इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Piliya Ka Ghrelu Aayurvedic Ilaaj | पीलिया का घरेलू आयुर्वेदिक इलाज | Home Aayurmedic Remedies for Jaundice in Hindi

पीलिया का प्राकृतिक इलाज ( Natural Remedies for Jaundice )
पीलिया एक ऐसा रोग है जो हेपेटाइटिस ए या हेपेटाइटिस सी की वायरस के कारण फैलता है. पीलिया शरीर के अनेक भागों को अपना शिकार बनाता है और शरीर को बहुत हानि पहुंचाता है. इस रोग में पाचन तंत्र सही ढंग से कार्य तक करना बांध कर देता है और शरीर का रंग पीला पड़ जाता है. इस रोग से बचने के लिए रोगी अनेक तरह के उपचार और एंटी बायोटिक का सहारा लेता है. जिससे उनके शरीर पर कुछ अन्य प्रभाव भी हो सकते है किन्तु आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलू आयुर्वेदिक उपाय बता रह है जिनको अपनाकर आप पीलिया जैसी भयंकर रोग से तुरंत मुक्ति पा सकते हो. इन उपायों का आपको कोई साइड इफ़ेक्ट भी नही होता है. CLICK HERE TO KNOW पीलिया के कारण और लक्षण ... 
Piliya Ka Ghrelu Aayurvedic Ilaaj
Piliya Ka Ghrelu Aayurvedic Ilaaj
·         प्याज ( Onion ) : प्याज को पीलिया के इलाज के लिए रामबाण उपाय माना जाता रहा है. इसका उपाय करने के लिए आप प्याज को छीलकर इससे कुछ पतले पतले हिस्सों में बाँट लें और इसके ऊपर निम्बू का रस निचोड़ें. अब आप कुछ काली मिर्च और काले / सिंधा नमक का मिश्रण लें और प्याज के ऊपर छिड़क लें. इस तरह से आप प्याज का रोजाना सुबह शाम सेवन करें. इस उपाय के 15 से 20 दिन के अंदर ही आपको पीलिया से मुक्ति मिल जाती है.

·         चना ( Gram ) : चना पीलिया को ठीक करने के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता है. इसका प्रयोग करने के लिए आप रात को सोने से पहले चने की दाल को एक भगोने में भिगो कर रख दें और सुबह दाल में गुड मिलाकर खायें. इस उपाय को 2 से 3 हफ्ते तक अपनाएं. आपका पीलिया तुरंत भाग जायेंगा.

·         पपीता ( Papaya ) : आपने अनेक ऐसे लोग देखें होंगे जो पीलिया में पपीते का इस्तेमाल करते है. पपीता में कुछ ऐसे तत्व पायें जाते है जो पीलिया के असर को कम करते है. आयुर्वेद में माना जाता है कि पीलिया का रोगी गाय के दूध में बना हुआ पनीर और चने का रसगुल्ला खाता है तो उससे तुरंत अधिक लाभ मिलता है.

·         मकोय की पत्ती ( Sap / Solanum Nigrum Leaf ) : आप एक भगोने में पानी लें और उसमे कुछ मकोय की पत्तियों को डालकर उबाल लें. आप इन पत्तियों का सेवन करें आपको शीघ्र ही पीलिया के रोग में राहत मिलती है. आयुर्वेद में मकोय की पत्तियों को पीलिया का अचूक उपाय माना जाता है. आप मकोय की पत्तियों का किसी भी रूप में इस्तेमाल कर सकते हो क्योकि ये पूर्ण रूप से स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होती है. CLICK HERE TO KNOW माइग्रेन के कारण, लक्षण और उपचार ... 
पीलिया का घरेलू आयुर्वेदिक इलाज
पीलिया का घरेलू आयुर्वेदिक इलाज
·         नीम के पत्ते ( Neem Leaf ) : आप कुछ नीम के पत्ते लें और उन्हें अच्छी तरह धोकर साफ़ कर लें और इनका रस निकाल लें. आप इस रस को दिन में 2 से 3 बार एक चम्मच ग्रहण करें. इससे जल्द ही आपको पीलिया में आराम मिलता है.

·         लहसुन ( Garlic ) : पीलिया के रोगियों के लिए लहसुन भी काफी कारगर सिद्ध होता है. इसके लिए एक ग्लास दूध में 4 से 5 लहसुन की कलियों को डालकर अच्छी तरह उबाल लें. अब आप इस दूध को पी जाएँ और ऊपर से इन कलियों को खायें. आपको जल्द ही लाभ मिलेगा.

·         बादाम ( Almond ) : एक कटोरी पानी लें और उसमे 10 ग्राम बादाम, 5 ग्राम इलायची और 2 से 3 छुआरों डालकर रातभर भीगने दें. अगले दिन सुबह आप सारी सामग्री में स्वादानुसार पीसी हुई मिश्री डालें और थोडा ताजा मक्खन डालकर अच्छी तरह से मिलाकर एक मिश्रण तैयार कर लें. इस उपाय को आप कम से कम 2 सप्ताह तक जरुर अपनाएं. आपको जल्द ही पीलिया की बिमारी में राहत मिलेगी. बादाम का एक लाभ ये भी है कि इससे आपके पेट में बनी गर्मी भी नष्ट हो जाती है.

·         टमाटर ( Tomato ) : टमाटर त्रिफला के लिए अत्यंत लाभदायी माना जाता है. इसका इस्तेमाल करने के लिए आप टमाटर का जूस निकाल लें और उसमे स्वाद अनुसार काली मिर्च और नमक डाल लें. आप इस जूस को सुबह खाली पेट पियें. पीलिया के घरेलू आयुर्वेदिक उपायों में ये उपाय सबसे आसान और असरदार उपाय माना जाता है. टमाटर में विटामिन ए की प्रचुरता होती है साथ ही इसमें लाइकोपीन नाम का एक तत्व भी पाया जाता है. जो पीलिया को दूर भागने में लाभकारी सिद्ध होता है.
Home Aayurmedic Remedies for Jaundice in Hindi
Home Aayurmedic Remedies for Jaundice in Hindi
·         इमली ( Tamarind ) : इमली का प्रयोग भी आप पीलिया के इलाज के रूप में कर सकते हो. इसके लिए आप इसे भी रात भर भीगने दें और सुबह इसे मसलकर इसके छिलके को उतार दें. इसके बाद आप इसमें इमली का बचा हुआ पानी लें और उसमे थोड़ी काली मिर्च और काला नमक मिलाकर ग्रहण करें. इस तरह आपका पीलिया रोग जल्द ही ठीक हो जाता है.

·         आंवला ( Amla ) : आंवला का आयुर्वेद में विशेष स्थान है इसका प्रयोग अनेक रोगों की मुक्ति के लिए किया जाता है. पीलिया के उपचार में इसका इस्तेमाल करने के लिए आप 50 ग्राम की मात्रा में आंवलें का रस लें और उसमे 1 चम्मच शहद मिला लें और इस मिश्रण को 3 सप्ताह तक इस्तेमाल करें. जल्द ही आपको पीलिया में आराम मिलेगा. जिसका असर आप स्पष्ट रूप से देख पाते हो.

·         सौंठ ( Fennel ) : 10 ग्राम सौंठ और 10 ग्राम गुड को मिलकर उसका ठन्डे पानी के साथ सेवन करने से भी 10 से 15 दिनों में पीलिया के रोग में आराम मिलता है. आप इस उपाय को प्रतिदिन सुबह के समय अपनायें.

·         मुली ( Muli ) : आप 100 ग्राम मुली के पत्ते लें और उसका रस निकालें. इसके बाद आप इसमें स्वादानुसार चीनी या शक्कर मिलाकर इसका प्रतिदिन सुबह के समय सेवन करें. इससे आपका पेट साफ़ होता है और आपके लीवर और पाचन तंत्र को मजबूती मिलती है साथ ही आपको पीलिया में आराम मिलता है. आप अपने आहार में मुली, संतरा, तरबूज, टमाटर और अंगूर को भी जगह दें.
पीलिया रोग निवारण
पीलिया रोग निवारण
·         फिटकरी ( Alum ) : पीलिया के अचूक उपाय के रूप में आप फिटकरी का इस्तेमाल कर सकते हो इसके लिए आपको 50 ग्राम फिटकरी को गर्म कर उसका पानी उड़ना है और उसके बाद आप उस फिटकरी को पीसकर उसका चूर्ण बना लें. इस चूर्ण का मरीज दवा के रूप में सेवन करें.

आप फिटकरी को एक अन्य तरीके से भी इस्तेमाल कर सकते हो जिसके अनुसार आप 50 ग्राम फिटकरी का चूर्ण लेकर उसको 20 से 21 पुडिया में बाँट दें. इनमे से हर पुडिया को आप प्रतिदिन मलाई और 100 ग्राम दही के साथ सेवन करें. आप चाहे तो दही में चीनी भी मिला सकते हो. किन्तु ध्यान रहें कि ये उपाय आपको खाली पेट ही करना है. जैसे ही आपकी पुडिया खत्म होती है पीलिया का रोग भी दूर हो चूका होता है.

·         त्रिफला ( Triphala ) : आप एक कटोरी पानी लें और उसमे कुछ मात्रा में त्रिफला डालकर रातभर भीगने दें. सुबह उठने के बाद आप त्रिफला को अलग कर उसके पानी को पी जाएँ. इस उपाय को आप लगातार 2 सप्ताह तक अपनाएं. निश्चित रूप से आपको पीलिया से आराम मिल जायेगा.


पीलिया रोग से मुक्ति पाने के अन्य घरेलू आयुर्वेदिक और प्राकृतिक उपायों को जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट कर जानकारी हासिल कर सकते हो. 
Paandurog ke Upchar
Paandurog ke Upchar
Piliya Ka Ghrelu Aayurvedic Ilaaj, पीलिया का घरेलू आयुर्वेदिक इलाज, Home Aayurmedic Remedies for Jaundice in Hindi, पीलिया रोग निवारण, Piliya Rog Nivaran, पांडूरोग, Paandurog ke Upchar, Piliya se Mukti ke Aasan Prakratik Tarike, Tamatar Papita Pyaj Lahsun Baadam Muli Fitkari se Piliya se Nidan.


Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT