इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Apna Parichay Kaise Den | अपना परिचय कैसे दें | How To Introduce Yourself

परिचय कैसे दें ( How to Introduce yourself ) Preface
परिचय से अर्थ अपने बारे में किसी को जानकारी देने से है जिसमे आपका नाम. आपकी पृष्ठभूमि, आपके कार्य से सम्बंधित बाते शामिल होती है. परिचय को आप दो भागो में बाँट सकते हो -

पहला – औपचारिक ( जिसे आप किसी संस्था या किसी कार्यक्षेत्र में देते हो )

दूसरा - अनौपचारिक ( जिसे आप किसी नए मित्र से या ऐसे व्यक्ति को देते हो जिससे आप मित्रतापूर्ण संबंध बनाते हो )

परिचय हर क्षेत्र में व्यक्ति की पहचान को बनाने में अहम भूमिका अदा करता है इसलिए एक अच्छे परिचय में सभी विषयों का समाहित होना जरूरी होता है, जिससे आपके कौशल, आपकी योग्यता और आपकी क्षमताओं का पता चल सके.

परिचय के प्रकार :
साक्षात्कार सिर्फ नौकरी से जुडा हुआ नही है बल्कि जब आप किसी व्यक्ति से मिलते हो, या कोई नया मित्र बनाते हो तब भी आप अपने बारे में उन्हें कुछ बताते हो, साथ ही आप भी उनके बारे कुछ जाने की कोशिश करते हो. इसे परिचय कहा जाता है. तो आओ जानते है कि परिचय कितने प्रकार के हो सकते हो और उन प्रकारों के आधार पर अपना परिचय कैसे दिया जाता है. 

-    नयें व्यक्ति को परिचय :
-    कार्यक्षेत्र में परिचय :
-    कक्षा में प्रेजेंटेशन से पहले परिचय :

·         नयें व्यक्ति को परिचय :
कई बार ऐसा होता है कि हम पार्टी, मीटिंग या किसी अन्य स्थान पर किसी व्यक्ति से पहली बार मिलते है तो जब उस समय हम उन्हें अपना परिचय देते है तो निम्न बातो का ध्यान रखें :
CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
Apna Parichay Kaise Den
Apna Parichay Kaise Den
§  हाथ मिलायें : जब भी आप किसी से पहली बार मिलते है तो सबसे पहले तो आप उनका अभिवादन करें और उनसे हाथ मिलायें. हाथ मिलाना भी एक कला मानी जाती है, जिसके अनुसार आपको कस कर हाथ मिलना चाहियें ताकि आपके अंदर का आत्मविश्वास झलके. आप सामने वाले व्यक्ति के हाथो को 3 से 5 सेकंड तक अपनी उँगलियों से मजबूती से पकड़ें. 

§  नजरें मिलायें : नजरें मिलाना आपके आत्मविश्वास को दिखता है और इससे इस सामने वाला इस बात को अनुभव करता है कि आप उनकी बातो को ध्यानपूर्वक सुन रहे हो. यदि सामने वाला व्यक्ति आपसे उम्र में बड़ा है या आपको उनसे नजरे मिलाने में झिझक महसूस हो रही है तो आप उनकी भौहों के बीच में देखियें.

§  मुस्कराहट : मुस्कराहट व्यक्ति को आपकी तरफ आकर्षित करती है और जब आप किसी नए व्यक्ति से मिलते है तो आपकी मुस्कराहट आपकी ख़ामोशी को तोड़ने के लिए आपके पास सबसे अच्छा तरीका होती है. आपकी मुस्कुराहट आपकी ईमानदारी और आपके साफ़ और मैत्रीपूर्ण मन का आइना भी होती है तो अपने चेहरे पर हमेशा एक शानदार मुस्कराहट रखें.

§  नाम जानें : इसके बाद आप एक दुसरे का नाम जाने की कोशिश करें. इसके लिए आप सबसे पहले अपना परिचय दें और कहें हेलो / हाय, मै { आपका नाम } हूँ. अपना नाम बताने के तुरंत बाद आप उनसे कहें और आप?. जब आप एक दुसरे का नाम जान जायें तो आप मुस्कुराकर कहें कि आपसे मिलकर प्रसन्नता हुई.

§  बातचीत आगे बढायें : बातचीत को आगे बढ़ाने के लिए आप सामने वाले को अपने बारे में कुछ बता सकते हो जैसेकी आप उन्हें बता सकते हो कि आप कहाँ के रहने वाले हो?, आप क्या कार्य करते हो?. आप कोई भी बात करें पर इस बात का ध्यान जरुर रखें कि आपकी आवाज में शालीनता जरुर हो. आपके कार्यक्षेत्र से जुडी बात अनेक विषयों को उठा देती है जिनकी मदद से आप उस व्यक्ति के साथ कुछ देर आसानी से बात कर पाते हो.

§  समाप्त करें : किसी भी व्यक्ति से पहली बार मिलने के बाद आप ये जरुर कहे कि आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा और मुझे आशा है कि आपसे दुबारा मिलने का मौका जरुर मिलेगा.

·         कार्यक्षेत्र में परिचय :
कार्यक्षेत्र में परिचय देने के लिए आपको थोडा व्यवासियक होना पड़ता है और दिखाना होता है कि आप भी कार्यक्षेत्र से जुड़े हो इसके लिए सबसे पहले तो ये जरूरी है कि आपको कम से कम आपके कार्य से सम्बंधित सारी जानकारी हो ताकि आपके चेहरे पर एक अलग आत्मविश्वास दिखे. इसके साथ ही आपको कार्यक्षेत्र से जुड़े कुछ नियमो का पालन करना होता है, जैसेकि आप मीटिंग में समय पर पहुंचे, अच्छे कपडे पहने, आपका हावभाव सही हो इत्यादि. उसके बाद कैसे परिचय दिया जाता है वो आप नीचे पढ़ कर जाने.

§  अपना परिचय दें : जब आप कार्यक्षेत्र में किसी नए व्यक्ति से मिलते हो तो सबसे पहले आप उनसे हाथ मिला कर अभिवादन करें और अपना नाम स्पष्ट रूप से बतायें. ध्यान रहे कि आप सामने वाले व्यक्ति को अपना पूरा नाम बतायें क्योकि कार्यक्षेत्र में पूरा नाम आपकी पूरी पहचान को बताने में सहायक होता है. 

§  सामने वाले व्यक्ति का नाम भी दोहरायें : कार्यक्षेत्र में सामने वाले व्यक्ति के नाम को बार बार दोहराना बहुत जरूरी माना जाता है क्योकि इससे सामने वाले व्यक्ति को लगता है कि आप उसे उचित सम्मान दे रहे हो, इस तरह वो भी आपको सम्मान देता है. इसका एक ये फायदा भी होता है कि आपको उनका नाम याद हो जाता है.
CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
How To Introduce Yourself
How To Introduce Yourself
§  उचित हावभाव : जब आप किसी व्यक्ति से मिले तो आप एक सकारात्मक भाव, सिर उठाकर, पीठ सीधी करके से मिलें. कोशिश करें कि आप सामान्य से थोडा तेज चलें ताकि ये लगे कि आप सक्षम और सुव्यवस्थित है. आपकी बातो में विश्वास होना चाहियें और आपके हावभाव अनुभवी व्यक्ति की तरह होने चाहियें. ये सब चीज़े आपको जोशीला दिखाती है.

§  प्रश्न करें : कार्यक्षेत्र में अपनी उपलब्धियों को बताने और दुसरे की उपलब्धियों को जानने से आपको अपने कार्य को आगे बढ़ाने और संपर्क बढ़ाने में सहयता मिलती है और इसके लिए आपको एक लम्बी बातचीत की आवश्यकता होती है. इसके लिए आप निम्न प्रश्नों की सहायता लें.

आप अपने व्यवसाय के बारे में बताएं कि आप क्या करते हो.

आप अपनी परियोजनाओं के बारे में बतायें.   

आप अपने प्रतियोगियों के बारे में क्या विचार रखते हो और उनके साथ अपनी प्रतियोगिता में क्या लक्ष्य रखते हो.

आप चाहे तो अपने कार्य के किसी सलोगन / नारे के बारे में भी उन्हें समझा सकते हो जिससे लगे कि आप अपने कार्य के प्रति कितने सचेत और जागरूक हो.

§  सवालो का जवाब दें : अगर आप सामने वाले से सवाल पूछ रहे हो तो सामने वाला भी तो आपसे कुछ सवाल पूछ सकता है तो आप उनके सवालो का जवाब जरुर दें नाकि आनाकानी करके वहां से निकल जायें. आपका जवाब देना आपकी शालीनता को दिखता है. अगर आप जवाब नही देते तो सामने वाले को लगेगा कि आप सिर्फ अपने मतलब के लिए उससे संपर्क रखना चाहते हो.

§  व्यवसयिक व्यक्ति की तरह समाप्त करें : अपने मीटिंग को खत्म करने के लिए आप एक बार फिर से हाथ मिलायें और फिर से सामने वाले व्यक्ति का नाम लेकर कहे कि आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा श्रीमान ___. ”. क्योकि आप एक व्यवसायिक व्यक्ति है तो आप उन्हें अपना मोबाइल नंबर या विसिटिंग कार्ड भी जरुर दें ताकि वो आपसे संपर्क बना सके. इस तरह आप उनसे विदा लें.

·         कक्षा में प्रेजेंटेशन से पहले परिचय :
कक्षा में प्रेजेंटेशन सामान्य होता है और हर प्रेजेंटेशन से पहले विद्यार्थी को अपने बारे में और अपनी प्रेजेंटेशन के बारे में कुछ बताना होता है जिसका एक सही कर्म और व्यवस्थित रूप में होना बहुत जरूरी है. तो आओ जानते है कि प्रेजेंटेशन देने से पहले परिचय कैसे दिया जाता है. 

§  गंभीर रहें : क्योकि कक्षा में आपको सभी जानते है तो अध्यापक के कहने पर परिचय देना सबसे अजीब सा लगता है और जब आप परिचय देना आरंभ करते हो तो आपको हंसी भी आने लगती है. किन्तु इस प्रक्रिया को जीवन में आगे बढ़ने के लिए एक अभ्यास के रूप में देखा जाता है और ऐसा करने के पीछे यही मकसद होता है कि आप जीवन की हर परिस्थितियों में गंभीर और केन्द्रित रहें. इसलिए कक्षा में प्रेजेंटेशन देने से पहले गंभीर रहे, आप गंभीर होगे तभी बाकी विद्यार्थी आपको गंभीरता से लेंगे. ऐसा करने से सभी आपकी तरफ आकर्षित भी होते है. 

§  अपना परिचय दें : जब आप अपना परिचय देना शुरू करें तो ये समझे कि आप अपने सहपाठियों से बिलकुल अनजान है और अपने चेहरे पर मजाक वाली हंसी को न आने दें. इसके बाद आप कहें कि हेलो, मै ___ हूँ.. साथ ही आप ये भी जरुर बताएं कि आप किस कक्षा और विद्यालय में पढ़ते हो.

§  प्रेजेंटेशन के बारे में बताएं : अपना नाम और परिचय देने के बाद आप अपनी प्रेजेंटेशन के शीर्षक के बारे में सबको बताएं. फिर आप उन्हें समझायें कि आपकी प्रेजेंटेशन किस विषय से सम्बंधित है. उदहारण के रूप में आप कहें कि आज, मै आपको विंड मील, उसके कार्य और उसके महत्व के बारे में बताने जा रहा हूँ, साथ ही मै आपको ये भी बताऊंगा कि आप विंड मील से विधुत कैसे निर्मित कर सकते हो?
 
समाप्त करें : एक बार शीर्षक बताने के बाद आप अपनी प्रेजेंटेशन को सही हावभाव के साथ समझाने कि कोशिश करे, आप चाहे तो ब्लैकबोर्ड की भी सहायता लें सकते हो. मतलब आप उस विषय को ऐसे समझायें कि विद्यार्थियों को लगे कि आप उन्हें इस विषय में पढ़ा रहे हो. किन्तु ध्यान रहे इसके लिए आपको अपनी प्रेजेंटेशन से पहले अच्छी तैयारी भी जरुर करनी पड़ेगी. जब आपकी प्रेजेंटेशन खत्म हो जाये तो अपने अध्यापक को इसके बारे में सूचित करने और झुककर सबको धन्यवाद कहें और चाक को एक जगह रख कर अपनी सीट पर जाकर बैठ जायें.

 
अपना परिचय कैसे दें
अपना परिचय कैसे दें


 Apna Parichay Kaise Den, अपना परिचय कैसे दें, How To Introduce Yourself, Types of Introduction, Intro With New Person, Class Office Introduction, Class ya Karyalya mein Parichay, क्लास या कार्यालय में परिचय.




YOU MAY ALSO LIKE  

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

1 comment:

  1. केवल अपना परिचय देना है

    ReplyDelete

ALL TIME HOT