इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Hum Grahon ko Apne Anukul bana Sakte hai | हम अपने ग्रहों को अपने अनुकूल बना सकते हैं


जब हमारे ग्रहों की स्थिति ठीक नहीं चल रही होती है तो हम कुछ विशेष कार्यों को करके हम इन ग्रहों को अपने अनुकूल बना सकते हैं जिससे की हमारा जीवन सुचारू ढंग से चलता रहे और हमारे सामने जो भी समस्याएँ आ रही हैं वो सब दूर हो जायें. हमारे जीवन में जो भी बाधाएं और परेशानियाँ आती हैं वो सब ग्रहों की स्तिथि ठीक ना होने के कारण से ही आती हैं. हमारे गृह जब ठीक तरीके से चल रहे होते हैं तो हमारे सामने जो भी परेशानिया आ रही होती हैं वे सब अपने आप दूर हो जाती हैं. हमारे जितने भी गृह होते हैं वो सब अलग अलग गुणों का नियंत्रण करते हैं. सूर्य आत्मा का नियंत्रण करता है. जब हम अपनी आत्मिक सकती को बड़ा लेते हैं अपनी आत्मा को मजबूत बना लेते हैं तो ऐसा करने से हमारा जो सूर्य होता है वह ताकतवर हो जाता है. जब हमारा चंद्रमा कमजोर चल रहा होता है तो हमें अपनी मानसिक शक्ति को बढ़ा लेना चाहिये. मानसिक शक्ति को बढ़ा लेने से हमारा जो चंद्रमा होता है उसकी ताकत बढ़ जाती है. चन्द्र को मन का नियंत्रणकर्ता माना जाता है. मंगल जो होता है वह हमारे पराक्रम का नियंत्रण करता है और हमें शक्ति देता है. जब हम अपने पराक्रम को बढ़ा लेते हैं तो इससे हमारे मंगल को शक्ति मिलती है और मंगल मजबूत हो जाता है. बुद्ध जो होता है वह हमारी बुद्धि का परतिनिधित्व करता है. जब हम अपनी बुद्धि का ठीक ढंग से इस्तेमाल करते हें, बुद्धि का सही उपयोग करने से बुद्ध जो होता है वह ताकतवर हो जाता है उसकी शक्ति बढ़ जाती है इसलिए हमें चाहिये की हम अपनी बुद्धि का बिल्कुल सही तरीके से इस्तेमाल करें और अपनी बुद्धि को इधर उधर भटकने न दें. गुरु जो होता है वह विवेक का नियंत्रण करता है. जब हम अपने विवेक को बढ़ा लेते हें तो इससे हमारा गुरु जो होता है वह ताकतवर हो जाता है. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POST ...
 
हम अपने ग्रहों को अपने अनुकूल बना सकते हैं
हम अपने ग्रहों को अपने अनुकूल बना सकते हैं



 शुक्र जो होता है वह सद्कर्मो का नियंत्रण करता है. जब हम अच्छे कर्म करतें हैं कोई बुरा काम नहीं करते हैं कोई बुरी लत नहीं लगते हैं तो ऐसा करने से शुक्र मजबूत हो जाता है. हमें ब्रह्मचार्य का पालन करना चाहिए क्योंकि ब्रह्मचर्य का पालन करने से हमारा शुक्र मजबूत होता है. शनि जो होता है  वह सत्य भाव का प्रतिनिद्धित्व करता है, जब हम सत्य बोलते हैं और किसी के प्रति बुरी भावना नहीं रखते हैं तो ऐसा करने से हमारा शनि जो होता है वह ताकतवर हो जाता है. यदि हम ऊपर बताई गई बातों को मानते हैं व् उन्हें अपनाते हैं तो ऐसा करके हम ग्रहों को अपने अनुकूल बना लेते हैं.
 
Hum Grahon ko Apne Anukul bana Sakte hai
Hum Grahon ko Apne Anukul bana Sakte hai

 Hum Grahon ko Apne Anukul bana Sakte hai, हम अपने ग्रहों को अपने अनुकूल बना सकते हैं, Anukul Grah, अनुकूल ग्रह, Graj Nakshatr, गृह नक्षत्र.


YOU MAY ALSO LIKE 

उँगलियाँ और आपकी पर्सनालिटी
- हम अपने ग्रहों को अपने अनुकूल बना सकते हैं
- माँ - बाप की ख्वाहिशे
- हनुमान जयंती पर लांगुरास्त्र प्रयोग
- छोटी उंगली से जानिए बिजनेसमैन बनेगें या अफसर
- ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नेत्र रोग और ग्रह
- जीवन से जुडी हर छोटी बड़ी समस्या का समाधान

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT