इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Malariya ki Janleva Bimari ka Upchar | मलेरिया की जानलेवा बीमारी का उपचार

मलेरिया की बीमारी का इलाज (Treatment of Malaria Disease)
मलेरिया एक बहुत ही घातक बीमारी हैं, यह बीमारी लोगों को एनाफिलिज नामक मादा मच्छर के काटने से होती हैं. मलेरिया एक संक्रामक रोग हैं जो इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति से उसके आस – पास रहने वाले दुसरे व्यक्ति को हो सकती हैं. मलेरिया कोई आम बीमारी नहीं हैं, जो कुछ ही समय में ठीक हो जाए. यदि एक बार इसका प्रकोप फ़ैल गया तो इस बीमारी के प्रकोप से बच पाना बहुत ही मुश्किल होता हैं. इस बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति की जान भी जा सकती हैं. इसलिए यदि इस बीमारी के शुरूआती लक्षण आपको अपने शरीर में दिखने लगे, तो इसका जल्द से – जल्द इलाज करना चाहिए. क्योंकि मलेरिया की आरंभिक अवस्था में इस बीमारी पर काबू पाया जा सकता हैं.

कारण (Causes)
1.मलेरिया का बुखार एनाफिलिज मादा मच्छर के काटने से फैलता हैं. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT सन्निपात ज्वर का घरेलू इलाज ...
Malariya ki Janleva Bimari ka Upchar
Malariya ki Janleva Bimari ka Upchar 
2.यह बीमारी अधिकतर वर्षा ऋतू में होती हैं. क्योंकि वर्षा ऋतू में वर्षा होने के कारण कई जगह गड्ढे पानी से भर जाते हैं. जिनमें ये एनाफिलिज मच्छर के पैदा होने के कारण यह रोग निरंतर फैलता रहता हैं.

3.मलेरिया की बीमारी मच्छर के काटने के अलावा गलत तरीके से खाने और पीने से भी होती हैं. जो व्यक्ति अधिक दूषित वातावरण में रहता हैं और इसके साथ ही नियमित रूप से संतुलित भोजन ग्रहण नहीं करता. तो उस व्यक्ति के शरीर में विकार उत्पन्न होने लगते हैं. जो उसके शरीर से बाहर निकल पाने में असमर्थ होते हैं और इसके परिणाम स्वरूप ही उसे यह बीमारी हो जाती हैं.     
लक्षण (Symptoms)
1.मलेरिया का रोग होने पर व्यक्ति को ठंड अधिक लगती हैं.

2.रोगी व्यक्ति को तेज ज्वर चढ़ जाता हैं.

3.उसके सिर में दर्द होने लगता हैं, उल्टियाँ आने लगती हैं, खाने के प्रति रूचि खत्म हो जाती हैं. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT मोतीझारा के निदान हेतु अपनाएं ये उपाय ...
मलेरिया की जानलेवा बीमारी का उपचार
मलेरिया की जानलेवा बीमारी का उपचार
4. ज्वर का तापमान कम होने पर अधिक पसीना आता हैं.

घरेलु उपाय (Home Remedies)
1.तुलसी के पत्ते (Basil Leaves) - मलेरिया का बुखार होने पर 5 तुलसी के पत्ते लें, 4 ग्राम करंज की गिरी और 4 ग्राम कालीमिर्च के दाने लें. इसके बाद इन तीनों को एक साथ पीस लें. अब एक गिलास दूध लें और इसके साथ इस मिश्रण का सेवन करें. आपको जल्द ही मलेरिया की बीमारी से छुटकारा मिल जाएगा.

2.निम्बू (Lemon) मलेरिया के रोग से मुक्ति पाने के लिए एक निम्बू लें और उसे दो भागों में काट लें. इसके बाद थोडा सा सेंधा नमक लें और कालीमिर्च का चुर्ण लें. अब निम्बू के एक भाग पर इन दोनों के पाउडर को छिडक कर निम्बू को थोडा गर्म कर लें. अब इस निम्बू को धीरे – धीरे चूसें. आपको काफी लाभ होगा.

3.लाल मिर्च (Red Chili) मलेरिया के बुखार से जल्द राहत पाने के लिए लाल मिर्च का पाउडर लें और उसे पानी में घोल कर गाढ़ी चटनी तैयार कर लें. इसके बाद इस चटनी को एक कपडे में बांध लें और यदि पुरुष को मलेरिया हो गया हैं तो उसकी दाईं भुजा में इस कपडे को बांध दें और यदि स्त्री इस बिमारी से पीड़ित हैं तो उसकी बाईं भुजा में इस कपडे को बांधे. जल्द ही उसे इस बिमारी से छुटकारा जाएगा.

4.फिटकरी (Alum) इस रोग के निदान हेतु 2 ग्राम फूली हुई फिटकरी लें, 4 ग्राम मिश्री लें और 10 ग्राम चीनी लें. इसके बाद इन सभी को एक साथ मिला लें और एक गिलास दूध लेकर इसके साथ इस मिश्रण का सेवन करें. जल्द ही मलेरिया का बुखार उतर जायेगा.
Maleriya Rog ke Karan Laksahn Aur Upay
Maleriya Rog ke Karan Laksahn Aur Upay
5.संतरे का रस (Orange Juice) – मलेरिया की बीमारी से जल्द मुक्त होने के लिए पेय पदार्थ बहुत ही महत्वपूर्ण और उपयोगी होते हैं. इस रोग से पीड़ित व्यक्ति के लिए संतरे का जूस बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता हैं. यदि आप संतरे के रस में चिरायता मिलाकर रोगी को दिन में दो बार पिलायें. तो उसे जल्द ही इस बीमारी से आराम मिल जाएगा.

6.हरड का चुर्ण (Harad Powder) – मलेरिया के तेज ज्वर के प्रभाव से बचने के लिए थोडा सा हरड का चुर्ण लें और एक कप पानी लें. अब इस पानी में हरड के चुर्ण को डालकर मिला ले और पानी को अच्छी तरह उबाल लें. जब इस पानी का काढ़ा तैयार हो जाए, तो इस पानी को उतार लें. इसके बाद इस पानी में करीब चार चम्मच चीनी डालें और इस काढ़े का सेवन दिन में चार बार करें. आपको जल्द ही इस बीमारी के प्रभाव से मुक्ति मिल जायेगी.

7. मक (Salt) मलेरिया की बीमारी को ठीक करने के लिए नमक भी बहुत ही उपयोगी सिद्ध होता हैं. इस बीमारी से राहत पाने के लिए खाने वाला नमक लें और उसे तवे पर डालकर भुन लें. इस नमक को तवे पर तब तक भुने जब तक की नमक का रंग भूरा या कला न हो जाए. इसके बाद इस नमक को उतार लें और इसे एक शीशी में भर लें. अब इस नमक की कम से कम 6 ग्राम मात्रा को एक गिलास पानी में घोल लें और इसे मलेरिया से पीड़ित व्यक्ति को दिन में दो बार पीने के लिए दें. इस पानी का सेवन करने से विषम ज्वर, एकान्तरा – पारितिजारी, चौथारी सभी प्रकार के रोग दूर हो जायेंगे.
 Maleria se Bachne ki Khas Jankari
 Maleria se Bachne ki Khas Jankari
8.जामुन (Berries) इस बीमारी से निजात पाने के लिए जामुन के पेड़ की छाल लें और उसे पीस लें. इसके बाद इस चुर्ण में थोडा सा गुड़ पीसकर मिला लें और इस चुर्ण का सेवन करें.

9.प्याज का जूस (Onion Juice) मलेरिया की बीमारी से राहत पाने के लिए आप प्याज के रस का भी प्रयोग कर सकते हैं. इस बीमारी से राहत पाने के लिए थोडा सा प्याज का रस लें और उसमें 3 या 4 कालीमिर्च के दानों का चुर्ण मिलकर खाएं. आपको जल्द ही इस बीमारी में लाभ होगा.

10. नीम (Neem)  – मलेरिया की बीमारी के भयंकर प्रभाव से बचने के लिए नीम के पेड़ की कोपल लें, 5 या 6 काली मिर्च लें और थोडा सा नमक लें. एब इन सभी को एक साथ पीसकर चटनी बना लें. अब इस चटनी का सेवन सुबह और शाम को करें.

11.काली मिर्च (Black Pepper) – यदि आप मलेरिया के रोग से पीड़ित नहीं होना चाहते और इसके प्रभाव से बचना चाहते हैं तो इसके लिए कुछ तुलसी के पत्ते लें और कालीमिर्च के दानों के साथ इसे चबा – चबा कर खाएं. आपके शरीर से यह बीमारी कोशों दूर रहेगी.

12. लहसुन का रस (Garlic Juice) – यदि आपको अपने शरीर में मलेरिया की बीमारी के शुरूआती लक्षण दिखाई दे रहे हैं. तो इस बीमारी के कारण होने वाले तेज ज्वर के प्रभाव से बचने के लिए थोडा सा लहसुन का रस लें और इसे अपने हाथ और पैरों के नाखूनों पर लगा लें.

13. अमरुद (Guava) आपको यदि मलेरिया हो गया हैं तो इस बीमारी के प्रभाव से जल्द मुक्त होने के लिए आप अमरुद को भुमल में भूनकर भी खा सकते हैं.

14.  संतरे के छिलके (Orange Peel) मलेरिया की बीमारी के प्रकोप से बचने के लिए आप संतरे के छिलकों को पानी में केवल उबालकर भी पी सकते हैं.
Maleriya ki Deshi Gharelu Aayurvedic Chikitsa
Maleriya ki Deshi Gharelu Aayurvedic Chikitsa
15. भोजन (Food)  – मलेरिया से पीड़ित होने पर आलूबुखारा, चीकू, संतरा, अंगूर, मौसमी तथा अनार के फल का सेवन करें, साबूदाने, पुदीना की चटनी का सेवन करें.  

सावधानियाँ (Caution) – मलेरिया के रोग से पीड़ित होने से बचने के लिए कुछ बातों को ध्यान रखकर आप इस बीमारी को अपने से दूर रख सकते हैं. यदि आप मलेरिया के रोग से बचना चाहते हैं तो निम्नलिखित बातों का ध्यान अवश्य रखें.
1.अपने घर के आस – पास स्थित नालियों में, गड्ढ़ों तथा पोखरों में पानी इकठ्ठा न होने दें.

2. अपने घर की पानी की टंकी को हमेशा ढककर रखें और उसमें मच्छर के लार्वे न उत्पन्न हो, इसके लिए उसमें मिटटी के तेल या पैट्रोल का छिडकाव करें.
3. अगर आपक घर के किसी कोने में सीलन आ रही हैं तो उसमें डी.डी.टी., बी.एच.सी. के घोल का या तम्बाकू के घोल का इस छिडकाव करें.

4.  बाहर से आने के बाद हाथ और पैरों को साबुन से अच्छी तरह जरूर धोएं.

मलेरिया के रोग से बचने के अन्य उपायों को जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हैं.  
Maleriya ke Tej Jvar Bukhar se Bachav ke Aasan Tarike
Maleriya ke Tej Jvar Bukhar se Bachav ke Aasan Tarike

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT