इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Prsuta ke Badhe Hue Pet Ka Ayurvedic Upchar | प्रसूता के बढे हुए पेट का आयुर्वेदिक उपचार | Ayurvedic Remedy for Increased Belly of Procreative

गर्भवती महिला या प्रसूता अपने बढे हुए पेट से मुक्ति कैसे पाए
अथवा
 प्रसव के बाद के मोटापे से महिलाएं छुटकारा कैसे पायें
कुछ महिलाएं प्रेगनेंसी के पहले या उसके बाद के मोटापे से काफी परेशान हो जाती हैं. प्रेगनेंसी के दौरान या बच्चे को जन्म देने के बाद महिला का पेट बढ जाना स्वाभाविक होता हैं. पेट के बढने की यह समस्या महिला द्वारा अधिक वसा से युक्त भोजन का सेवन करने के कारण उत्पन्न हो जाती हैं. पेट के बढने का एक कारण पेट में पल रहे शिशु का वजन भी हो सकता हैं. पेट में पल रहे शिशु के वजन से महिलाओं के पेट की नसें खीच जाती हैं जिससे उनका पेट बाहर की ओर निकल आता हैं और उन्हें पेट के मोटापे की शिकायत हो जाती हैं. कुछ लोग महिला के प्रेगनेंसी के दौरान या उसके बाद के मोटापे को महिला के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक समझते हैं. लेकिन ये लोग यह भूल जाते हैं की अधिक मोटापा हमेशा अपने साथ अनेक प्रकार की बिमारियों को लेकर आता हैं. इसलिए प्रेगनेंसी के बाद या उससे पहले के मोटापे को महिलाओं को नजरंदाज नहीं करना चाहिए तथा इस मोटापे को जल्द से जल्द खत्म करने के बारे में सोचना चाहिए. आज आधुनिक चिकित्सा के साथ – साथ आयुर्वेद ने बहुत ही प्रगति कर ली हैं. आज के समय में आयुर्वेद के पास हर बीमारी को दूर करने के लिए उपाए हैं. जिनका प्रयोग महिलाएं अपने पेट के मोटापे को कम करने के लिए भी कर सकती हैं. इन आयुर्वेदिक उपचारों की जानकारी निम्नलिखित हैं –
CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
 
प्रसूता के बढे हुए पेट का आयुर्वेदिक उपचार
प्रसूता के बढे हुए पेट का आयुर्वेदिक उपचार
गर्भवती महिला के बढ़े हुए पेट की समस्या को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक उपचार
1.    गर्भवती महिला अपने पेट के मोटापे को कम करने के लिए पीपरी के चुर्ण का प्रयोग कर सकती हैं. पेट के मोटापे को कम करने के लिए पीपरी का 50 ग्राम चुर्ण बना लें. अब इस चुर्ण का सेवन रोजाना करें. 6 या 7 ग्राम चुर्ण का रोजाना सेवन करने से गर्भवती महिला के पेट का मोटापा कम हो जायेगा.

2.    गर्भवती महिला अपने पेट के मोटापे की समस्या को दूर करने के लिए आंवले और हल्दी का भी प्रयोग कर सकती हैं. इसके लिए आंवला लें और हल्दी लें. अब इन दोनों को आँच पर हल्का – हल्का भुन लें. भूनने के बाद इन दोनों को अच्छी तरह से पीसकर बारीक़ चुर्ण बना लें. अब इस चुर्ण का सेवन करें. आंवले और हल्दी के चुर्ण का सेवन रोजाना दिन में दो बार करने से महिला को मोटापे से जल्दी छुटकारा मिल जायेगा. 

3.    प्रेगनेंसी के दौरान पेट के बढ़ जाने पर महिलाएं त्रिफला, सेंधा नमक तथा त्रिकुट का उपयोग कर सकती हैं. पेट के मोटापे को कम करने के लिए 15 ग्राम त्रिफला लें. 15 ग्राम सेंधा नमक लें और 15 ग्राम त्रिकुट लें. अब इन तीनों को मिलाकर पीस लें. अब इन तीनों से बने चुर्ण का सेवन करें. त्रिफला, सेंधा नमक और त्रिकुट के चुर्ण का लगातार 6 या 7 महीने तक सेवन करने से गर्भवती महिला के पेट का मोटापा खत्म हो जायेगा. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
 
Ayurvedic Remedy for Increased Belly of Procreative
Ayurvedic Remedy for Increased Belly of Procreative
प्रसव के बाद के मोटापे को कम करने के लिए आयुर्वेदिक उपाए
1.    प्रसव के बाद के मोटापे से परेशान महिलाओं के लिए शहद बहुत ही उपयोगी होता हैं. पेट के मोटापे को कम करने के लिए एक चम्मच शहद लें और उसे एक गिलास पानी में मिला लें. अब इस  पानी का सेवन करें. रोजाना एक गिलास पानी में शहद को मिलाकर पीने से महिलाओं को पेट के मोटापे से जल्द ही छुटकारा मिल जायेगा. 

2.    प्रसव के बाद के पेट के मोटापे को कम करने के लिए महिलाएं पीपलामूल के चुर्ण का भी प्रयोग कर सकती हैं. इसके लिए प्रसव के 50 से 55 दिनों के बाद रोजाना पीपलामूल के चुर्ण का सेवन करें. इस चुर्ण का सेवन करने से महिला को प्रसव के बाद की पेट के बढने की परेशानी से छुटकारा मिल जाता हैं.

3.    प्रसव के बाद के पेट के मोटापे से परेशान महिलाएं परिजात के पत्ते तथा चित्रकमूल का भी उपयोग कर सकती हैं. मोटापे से परेशान महिलाएं पारिजात तथा चित्रकमूल को मिला लें और इनका क्वाथ बना लें. अब इस क्वाथ का सेवन करें. इन दोनों के क्वाथ को पीने से महिला के पेट के बढने की समस्या दूर हो जाती है.

4.    पेट के मोटापे को कम करने के लिए महिलाएं खाने में कुछ विशेष पदार्थों का सेवन कर सकती हैं. प्रसव के बाद महिलाओं को जौ, पुराना चावल, कुलथी, अरहर, परवल, छाछ, शहद आदि से बने भोजन का सेवन करना चाहिए. इन सभी चीजों को खाने से महिलाओं के पेट की समस्या ठीक हो जाती हैं.

हिंग, त्रिकुट, जीरा, सेंधा नमक, चित्रक तथा च्वय का प्रयोग भी महिलाएं पेट के मोटापे को कम करने के लिए कर सकती हैं. पेट के मोटापे की समस्या को दूर करने के लिए इन सभी की एक समान मात्रा लें. अब इन सभी को एक साथ मिलाकर पीस लें. अब थोडा सत्तू लें और उसे एक गिलास पानी में घोल लें. अब इस चुर्ण को भी सत्तू के पानी में मिला लें और इस पानी का सेवन करें. इस पानी का सेवन डिलीवरी के अगले दिन से करें. आपको मोटापे से राहत मिल जाएगी. 
 
Prsuta ke Badhe Hue Pet Ka Ayurvedic Upchar
Prsuta ke Badhe Hue Pet Ka Ayurvedic Upchar

 Prsuta ke Badhe Hue Pet Ka Ayurvedic Upchar, प्रसूता के बढे हुए पेट का आयुर्वेदिक उपचार, Ayurvedic Remedy for Increased Belly of Procreative, Baccha Paida Karne Wali lady ke Bade Pet ka Deshi Ilaaj, बढे हुए पेट का देशी इलाज, How to Get Rid from Increased Stomach after Delivery.




YOU MAY ALSO LIKE  

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT