इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Surya ke Saath Teen Grahon ki Yuti ke Parinaam or Fal | सूर्य के साथ तीन ग्रहों की युति के परिणाम और फल

तीन ग्रहों की युति के परिणाम और फल :
सूर्य के साथ दो ग्रहों की युति -
·         सूर्य + चंद्र + बुध : ये युति किसी भी जातक के माता पिता के लिए अशुभ होती है. इनकी युति आपकी मानसिक स्थिति, सरकारी नौकरी, ब्लैक मेलर, अशांत, मानशिक तनाव पैदा करने वाली होती है. 

·         सूर्य + शुक्र + शनि : इनकी वजह से आपको आपके जीवनसाथी से विछोह मिल सकता है अर्थात आपका तलाक हो सकता है. आपके घर में अशांति का वास हो सकता है और आपकी सरकारी नौकरी में भी कुछ गड़बड़ होने की संभावनाएं बनती है. 

·         सूर्य + चंद्र + केतु : इससे आपको आपके रोजगार में परेशानी आने लगी है, जिसकी वजह से आपके दिन रात का सुख चैन खो जाता है. आपकी बुद्धि काम करना बंद कर देती है और आप शक्तिहीन हो जाते हो. 

·         सूर्य + बुध + राहू : इनकी युति से आपके विवाह योग में दिक्कते आती है, ये योग आपके संतान प्राप्ति में भी बाधा बन जाता है. जिससे आपके जीवन में अंधकार उत्तपन हो जाता है.

चंद्र के साथ दो ग्रहों की युति -
·         चंद्र + शुक्र + बुध : इन तीनो ग्रहों की युति भी आपके जीवन में अशांति लाती है और आपके जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित करती है. जैसेकि ये आपकी सरकारी नौकरी, आपके व्यापर, संतान प्राप्ति और सम्बंधियो के बीच के संबंध में बाधा उत्तपन करती है. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
Surya ke Saath Teen Grahon ki Yuti ke Parinaam or Fal
Surya ke Saath Teen Grahon ki Yuti ke Parinaam or Fal
·         चंद्र + मंगल + शनि : आपकी नजरो के कमजोर होने, आपको अनजानी बीमारी के घेरने, आपके मानसिक तनाव और आपके जीवन के हर दुःख के पीछे इन्ही ग्रहों की युति का हाथ होता है.  

·         चंद्र + मंगल + बुध : ये युति जातक के लिए अच्छी मानी जाती है क्योकि इनकी युति से जातक के मन में साहस बढ़ता है, वो अपनी बुद्धि से अपने जीवन में सामंजस्य बना पाता है, इनका स्वास्थ्य भी हमेशा अच्छा रहता है. इन जातको को नीतिवान, साहसीमाना जाता है. किन्तु इनमे से एक का भी पाप गृह में होने से जातक डरपोक हो जाता है, उसके साथ किसी दुर्घटना की सम्भावना बढ़ जाती है और वो अपनी ख्याली दुनिया में जीने लगता है. 

·         चंद्र + मंगल + राहू : ये युति माता और भाई के लिए तो हलकी मानी जाती है साथ ही इसे जातक के पिता के लिए अशुभ माना जाता है. इन ग्रहों की युति से जातक का स्वभाव भी चंचल हो जाता है. 

·         चंद्र + बुध + शनि : इनकी युति से जातक को तंतु प्रणाली के रोग होने की संभावना अधिक होती है, साथ ही ये बेहोश भी अधिक होते हिया. इनका मन अशांत, और बूढी मानसिक तनाव से ग्रसित होती है. 

·         चंद्र + बुद्ध + राहू : चंद्र के साथ बुद्ध और राहू की युति को माँ के लिए अशुभ माना गया है और पिता के लिए भारी. इनकी युति से जातक की दुर्घटना की संभावना बढ़ जाती है, जिससे उसकी मौत के भी योग बनते है. 

·         चंद्र + शनि + राहू : इनकी युति भी जातक के लिए अशुभ होती है, इससे जातक को दिमागी परेशानियों को झेलना पड़ता है, उसे ब्लड प्रेशर का रोग हो जाता है और स्वास्थ्य हमेशा हल्का रहता है.  

मंगल के साथ दो ग्रहों की युति -
·         मंगल + बुद्ध + शनि : इनकी युति आँखों के विकार को उत्तपन करती है. साथ ही इनसे रक्त का विकार या रोग भी होता है. इनकी युति से जातक को दुर्घटना का भय बना रहता है. 

·         मंगल + बुद्ध + गुरु : ये युति जातक के लिए बहुत ही अच्छी होती है क्योकि इस युति का जातक अपने कुल का राजा होता है, उसे विद्वान माना जाता है, साथ ही इन्हें गाने का शौक होता है और इनकी शादी भी एक अच्छी लड़की से होती है. 

·         मंगल + बुद्ध + शुक्र : इस युति के जातक हमेशा खुश रहते है. इनका स्वभाव भी हमेशा चंचल होता है किन्तु ये कभी कभी क्रूर परवर्ती को अपना लेते है. इनके जीवन में कभी भी धन की कमी नही होती. 

·         मंगल + बुद्ध + केतु : ये तीनो एक अशुभ योग बनाते है. इनके योग से जातक दरिद्र और रोगी हो जाता है. साथ ही जातक व्यर्थ के कार्य करने लगता है. 

·         मंगल + बुद्ध + राहू : इनकी युति जातक को लालची, कंजूस, फ़क़ीर और बुरा बना देती है. इनकी युति के परिणामो की वजह से जातक अपने मान सम्मान को भी खो देता है.  

गुरु के साथ दो ग्रहों की युति :
·         गुरु + सूर्य + बुध : गुरु को ग्रहों में गुरु का दर्जा मिला है और बुध को बुद्धि का किन्तु सूर्य ताप का ग्रह है और इसके साथ युति करने पर सभी अपना प्रभाव खोने लगे है, इसीलिए कुंडली में  इनकी युति जातक के पिता के लिए अशुभ मानी जाती है.

·         गुरु + चंद्र + शुक्र : ये आपके प्रेम संबंध के लिए ठीक नही है क्योकि इनकी युति से आपके दो विवाह होंगे और आपका प्रेम भी बदनाम होगा. आपको हमेशा अपना जीवन धन की कमी और गरीबी में बिताना पड़ेगा.

·         गुरु + मंगल + बुद्ध : इनकी युति से आपकी संतान कमजोर होती है और आपके बैंक एजेंट और वकील के चक्करों में फंसे रहते हो. 

·         गुरु + शुक्र + शनि : ये युति आपके जीवन में लड़ाई, दंगे और फसादों को दर्शाती है, साथ ही इस युति से जातक के पुत्र के साथ तकरार की भी संभावनाएं रहती है. 

·         गुरु + चंद्र + मंगल : गुरु के साथ मंगल और चंद्र की युति जातक के लिए हर प्रकार से अच्छी और उत्तम मानी जाती है क्योकि इनकी युति जातक को धन, ऊँचा पद और गृह सुख प्राप्त कराती है. 

·         गुरु + शुक्र + बुद्ध : आपके गृहस्थ जीवन पर बुरे प्रभाव के पीछे का कारण इन ग्रहों की युति होती है. साथ ही ये आपके व्यापर और आपके कार्यो के लिए भी अशुभ मानी जाती है.

·         गुरु + शुक्र + मंगल : इनकी युति की वजह से जातक को अपनी संतान से परेशानियों का सामना करना पड सकता है, आपके प्रेम संबंधो में दुःख आने लगता है. साथ ही आपके गृहस्थ जीवन में भी दिक्कतें शुरू हो जाती है.

·         शुक्र + बुद्ध + शनि : ये तीन ग्रह जातक की धन से सम्बंधित कार्यो को प्रभावित करते है. इससे जातक के धन की चोरी होने और उसके प्रॉपर्टी डीलर के कार्यो में असफलता की आशंका बनी रहती है. इन ग्रहों की युति की वजह से जातक के घर की मुखिया घर की स्त्री या उसकी पत्नी होती है.

चंद्र + शुक्र + बुध + सूर्य : अगर किसी जातक की कुंडली में ये चारो ग्रह युति बना रहे है तो जातक आज्ञाकारी होता है और अपने माता पिता की सेवा करता है. साथ ही वो अच्छे कार्यो को करता है. इन्हें भला व्यक्ति माना जाता है किन्तु इनसे सरकारी नौकरी की प्राप्ति बहुत ही देर से होती है. 
 
सूर्य के साथ तीन ग्रहों की युति के परिणाम और फल
सूर्य के साथ तीन ग्रहों की युति के परिणाम और फल


 Surya ke Saath Teen Grahon ki Yuti ke Parinaam or Fal, सूर्य के साथ तीन ग्रहों की युति के परिणाम और फल, Surya ke saath do grahon ki yuti ke parinam of fal, Chandar ke saath do grahon ki yuti ke fal or parinaam, मंगल के साथ दो ग्रहों की युति.



YOU MAY ALSO LIKE 

सांप या सर्प के काटने का उपचार
हॉलीवुड अभिनेत्री एंजेलीना जोली वॉइट
- ग्रहों की युति क्या है
- दो ग्रहों की युति के फल और उनके परिणाम
- सप्तम भाव में चन्द्र के साथ अन्य ग्रहों की युति और परिणाम
- सूर्य के साथ तीन ग्रहों की युति के परिणाम और फल

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

20 comments:

  1. तीसरे भाव में सूर्य, बुध एवं मंगल की युति के परिणाम और उपाय बताएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. संदीप शुक्ला जी,

      सूर्य के साथ बुध और मंगल की युति होने पर जातक को पिता की भूमि का लाभ तो प्राप्त होता है, लेकिन उसकी शिक्षा में अवरोध और भाइयों के साथ संबंध में मतभेद रहते है. कभी कभी तो ये मतभेद शुत्रता में भी बदल जाते है.

      ऐसे में आपको रोजाना सूर्य देव की स्तुति करनी चाहियें क्योकि सूर्यदेव तेजस्वी लेकिन शांत देवता है और उनकी स्तुति से विपरीत परिस्थियों से बाहर निकलने की शक्ति मिलती है. सूर्य देव के खुश होने से सद्बुद्धि की प्राप्ति होती है जो इन ग्रहों के युति के प्रभाव को कम करने में सहायक होती है. अगर फिर भी आपको कोई संदेह रहे तो आप दोबारा कमेंट अवश्य करें.

      संपर्क के लिए धन्यवाद
      जागरण टुडे टीम

      Delete
  2. दसवें भाव में सूर्य, बुध एवं शुक्र की युति के परिणाम और उपाय बताएं

    ReplyDelete
  3. Pls tell me what happen when Chandra mangal aur rahu kark lagna me 3 sthan me hote h.

    ReplyDelete
  4. Karka lagna ke teesre me Chandra mangal aur rahu ki Yuri ka kya phal hota hai

    ReplyDelete
  5. Singh rashi me 7ghar surya mangal budh sukra

    ReplyDelete
  6. 11 bhav me surya Mangal aur budh ki yuti ka fal batay?

    ReplyDelete
  7. Surya budh and Mangal ki yuti in 11 house ?

    ReplyDelete
  8. सूर्य बुध शुक्र इनकी युक्तियों के बारे में जानकारी दें यह नंबर छह में है

    ReplyDelete
  9. सूर्य बुद्ध शनि चन्द्र युति फल

    ReplyDelete
  10. धनु लग्न के कुंडली मे दुसरे भाव मे यानि की मकर मे तीन ग्रह की युति का परिणाम बताइए
    चंद्र+राहु+मंगल का परिणाम क्या होगा ।

    ReplyDelete
  11. Chaturth bhava mein mangal aur budh ki yuti mesh mein kya parinam hoga?

    ReplyDelete
  12. सूर्य + बुध + केतु 2nd home

    ReplyDelete
  13. Yadi shani ki mahadasha ho aur 11 bhav me char garah ho Chandra Budh sukra aur rahu to kya fall hota hai

    ReplyDelete
  14. sir mere kundi m surya,chndr or ketu 1sthan m virajman hai plz enko shub krne ka upay btaye

    ReplyDelete
  15. आठवे भाव मे सूर्य बुध व गुरू हैं परिणाम क्या होगा और उपाय

    ReplyDelete
  16. Mere Putra ke char grah Surya,Guru,Budh,sukra ak sath 12ve bhav ,Kumbh rashi(11) Mai hai mere Putra Kanya rashi ka hai

    ReplyDelete
  17. मेरी पत्नी का मिथुन लग्न है एवं कुंभ राशि है यहां तुलाराशि में पंचम भाव में सूर्य शनि शुक्र एवं गुरु इन चार ग्रहों की युति इसका फल बताएं

    ReplyDelete
  18. Pranaam Sir,
    Tula Lagna hai, Kanya Rashi hai, Utarra Phalguni Nakshatra hai
    Lagna me - Shani + Ketu hain
    4th house me - Brihaspati hain
    7th House me - Rahu hai
    10th house me - Shukra hai
    11th house me - Surya + Budhh + Mangal
    12th house me - Chandra hai

    Rahu ki maha dasha chal rahi hai


    Please kuchh bataiye Sir,
    Bahut pareshaan hoon

    Kis devta ki puja karoon- kya daan karoon- Kon sa tirth karoon
    Kya paath karoon- kis grah ko thik karne se jyaada laabh hoga - bhagya uday kab tak hoga - please please bataiye sir -
    immukeshpathak@gmail.com- Gurgaon

    ReplyDelete
  19. 1 भाव मे सूय॔ मंगल शुक्र राहु की यूकति

    ReplyDelete

ALL TIME HOT