इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Yog kram Yogasan or Unke laabh v Pranayam | योग क्रम योगासन और उनके लाभ व् प्राणायाम



सूर्य नमस्कार के लाभ --- सूर्य नमस्कार से हमारे शरीर को शक्ति और स्फूर्ति मिलती है. सूर्य नमस्कार से शरीर की मांस पेशियाँ ठीक तरह से काम करती हैं. शरीर को तेज़ प्राप्त होता है. सूर्य नमस्कार हमारे शरीर के रोगों को ठीक करता है. सूर्य नमस्कार से मेरुदंड में लचक आती है. सूर्य नमस्कार से विवेक बढता है. सूर्य नमस्कार से मन एकाग्र हो जाता है. शरीर में शांति महसूस होती है.


उष्ट्र चाल --- यह आसन हमारे शरीर में रक्त संचार को तेज़ गति प्रदान करता है. इस आसन को करने से खून साफ़ होता है.


यह आसन हमारे शरीर को लचक प्रदान करता है.


यह आसन करने से फेफड़े स्वस्थ और ताकतवर बनते हैं.


तीन मिनट की उष्ट्र चाल चलने से तीन किलोमीटर के बराबर उर्जा मिलती है. जगह कम होने पर भी यह दौड़ हो जाती है. 
 CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POST ...
योग क्रम योगासन और उनके लाभ व् प्राणायाम
योग क्रम योगासन और उनके लाभ व् प्राणायाम

पीठ के बल लेटकर करने वाले आसन ---


1.       शयनासन:

शयनासन करने से आसन और ध्यान दोनों हो जाते हैं.

यह आसन करने से मन और तन को शांति मिलती है. बुद्धि स्थिर होती है.

शरीर के सभी स्नायुओं को आराम व शांति मिलती है.

यह आसन अनिद्रा को दूर करता है. रक्त चाप को ठीक करता है. नाड़ियों की कमजोरी दूर हो जाती है.

यह आसन गैस को दूर करता है.


भ्रामरी प्राणायाम:

 भ्रामरी प्राणायाम करने से मानसिक तनाव दूर होता है. अवसाद कम हो जाता है. यह आसन गुस्से और चिंता को दूर करता है.

यह आसन करने से रक्त चाप सुचारू तरीके से काम करता है.

भ्रामरी प्राणायाम हमारे मस्तिष्क को आध्यात्मिक ध्वनी के प्रति सचेत करता है.

यह आसन करने से वाणी या स्वर मधुर हो जाते हैं.


प्रष्ठ भूमि ताड़ासन :

यह आसन हमारे शरीर की लम्बाई को बढाता है.

यह आसन करने से आलस दूर हो जाता है

इस आसन से शरीर के जोड़ खुल जाते हैं.

यह आसन करने से नाभि अपने स्थान पार आ जाती है.

कमर के दर्द में यह आसन आराम देता है.   
 
Yog kram Yogasan or Unke laabh v Pranayam
Yog kram Yogasan or Unke laabh v Pranayam

Yog kram Yogasan or Unke laabh v Pranayam, योग क्रम योगासन और उनके लाभ व् प्राणायाम, Surya namaskar ke laabh, Ustr Chaal, shyanasan, Bhramari Pranayam, Tadasan, asan or pranayama humare sharir ke liye amrit ke samaan hai, ye humare sharir ko jivani Shakti or safurti dete hai. 



YOU MAY ALSO LIKE 

घरेलू औषधि अदरक के फायदे 
नींबू के गुण व् फायदे
- स्वादिस्ट फल अमरुद के लाभ
- पपीते से स्वास्थ्य रक्षा व् उसके लाभ
- अनार फल खाने के लाभ
गर्मियों में खरबूजा खाने के फायदे
- आम फल के गुण व् फायदे

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT