इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Kasht Nivarak Bajrang Baan | कष्ट निवारक बजरंग बाण | Miracle and Benefit of Bajrang Baan

बजरंग बाण ( Bajrang Baan )
श्री हनुमान जी को बजरंगबली, मारुती, पवनपुत्र और अन्य नामों से जाना जाता है किन्तु इनको सभी अधिकतर संकटमोचन के नाम से ही पुकारते है क्योकि ये मनुष्य के सभी दुखों को दूर कर उनके जीवन में खुशियाँ भर देते है. आज के समय में माना जाता है कि सिर्फ हनुमान जी ही है जो पृथ्वी पर विराजमान एक शक्ति है जो मनुष्यों की रक्षा कर रही है. इसलिए जब भी किसी व्यक्ति पर कोई संकट आता है तो वो सबसे पहले हनुमान जी की शरण में ही जाता है. वैसे तो दुखों को दूर करें के लिए हनुमान जी चालीसा, मंत्र, दोहे और पाठ इत्यादि है किन्तु इन सबमें सबसे महत्वपूर्ण और अहम् स्थान है बजरंग बाण का. CLICK HERE TO KNOW बजरंग बाण का अमोध विलक्षण प्रयोग ... 
Kasht Nivarak Bajrang Baan
Kasht Nivarak Bajrang Baan
बजरंग बाण के बारे में माना जाता है कि मानव जीवन के विपदाओं को हरने में इसका असर गायत्री मंत्र से भी अधिक होता है. ये एक ऐसा स्त्रोत है जिसे संत, भक्त और श्रद्धालु सभी अपने संकट के निवारण के लिए अपनाते है. बजरंग बाण से व्यक्ति को अनेक तरह का लाभ होता है जैसेकि
-    अकारण कष्ट, अनिष्ट या कोई बुरा प्रभाव दूर होता है.

-    भयानक सपने, गलत विचार से मुक्ति मिलती है.

-    गृह क्लेश और विशेष संकट का निवारण होता है.

-    रोगी को रोगों से मुक्ति मिलती है.

-    शांति, सुख समृद्धि, मानसिक और शारीरिक शक्ति प्राप्त होती है.

-    उच्च शिक्षा, भौतिक सुख मिलता है.
कष्ट निवारक बजरंग बाण
कष्ट निवारक बजरंग बाण
इसके अलावा भी अनेक ऐसे लाभ है जिन्हें आप बजरंग बाण के प्रतिदिन नियमित रूप से पुरे विधि विधान से पाठ करने से पा सकते हो.

हनुमान जी के जीवन से जुडी अनेक ऐसी कथायें है जिन्हें आप अपने जीवन में सुनते आ रहे होंगे जैसेकि सूरज को फल समझकर निगलना, इंद्र देव का ऐरावत पसंद आना, उनकी ठोद्दी पर वज्र का लगना, श्री राम भक्ति, सीता माता के पास लंका जाना इत्यादि. हनुमान जी की निष्ठापूर्वक पूजा, उपासना करने वाला व्यक्ति हमेशा सुखी रहता है.

हनुमान जी को राम भक्त कहा जाता है क्योकि ये श्री राम के सबसे बड़े भक्त है इसलिए हनुमान जी की पूजा शुरू करने से पहले हमेशा श्री राम जी का ध्यान किया जाता है. क्योकि जहा श्री राम जी की पूजा होती है वहाँ हनुमान जी स्वयं ही प्रकट हो जाते है. किन्तु हनुमान जी की पूजा करने या बजरंग बाण के लाभ को पाने के लिए आपको कुछ नियमों का पालन जरुर करना होता है.
Miracle and Benefit of Bajrang Baan
Miracle and Benefit of Bajrang Baan
बजरंग बाण / हनुमान बाण साधना नियम ( Bajrang Baan Prayer Rules ) :
-    संकल्प ( Resolution ) : साधन करने से पहले आप कार्य प्राप्ति का संकल्प जरुर करें.

-    आसन ( Position ) : संकल्प के बाद आप हनुमान जी की तस्वीर को एक चौकी पर लाल कपडा बिछाकर रखें और खुद उनके सामने नीचे पद्मासन अवस्था में बैठें.

-    दीपक ( Light ) : आप हनुमान जी की तस्वीर के सामने एक अखंड दीपक जलायें और उनके सामने हनुमान जी के मन्त्रों का जाप करें.

-    पवित्रता ( Purity ) : हनुमान जी की साधन करते वक़्त व्यक्ति को पवित्रता और ब्रह्मचर्य का पालन करना होता है.

-    गुड चना ( Jaggery and Gram ) : हनुमान जी की साधना में प्रसाद के रूप में गुड और चने का प्रयोग करना चाहियें और इसी प्रसाद को हनुमान जी को भी अर्पित करना चाहियें.

-    हवन ( Offer Prayer ) : हवन में आप गुगल हवन का प्रयोग करें.

-    उपवास ( Fast ) : जो भी जातक हनुमान जी की पूजा अर्चना करना चाहता है वो मंगलवार के दिन उपवास रखें.

-    चमेली और सिंदूर ( Jasmine and Vermilion ) : हनुमान जी को आप चमेली के तेल से ही स्नान कराएँ और उनके शरीर पर पीले सिंदूर में घी मिलाकर लगायें.
सभी कष्ट निवारण करता है अदभुत बजरंग बाण
सभी कष्ट निवारण करता है अदभुत बजरंग बाण
-    हनुमान चालीसा ( Hanuman Chalisa ) : 11 दिनों तक प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करें.

-    पंचमुखी हनुमान ( Panchmukhi Hanumaan ) : अगर कोई जातक किसी विशेष कार्य के लिए हनुमान जी की साधना कर रहा है तो वो हनुमान कवच को धारण कर पंचमुखी हनुमान की साधना करें.

-    शनी प्रभाव ( Shani Effect ) : अगर कोई जातक शनि देव के बुरे प्रभाव को खत्म करने के लिए हनुमान जी की साधना कर रहा है तो उसे शनिवार के दिन पीपल के पेड़ के नीचे हनुमान जी की मूर्ति स्थापित कर तिल के तेल का दीपक जलाना चाहियें और 108 बार बजरंग बाण का पाठ करना चाहियें.

-    गृह शांति ( Planet Peace ) : अगर कोई जातक नव ग्रह शांति के प्रयोजन से बजरंग बाण की साधना कर रहा है तो वो प्रतिदिन 2 माला हनुमान जी के मन्त्रों का जाप करें.

बजरंग बाण से समस्या का समाधान ( Problem Solution By Bajrang Baan ) :
·         समस्या ( Problems ) : अगर की व्यक्ति कानूनी समस्या में फंसा है या उसके घर में किसी को कोई भयंकर रोग लगा है, भुत बाधा है, शत्रुओं के जाल में फंसे हुए हो, खुद को कोई कदम उठाने में असमर्थ और निर्बल महसूस कर रहे हो, कार्य में सफलता नही मिल रही है, आत्मविश्वास और मनोबल गिरता जा रहा है, व्यर्थ की चिंताओं से परेशान हो या कोई अन्य तंत्र बाधा है तो उसके लिए आप बजरंग बाण से हनुमान जी की पूजा अर्चना करें. इससे आपको हर तरह की समस्या से समाधान मिलता है.

·         समाधान ( Solution ) : अगर कोई व्यक्ति उपरलिखित समस्या में से किसी से भी परेशान है तो उस जातक को ब्रह्ममुहूर्त में प्रतिदिन की क्रियाओं से मुक्त होकर हनुमान यंत्र लेकर, उसे एक चौकी पर लाल कपडा बिछाकर स्थापित करना चाहियें. क्योकि हनुमान जी की पूजा में चमेली के फूलों को चढ़ाया जाता है तो आप भी चौकी पर कुछ चमेली के फुल, पीला सिंदूर को घी में मिलाकर अर्पित करें. इसके बाद जातक को लाल आसन पर पद्मासन की अवस्था में बैठ जाना चाहियें. पद्मासन पर बैठने के बाद आप हनुमान जी की मूर्ति के सामने 11 दीपक जलायें और 108 बार हनुमान बाण या बजरंग बाण का पाठ करें.
Bajrang Baan ka Chamatkari Prayog
Bajrang Baan ka Chamatkari Prayog
नोट ( Note ) : अगर आप किसी विशेष कार्य की पूर्ति के लिए कोई पूजन या हवन कर रहे है तो उसके लिएय आप रात्री का समय चुनें. 

बजरंग बाण का विलक्षण प्रयोग ( Remarkable Use of Bajrang Baan ) :
अगर कोई जातक अपनी भौतिक कामनाओं की पूर्ति के लिए हनुमान जी की पूजा कर रहा है या फिर बजरंग बाण का प्रयोग कर रहा है तो आप निम्नलिखित तरीकों से अनुष्ठान करें.

-    सबसे पहले आप एक साफ़, स्वच्छ और शुद्ध स्थान का चुना कर लें और शनिवार या मंगलवार के दिन हनुमान जी का चित्र या उनकी मूर्ति को जप करते समय अपने सामने रखें.

-    अब आप कुशासन की अवस्था में बैठ जाएँ. इस अनुष्ठान में दीपकों का विशेष महत्व होता है तो आप दीपदान जरुर करें.

-    अब आप 1 – 1 मुट्ठी पांच अनाज ( गेंहू, चावल, मुंग, उड़द और काले तिल ) लें और उन्हें शुद्ध गंगाजल में भिगो दें. जिस दिन आप अनुष्ठान करने वाले हो उस दिन आप इन अनाजों को पिसवाकर इनके पाउडर से एक दिया तैयार कर लें. दिये के लिए बनाने के लिए आप कलावे का इस्तेमाल करें और उसकी लम्बी के लिए आप अपने शरीर की लम्बाई जितना बड़ा कलावा लें और उसे मोड़कर उसे बाती का आकार दें. इसके साथ ही आप समान लम्बाई सूत भी इस्तेमाल करें और उन्हें लाल रंग में भिगो दें.
Bajrang Baan Saadhna Niyam
Bajrang Baan Saadhna Niyam
-    आप दिए में तिल का तेल डालें और उसमे बाती रखें. अब आप दिए को प्रजवलित कर दें और इस बात का ध्यान रखें कि जब तक आप अनुष्ठान कर रहे है तब तक ये दिया जलता रहना चाहियें.

-    अब आप संकल्प करें और अगर आप अपने परिवारजन के लिए अनुष्ठान कर रहें है तो उसके लिए आप उनका नाम अवश्य लें. इसके बाद आप हनुमान जी का ध्यान करते हुए बजरंग बाण का जाप करें.

-    हवन में आप गुगल का ही प्रयोग करें इससे आपके घर और आपके शरीर से सारे कष्ट दूर होते है और घर में सकारात्मकता का वास होता है.


बजरंग बाण जप, हनुमान मंत्र, यंत्र, चौपाई, यज्ञ, अनुष्ठान और हवन के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
बजरंग बाण
बजरंग बाण
Kasht Nivarak Bajrang Baan, कष्ट निवारक बजरंग बाण, Miracle and Benefit of Bajrang Baan, Bajrang Baan ka Chamatkari Prayog, सभी कष्ट निवारण करता है अदभुत बजरंग बाण, Bajrang Baan Saadhna Niyam, Bjarang Baan, बजरंग बाण, Bajrangbaan Anushthan, Bajran Baan Vilakshan Prayog, Bajrang Baan se Samasyon ka Samadhan, बजरंग बाण करेगा कल्याण, Hanumaan Chalisa Aarti Chaupai Dohe Images Wallpapers Yantra Mantra Kavach Ashtak.


Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT