इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Banjhpan ke Liye Ayurvedic Nuskhe | बाँझपन के लिये आयुर्वेदिक नुस्खे | Ayurvedic Remedies for Sterility

गर्भधारण तथा बांझपन की स्थिति में क्या करें

कई महिलाओं को गर्भधार्ण करने के बाद बहुत सी दिक्कतों का सामना करना पड़ता हैं. यह दिक्कत महिला को किसी प्रकार की बीमारी के होने पर तथा गलत खानपान से भी हो सकती हैं. कुछ ऐसि महिलाएं भी होती हैं. जिन्हें गर्भधार्ण करने का सुख प्राप्त ही नहीं होता. लोग उन्हें बांझ कहते हैं और उन्हें इस बात के लिए बहुत सुनाते हैं. जिससे महिलाएं बहुत ही परेशान हो जाती हैं तथा बांझपन से छुटकारा पाने के लिए हर सम्भव प्रयास करती हैं और अनेक प्रकार के ईलाज कराती हैं. बांझपन से परेशान कई महिलाएं इस समस्या से निदान पाने के लिए झाड़ – फुक का भी सहारा लेती हैं. सब कुछ करने के बाद भी महिलाओं को इस समस्या से मुक्ति नहीं मिलती. ऐसि महिलाओं के लिए आयुर्वेदिक नुस्के बहुत ही उपयोगी होते हैं. आज के समय में आयुर्वेद ने बहुत ही प्रगति की हैं और कई लोगों ने इसे अपना कर अपनी विभिन्न प्रकार की समस्याओं से छुटकारा पा लिया हैं. बांझपन से परेशान महिलाओं के लिए भी आयुर्वेद के पास बहुत से उपयोगी नुस्के हैं. जिसका उपयोग बांझपन से परेशान महिलाएं कर सकती हैं और इस समस्या से छुटकारा पा सकती हैं. गर्भधार्ण करने के बाद होने वाली विभिन्न प्रकार की समस्याओं से परेशान महिलाओं के लिए भी आयुर्वेद के पास बहुत ही फायदेमंद उपाए हैं. जिनको अपनाकर महिलाएं अपनी समस्याओं से मुक्त हो सकती हैं. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
 
बाँझपन के लिये आयुर्वेदिक नुस्खे
बाँझपन के लिये आयुर्वेदिक नुस्खे

बांझपन या अनुर्वरता से परेशान महिलाओं के लिए आयुर्वेदिक नुस्खे  

बांझपन महिलाओं के प्रजनन सम्बन्धी एक समस्या हैं. इस समस्या का मूल कारण महिला का गर्भधारण न कर पाना होता हैं. विवाह के बाद के एक साल तक अगर महिला गर्भधारण नहीं कर पाने को बांझपन कहते हैं. गर्भधारण करना एक विशेष प्रक्रिया होती हैं जिसमे पुरुष और महिला दोनों का शारीरिक रूप से स्वस्थ होना बहुत ही आवश्यक होता हैं. अक्सर लोग बांझपन के लिए महिला को जिम्मेदार ठहराते हैं. परन्तु बांझपन की समस्या महिला के साथ – पुरुष से सम्बन्धित किसी कारण से हो सकती हैं. महिला के बांझ होने का कारण पुरुषों में शुक्राणुओं का कम होना या न होना हो सकता हैं. महिला के गर्भधारण करने के लिए पुरुष में स्वस्थ शुक्राणु का होना बहुत ही आवश्यक हैं. वैसे ही महिला द्वारा गर्भ में स्वस्थ अण्डों का उत्पादन करना भी बहुत ही आवश्यक होता हैं. महिला के गर्भ धारण करने की सम्भावना बहुत सी बातों पर निर्भर करती हैं. जैसे – 


1.       महिला के गर्भ की नलिकाएं अबाधित होनी चाहिए. जिससे की शुक्राणु बिना किसी बाधा के महिला के गर्भ के अण्डों तक पहुंच सकें.  
   

2.       पुरुष के शुक्राणु में इतनी क्षमता होनी चाहिए की शुक्राणु के अंडे तक पहुंचने के बाद अंडे निषेचित हो सकें.


3.       महिला के गर्भ में गर्भधारण करने की क्षमता होनी चाहिए. क्युंकी निषेचित अंडे की स्थापित होने की क्षमता गर्भधारण करने की शक्ति पर निर्भर करती हैं.


4.       महिला के गर्भ का स्वस्थ होना भी बहुत ही जरूरी हैं. 


5.       महिला के गर्भधारण करने के लिए महिला के शरीर के हार्मोन्स का अनुकूल होना भी बहुत ही जरूरी होता हैं. इन सब में से किसी भी एक में भी किसी प्रकार की समस्या होने से बांझपन हो सकता हैं. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
Ayurvedic Remedies for Sterility
Ayurvedic Remedies for Sterility

 बांझपन के कारण

1.    बांझपन की समस्या महिला की अधिक उम्र होने के कारण भी भी हो सकता हैं. क्यूंकि युवावस्था के दौरान महिला में शारीरिक शक्ति अधिक होती हैं. शरीर में प्रतिरोधी क्षमता, इम्युनिटी अधिक होती हैं. शरीर में हार्मोन्स का स्तर भी ठीक होता हैं.


2.    यह समस्या पुरुषों में शुक्राणु के कम होने के या बिल्कुल ही न होने के कारण भी हो सकती हैं.


3.    बांझपन का एक कारण फैलोपियन ट्यूब के अवरुद्ध होन भी हो सकता हैं. फैलोपियन ट्यूब पुरुष शुक्राणु के निषेचित अंडे तक पहुंचने के मार्ग को कहते हैं. अगर यह ट्यूब अवरुद्ध हो जाती हैं तो शुक्राणु अंडे तक नहीं पहुंच पाते.


4.    बांझपन की समस्या महिला के मासिक धर्म में गडबडी होने के कारण भी हो सकती हैं.


5.     कई महिलाओं में बांझपन की यह समस्या महिला को टीबी की बिमारी होने के कारण भी होती हैं.


6.    महिला के गर्भ में अंडे को निषेचित करने की क्षमता में कमी के कारण भी बांझपन की समस्या हो सकती हैं.



बांझपन के लक्षण

1.    एक साल तक कोशिश करने के बाद भी गर्भ धारण न क्र पाना.


2.    मासिक धर्म के दौरान अधिक दर्द होना, पेट में ऐठन हो जाना तथा पीठ में दर्द होना.


3.    मासिक धर्म का अनियमित समय पर होना.


4.    मासिक धर्म के दौरान रक्त स्त्राव कम या अधिक होना.

 
Banjhpan ke Liye Ayurvedic Nuskhe
Banjhpan ke Liye Ayurvedic Nuskhe


 Banjhpan ke Liye Ayurvedic Nuskhe, बाँझपन के लिये आयुर्वेदिक नुस्खे, Ayurvedic Remedies for Sterility, Sterility Deshi Treatment, Tips to Remove Sterility, Banjhpan Door Karne ke Upaay, बाँझपन दूर करने के उपाय.



YOU MAY ALSO LIKE  
एकाग्रता बढ़ाने के तरीके
पढाई में मन कैसे लगे
फाइल ITR कैसे करें
- स्मार्टफोन iPhone में IP एड्रेस पता करें
- वर्गमूल की गणना करें
- गर्भधारण के महत्तवपूर्ण उपाय
- बाँझपन के लिये आयुर्वेदिक नुस्खे
- सदा जवान और यौवन कैसे बनें रहें
- अमरुद फल के गुण फायदे और उपयोगिता
- हेपेटाईटिस के कारण लक्षण और देशी इलाज
- मासिक धर्म में अधिक दर्द होने के कारण लक्षण और इलाज
- मासिक धर्म में अधिक रक्त स्राव के कारण लक्षण और इलाज

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT