इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Jaharshaamak Kadamb ka Ped | जहरशामक कदंब का पेड़ | Kadamb Tree Removes Effect of Poison

कदम्ब का वृक्ष ( Kadamb Tree )
जब भी कदम्ब के पेड़ की बात होती है तो सबसे पहले भगवान श्री कृष्ण की याद आती है क्योकि उनकी अनेक लीलाएं कदम्ब के पेड़ से जुडी है. ब्रजवासियों और वहाँ के कवियों ने इस पेड़ की महिमा के रूप में अनेक कहानियाँ और कवितायें भी लिखी है. कदम्ब के पेड़ के नीचे बैठकर ही श्री कृष्ण बांसुरी बजाते थे जिसे सुनकर सभी मुग्ध हो जाते थे. वैसे आपको बता दें कि कदम्ब के पेड की अनेक प्रजातियाँ है जिनमें से राज कदम्ब, कदम्बिका और धुलिकदम्ब प्रमुख है. CLICK HERE TO KNOW विभिन्न रोगों के उपचार के लिए पीपल ... 
Jaharshaamak Kadamb ka Ped
Jaharshaamak Kadamb ka Ped
कदम्ब के पेड़ की पहचान बहुत आसान है क्योकि इसके पत्ते बड़े बड़े और मोटे होते है, इनके तने में से गोंद निकलता रहता है और इसके फल पीले नारंगी रंग में नीम्बू की तरह गोलाकार होते है, जबकि इसके फुल ठीक फल के ऊपर होते है जो आकार में तो छोटे होते है किन्तु इनमें से मोहक खुशबु आती है. ये तो थी कदम्ब की पहचान और उससे जुडी कहानियों की बात किन्तु क्या आपको पता है कि इसका इस्तेमाल स्वास्थ्य संबंधी उपचारों में भी किया जा सकता है. अगर नहीं तो घबरायें नहीं क्योकि आज हम आपको इसके औषधीय गुणों से ही परिचित करा रहे है.

§ जहर मिटायें ( Remove Effect of Poison ) : माना जाता है कि इस पेड़ में कुछ तत्व होते है जो जहर को तुरंत दूर कर देते है और इसका यही गुण इसे जहरशामक की उपाधि दिलाता है. इसलिए जब भी आपको किसी दवाई से एलर्जी हो जाएँ या आपको कोई जहरीला कीड़ा काट लें तो आप तुरंत कदम्ब के पत्तों, फल और इसकी सुखी छाल को बराबर मात्रा में लें उसे पानी में उबाल लें. इस तरह बनायें काढ़े को आप दिन में दो बार लें. जहर का असर आश्चर्यजनक तरीके से कम होने लगेगा. CLICK HERE TO KNOW कौन सा पौधा लगायें और कौन सा नहीं ... 
जहरशामक कदंब का पेड़
जहरशामक कदंब का पेड़
§ घाव भरता है ( Fills Wound ) : वहीँ अगर इसकी पत्तियों और छाल को पानी में उबालकर उससे घावों को साफ़ किया जाएँ तो घाव तुरंत भरने लगते है. अधिक लाभ के लिए आप घाव पर कदम्ब की पत्तियों का रस लगाएं.

§ मुहँ के छाले ठीक करें ( Cures Mouth Ulcer ) : अक्सर मुहँ में छाले हो जाते है जिससे खाने पीने में काफी दिक्कत होती है, किन्तु मुहँ के छालों में कदम्ब के पत्ते चबाने से एक लार बनती है जिससे इन छालों में आराम मिलता है. ध्यान रहें जो लार बनती है आपको उसे बाहर अवश्य निकाल देना है.

मुहँ के छालों में आराम पाने के लिए आप कदम्ब के फलों को छाया में सुखाएं और उन्हें पीसकर पाउडर बनायें, इस पाउडर को आप सुबह शाम मुहँ और जीभ के छालों पर लगायें आपको तुरंत आराम मिलेगा.

§ इत्र ( Used to make Perfume ) : कदम्ब के पेड़ की पत्तियों और इसकी छाल से इत्र भी बनाया जाता है जिसका इस्तेमाल गर्मियों और बरसात के मौसम में अधिक किया जाता है.
Kadamb Tree Removes Effect of Poison
Kadamb Tree Removes Effect of Poison
§ स्तन में दूध बढायें ( Increase Milk Level in Breast ) : कभी कभी स्त्री के प्रसव के बाद उनके स्तन में दूध की मात्रा कम रह जाती है, ऐसी महिलाओं को स्तन में दूध की मात्रा को बढाने के लिए कदम के सूखे हुए फलों का पाउडर और शतावर के पाउडर को बराबर मात्रा में मिलाकर प्रयोग में लाना चाहियें. इसको लेने के लिए स्त्रियाँ गुनगुना पानी इस्तेमाल करें.

§ सुजन उतारे ( Remove Swelling  ) : सुजन चाहे कैसी भी हो, उसको उतारें के लिए आप इस पेड के पत्तों, छाल और नमक को पानी में उबालकर उसे किसी रबड़ की बोतल में डालें और उससे सुजन वाली जगह पर सिकाई करें. जल्द ही सुजन में आराम मिलता है. आपको बता दें कि कदम्ब के फलों को छाया में सुखाकर बनायें गए पाउडर को खाने से शरीर की दुर्बलता दूर होती है और शारीरिक ताकत में निरंतर इजाफा होता है.

§ मूत्र विकार ( Urinary Disorder ) : अगर किसी व्यक्ति को मूत्र कम आ रहा है या मूत्र त्याग में को दिक्कतें अ रही है तो उन्हें 5 ग्राम कदम्ब के पेड़ की छाल और 5 तुलसी के पत्तों से एक काढा तैयार करना है और उसे दिन में 2 बार पीना है. ये मूत्र मार्ग को खोलता है और सभी तरह के मूत्र रोगों से निजात दिलाता है. इस उपाय को वे लोग भी अपना सकते है जिन्हें बुखार आया हो या जिनके सिर में दर्द रहता हो.
कदम्ब का वृक्ष
कदम्ब का वृक्ष
§ हाजमा ठीक करें ( Fix Digestion ) : बच्चे दिन में पढ़ते भी है, खेलते भी, उन्हें छोटे भी लगती है और वे खाने पीने के भी शौक़ीन होते है. इन सब क्रियाओं के लिए जरूरी है कि उनका पाचन तंत्र सही रहे और वे जो भी खाएं उन्हें उसके सारे पौषक तत्व मिलते रहें. कदम्ब का पेड़ ऐसा करने में उनकी सहायता करता है इसके लिए उन्हें दिन में 2 बार कदम्ब के फलों का रस पिलाना है. ये उनके स्वास्थ्य और मानसिक विकास में भी फायदेमंद रहता है.

§ तेल ( Used as Oil ) : गाँव में तो लोग इसके बीजों से तेल निकालकर उसको खाने में और दीपक जलाने में भी इस्तेमाल करते है.

§ पशुओं के लिए लाभदायी ( Good for Animals ) : कदम्ब का पेड़ मनुष्यों के लिए तो फायदेमंद है ही लेकिन अगर इसके फूलों और पत्तियों को पशुओं के रहने के स्थान अर्थात बाड़े में रखा जाएँ तो उनको भी कोई रोग नहीं लगता.

कदम्ब के पेड़ के ऐसे ही अन्य स्वास्थ्यवर्धक लाभों के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो.
Kadamb ke Vriksh ke Swasthya Laabh
Kadamb ke Vriksh ke Swasthya Laabh

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT