इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Sharirik Urja Bdhane Ke Liye Sftik | शारीरिक ऊर्जा बढ़ाने के लिए स्फटिक | Boost Up Body Energy Using Crystal

शारीरिक ऊर्जा को बढ़ाने के लिए स्फटिक का प्रयोग
स्फटिक से विभिन्न प्रकार की ऊर्जाओं को जैविक ऊर्जा में परिवर्तित कर देता हैं. यह ऊर्जा का शरीर में विस्तार करने का भी कार्य करता हैं. जिससे हमारे शरीर में दुबारा जैविक ऊर्जा आ जाती हैं तथा ये ऊर्जा हमारे शरीर में संतुलित हो जाती हैं.

स्फटिक का प्रयोग करने से शरीर में प्रतिरोधक शक्ति का विकास होता हैं तथा इसका प्रयोग करने से शरीर की प्राण ऊर्जा अधिक बढ़ जाती हैं. शरीर में प्राण तथा ऊर्जा बढने से हमारे शरीर में रोगों से लड़ने की आन्तरिक की शक्ति में विकास होता हैं. 

क्वार्टज स्फटिक का प्रयोग करने से शरीर की ऊर्जा में बढ़ोतरी तो होती ही हैं इसके साथ – साथ इसका प्रयोग मानसिक ऊर्जा को बढ़ाने के लिए भी किया जाता हैं. क्वार्टज क्रिस्टल का हमारे मस्तिष्क पर गहरा प्रभाव पड़ता हैं.

क्वार्टज क्रिस्टल का प्रयोग करने से शरीर और मन की नकारात्मक शक्ति को दूर कर देता हैं तथा यह सकारात्मक शक्ति को उसके स्थान पर मस्तिष्क में प्रवाहित करता हैं. स्फटिक का प्रयोग करने से शरीर के सातों चक्र संतुलित हो जाते हैं तथा इसका प्रयोग करने से इन चक्रों की क्षमता में भी वृद्धि होती हैं.

स्फटिक का प्रयोग करने से शरीर की सुरक्षा शक्ति 100 फिट तक बढ़ जाती हैं. इसका प्रयोग करने से रोगी के कमरे के दुष्प्रभावों का हमारे शरीर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता.

Sharirik Urja Bdhane Ke Liye Sftik
Sharirik Urja Bdhane Ke Liye Sftik



स्फटिक क्वार्टज क्रिस्टल की एक विशेषता यह हैं कि मानव मस्तिष्क के विचारों को तथा भावनाओं को यह अपने अंदर समाहित कर लेता हैं. स्फटिक अनेक प्रकार का होता हैं तथा प्रत्येक स्फटिक की अपनी एक अलग कम्पन तथा तरंग होती हैं.

ऐसा माना जाता हैं कि एक उ” वल, स्वच्छ एवं पवित्र स्फटिक से जो ऊर्जा निकलती हैं वो जैविक आभा मण्डल द्वारा जल्दी ग्रहण कर ली जाती हैं. यह ऊर्जा जैविक प्रभा मण्डल से प्रभावित तो होती ही हैं इसके साथ ही यह जैविक प्रभा मण्डल पर अपना प्रभाव भी छोडती हैं. स्फटिक की इसी खुबी के कारण ही इसका प्रयोग विभिन्न प्रकार के प्राकृतिक उपचार करने के लिए किया जाता हैं.

स्फटिक के किसी प्राणी, जीव, जंतु, पेड़ – पौधों के संपर्क में आने से उस व्यक्ति या वास्तु की ऊर्जा कई गुणा बढ़ जाती हैं. इसे किर्लीयन फोटोग्राफी या पेण्डुलम के द्वारा सिद्ध किया जा कसता हैं. स्फटिक द्वारा मन की शक्ति को शारीरिक शक्ति में परिवर्तित किया जा सकता हैं.

अल्फ़ा तरंगे
अल्फ़ा मस्तिष्क का वह भाग हैं जहाँ पर अवचेतन मन के कंप्यूटर के द्वारा दिए गये निर्देश को ग्रहण करने की क्षमता आरम्भ हो जाती हैं. क्वार्टज क्रिस्टल को हाथ में पकड़ने से तथा धारण करने से अल्फ़ा तरंगे बनती हैं. मानव मन की कल्पना शक्ति को क्रिस्टल में डालने से मस्तिष्क अल्फ़ा तरंगों के अनुसार कार्य करने लगता हैं. मानव मस्तिष्क के अल्फ़ा स्तर पर पहुंचकर ही अल्फ़ा तरंगों के द्वारा हानिकारक प्रोग्राम को हटाया जाता हैं तथा इसके बाद उपचार की प्रक्रिया शुरू होती हैं तथा उपचार करने के लिए इस प्रक्रिया को तेज कर दिया जाता हैं.

स्फटिक का इस्तेमाल करने के साथ – साथ दवाइयों का प्रयोग करने से तथा सर्जरी करने से बिमार व्यक्ति शीघ्र ही ठीक हो जाता हैं तथा इन दोनों का प्रयोग स्फटिक के साथ करने से इसका बिमार व्यक्ति के शरीर पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता.

स्वच्छ पारदर्शी क्वार्टज क्रिस्टल अपने अंदर इन्द्रधनुष की किरणों को समावेश करने की तथा उन्हें फ़ैलाने की शक्ति भी रखता हैं.

स्फटिक के विभिन्न रंग - :
स्फटिक विभिन्न रंगों के होते हैं. जैसे – लाल, हर, नीला, बैंगनी तथा स्वच्छ पारदर्शी स्फटिक. इन सभी का प्रयोग अलग – अलग प्रकार की बिमारियों से पीड़ित रोगियों के उपचार करने के लिए किया जाता हैं. CLICK HERE TO READ MORE POST ...
शारीरिक ऊर्जा बढ़ाने के लिए स्फटिक
शारीरिक ऊर्जा बढ़ाने के लिए स्फटिक


1.       हरे रंग के स्फटिक का इस्तेमाल भौतिक शरीर का उपचार करने के लिए किया जाता हैं.

2.       हल्के गुलाबी रंग के स्फटिक का प्रयोग भावनात्मक उपचार करने के लिए किया जाता हैं.

3.       नील रंग के लाजवर्त स्फटिक का प्रयोग मानसिक उपचार करने के लिए किया जाता हैं.

4.       बैगनी रंग के स्फटिक का इस्तेमाल आध्यात्मिक उपचार करने के लिए किया जाता हैं.


स्फटिक के विभिन्न प्रयोग -:
1.       स्फटिक का प्रयोग अलग – अलग रूपों में अपनी सुविधा के अनुरूप किया जाता हैं. जैसे – कुछ लोग स्फटिक की माला का प्रयोग करते हैं तो कुछ पेंडल का प्रयोग करते हैं. कुछ व्यक्ति स्फटिक से बनी हुई मूर्तियों का तथा श्रीयंत्र का भी प्रयोग करते हैं.

2.       ह्वदय पर पेंडल या स्फटिक की माला का प्रयोग करने से व्यक्ति के शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता में वृद्धि होती हैं. इसका प्रयोग करने से शरीर की थाइमस ग्रंथि को शक्ति मिलती हैं तथा व्यक्ति जल्द ही ठीक हो जाता हैं.

3.       स्फटिक का प्रयोग आप आसपास के वातावरण की ऊर्जा को बढ़ाने के लिए भी कर सकते हैं. जैसे – स्फटिक को घर में कार्य स्थल की मेज पर रख कर या पीड़ित व्यक्ति की तकिया के नीचे रखने से ऊर्जा शक्ति में वृद्धि होती हैं.

स्फटिक प्रकृति के द्वारा हमें दिया गया एक अमूल्य रत्न हैं. यह एक कवच, रोगों से मुक्त करने वाला, मन – मस्तिष्क को एकाग्र कर भावनाओं को शांत करने वाला, शरीर की शिथिलता को दूर करने वाला, आत्मविश्वास के स्तर में वृद्धि करने वाला तथा डर को दूर कर व्यक्तित्व को निखारने वाला तथा आध्यात्मिक ऊर्जा को बढ़ाने में सहायता करने वाला हैं.

शारीरिक ऊर्जा को बढ़ाने के लिए स्फटिक का प्रयोग के बारे अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते है.
   
Boost Up Body Energy Using Crystal
Boost Up Body Energy Using Crystal  



Sharirik Urja Bdhane Ke Liye Sftik , शारीरिक ऊर्जा बढ़ाने के लिए स्फटिक , Boost Up Body Energy Using Crystal, स्फटिक के विभिन्न प्रयोग, Sftik Ke Vibhinn Rang, Alfa Tarange.

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT