इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

असली प्रैक्टिकल आयुर्वेदिक देसी घरेलू नुस्खे – अभी SUBSCRIBE करें


 असली प्रैक्टिकल आयुर्वेदिक नुस्खे Asli Practical Ayurvedic Desi Ghrelu Nuskhe

Aasan Mritu Kaise Paayen | आसान मृत्य कैसे पायें | How to Die Easily

मृत्यु
सावधान : ये लेख सिर्फ उन लोगो के लिए है जो किसी भयंकर और ना ठीक होने वाली बीमारी से ग्रस्त होने के कारण बहुत समय से पीड़ित है और जिनका जीवन इस बीमारी की वजह से कष्टपूर्ण तरीके से मृत्यु की तरफ बढ़ रहा है. साथ ही इस लेख को वो व्यक्ति भी पढ़ सकते है जो किसी नावेल या कहानी को लिखने के लिए मृत्यु प्राप्त करने के तरीके के बारे में विचार कर रहे है. तो अगर आप किसी गलत धारणा के कारण परमेश्वर के दिए इस जीवन का अंत करना चाहते हो तो कृपया आप इस लेख से बाहर निकल जायें.

गीता में कहा गया है कि जैसे जीव के इस देह के लिए बचपन, जावानी, लड़कपन और बुढ़ापा प्रकृति का नियम होता है, उसी तरह मनुष्य का इस देह को छोड़ कर दुसरे देह में जाना ही प्रकृति का नियम है और इसे ही मृत्यु कहा जाता है. साथ ही गीता में लिखा है कि जो व्यक्ति अपनी मृत्यु के समय धीरज रखता है उनको मृत्यु से घबराहट नही होती क्योकि वो जानते है कि आत्मा अमर होती है और जिस प्रकार हम प्रतिदिन पुराने कपड़ो को उतारकर नए कपडे पहनते है, उसी तरह हमारी आत्मा एक शरीर को त्याग कर दुसरे शरीर को अपना लेती है. श्री कृष्ण ने अपने मामा कंस को भी यही कह कर समझाया था कि जीव की आत्मा मृत्यु के पश्चात अपनी करनी के अनुसार बेबसी में एक देह से दूसरी देह में जाती है. CLICK HERE TO READ ABOUT HAPPY AND USEFUL LIFE ...
Aasan Mritu Kaise Paayen
Aasan Mritu Kaise Paayen
इन सब बातों का अर्थ यही निकलता है कि मृत्यु एक प्राकृतिक क्रिया है. लेकिन ये जानते हुए भी कि मृत्यु निश्चित है, फिर भी मरना कोई नही चाहता, बल्कि उससे घबराते रहते है. किन्तु मनुष्य के जीवन में कई बार कुछ ऐसी परिस्थितियाँ भी उत्पन्न हो जाती है जिनके कारण उन्हें अपने जीवन को खुद ही समाप्त करना पड़ता है जैसेकि कोई बीमारी. इस स्थिति में किसी भी व्यक्ति का भावुक हो जाना स्वाभाविक होता है. ऐसे व्यक्ति अपने जीवन में अधिक शारीरिक पीड़ा को भोगते है और उसी पीड़ा का अंत करने के लिए इनमे मृत्यु को प्राप्त करना ज्यादा सही लगता है. जीवन ईश्वर की देन होता है किन्तु जब इन व्यक्तियों के सारे रास्ते बंध हो जाते तो ऐसे व्यक्तियों को ये करना ही होता है. तो आज हम जानते है कि ऐसे लोगो को किस प्रकार अपने जीवन का अंत करना चाहिए ताकि इनकी मृत्यु शीघ्र हो और कष्टदायक न हो. CLICK HERE TO READ HAPPY AND USEFUL LIFE ... 
आसान मृत्य कैसे पायें
आसान मृत्य कैसे पायें 
आसान मृत्य के तरीके :
1.       फांसी लेना ( Hang ) :
फांसी लगाकर जीवन को समाप्त करने की सजा देने का तरीका लगभग हर देश में अपनाया जाता है. इसे मृत्यु के लिए सबसे ज्यादा इसलिए अपनाया जाता है क्योकि इससे तरीके से व्यक्ति बहुत जल्दी और आसानी से अपने शरीर को त्याग देता है. जब व्यक्ति को फांसी पर लटकाया जाता है तो वो लटकाने के बाद लगभग 5 से 10 सेकंड में ही अपनी होशो हवाश खो देता है और बेहोशी की हालत में अपने प्राण त्याग देता है. इसीलिए बहुत से लोग आत्मदाह के लिए भी इसी तरीके का इस्तेमाल करते है.

2.       गोली मारना ( Shoot ) :
गोली मारकर प्राण लेना दिखने में बहुत ही दर्दनाक लगता है किन्तु आपको बता दें इस तरीके से व्यक्ति पलक झपकते ही मृत हो जाता है, साथ ही व्यक्ति को किसी भी तरीका का दर्द तक महसूस नही होता और अगर होता भी है तो वो 1 से 2 सेकंड तक ही होता है. इसके लिए व्यक्ति को अपने दिमाग या फिर दिल पर गोली मारनी होती है. दिमाग मनुष्य के शरीर के हर कार्य को नियंत्रित करता है और इसमें गोली लगने पर शरीर सभी कार्यों को करना बंद कर देता है और उसकी तुरंत मौत हो जाती है. इसी तरह दिल पर गोली मारने से भी आपको जल्द ही मृत्यु मिल जाती है. 
How to Die Easily
How to Die Easily
3.       डूबना ( Drown ) :
मरने के लिए बहुत से लोग डूबने का तरीका भी अपनाते है क्योकि पानी में अपनी सुध खोने के लिए भी व्यक्ति अधिक समय नही लेता और कुछ सेकंड से 1 मिनट के अंदर ही अपने होश खो देता है, जिससे उसकी साँसे अटकना शुरू कर देती है और वो जल्द ही डूबने लगता है और अपनी मृत्यु को प्राप्त हो जाता है. इसीलिए बहुत से लोग आत्मदाह के लिए खुद को किसी नदी या समुद्र में डूबा लेते है.
Jaldi Maut ke Tarike
Jaldi Maut ke Tarike
4.       लेथल इंजेक्शन ( Lethal Injection ) :
बिना दर्द की मृत्यु पाने के लिए इस इंजेक्शन का भी बहुत प्रयोग किया जाता है. इस इंजेक्शन को लेंने के लिए आपको 3 चरणों से गुजरना पड़ता था. जिसमे सबसे पहले सबसे पहले एनेस्थीसिया ( Anesthesia ) के साथ इस इंजेक्शन को लिया जाता है ताकि आपको किसी भी तरह का दर्द न हो सके. दुसरे चरण में व्यक्ति को पंकूरोनियम ( Pancuronium ), इससे व्यक्ति की साँसे फूलने लागित है और अंतिम चरण में व्यक्ति को पोटैशियम क्लोराइड की गोली लेनी होती है जिससे उसका हृदय भी काम करना बंद कर देता है और उसकी मृत्यु हो जाती है. ये बिना दर्द के मृत्यु प्राप्त करनने का सबसे अच्छा तरीका है.

5.       एनेस्थीसिया ( Anesthesia ) :
एनेस्थीसिया का इस्तेमाल ज्यादातर चिकित्सा के लिए किया जाता है ताकि मरीज को ऑपरेशन करते वक़्त दर्द ना हो. इसके सेवन से दिमाग तक कोई भी सिग्नल नही पहुँच पाता और व्यक्ति की महसूस करने की क्षमता खत्म हो जाती है. एनेस्थीसिया से व्यक्ति दो तरह से अपने जीवन को त्याग सकता है. पहला तो वो इसकी ओवरडोज ले लें अर्थात इसका अधिक मात्रा में सेवन कर लें और दूसरा इसके सेवन के बाद व्यक्ति खुद को किसी भी तरीके से मार सकता है.
Smooth Ways to Killing Yourself
Smooth Ways to Killing Yourself
6.       नींद की गोलियां ( Slipping Pills ) :
इसके अलावा व्यक्ति नींद की गोलियों का अधिक सेवन करके भी अपने जीवन को समाप्त कर लेता है. नींद की गोलियों में जहर, पेस्टिसाइड और हाइड्रोजन साइनाइड की मात्रा होती है और इसके अधिक सेवन से ये व्यक्ति के मृत्यु का कारण बन सकती है. किन्तु आपको ये गोलियां आसानी से नहीं मिलती, इसके लिए व्यक्ति को डॉक्टर की इज्जाजत लेनी होती है. इसको लेने से व्यक्ति की नींद में ही मृत्यु हो जाती है और इस तरह वो दर्द से भी बाच जाता है.

7.       कार्बन मोनोऑक्साइड सूंघना ( Inhalation of Carbon Monoxide )

कार्बन मोनोऑक्साइड एक जहरीली गैस है, जिससे आपके शरीर को अनेक तरह की स्वस्थ्य संबंधी हानि पहुँच सकती है जो आपकी मृत्यु का कारण बनती है. कार्बन मोनोऑक्साइड से खतरा इसलिए बढ़ जाता है क्योकि इसका ना तो कोई स्वाद है, ना कोई रंग और ना ही ये दिखाई देती है. साथ ही इसको सूंघने वाले व्यक्ति के शरीर पर शुरुआत में कोई लक्षण तक नही झलकते और इसी वजह से व्यक्ति धीरे धीरे अपनी मृत्यु की तरफ बढ़ता रहता है. ये शरीर में घुसने के बाद हीमोग्लोबिन के साथ मिल जाती है, जिससे खून शरीर में जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन नही पहुंचा पाता.

जीवन मृत्यु से संबंधी अन्य रोचक तथ्यों को जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
बिना दर्द मृत्यु पायें
बिना दर्द मृत्यु पायें
Aasan Mritu Kaise Paayen, आसान मृत्य कैसे पायें, How to Die Easily, Jaldi Maut ke Tarike, Smooth Ways to Killing Yourself, Die Painless, Aasan Mrityu ke Upay, बिना दर्द मृत्यु पायें, Aaram se Mar Jao.



Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

75 comments:

  1. मै एक बात जानना चाहता हु, कि अगर मान लो किसी ने परेशानी से तंग आकर आत्महत्या कर ली तो क्या उसे दोबारा वैसी हि जिन्दगी मिलेगी जिससे तंग उसने आत्महत्या
    कर ली थी या फिर कुछ और

    ReplyDelete
    Replies
    1. राहुल जी,

      जैसाकि शास्त्रों में भी लिखा है कि आत्मा अमर है और शरीर नश्वर. मृत्यु के बाद शरीर तो नष्ट हो ही जाता है किन्तु आत्मा हमारे कर्मों के अनुसार 84 लाख योनियों में घुमती रहती है और एक नए शरीर को वस्त्र की तरह धारण करती है. जैसे व्यक्ति के कर्म होंगे वैसा ही उसको अगला जन्म प्राप्त होगा.

      ऐसा भी तो हो सकता है कि जो आपके साथ इस जन्म में हो रहा है वो आपके पिछले जन्म के कर्मों का परिणाम हो, इसलिए सदा सकारात्मक रहकर अच्छे कर्म ही करने चाहियें, ताकि आपके साथ भी हमेशा अच्छा ही हो.

      इसके बाद भी अगर आपके मन में कोई सवाल हो या आप कुछ और जानना चाहें तो आप हमें दुबारा कमेंट अवश्य करें.

      संपर्क के लिए धन्यवाद
      जागरण टुडे टीम

      Delete
  2. i just want to know one thing which is the most painless way to commit suicide ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. Amitesh Srivastava Ji,

      Lethal Injection is one of the best way to commit painless suicide and for more information you can read point no 4 above in the post. If you have any doubt left then comment us again.

      Thankyou for Comment
      Jagran Today Team

      Delete
  3. नमस्कार सर , कोई ऐसा तरीका बताये की जिससे हल्का सा भी दर्द महसूस न हो ,,, फांसी लगाने से तो कुछ तो दर्द होगा जरूर ,,,,, कुछ ऐसा बताये की पता भी न चले और मौत हो जाए.....

    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. अंकित जी,

      पहले तो आप ये बताएं कि आप मरना ही क्यों चाहते है, ईश्वर के दिए जीवनरूपी आशीर्वाद को आनंद से जियें.

      संपर्क के लिए धन्यवाद
      जागरण टुडे टीम

      Delete
    2. Lethal injection mujha Mela ga kasa

      Delete
    3. Where I'll get this lethal injection cn u to me

      Delete
  4. नमस्कार सर ,
    मै अपनी ज़िंदगी से बहुत परेशान हूँ । मेरी ज़िंदगी मे कोई भी ऐसा नही है जिसे मै मन से अपना कह सकूँ । यहाँ तक की मै अपने मम्मी पापा को भी अपना नही कह सकता ।
    मरने का कोई ऐसा तरीका बताये की जिससे हल्का सा भी दर्द महसूस न हो ,,, फांसी लगाने से तो कुछ तो दर्द होगा जरूर ,,,,, कुछ ऐसा बताये की पता भी न चले और मौत हो जाए.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ashutosh ji, जो समस्या है उसका समाधान कीजिये, मृत्य किसी भी समस्या का समाधान कभी नहीं होती. अगर संसार में दिल नहीं लगता तो अध्यातम का रास्ता अपनाइए क्योंकि सच्चाई यही है की भगवान् के सिवा अपना कोई नहीं और ध्यान रहे भगवन से मिलन जीते जी ही हो सकता है ...

      Delete
  5. कभी कभी तो लगता है कि भगवान तो है ही नही...

    ReplyDelete
  6. कभी तो लोग कहते हैं कि मनुष्य अपनी किस्मत खुद लिखता है और कभी कहते हैं कि मनुष्य की किस्मत भगवान लिखता है । जो भगवान ने तकदीर में लिखा होगा वही होगा...

    अब अगर कोई मनुष्य अपनी किस्मत अपने हाथ से लिखता है तो क्या वह अपनी किस्मत गलत लिखेगा?? क्या वह जानबूझ कर अपनी किस्मत में दुख लिखेगा?? और अगर भगवान लिखता है तो उससे हमारी क्या दुश्मनी है जो वह हमारी किस्मत में दुख लिख देता है....
    और अगर हमने कोई बुरे काम किए होंगे तो उसके लिए भगवान ही जिम्मेदार है क्योंकि उसने हमारी किस्मत में बुरे काम करना लिखा था ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आशुतोष जी, भगवन ने गीता में कहा है की कर्म के लिए तुम स्वतंत्र हो, यानी अपनी वुद्धि और विवेक से तुम कर्म करो. लेकिन उसके फल के लिए तुम स्वतंत्र नहीं हो. यानी अगर आपने अपनी बुद्धि व् विवेक से अच्छे कर्म किये तो जरूर आपको अच्छा फल प्राप्त होगा जिसको तुम कहोगे की तुम्हारी किस्मत तो बहुत अच्छी है. लेकिन अगर कर्म अच्छे नहीं हुए तब उसका फल भी अच्छा नहो होगा फिर किस्मत को बुरा बोलते है लोग. इसीलिए अपने कर्मों पर ध्यान दो और उसी अनुसार आपकी आने वाली किस्मत तयार होगी. भगवन किसी के कर्मों का भागिदार नहीं बनता इसीलिए वो किसी की किस्मत में भी शामिल नहीं है ...

      Delete
  7. धन्यवाद


    लेकिन मुझे स्वयं मृत्यु की बहुत आवश्यकता है
    कृपया यह मुझे प्राप्त करने में मेरी मद्दद करे
    और मुझे यह सुझाव बिलकुल न दे की मुझे जीना चाहिए
    आप केवल इतना बताये की ऐसी कौन सा तरीका है जो सस्ता और मुफ़्त हो। और 1 सेकेंड में मृत्यु प्राप्त क्र सकु

    9819400499
    स्वतंत्र मिश्र

    ReplyDelete
    Replies
    1. मंदिर भी दूर है
      मस्जिद भी दूर है
      आओ किसी रोते हुए को हँसाये

      मै पहले डिप्रेशन का मरीज था
      ओर शायद एक अच्छा डॉक्टर भी बन चूका हूँ

      वक़्त एवम जिंदगी के नए नए अनुभवों के साथ

      कृपया मुझसे सम्पर्क करें

      आशा करता हूँ आपको ज़िन्दगी प्यारी लगने लगेगी
      अमित दिल्ली
      9818294080

      Delete
  8. mujhe maut ki jarurat hai kripya asan trik bataye

    ReplyDelete
  9. जीने का मन नहीं करता मेरा मरना चाहता ,हुँ

    ReplyDelete
  10. मेरा इस दूनिया मैं कोई नहीं हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. मरने के बाद क्या कोई मिलने वाला है आपको? मन लगाने के लिए जीना व्यर्थ है, जियो इस तरह की मन खुद ही लगे... इन बांतों को समझो और अपना जीवन स्टार ऊँचा उठाओ ... याद रखो मृत्यु किसी भी समस्या का हल कभी नहीं हो सकती

      Delete
  11. क्या सचमुच आत्माओं कि दुनिया होती है???

    ReplyDelete
  12. मरने के बाद क्या सचमुच हम दुसरी (आत्माओं कि दुनिया) मे जाते हैं??

    ReplyDelete
  13. Sir
    Mai bimar nhi hu bs apni life se har gya hu muje bs mRNA hai pta nhi smjh mai nhi arha
    Kya kru

    ReplyDelete
    Replies
    1. Parteek Yadav Ji,

      Mrityu kisi bhi smasya ka hal nahi hai, aap apni ko khul kar jiye or tanaav kam len.

      Sampar ke Liye Dhanyavaad
      Jagran Today Team

      Delete
    2. मुझे स्वयं मृत्यु की बहुत आवश्यकता है
      कृपया यह मुझे प्राप्त करने में मेरी मद्दद करे
      और मुझे यह सुझाव बिलकुल न दे की मुझे जीना चाहिए
      आप केवल इतना बताये की ऐसी कौन सा तरीका है जो सस्ता और मुफ़्त हो। और 1 सेकेंड में मृत्यु प्राप्त क्र सकु

      Delete
  14. sir me ek bhout bdi bimari se garasth hu.dard sahn nhi hota ab.or iska ilaj bi nhihe.plz plz plz help me i req u.muge koi marne ka or sasta sa rasta bataye.jisme bilkul bhi pain na ho plz

    ReplyDelete
  15. Mere ko asthma hai main marna chahta hu

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ashish Ji,

      Agar aapko asthmaa hai to uska upchar krne ke baare mein sochen naaki marne ke baare mein. Neeche diye link se aap asthmaa rog se nijat paane ke upayon ko jaane or unhe apnayen.

      http://www.jagrantoday.com/2016/02/asthma-ki-bimari-ke-liye-aushdhiya-upay.html

      Sampar ke Liye Dhanyavaad
      Jagran Today Team

      Delete
    2. Sir aap sidhe sidhe bataiye na ki marne aasan tarika kyaaa hai?

      Delete
  16. आपके कॉमेंट न0,5 में कहा है कि आशुतोष जी, भगवन ने गीता में कहा है की कर्म के लिए तुम स्वतंत्र हो, यानी अपनी वुद्धि और विवेक से तुम कर्म करो. लेकिन उसके फल के लिए तुम स्वतंत्र नहीं हो. यानी अगर आपने अपनी बुद्धि व् विवेक से अच्छे कर्म किये तो जरूर आपको अच्छा फल प्राप्त होगा जिसको तुम कहोगे की तुम्हारी किस्मत तो बहुत अच्छी है. लेकिन अगर कर्म अच्छे नहीं हुए तब उसका फल भी अच्छा नहो होगा फिर किस्मत को बुरा बोलते है लोग. इसीलिए अपने कर्मों पर ध्यान दो और उसी अनुसार आपकी आने वाली किस्मत तयार होगी. भगवन किसी के कर्मों का भागिदार नहीं बनता इसीलिए वो किसी की किस्मत में भी शामिल नहीं है .


    उपरोक्त के सम्बन्ध में ये बताये की कर्म के लिए हम स्वतंत्र है,,अपनी बुद्धि से जो हम करेंगे उसका फल भगवान् देगा ...लकिन ये भी तो सच है की बुद्धि और विवेक भगवान् ही तो प्रदान करता है? जिसमे बुद्धि कम हो वो इस जनम में तो कस्ट भोगेगा ही साथ ही अगले जन्म में भी इस जन्म के कर्मो की वजह से भी परेशान हे रहेगा।। क्या ये न्याय सही है?

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. Sir mai jo bhi padhta hu turant kuch second me hi puri tarike se bhul jata hu aur kuch bhi sochta rahta hu dimag kam hi nhi karta jabki mai job lena chahta hu I am 18 year old aur sir masturbation ki bhi aadat hai dimag kam hi nhi karta isliye marna chahta hu please help

    ReplyDelete
  19. koi bhi marna nahi chahta agar koi marta hai toh wo bahut hi majboor hota hai.... pal pal ke marne se ek baar ka marna achha hota hai...... its a state of mind ..... but aapke marne se aapki maa ko bahut farak padta hai so plz dont think so.... 9796611131.. u can whats up me one who think so

    ReplyDelete
  20. Meri kismat to esi h ki kuch v karu har hi milti h chahe wo roz ka hi kam kyo na ho khub kosis ki thik ho sab lekin nhi aur jis chiz k liye meri positive thinking hogi wo kam to ulta hona hi h aur wese v is duniya me muje samjne wala koi nhi h aur na hoga sayad to kya karu me i m very dipress ab to bhagwan se v man uth gya h aur lagta h ki ya to wo h hi nhi aur h to sayad me unka bahut kuch bigad aaya hu

    ReplyDelete
  21. marta wahi hai jiske paas paisa nahi hota.....isliye marne se pehle itna paisaa kamaao ki aap us moh m doob jaaao aur aatmhatya krne ka vichaar hi na aaye...........koi sandeh to baat kro 8394837620

    ReplyDelete
  22. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  23. Sir mai bhi marna chHtA hu mujhe cancer h last stage pls pls pls sir help me
    Mai garib bhi hu ilaaj nhi karwa sakta pls sir

    ReplyDelete
  24. Hello sir mujhe silikoshish h doctor ne bola h ki koi ilaj nhi h family ki condition kharab h mujhe laker to aap hi btaiye

    ReplyDelete
  25. Sir mere silikoshish h doctor ne bola h ki koi ilsj nhi h family meri condition ko leker tention me rhti h kya aap hi btaiye

    ReplyDelete
  26. Mujhe v marna h sir 3 baar try kar lia but kuch v nhi hua
    Ret kill khaya 3 baar poora kek but.......
    Aap hi kuch btaao jisse jaldi secendon me mout ho jay

    ReplyDelete
  27. Plss help ....... Koi v aasan upaay btaaiye jaldi or abhi

    ReplyDelete
  28. मुझे स्वयं मृत्यु की बहुत आवश्यकता है
    कृपया यह मुझे प्राप्त करने में मेरी मद्दद करे
    और मुझे यह सुझाव बिलकुल न दे की मुझे जीना चाहिए
    आप केवल इतना बताये की ऐसी कौन सा तरीका है जो सस्ता और मुफ़्त हो। और 1 सेकेंड में मृत्यु प्राप्त क्र सकु

    ReplyDelete
  29. I want to die ........i m very disoppinted from my life .....

    ReplyDelete
  30. में और मेरापन हमेशा मृत्सा मन

    ReplyDelete
  31. मरण काल की पीड़ा का विवरण करना आसद्य्य
    शारीर - आत्मा को छोड़ना नहीं चाहता
    आत्मा -शारीर को छोड़ना नहीं चाहता
    मन -भुद्धि को छोड़ना नहीं चाहता
    बुद्धि -मन को छोड़ना नहीं चाहता
    सुखः -दुखः को छोड़ना नहीं चाहता
    दुखः -सुखः को छोड़ना नहीं चाहता
    मरण काल की पीड़ा का विवरण क्या कारु
    इसे लब्ज़ों से कहा नहीं जाता
    कलम से लिखा नहीं जाता
    पुस्तक से पड़ा नहीं जाता
    इसे मस्तक सिर्फ मेहसूस किया जाता है
    आत्मा हत्या की 97% कारण सिर्फ मन होता है
    अगर मन को मारोगे तो शरीर को मारने की इच्छा नहीं होगी
    सब का कारण मन है ख़ुशी,दुखः,आच्छा,बुरा,सबका कारण मन है
    (काम,क्रोध,लोभः,मोहः,माध,मसत्तार)
    मन एक बेलगाम घोडा है
    शारीर ही इसकी सवारि है
    वक़्त ही इसकी लाठी है
    ख़ुशी ही इसकी मंज़िल है
    इस बेलगाम घोड़े को सूक्ष्म बुद्धि नाम की लगाम की जरूरत होती है
    7888131283

    ReplyDelete
  32. Ab main Jeena nhi chahta , jis par mujhe sabse jyada bharosa tha , jo Meri jindgi me sab Kuch tha , jo kabhi mujhse kahti thi ki tumhari hi Rahugi, pyar kiya, shadi ki, 1 bachcha ho gaya 8 saal shadi ko ho gaye ab wo Kisi or ke liye mujhe Marne ka plan bana Rahi he, Main bahut tut gaya hu andar se.....

    ReplyDelete
  33. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  34. Plz tell me the easiest way to acquire death without any pain u can tell me also on WhatsApp no 8896754096 and where will I get lethal injections....

    ReplyDelete
  35. Plz tell me the easiest way to acquire death without any pain and you can contact me on my WhatsApp 8896754096 and also tell me where will I get lethal injections

    ReplyDelete
  36. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  37. i found all comments very funny.....hahahahaha

    ReplyDelete
  38. Hi,sir-mein apni life restart karna chahta hun
    plz,koi aasan sa tarika btaiye na??

    ReplyDelete
  39. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  40. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  41. Men deppresion ka mariz hun mujhe maut chahiye

    ReplyDelete
    Replies
    1. मंदिर भी दूर है
      मस्जिद भी दूर है
      आओ किसी रोते हुए को हँसाये

      मै पहले डिप्रेशन का मरीज था
      ओर शायद एक अच्छा डॉक्टर भी बन चूका हूँ

      वक़्त एवम जिंदगी के नए नए अनुभवों के साथ

      कृपया मुझसे सम्पर्क करें

      आशा करता हूँ आपको ज़िन्दगी प्यारी लगने लगेगी
      अमित दिल्ली
      9818294080

      Delete
  42. I want to die plz suggest me how to leave this world.

    ReplyDelete
  43. Agar hum galti se Bach Gaye toh .... Kyoki marna hamare bas me nahi bhagvaan ke bas me hai

    ReplyDelete
  44. mai marna ni chahta bs chahta hu ki marne ka natak kru jisase mere mata pita ko lge ki mai marna chahta hu
    or mai mru bhi ni.......
    iska koi upaay jaldi bataiye

    ReplyDelete
  45. i want commit suicide now.... Thanks for this... Sleeping pills is better

    ReplyDelete
  46. Mai janna chata hu ki abhi ke samay me agar koi painless suicide karna chaye to WO kar sakta hai ki nai or agar WO kar sakta hai to kaise pls reply fast

    ReplyDelete
  47. Bhai phasee kese lgate please tell me hury up.......

    ReplyDelete
  48. 27 December se soya nh hu me depression ki vajah meri gf hai 7 saal relationship hone ke baad ab chhod di
    Agar please koi aasan tarika hai marne ka to please
    btaiye
    Mummy papa bhi hokar na hone ke jese hai
    Koi vajah nh bachti hai mere jine ke liye

    ReplyDelete
  49. sir mujhko marna hai pls koi aaan trika btawo plssss sir

    ReplyDelete
  50. Mere dimagme tapkan si hoti hi aisa lagta hi mar jau yaddast kam ho jati krpya koi upay bataye

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपने आप को अकेला मत रहने 2

      अकेलापन आप जिस अवस्था में है

      जहर से भी ज्यादा घातक सिद्ध हो सकता हैं

      Delete
  51. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  52. maut to wese hi badnam he log to jindagi Ko koshte he....

    jo bhi Marne ki icha rakh rha h usk liye ye msg padh le...jeene ki wajah mil jaygi...
    logo Ko Marne ki bahut jaldi he ..har bat m har kam me...Marne ki b..ho log ye soch karna chahta he ki meri life me bahut pareshani h koi nhi samjhta .meko me kya krunga ji kr...to bhai log Marne k baad atma Ko na Mukti milti he na moksh ye ek maha pap h .. jindagi Ko har ki Nazar se mat dekho.....jivan m bahut kuch rakha he ..marna to sub Ko he ..Amar koi nhi he ..agar phir b ESA lage ki me Akela hi koi nhi sjhta to waha apne Thakur ji sath dety he bole to shree Krishna ji...ap dharmik Marg chun ke b khush reh skty he

    ReplyDelete
  53. दुःख इंसान का सबसे सच्चा दोस्त होता है ।इंसान इससे भागता रहता है ,डरता रहता है ,दूर करने के अनेकों यत्न करता रहता है ,पर यह है कि अपनी दोस्ती निभाने से बाज नहीं आता ।कहीं न कहीं अपनी उपस्थिति जताता ही रहता है ।
    सुख सबसे बेवफा होती है ,इंसान पाने की कोशिश करता जाता है पर यह कभी वफादारी नहीं निभाती ।कभी इसके यहाँ कभी उसके यहाँ भागती रहती है ।एक जगह बहुत समय नहीं टिकती चाहे कितने ही जतन करो ।
    अगर इंसान दुःख से दोस्ती कर ले तो उसे सुख की कभी जरूरत ही नहीं पड़ेगी और जीवन भर उसके पीछे भागने से छुटकारा मिल जाएगा ।दुःख इतनी वफादारी से दोस्ती निभाएगा की सुख खुद ईर्ष्या से जलभुन कर ,छोटी छोटी बातों ,छोटी छोटी चीजों में नजर आने लगेगी ।.................................हर हर महादेव

    ReplyDelete
  54. Kya insan ke atamhatya karna uske Janam ke waqt hi likh jata Hai.

    ReplyDelete

ALL TIME HOT