इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Real Estate Service

सबकुछ बिकता है यहाँ ऑनलाइन प्रॉपर्टी डीलिंग पर – Online Property Dealing

सबकुछ बिकता है यहाँ ऑनलाइन प्रॉपर्टी डीलिंग पर – Online Property Dealing  सबकुछ बिकता है यहाँ ऑनलाइन प्रॉपर्टी डीलिंग पर आप...

Sftik Ki Shriyantr Gnesh Murti Ke Chamatkar | धन ऐश्वर्य की प्राप्ति के लिए स्फटिक श्री यंत्र गणेश मूर्ति

स्फटिक श्रीयंत्र तथा गणेश मूर्ति से होती हैं धन एवं ऐश्वर्य की प्राप्ति

श्री विद्या को प्राप्त करने के लिए स्फटिक से बना श्रीयंत्र बहुत ही शुभ होता हैं. स्फटिक श्रीयंत्र ब्रह्माण्ड का सर्वश्रेष्ठ तंत्र हैं. इसकी साधना केवल ऐसे योग्य साधकों को और शिष्यों को प्राप्त होती हैं जिन्होंने पहले ही सभी साधनाओं को आत्मसात कर लिया हैं.

स्फटिक से बना श्रीयंत्र त्रिपुरसुन्दरी श्री महालक्ष्मी जी का सिद्ध यंत्र हैं. स्फटिक श्री यंत्र सही अर्थों में यंत्रराज हैं. इस यंत्र से ऐश्वर्य तथा धन – समृद्धि की प्राप्ति होती हैं. स्फटिक श्री यंत्र को घर में स्थापित करने का मतलब घर में श्री महालक्ष्मी जी को अपने सम्पूर्ण ऐश्वर्य के साथ निमंत्रित करना हैं.

स्फटिक श्रीयंत्र से जो व्यक्ति त्रिपुरसुन्दरी को प्रसन्न करने के लिए प्रयत्न करता हैं. उसके एक हाथ में विभिन्न प्रकार के भोग होते हैं तथा दुसरे हाथ में मोक्ष होता हैं. कहने का मतलब यह हैं कि त्रिपुरसुन्दरी महालक्ष्मी जी की साधना करने वाला साधक अपने सम्पूर्ण जीवन में विभिन्न प्रकार के भोगों का सेवन करते हुए अंत में मोक्ष को प्राप्त कर लेता हैं. इस प्रकार स्फटिक श्रीयंत्र के द्वारा की जाने वाली मात्र एक ऐसी साधना हैं जिससे साधक को मोक्ष की तथा भोग की प्राप्ति एक साथ होती हैं. स्फटिक से बने हुए श्रीयंत्र से साधक को शीघ्र फल की प्राप्ति होती हैं. इसलिए प्रत्येक साधक इस साधना को करने के लिए प्रयास करता रहता हैं.

श्रीयंत्र की विशेषताएँ –
·         घर में श्रीयंत्र स्थापित करने से सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह हमेशा बना रहता हैं तथा इसे रखने से घर से नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाती हैं.

·         श्रीयंत्र अच्छी किस्मत, सदभाव, घर की शांति के लिए भी महतवपूर्ण होता हैं. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POST ...
Sftik Ki Shriyantr Gnesh Murti Ke Chamatkar
Sftik Ki Shriyantr Gnesh Murti Ke Chamatkar


·         स्फटिक श्रीयंत्र को स्थापित करने से घर के वास्तुदोषों से भी मुक्ति मिल जाती हैं.

·         स्फटिक श्रीयंत्र को ब्रह्मा, विष्णु तथा महेश का स्वरूप माना जाता हैं तथा इसे घर में रखने से घर पर हमेशा इनकी कृपा बनी रहती हैं.

·         प्रतिदिन श्रीयंत्र पर ध्यान केन्द्रित करने से व्यक्ति की मानसिक शक्ति में विकास होता हैं.

·         उच्च यौगिक दशा में स्फटिक श्री यंत्र सहस्रार चक्र भेदन में सहायक होता हैं.

·         स्फटिक श्री यंत्र की पूजा रोजाना कार्यस्थल पर करने से व्यवसाय में तथा व्यापार में लाभ होता हैं.

·         घर में श्री यंत्र को स्थापित कर प्रतिदिन पूजा करने से सम्पूर्ण दाम्पत्य सुख की प्राप्ति होती हैं.

·         स्फटिक से बने हुए श्री यंत्र की पूजा अगर दीपावली की रात्रि को पूरे विधि – विधान से की जाये तो घर में पूरे वर्ष भर किसी वस्तु की कमी नहीं होती.    


स्फटिक से बनी मूर्तियों का महत्व :
वैसे स्फटिक का प्रयोग रत्नों के रूप में किया जाता हैं तथा यह रत्नों की श्रेणी में ही आता हैं. स्फटिक का प्रयोग मूर्तियों को बनाने के लिए भी किया जाता हैं. स्फटिक से बनी मूर्तियों में गणेश भगवान की मूर्तियों का विशेष महत्व हैं. स्फटिक से बनी गणेश जी की मूर्ति को घर में तथा कार्यालय में स्थापित करने से सभी प्रकार के कष्टों से तथा विघ्नों से मुक्ति मिल जाती हैं. स्फटिक से बनी गणेश जी की मूर्तियों को किसी व्यक्ति को भेंट करना भी अधिक शुभ माना जाता हैं तथा इसे भेट करने से व्यक्ति को पुण्य की प्राप्ति होती हैं. गणेश जी की मूर्ति को सभी क्षेत्रों में सफलता हासिल करने के लिए तथा विघ्नों को हरने वाला माना जाता हैं.

गणेश मूर्ति के लाभ - :
1.       स्फटिक से बनी गणेश जी की मूर्ति को घर में स्थापित करने से व्यक्ति की कुंडली में से अशुभ ग्रहों के प्रभाव दूर हो जाते हैं.
धन ऐश्वर्य की प्राप्ति के लिए स्फटिक श्री यंत्र गणेश मूर्ति
धन ऐश्वर्य की प्राप्ति के लिए स्फटिक श्री यंत्र गणेश मूर्ति
2.       शिव भगवान का सबसे प्रिय रत्न स्फटिक हैं. इसलिए इस रत्न से बनी हुई गणेश भगवान जी की मूर्ति भी शिवजी को अधिक प्रिय हैं.

3.       घर की समस्याओं से मुक्त होने के लिए भी स्फटिक से बनी गणेश मूर्ति का इस्तेमाल किया जाता हैं. घर के मुख्य द्वार पर स्फटिक की गणेश मूर्ति को स्थापित करने से सभी प्रकार के कष्ट दूर हो जाते हैं तथा इससे घर के सदस्यों को लाभ मिलता हैं.

4.       स्फटिक से बनी गणेश मूर्ति को शुभ समय में स्थापित कर इसकी प्रतिदिन पूजा – अर्चना करने से तथा मूर्ति के समक्ष अथर्वशीष का पाठ करने के बाद पंचमेवा का नियमति रूप से सवा महीने तक भोग लगाने से लक्ष्मी की प्राप्ति होती हैं.

5.       स्फटिक से बनी किसी भी देव की मूर्ति को बार – बार छुने से व्यक्ति के मस्तिष्क में धन अर्जन करने की ऊर्जा का विकास होता हैं.

स्फटिक श्री यंत्र तथा गणेश मूर्ति से सम्बन्धित अन्य उपायों एवं प्रयोगों को जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते है.   
धन ऐश्वर्य की प्राप्ति के लिए स्फटिक श्री यंत्र
धन ऐश्वर्य की प्राप्ति के लिए स्फटिक श्री यंत्र
  

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT