इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Chaturth Mangal Sukhon ya Dukhon ka Aana Jaana | चतुर्थ मंगल सुखों या दुखों का आना जाना



हमारी कुंडली में जो चौथा भाव होता है वह सुखों का भाव होता है. हमारे जो मानसिक विचार होते हैं उन्हें इसी भाव से देखा जाता है. हमें माता के लिए और जिस मकान में हम रहते हैं उसके बारे में भी इसी भाव से जानकारी प्राप्त की जाती है. इसी भाव से वाहनों के लिए जानकारी ली जाती है. पानी तथा पानी वाले साधनों के लिए भी यही भाव माना जाता है. घर के अन्दर नींद भी इसी भाव से निकाली जाती है. यदि हम सहचर के भाव से देखते हैं तो यह भाव कर्म का भाव होता है. जातक के एक चौथे भाव में मंगल होने के कारण जातक स्वभाव से चिडचिडा हो जाता है. जातक अपनी जान पहचान के लोगों से लड़ाई करता रहता है. जातक का जो घर होता है उसमें इसी मंगल के कारण लोग झगडालू होते हैं. सभी व्यक्ति उस जातक के घर को अपने-अपने तर्क से शक्ति देने लगते हैं. जब हम वाहन चला रहे होतें हैं तो हमारे साथ में सडक पर जो और जो वाहन चल रहे होते हैं तो हम उन वाहनों से आगे निकल जाने की होड़ करते हैं. यह इसी मंगल के कारण होती है, जरा सी चूक हो जाने पर एक्सीडेंट हो जाता है, चोट लगती है और अस्पताल पहुँच जाते है. अपने वाहन को क्षतिग्रस्त कर लेते हैं. हमारा जो सहचर होता है उसके काम भी गुस्से से भरे होते हैं. जातक की जो माता होती है वह सहचर के कार्यों से हमेशा नाराज रहने लगती है. जातक के शरीर में पानी की कमी हो जाती है. जातक चाहता है की उसका जो सहचर है वह उसके काबू में रहे.
CLICK HERE TO REAM MORE SIMILAR POSTS ...
 
चतुर्थ मंगल सुखों या दुखों का आना जाना
चतुर्थ मंगल सुखों या दुखों का आना जाना

जातक जो होता है वह अपने पिता के कार्यों में दखल देने लगता है. जातक अपने बड़े भाई और दोस्तों के सामने एक प्रतिद्वंदी के रूप में खड़ा हो जाता है. सहचर के जो परिवार वाले होते हैं जातक उनसे एक सेनापति की तरह व्यव्हार करना शुरू कर देतें हैं. जातक का अपने घर वालों से मोह कम हो जाता है और बाहर वालों से जातक अधिक मोह रखने लगता है. जातक अपने सहचर से नाराज रहने लगता है. वह सहचर के शरीर, मन, और शिक्षा के प्रति भी नाराज रहता है. मंगल के चौथे भाव में होने से जातक का दिल शरबत की तरह मीठा होता है और वह सभी को अच्छा लगता है.
 
Chaturth Mangal Sukhon ya Dukhon ka Aana Jaana
Chaturth Mangal Sukhon ya Dukhon ka Aana Jaana

Chaturth Mangal Sukhon ya Dukhon ka Aana Jaana | चतुर्थ मंगल सुखों या दुखों का आना जाना,  Chaturth Mangal, Sukhon ka Aana Jaana, चतुर्थ मंगल, सुखों या दुखों का आना जाना, Humari Kundli mein jo chautha bhaav hota hai vah sukhon ka bhaav hota hai. Ye jo chaturth mangal ka bhav hota hai isi se such aate jate hai. Yahi silsila dukhon ka bhi hota hai.



YOU MAY ALSO LIKE 

उँगलियाँ और आपकी पर्सनालिटी
- हम अपने ग्रहों को अपने अनुकूल बना सकते हैं
- विज्ञान की नजर में शरीर में कहाँ रहती है आत्मा
- जन्म पत्रिका देखने के कुछ महत्वपूर्ण सूत्र
- चतुर्थ मंगल सुखों या दुखों का आना जाना
- ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नेत्र रोग और ग्रह

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT