इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Kuch hi Samay mein Jukham se Rahat Dilayen Ye Upay | कुछ ही समय में जुखाम से राहत दिलाएं ये उपाय

कुछ ही सेकंड में जुखाम से पायें राहत (Get Relief From Cold in A Few Second)
हम सभी अपने घरों में रोजाना जीरे का प्रयोग खाना बनाने के लिए करते हैं. क्योंकि माना जाता हैं कि बिना जीरे का छौंक या तड़का लगायें खाने में स्वाद ही नहीं आता. जीरा एक ऐसा मसाला हैं जिससे भोजन स्वादिष्ट और खुशबूदार बन जाता हैं. यह भोजन के स्वाद को बढाने वाला मसाला तो हैं ही इसके साथ ही जीरा एक बेहद ही उपयोगी औषधि. यदि किसी व्यक्ति को जुखाम हो जाये और उसे आराम न मिले तो जीरे का इस्तेमाल जरूर करें. जीरे का इस्तेमाल करने से व्यक्ति को कुछ ही पलों में जुखाम से छुटकारा मिल जाता हैं. तो चलिए जानते हैं कि सर्दी व ठंड से बचने के लिए जीरे का इस्तेमाल  किस तरह किया जा सकता हैं.

जीरे के गुण (Cumin Features)
1.जीरा एक ऐसा मसाला या यह कहें कि औषधि हैं. जिससे व्यक्ति को जुखाम और सिरदर्द से तो राहत मिल ही जाती हैं. इसके साथ ही जीरे में ऐसे गुण मौजूद होते हैं. जिससे हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम मजबूत होता हैं.

2.जीरा में विटामिन “ए” और विटामिन “सी” की मात्रा भी पाई जाती हैं. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT केसर और गुलाब जल से जुखाम का इलाज ...
Kuch hi Samay mein Jukham se Rahat Dilayen Ye Upay
Kuch hi Samay mein Jukham se Rahat Dilayen Ye Upay 
3.जीरा मानव शरीर को इन्फेक्शन होने से भी बचाता हैं. क्योंकि इसमें फंगस और बैक्टीरिया से लड़ने की क्षमता निहित होती हैं.

जुकाम से बचने के लिए उपाय (Remedies for Cold)
1.जुकाम होने पर दो कप पानी लें और 1 चम्मच जीरा लें, अदरक लें और कुछ तुलसी के पत्ते लें. अब एक बर्तन में पानी डालें और उसमें जीरा डालकर उबाल लें. इसके बाद अदरक और तुलसी के पत्तों को पीस लें और पिसने के बाद इस पेस्ट को भी पानी में डाल दें. कुछ देर और पानी को उबालने के बाद इस पानी को उतार दें और छान लें. अब आप इस पानी का सेवन कर सकते हैं. पानी का सेवन करने के बाद आपको जुखाम से छुटकारा मिल जाएगा.

2.                        भांप (Steam) यदि सर्दी और जुखाम के कारण आपकी नाक बंद हो गई हैं और आपको सांस लेने में परेशानी हो रही हैं. तो इस समस्या से जल्द राहत पाने के लिए एक बर्तन में पानी और जीरा डालकर उबाल लें. इसके बाद इसमें थोडा सा लौंग का पाउडर डाल लें. अच्छी तरह से पानी को उबालने के बाद स्टीम लें. स्टीम लेने के बाद थोड़ी देर चादर ओढ़कर लेट जाएँ. कुछ समय बाद जब आप उठेंगे तो आपको सर्दी और जुखाम से काफी आराम महसूस होगा. जीरे के पानी की भांप लेते समय इस बात का ध्यान रखें कि भांप लेने के बाद खुले वातावरण में न जाएँ. इससे आपको ठंड लगने की आशंका रहती हैं और यदि आपको ठंड लग गई तो आप चेस्ट कंजेशन के रोग से पीड़ित हो सकते हैं. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT आयुर्वेद में अंगूर का महत्व ...
कुछ ही समय में जुखाम से राहत दिलाएं ये उपाय
कुछ ही समय में जुखाम से राहत दिलाएं ये उपाय
3.ठंड लगने पर – यदि आपको जुखाम के साथ अधिक सर्दी लग रही हैं तो ठंड के प्रभाव से बचने के लिए एक गिलास दूध लें और उसमें हल्दी घोल लें. इसके बाद इस दूध का सेवन करें और सो जाएँ. आपको ठंड के साथ साथ जुखाम और खांसी से भी छुटकारा मिल जाएगा.

हल्दी और दूध की विशेषताएँ (Features of Turmeric)
1.                        हल्दी (Turmeric) - हल्दी को भी मसाले की ही श्रेणी में रखा जाता हैं. लेकिन यह भी जीरे की ही भांति मनुष्य के शरीर के लिए बेहद ही गुणकारी होती हैं. इसमें भी रोगों से तथा बैक्टीरिया से लड़ने की क्षमता निहित होती हैं.

§ प्रयोग (Use) : यदि किसी व्यक्ति को कोई घाव हो गया हो या उसके शरीर के किसी भाग में दर्द हो तो वह हल्दी का सेवन दूध में मिलाकर सकता हैं. इससे घाव जल्दी ठीक हो जाता हैं और दर्द से राहत मिलती हैं.

दूध की विशेषता (Features of Milk) :
·     दूध कैल्शियम और विटामिन डी का एक अच्छा यौगिक माना जाता हैं. इसमें इन दोनों की ही उच्च मात्रा पाई जाती हैं.

·     दूध को पीने से व्यक्ति के शरीर की हड्डियाँ मजबूत बनती हैं और उसके शरीर से बीमारियां कोशों दूर रहती हैं. क्योंकि इसमें रोगों से लड़ने की शक्ति समाहित होती हैं.
Jukham Thand Or Khansi se Mukti ke Upchar
Jukham Thand Or Khansi se Mukti ke Upchar
सावधानी (Caution):
दूध में हल्दी मिलाकर प्रतिदिन नहीं पीना चाहिए. इसका सेवन केवल उस समय करें जब आपको किसी प्रकार की तकलीफ या बीमारी हो. इसके अलावा यदि आप रोजाना दूध में हल्दी मिलाकर पीते हैं. तो आपको बलगम की परेशानी हो सकती हैं. इसके साथ ही दूध और हल्दी का जब भी सेवन करें. तो उसमें हल्दी की अधिक मात्रा न डालें. एक या दो चुटकी हल्दी किसी भी तरह की समस्या के निदान हेतु काफी होती हैं.

जुखाम के लिए सिरप – जुखाम से राहत पाने के लिए आप निम्बू, दालचीनी और शहद का प्रयोग कर सिरप भी बना सकते हैं. सिरप बनाने की विधि नीचे दी गई हैं –

विधि (Method) -
सिरप बनाने के लिए एक पैन लें और उसमें शहद डालकर उबाल लें. इसके बाद जब शहद पककर पतला हो जाए तो इसमें नींबू का रस और दालचीनी का पाउडर मिला लें. कुछ देर उबालन के बाद इसे उतार लें. उतारने के बाद जब यह ठंडा हो जाएँ तो इसका सेवन करें.

शहद (Honey) – शहद एक गर्म खाद्य पदार्थ हैं इसमें. एंटीओक्सिडेंटस की मात्रा पाई जाती हैं. एंटी ओक्सिडेंटस हमारे पाचन तन्त्र के लिए बहुत ही लाभदायक होता हैं.

नींबू (Lemon) – नींबू जुखाम को जल्द ठीक करने में  इसीलिए मददगार साबित होता हैं. क्योंकि इसमें विटामिन सी की भरपूर मात्रा पाई जाती हैं.

दालचीनी (Cinenamon) दालचीनी का भी प्रयोग अधिक खाना बनाने के लिए किया जाता हैं. लेकिन यह भी कई बिमारियों को ठीक करने के लिए बहुत ही लाभकारी होती हैं. क्योंकि दालचीनी में शरीर के रक्त में ग्लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करने की शक्ति होती हैं तथा इसका सेवन करने से हमारे शरीर के प्रतिरक्षा तन्त्र की ताकत बढती हैं.

आंवला (Myrobalan) – अगर आपको जुखाम के साथ – साथ खांसी की भी शिकायत हैं तो आप इन दोनों रोगों से निजात पाने के लिए रोजाना सुबह उठने के बाद एक आंवले का सेवन खाली पेट कर इन दोनों ही रोगों से छुटकारा पा सकते हैं. सर्दी से बचने के लिए आप आंवले के मुरब्बे का दूध के साथ सेवन कर सकते हैं. आंवले का जूस भी जुखाम और खांसी के लिए लाभकारी होता हैं. इसलिए इसका भी प्रयोग आप कर सकते हैं.

लाभ (Benefits) – आंवले में विटामिन “सी” की अधिक मात्रा पाई जाती हैं. जिससे जुखाम जल्द ही ठीक हो जाता हैं.
Jukam se Bachane ke liye Upay
Jukam se Bachane ke liye Upay
§ आंवले का प्रयोग हर व्यक्ति किसी भी मौसम में कर सकता हैं यह गर्मी, सर्दी, बरसात हर मौसम के लिए फायदेमंद होता हैं.

§ आंवले को खाने से हमारे शरीर में रक्त ठीक ढंग से संचारित होता हैं.

अलसी (Linseed) जुकाम के निदान के लिए आप अलसी का भी प्रयोग कर सकते हैं. क्योंकि जुकाम के लिए अलसी काफी लाभप्रद सिद्ध होती हैं. जुखाम से राहत पाने के लिए एक पैन में पानी डालें और उसमें अलसी के बीजों को डालकर उबाल लें. अलसी के बीजों को पानी में तक तक उबाले जब तक की बीज बिल्कुल सुखकर पतले हो जाएँ. अब एक निम्बू लें और थोडा सा शहद लें. इसके बाद नींबू के रस और शहद को अलसी के बीजों में मिला लें और फिर इसका सेवन करें. आपको जल्द ही इस रोग से मुक्ति मिल जायेगी.

लाभ (Benefits) –
1.अलसी में विटामिन्स की काफी अधिक मात्रा पाई जाती हैं.

2.                        यदि किसी व्यक्ति को अपन शरीर में कमजोरी महसूस होती हो तो उसे रोजाना सुबह उठकर एक मुट्ठी अलसी का सेवन खाली पेट करना चाहिए. इससे आपके शरीर की ऊर्जा में बढ़ोतरी होगी.

3.                        अलसी में एंटी – एजिंग गुण पाए जाते हैं. जिससे चेहरे की झुर्रियां नष्ट हो जाती हैं.

4.दूध के समान ही अलसी से भी मनुष्य के शरीर की हड्डियाँ मजबूत बनती हैं.

जुखाम, खांसी तथा अन्य रोगों से मुक्ति पाने के उपायों को जानने के लिए आप नीचे तुरंत कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हैं.
Jire Nimbu Dudh Haldi Aanvla Or Alsi ki Visheshtayen
Jire Nimbu Dudh Haldi Aanvla Or Alsi ki Visheshtayen

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT