इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Real Estate Service

Cat and Mouse Tale A Political Story - कभी मित्र कभी घोर शत्रु एक चूहे बिल्ली की कहानी Chuhe Billi ki Kahani

कभी मित्र कभी घोर शत्रु  एक चूहे बिल्ली की कहानी - Cat and Mouse Tale A Polotical Story - Chuhe Billi ki Kahani आजकल बहुत बड़ा भोचाल आ...

Kide Makode Aadi Vishaile Jeev Kaat len To Upchar | कीड़े मकोड़े आदि विषैले जीव काट लें तो उपचार

कीड़े – मकौडों या विषैले जीव जन्तु के काटने पर घरेलु उपचार

     हम कभी – कभी अचानक ही किसी कीड़े – मकौड़े या जीव जंतु के शिकार हो जाते हैं. जैसे कुत्ता, चुहाँ, चींटी, मधुमक्खी या सांप, बिच्छू आदि जंतु. इनके काटने पर वैसे तो हमें सबसे पहले किसी चिकत्सक के पास जाना चाहिए. क्योंकि उनके पास प्रत्येक जीवों के एन्टी वेनम उबलब्ध होते हैं. परन्तु अगर आप चिकित्सक के पास किसी कारणवश न जा पाए या चिकित्सालय में आपका ठीक ढंग से ईलाज न हो तो आप इन जीवों के काटने पर स्वयं भी अपना ईलाज कर सकते हैं. कभी – कभी चिकित्सालयों में भी ऐसी परिस्थितियों का सामना करना पड़ता हैं की हम किसी रोग से पीड़ित हो जाने पर या किसी भी जीव जंतु का शिकार हो जाने पर चिकित्सालयों में जाते हैं और हमारा ठीक समय पर, ठीक उपचार नहीं हो पाता. हम यहाँ ये सब बातें इस लिए कर रहें हैं क्यूंकि आज चिकित्सालयों की हालत बहुत ही खराब हो गई हैं. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
 
कीड़े मकोड़े आदि विषैले जीव काट लें तो उपचार
कीड़े मकोड़े आदि विषैले जीव काट लें तो उपचार
खासतौर से ग्रामीण इलाकों के चिकित्सालयों की, लोग बीमारी से पीड़ित परेशान चिकित्सालयों में बैठे रहते हैं और उन पर कोई ध्यान ही नहीं देता. कहीं पर दवाइयाँ नहीं होती, तो कहीं पर इलाज करने के लिए चिकित्सक. आज ज्यादातर चिकित्सालयों की यही दशा हैं. ऐसी परिस्थिति में आपको परेशान होने की आवश्यकता नहीं हैं. आज आयुर्वेद ने इतनी प्रगति कर ली हैं की इसके जरिये आप किसी भी बिमारी का घर पर ही ईलाज कर के उस बिमारी से राहत पा सकते हैं. आयुर्वेद की सहायता से ईलाज करने पर एक तो किसी भी औषधि का शरीर पर कोई भी अतिरिक्त प्रभाव नहीं पड़ता तथा दवाइयों के मुकाबले इन औषधियों का प्रयोग कम खर्चे में ही किया जा सकता हैं. कभी – कभी इन औषधियों को बनाने में प्रयोग किया जाने वाला अधिकतर सामान हमारी रसोई में ही उपलब्ध होता हैं.



अधिकतर व्यक्ति सांप , बिच्छु जैसे जहरीले जंतुओं के काटने पर किसी चिकत्सक के पास जाने के बजाय झाड़ – फुक करने वाले ओझा के पास जाना अधिक पसंद करते हैं. परन्तु जरूरी नहीं हैं की झाड़ – फुक करके जीव जंतुओं के जहर का प्रभाव खत्म हो जाये. कभी – कभी झाड़ – फुक के चक्कर में पड़कर आदमी अपनी जान भी गवां देते हैं. इसलिए अगर आपको  किसी भी जहरीले जंतु ने काटा हैं. तो तुरंत चिकिस्क के पास जाए न की किसी झाड़ – फुक करने वाले ओझा के पास. अगर किसी कारण से जिस व्यक्ति को जहरीले जंतु ने काटा हैं उसको चिकित्सालय पहुँचाने में दिक्कत हो रही हो तो, जब तक मरीज चिकित्सालय नहीं पहुंच जाता तब तक उसका घर पर ही घरेलू चीजों का इस्तेमाल करके इलाज करने की कोशिश करें. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
 
Kide Makode Aadi Vishaile Jeev Kaat len To Upchar
Kide Makode Aadi Vishaile Jeev Kaat len To Upchar

 Kide Makode Aadi Vishaile Jeev Kaat len To Upchar, कीड़े मकोड़े आदि विषैले जीव काट लें तो उपचार, जहरीले जीवों के काटने का घरेलू इलाज, Jahrile Jeevon ke Katne ka Ghrelu Ilaaj, Kide Makodon ke kaatne ka Ghrelu Deshi Ilaaj.




YOU MAY ALSO LIKE 

-   धनिया के आठ चमत्कारी फायदे
खुबसूरत सेक्सी गर्म अभिनेत्री ऐश्वर्या राय
- घरेलू इलाज में आंवला
- वीर्य विकार या प्रसव में आंवले से उपचार
- आँखों की देखभाल कैसे करें
- गंजे सिर पर बाल कैसे उगायें

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT