इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

What is Rom Its Types and Uses in Hindi | Rom kya hai iske parkar or prayog | ROM क्या है इसके प्रयोग और प्रकार

ROM ( READ ONLY MEMORY ) कंप्यूटर से जुड़े हुए हिस्सों में से कंप्यूटर का एक अहम हिस्सा होती है. ROM  कंप्यूटर सिस्टम की एक प्राथमिक स्टोरेज डिवाइस है. ROM  एक चिप के आकर की होती है और कंप्यूटर मदर बोर्ड से जुडी होती है. जैसाकि इसके नाम से ही पता चलता है कि ये सिर्फ कंप्यूटर डाटा को रीड ( read ) करने के लिए है, आप इसमें न कुछ लिख सकते है और न ही कुछ डाल कर स्टोर कर सकते हो. ये कंप्यूटर को  “boot up”  और आपके जब आप अपने कंप्यूटर सिस्टम को दुबारा ऑन करते हो तो आपकी डाटा को नया जीवन (regenerate ) देती है.  ROM और RAM  में एक अहम अंतर होता है कि जब आप अपना कंप्यूटर बंद कर देते हो तो RAM  अपना डाटा खो देता है लेकिन  ROM कंप्यूटर बंद होने के बाद भी अपना डाटा नही खोती है. साथ ही ROM को अपना काम करने के लिए किसी लगातार पावर की जरूरत नही होती है, कंप्यूटर के बंद होने के बाद भी ROM अपनी इनफार्मेशन को स्टोर कर सकती है.


ROM  चिप का इस्तेमाल कंप्यूटर को स्टार्ट होने प्रकिर्या में सहायता देती है.


ROM  चिप धीरे धीरे काम करती है.


ROM  चिप में आप सिर्फ कुछ मेगाबाइट तक का देता हे स्टोर कर सकते है,


ROM  चिप का इस्तेमाल कुछ गेमिंग सिस्टम cartridges  में भी होता है.
 CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
What is Rom Its Types and Uses in Hindi
What is Rom Its Types and Uses

ROM   के प्रकार :  

ROM  4 प्रकार की होती है.

1.       PROM  ( PROGRAMABLE READ ONLY MEMORY )

2.       EPROM  ( ERASABLE PROGRAMABLE READ ONLY MEMORY )

3.       EEROM  ( ELECTRIC ERASABLE PROGRAMABLE READ ONLY MEMORY )

4.       EAROM  ( ELECTRIC ATERABLE READ ONLY MEMORY )


इसके आलावा BIOS  ( BASIC INPUT  OUTPUT SYSTEM ) एक प्रोसेसर भी ROM के साथ मिल कर इसके काम में इसकी मदद करता है.
 
Rom kya hai iske parkar or prayog
Rom kya hai iske parkar or prayog

PROGRAMMABLE  READ ONLY MEMORY :

 ये डिजिटल मेमोरी IC की तरह होती है और इसका इस्तेमाल CRT मॉनिटर में किया जाता है. ये एक परमानेंट टाइम प्रोग्राम है. इनमे स्टोर किया हुआ डाटा परमानेंट होता है और आप उसे बदल नही सकते.  ये ज्यादातर बिजली से चलने वाले डिवाइस में होती है. 


ERASABLE PROGRAMABLE READ ONLY MEMORY:

EPROM  एक ऐसी चिप है जो कंप्यूटर के बंद होने के बाद कंप्यूटर की डाटा को स्टोर करती है. इसका इस्तेमाल P.C.O. कंप्यूटर, TV Tunar में किया जाता है. इसमें डाटा को लेज़र की सहायता से डाला व मिटाया जाता है. इसमें अगर आपको डाटा को मिटाना है तो आपको स्ट्रोंग अल्ट्रावायलेट रेस की मदद लेनी होती है.


ELECTRIC ERASABLE PROGRAMABLE READ ONLY MEMORY :

 इसमें कंप्यूटर के बंद होने के बाद कुछ साइज़ का डाटा को स्टोर होता है. ये कंप्यूटर के मदरबोर्ड से जुडा होता है. इसका काम कंप्यूटर को ऑन करना होता है. ये टयूब लाइटर स्टार्टर की तरह काम करती है. इसमें आप किसी डाटा को रीड कर सकते है, उसे मिटा सकते है या फिर आप उसे दुबारा भी लिख सकते है, इसके लिए आपको बाइट ( BYTE ) से सिग्नल देने होते है. आजकल ROM  में थोड़े बड़े साइज़ के डाटा को स्टोर करने के लिए कुछ अलग तरह की EEPROM का इस्तेमाल भी होता है. इसका एक लिमिटेड टाइम होता है. 


ELECTRIC ALTERABLE READ ONLY MEMORY :

ये एक सेमी कंडक्टर की तरह दिखाई देती है इसमें आप कुछ इलेक्ट्रिक सिग्नल दे कर जो बदलाव करना चाहते है वो कर सकते है. ये RAM  के साथ मिल कर कंप्यूटर को ऑन करने और डिस्प्ले को लाने में सहायक होती है. ये भी एक IC  की तरह ही दिखती है. 


BASIC INPUT OUTPUT SYSTEM  :

ये एक माइक्रोप्रोसेसर की तरह होती है जो ROM  के साथ मिल कर कंप्यूटर सिस्टम को ऑन करने में सहायक होती है. साथ ही ये कंप्यूटर से जुड़े हुए डिवाइस जैसे माउस, कीबोर्ड, हार्डडिस्क और विडियो एडाप्टर के और कंप्यूटर ऑपरेटर के बीच के डाटा के फ्लो को भी मैनेज करती है.  
 
ROM  क्या है इसके प्रयोग और प्रकार
ROM  क्या है इसके प्रयोग और प्रकार

 What is Rom Its Types and Uses in Hindi, Rom kya hai iske parkar or prayog, ROM  क्या है इसके प्रयोग और प्रकार, Explain ROM in Hindi, ROM Parts and Their Uses in Hindi, Read Only Memory, ROM ko Khol kar likhiye, ROM ke Bhag, ROM ki Jaroorat, R O M को खोल कर लिखो.



YOU MAY ALSO LIKE 

पूर्व जन्म मे किये गये आपके कार्य और उसके परिणाम
- प्रतिदिन मंदिर क्यों जाए
- जबरदस्त ध्यान बगुले का
- गोरैया से विकास और शांति
- किस्मत कैसे देगी आपका साथ
- चेहरा बतायेगा आपकी किस्मत

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

4 comments:

  1. 1. Define Protocol And types of protocols............
    2. What is URL? Types and components of URL..........
    (plz give ans in hindi)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Shubha Ji,

      Visit these Links to know about Protocol, URL and their components.

      http://www.jagrantoday.com/2016/05/computer-protocol-or-uske-prakar-what.html

      http://www.jagrantoday.com/2016/05/url-ke-prakar-or-uske-component-ghatak.html

      If any doubt left or you want to know any other thing then comment us again.

      Thankyou for your Comment
      Jagran Today Team

      Delete

ALL TIME HOT