके यहाँ भागती रहती है ।एक जगह बहुत समय नहीं टिकती चाहे कितने ही जतन करो ।
    अगर इंसान दुःख से दोस्ती कर ले तो उसे सुख की कभी जरूरत ही नहीं पड़ेगी और जीवन भर उसके पीछे भागने से छुटकारा मिल जाएगा ।दुःख इतनी वफादारी से दोस्ती निभाएगा की सुख खुद ईर्ष्या से जलभुन कर ,छोटी छोटी बातों ,छोटी छोटी चीजों में नजर आने लगेगी ।.................................हर हर महादेव

    ReplyDelete
  54. Kya insan ke atamhatya karna uske Janam ke waqt hi likh jata Hai.

    ReplyDelete
  55. mot he last chans ho to kiya karna chhahiye


    ReplyDelete
    Replies
    1. vacha versi ji ....her samsya ka hal hota hi aapko ager koi samsya hi tho aap marne ke bare me mat socho uske samshya ke samadhan ke bare me sochiye aap her muskil ka hal marna nhi hota ...........
      bhagwan krishn ne sree mad bhagwat geeta me kaha hi ki jo insaan मृत्यु ke bare me sochta hi or use koi rasta na dikhai de vo mari sharan me aa jy....aapse mara nivedan hi ki aap roj subha shaam bhagwan ka naam jape .....om namo bhagwate vasudevay namha...............
      aapse nivedan hi ki bhagwan ke kahe huve baatho per gaor kariye

      Delete
  56. Mujhe koi problem nhi hai aur na to koi ladki ka chakkaar hai bus mi mrna chahta hun bhut thak gya hun jee jee kr ye ghatiya jindagi mujhe kuch bhi acha nhi lgta hai ek dum akela ho chuka hun apni jindagi me koi mera apna nhi hai jaise mi apna keh sakun

    ReplyDelete
  57. Mein Marna chahta hu kaise Maru train ki पटरी par let gya tha lakin Ek ne bacha liya aab kaise maru neend ki goliya milti nhi hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
  58. Mein Aapna head par Kafi baar ईट marta hu to pakka mein Mar jauga plz batao

    ReplyDelete
  59. NAMASKAAR SIR JI MERA NAAM ANUP HI MAI EK TRAVEL AGENT HU OR MAI ALLAHABAD ME RAHTA HU 6 MAHINNE PAHLE MERI SAGAI HUI HI LEKIN MAI AB SADI NHI KARNA CHAHATA HU OR MARE SARE RISTEDAAR LOG MUJHPE PRESAR DAAL RHE KI SADI KRO LEKIN MAI AB APNE JIVAN KAAL ME KISI SE BHI SADI NHI KARNA CHAHTA HU ESI KARAN MAI SABSE JADA KHATARNAAK DHANG SE MARNA CHAHTA HU .... . ETNA DARD LAKE MARNA CHAHTA HU KI MARE MARNE KE BAAD UN LOGO KO PATA CHALE KI KISI KO JABRJASTI KARNA ACCHI BAAT NHI.............SREEMAD BHAGWAT GEETA ME LIKHA HI KI .JISNE JANM LIYA HI USKI मृत्यु NISCHIT HI OR मृत्यु KE BAAD PUNER JANM BHI NISCHIT HI ESILIYE SHOKE KARNE KA KOI KARAN HI NHI HI.............
    JAI SREE KRISHNA

    ReplyDelete
  60. Lethal injection kise milega or kha

    ReplyDelete
  61. नमस्कार सर , कोई ऐसा तरीका बताये की जिससे हल्का सा भी दर्द महसूस न हो ,,, फांसी लगाने से तो कुछ तो दर्द होगा जरूर ,,,,, कुछ ऐसा बताये की पता भी न चले और मौत हो जाए.....

    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
  62. hath ki nas katne par inshan kitni der m mar jata hai sir

    ReplyDelete
  63. sir mera name veer singh hai m janna chahta hu ki hath ki nas katne pr
    inshan kitni der m mar jata hai or use kaisa feel hota h

    ReplyDelete
  64. my self deepak goyal maine sare comeent pd liye hai ab mujhy yeh btaiye ki mai jiu kis liye kyu ki meri jindgi barwad ho gyi mai ek bhaut achaa ldka hu aur mai si ki tyari krna chata hu but mai 1 saal se beemar hu aur ab mere andar bilkuk bhi dum nhi bchi aur ab mere ghr wale bhi mujhy marne par majbur kar rahi hai ab mujhy yeh btaiye mujhy kya krna chaiye

    ReplyDelete
  65. Dear
    My name is sanjay from new delhi mene ek bar nahi balki 3 3 bar Suicide ki kosis ki lekin bach gaya kuch bhi nahi huaa mene apne hat ki kalai ko teen teen bar kat liya tha lekin bach gaya mujhe jo problem hai uska last tirtment Suicide hi hai ab mene soch liya hai ki kya karna hai lekin abhi nahi aur kab ye bhi nahi pata
    Good bay

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
  66. Marina samaya ka hal nahi hai. Radha Somai satsang Beas me bataya jata hai Jivan kiu Mila hai.mob 9122387614

    ReplyDelete
  67. Sir I am aniket tiwari so I am very confused of life.Main to marana chata hu ye satya hai ek na ek din sabhi ko marna hi hai to hummm abhi hi kyu na marrr jaye because Hummm bhaut palhe scientist banana chate the jo ki mera mind itna nahi tha fir abhi mujhe singing main interst hai jo main kar nahi paaaa raha hu so abbbb main kuch sayad kar bhi nahi paunga & mera is life main bhi koi nhi hai na rone wala na hasne wala I'm single.
    To koi asa tarika btaye ki hummm easy marzaye & mujhe dard na ho injection wala sahi par hummm use aford nhi kar sakte
    Thank U sir

    ReplyDelete
  68. mai jeena nahi chahta.qki mai apni zindgi se haar gya hu.ab aur nahi jeena....koi asan sa marne ka tarika btye.jishse jaldi moot mil sake

    ReplyDelete
  69. mera name pooja h mera bf tha jo ki thik 1hafte phle hi muje chor gya hmara 7sal ka afiar tha uske marne ka reason muje nhi pta bas wo las cal meri hi muje bolta rha mujse mil mujse akar par me gyi nhi usne fasi lga li or ab wo is dunia me nhi rha shayd meri wjah se agar me ek bar chli jati to aj wo is dunia me rhta me uske bina nhi rah pa rhi hu har waqt muje yhi lgta h ki wo meri wjah se gya h muje bhi nhi jeena me bhi marna chahti hu please muje koi asan tarika btaye ya neend ki goli kitni leni h jisse ki aram se mar saku .

    ReplyDelete
    Replies
    1. Pooja Ji, Ap kaise kah sakti hai ki wo apke karan mar gaya. Dhyan rakhen koi kisi ke karan nahi marta. Jaise karm or karmo ka vidhaan hota hai wo usi trh marte hai or jeete hai... Agar apko lagta hai aisa to bas itna dhyan rakhen ki ab apki jhaan jis se bhi Shadi ho us se kabhi cheating na karna or acchi wife bankar apna jeevan jeena ... Jo bit gaya usko bhool jaao, agar nahi bhool pa rhi ho to shadi kar lo jaldi se, jaldi bhool jaaogi ...

      Delete
  70. Sir, Muje jab se thoda bhi gyan huaa hai Tb se Muje ache snskar mile. Kbhi kisi Lady's ko nhi dekha na kuch pap Liya,kyu ki meri maat pita dono ache Sanskar hai.fir bhi Shadi ke bad Muje jo jivan sathi Mila wo is bekar Daniya Paap se lipt ,mera kya ksur hai,mane Her chij do, fir dhokha, 18mahine ke bimar boy ko ekela chod gii, kya kro

    ReplyDelete
    Replies
    1. Pritam Bhai, Sabse bada rog or kusanskar hai Moh, Ji haan aap us ke liye preshan hai jo apki kadr karna nahi jaanta. Is Moh ko chod dijiye or Khas kar to unke liye jo apke Jajbaton ki Kadr nahi kar sakte ...

      Delete
  71. Hello sir koi aesa tarika bataye jis me Marne ke bad p.m. me natural maut hi aaye Pls

    ReplyDelete
  72. marana chahti hu,lekin sochati hu ki agar aatmhtya karane jau agar bach gai to log fir marane nahi denge,bar bar marne ka sochati hu lekin khayal aata hai ki mere pati abhishek akele ho jayenge,

    ReplyDelete
  73. mai abhishek se bahot pyar karati hu,but kabhi kabhi bahot akeli ho jati hu maine kai bar marane ki koshish ki he,par abhishek ke baremai soch ke khud ko rokati hu,mari jine ki baja sirf abhishek hai,mai usase bahot pyar karati hu,par use is bat ka yahsaas nahi he,muze pata hai ki agar me aatmhatya karati hu to ye janam dobara nahi milata,our muze abhishek ke saat jindagi ke har ek pal jina hai,

    ReplyDelete
  74. abhishek ko mare bareme bahot galat faimy hui he,usake ghar valone unaki najar mai muze bahot galat bana diya hai,muze nahi pata ye mai aapko kyu bata rahi hu shayad halaka hona chahati hu.ya fir... i dont no..par mai abhishek se bahot pyar karti hu,jehar mere samane hai par le nahi parahi,koi bat karane ke liye nahi he,bahot akela mehasus kar rahi hu.

    ReplyDelete
  75. mai marana chahati hu,par yaisa na ho ki mai aatmhatya ka prayas karu our bach jau,koi upay bataiye,

    ReplyDelete
  76. mai jindagi se tang aa gayi hu,marane ki soch rahi hu,

    ReplyDelete
    Replies
    1. Marne ka bahut aasan tarika h me bata sakta hu

      Delete
  77. me abhishek se bahot pyar karati hu,lekin wo samajta nahi hai,thanks agar,aatmhatya ke tarike batane ke liye,par

    ReplyDelete
    Replies
    1. Apke marne par bhi Abhishek ko koi fark nahi padega.... Logon ki yahi sabse badi kami hai ki wo hamesha unhi ko pyar karte hai jo unse nahi karte or unki parvaah nahi karte. Are jo apki parvaah nahi karta or pyar nahi karta to apke marne se us par kya fark padega ... itni kimti jindgi bekar chali jaayegi... Koi na koi apko pyar karne wala or apki parwwaah karne wala bhi jaroor milega isiliye apni Jindgi ko sambhaliye ye bahut khubsurat hai .......

      Delete
  78. Me bata sakta hu marne ka aasan tarika

    ReplyDelete
  79. Main nind ki goli lene ja raha hun kirpya dose ka tarika batye jaldi marne ke liye

    ReplyDelete
  80. Nhi ghar wale achhe sahmjte hai nhi bahr wale is wakt ky karna chahiye bas marna
    Is duiya me mato kabki gujar gai wo baki hi rha ky tumhi bta wo to aap muje sidhe sidhe bta de ki mrutu ka aasan tarika
    Ok thanks reply fast

    ReplyDelete
  81. Helo सर कोई आसान सा मौत बताने की कृपा करें मै अपने जिंदगी से ऊब गया हो मौत भी नही बोलती है मुझे कैंसर हो गया है बहुत गरीब हो पैसा नही दवा के लिए कृपा करें मौत बताने की कृपा करें

    ReplyDelete
  82. मौत मुझे कब मिलेगी

    ReplyDelete
  83. Mujhe sirf itna jaanna hai ki log itne achhe kaam or bure kam bhi karta hai to fir bhi uske jivan me paresaani kyo ati hai or agar bhagwan hai to najar kyo nahi ata
    Iska jawab ap yahi kahohe ki ap dekh nahi pa rahe bhagwan yahi hai apke dilme
    To sorry mai ye bahut pahle sun sun ke pk chuka hun to koi new line ka paryog kare thanks

    ReplyDelete
  84. कोई आत्मा नहीं होता है. कोई पुनर्जन्म नहीं होता. कोई स्वर्ग नहीं है और न कोई नरक है. ८४ लाख यौनी जन्म भी मनगढ़ंत है. आदमी का मरना और एक मुर्गी का मरना एकदम सम-समान होता है.
    अगर आत्मा का कोई अस्तित्व होता तो दुनिया की जनसँख्या बढ़ती नहीं थी. (Constant रही होती) क्यों कि जबतक कोई मरता नहीं तबतक नया जीवन धारण करने के लिए आत्मा मिला नहीं होता. कितनी सरल बात हैं!
    आदमी मौत से डरता है, मौत के विचारों से वह उदास रहने लगता है. जैसे: यह बंगला गाड़ी, बिवी-बच्चे और प्रॉपर्टी छोड़कर कभी न कभी (आज और अभी भी) जाना पड़ सकता है). ऐसे उदासी के वक्त अपने मन को तसल्ली देने के लिए वह मान लेता है कि अगला जन्म है, आत्मा कभी मरता नहीं. बुद्ध धर्म पुनर्जन्म नहीं मानता तो उनका क्या बिगड़ा? दुनियां में ऐसी कई गलत धारणायें हैं और उसको सही मानानेवाले भी करोड़ो में हैं. अपना अपना ख्याल है जी.

    ReplyDelete
  85. Lethal injection kahaa se mil sakti hai???

    ReplyDelete
  86. Lethal injection kahaa se mil sakti hai???

    ReplyDelete

ALL TIME HOT