इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Gardan v Kandhe ke Dard ka Deshi Ilaaj | गर्दन व् कंधे के दर्द का देशी इलाज | Ayurvedic Treatment for Neck and Shoulders

गर्दन, कंधें, जोड़ों के और साइटिका के दर्द से मुक्ति कैसे पाए

गर्दन, कंधें, जोड़ों, और साइटिका के दर्द होने पर हमें बहुत ही तकलीफ होती हैं. गर्दन के दर्द व कंधें में दर्द होने से हमें रात को चैन की नींद भी नहीं आती. जोड़ों के दर्द की समस्या अधिकतर वृद्ध व्यक्तियों को होती हैं. जब जोड़ों में दर्द होता हैं तो कहीं आना जाना मुश्किल हो जाता हैं. जैसे ही उम्र बढती जाती हैं वैसे ही शरीर के अंगों में ये दर्द होने शुरू हो जाते हैं. लेकिन अब आपको इन दर्द से परेशान होने की आवश्यकता नहीं है. आयुर्वेद के पास इन सब दर्दों से मुक्ति पाने के लिए भी कुछ घरेलू ईलाज हैं. जिससे गर्दन, जोड़ों, कंधें और साइटिका के दर्द के आलावा अन्य दर्द को भी दूर किया जा सकता हैं.


गर्दन तथा कंधें में दर्द होने पर क्या करें

कारण 


गर्दन में दर्द अक्सर अधिक देर तक गर्दन को झुका कर काम करने से हो जाता हैं या रात को अधिक मोटा तकिया लगाकर सोने से गर्दन के साथ – साथ कंधों में भी दर्द हो जाता हैं. कंधें में दर्द भारी वजन को कंधें पर उठाने के कारण भी हो जाता हैं. शरीर के इन दोनों भागों में दर्द होने पर हम किसी भी कार्य को ठीक ढंग से नहीं कर पाते. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
Ayurvedic Treatment for Neck and Shoulders
Ayurvedic Treatment for Neck and Shoulders

लक्षण    

कंधें व गर्दन में दर्द होने पर हल्की – हल्की सूजन हो जाती हैं. गर्दन में दर्द होने पर गर्दन अकड़ जाती हैं और गर्दन को किसी भी तरफ घुमाने में तकलीफ होती हैं. 


उपचार

कंधें व गर्दन के दर्द से राहत पाने के लिए आयुर्वेद के पास कुछ ऐसे आसान घरेलू उपचार हैं जिनका प्रयोग आप आसानी से कर के अपने गर्दन के तथा कंधें के दर्द को दूर भगा सकते हैं. इन उपायों का वर्णन निम्नलिखित हैं – 


1.     गर्दन के दर्द को ठीक करने के लिए आप लेप का इस्तेमाल कर सकते हैं. इस लेप को बनाने के लिए शोभांजन की जड की छाल लें. फिटकरी लें. पुराना गुड़ लें तथा कटकरंज की भुनी हुई भींगी लें. इन सब चीजों की एक समान मात्रा ले लें. अब थोड़ा पानी लें और एक साथ इन सब चीजों को पानी में मिला कर पीस लें. अब इस लेप को कंधें और गर्दन पर लगाए. आपके कंधें को और गर्दन को दर्द से आराम मिलेगा. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
 
Gardan v Kandhe ke Dard ka Deshi Ilaaj
Gardan v Kandhe ke Dard ka Deshi Ilaaj

2.    गर्दन और कंधें के दर्द से राहत पाने के लिए आप अरंडी के तेल का और लहसुन का भी प्रयोग कर सकते हैं. 25 से 30 ग्राम अरंडी के तेल में लहसुन को डालकर लें. अब तेल को पकाने के लिए रख दें. जब तेल का लहसुन जलने लगे तो तेल को उतार लें. अब एक काँच की शीशी लें और उसमे तेल को भर लें. रोजाना रात को सोने से पहले कंधें की और गर्दन की मालिश इस तेल से करें. आपकी गर्दन को और कंधें को दर्द से आराम मिलेगा. 


3.    कंधें के दर्द से तथा गर्दन के दर्द से राहत पाने के लिए आप दशमूल के काढे का भी उपयोग कर सकते हैं. इसके लिए 35 से 40 मी.ली. की मात्रा में दशमूल का काढ़ा लें और उसका सेवन करें. दशमूल के काढ़े का दिन में दो बार सेवन करेने से आपको दर्द से मुक्ति मिलेगी.


4.    गर्दन के दर्द से तथा कंधें के दर्द से राहत पाने के लिए आप पीली सरसों, कपूर, अजवायन तथा पिपरमेंट से बने लेप का भी उपयोग कर सकते हैं. इस लेप को बनाने के लिए 200 ग्राम पीली सरसों लें. 10 ग्राम ढेला कपूर लें. 4 ग्राम अजवायन का सत्व लें तथा 4 ग्राम पिपरमेंट लें. अब इन सभी को एक साथ मिलाकर लेप बना लें. अब इस लेप को गर्दन और कंधें पर लगा लें. आपके दर्द में लाभ होगा.


5.     कंधें और गर्दन के दर्द से छुटकारा पाने के लिए तारपीन के तेल और तिल के तेल का भी इस्तेमाल किया जा सकता हैं. गर्दन व कंधें के दर्द को ठीक करने के लिए तारपीन व तिल के तेल को मिला लें. अब गर्दन और कंधें की इस तेल से अच्छे से मालिश करें. आपको दर्द से मुक्ति मिल जाएगी.


6.    अजवायन का सत्व, पुदीने का सत्व, कपूर, तारपीन का तेल और लौंग के तेल से बने मिश्रण को लगाने से गर्दन और कंधें के दर्द में आराम हो जाता हैं. इस मिश्रण को बनाने के लिए 20 ग्राम अजवायन का सत्व लें. 15 ग्राम पुदीने का सत्व लें तथा 15 ग्राम  कपूर लें. अब 15 ग्राम तारपीन का तेल लें. तथा 5 ग्राम तिल का तेल लें. अब इन सब को मिला कर एक बोतल में डाल दें. 15 या 20 दिनों के बाद जब ये सारी चीजें गल जाए तो इस मिश्रण से अपने गर्दन की तथा कंधें की मालिश करें. इस मिश्रण से दिन में तीन या चार बार मालिश करने से आपको दर्द से मुक्ति मिलेगी.  

 
गर्दन व् कंधे के दर्द का देशी इलाज
गर्दन व् कंधे के दर्द का देशी इलाज

 Gardan v Kandhe ke Dard ka Deshi Ilaaj, गर्दन व् कंधे के दर्द का देशी इलाज, Ayurvedic Treatment for Neck and Shoulders, Ayurveda Remedies for Neck and Shoulder Pain, गर्दन और कंधे के दर्द में आयुर्वेदिक उपचार, Gardan v Kandhe ke dard ka ayurvedic upchar.




YOU MAY ALSO LIKE 

गर्दन व् कंधे के दर्द का देशी इलाज
हॉलीवुड अभिनेत्री एंजेलीना जोली वॉइट
- ग्रहों की युति क्या है
- दो ग्रहों की युति के फल और उनके परिणाम
- सप्तम भाव में चन्द्र के साथ अन्य ग्रहों की युति और परिणाम
- सूर्य के साथ तीन ग्रहों की युति के परिणाम और फल

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT