इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Ananaas ka Pathri Baichani Rogon ke liye Prayog | अनानास का पथरी बैचनी रोगों के लिए प्रयोग | Pineapple remedies for Stone Restlessness

अनानास का उपयोग औषधी के रूप में भी किया जाता है.तथा इसका उपयोग शरीर की जटिल बीमारियों को  नष्ट करने के लिए भी किया जाता है. जनका विवर्ण निम्नलिखित है –

1.       पथरी – पथरी एक पेट में होने वाली बीमारी है जो शरीर की पित की थैली में अधिकतर लोगो को हो जाती है. पथरी के होने पर पेट में बहुत दर्द होता है. तथा यह मनुष्य के शरीर को काफी कमजोर बना देती है. पेट में पथरी के होने पर अनानास का सेवन बहुत ही लाभकारी होता है. पथरी से राहत पाने के लिए अनानास के रस का प्रतिदिन प्रयोग करने से शरीर को आराम मिलता है. तथा इसका रस पेट की पथरी को धीरे - धीरे तोड़ने में सक्षम होता है. अननस के रस को पीने से पेट की पथरी छोटे – छोटे टुकडो में विभक्त हो जाती है तथा इसे मूत्र के साथ शरीर से बहार निकालने में सक्षम होता है. 

2.       प्यास व बैचेनी – गर्मी के महीनों में शरीर को सबसे ज्यादा प्यास अगति है और ठीक समय पर प्यास न बुझने पर शरीर में बेचनी हो जाती है. ऐसे समय में अनानास के रस का सेवन करना बहुत ही लाभप्रद होता है अनानास का रस शरीर की गर्मी को कम करता है तथा शरीर को ठंडक पहुंचाता है, तथा शरीर की बैचेनी को भी शांत करता है. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
Ananaas ka Pathri Baichani Rogon ke liye Prayog
Ananaas ka Pathri Baichani Rogon ke liye Prayog

3.       फुंसिया – शरीर में कभी- कभी फुंसिया या एलर्जी हो जाती है जिसको ठीक करने के लिए भी अनानास उपयोगी होता है .अनानास को को छीलकर उसके अंदर का गुदे को फुंसी पर लगाने से फुंसी ठीक हो जाती है. 

4.       गले की सुजन व टांसिल – गले में दर्द , सुजन, तथा टांसिल की शिकायत होने पर अनानास का सेवन करना काफी हितकारी होता है. 

5.       डिप्थीरिया – अनानास के रस में डिप्थीरिया की बीमारी भी ठीक की जा सकती है. अनानास का रस डिप्थीरिया की झिल्ली को कटकर गले को साफ करने में  बहुत ही सहायक होता है. अनानास के रस का डिप्थीरिया की बीमारी में प्रतिदिन सेवन करना आवश्यक होता है ऐसा करने से इस बीमारी से जल्दी राहत मिलती है.
 
अनानास का पथरी बैचनी रोगों के लिए प्रयोग
अनानास का पथरी बैचनी रोगों के लिए प्रयोग
पेट के कीड़े – अक्सर बच्चो के पेट में अधिक मीठा खाने से कीड़े हो जाते हो जिससे बच्चो के पेट में दर्द होना शुरू हो जाता है  अनानास के फल के साथ – साथ अनानास के पोधों के पत्ते भी बहुत ही उपयोगी होते है. पेट में कीड़े हो जाने पर अनानास के सफेद पत्तो के रस में चीन मिलाकर सेवन करने पर पेट के कीड़ो से जल्दी राहत मिलती है . जिससे खुच ही दिनों में पेट के कीड़े मर जाते है . इसके इलावा पेट के कीड़ो से छुटकारा पाने के लिए एक और उपाय भी अपनाया जा सकता है. अजवायन ,छुआरा ,वायविडंग तीनो को महीन पीसकर चुर्ण बना ले तथा तीनो का मिश्रण 12 -12 ग्राम मिला ले .एक चम्मच चुर्ण में एक चम्मच शहद मिलाकर इसे अनानास के रस के साथ मिलाकर पिलाये . तिन-चार दिन सुबह – शाम लगातार इसका सेवन करने से  बच्चों का पेट का दर्द जल्दी ठीक हो जाता है तथा पेट के कीड़े भी जल्दी मर जाते है. 

 
Pineapple remedies for Stone Restlessness
Pineapple remedies for Stone Restlessness
 Ananaas ka Pathri Baichani Rogon ke liye Prayog, अनानास का पथरी बैचनी रोगों के लिए प्रयोग, Pineapple remedies for Stone Restlessness, Eruptions treatment using Pineapple, Cure for Tonsil and diphtheria with Pineapple, अनानास से पेट के कीड़ों का इलाज.



YOU MAY ALSO LIKE 

स्कैनर और उसके प्रकार
मूलांक क्या है वर्णन कीजिये
- अनानास फल की उपयोगिता और महत्तव
- अनानास का पथरी बैचनी रोगों के लिए प्रयोग
- प्रिंटर और उसके प्रकार
- खोले अपनी बंद किस्मत के ताले

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT