इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Chintiyan bhi Bnaati Hai Shauchalya | चींटियाँ भी बनती है शौचालय | The Ant’s Toilet

चींटियों का शौचालय ( The Ant’s Toilet )
जी हाँ, आप सही पढ़ रहे है, चीटियाँ भी अपने बिलों / घरों में शौचालय का निर्माण करती है और इसीलिए उन्हें बाहर शौच के लिए नहीं जाना पड़ता. उनका ये शौचालय उनके घोसलें के एक कोने में बना होता है. इस बात का शोध जर्मनी की एक यूनिवर्सिटी ( यूनिवर्सिटी ऑफ़ रेजेनबर्ग ) के शोधकर्ता तोमर कजाकजक्स ने किया है, उनके अनुसार चींटियों भी शौच और स्वच्छता को लेकर काफी सजग रहती है और ये मनुष्य की तरह ही उनके लिए भी एक बड़ा मुद्दा है, जिसका ध्यान वे अपने घर घोंसले में रखे है. CLICK HERE TO KNOW मंगलकारी जीवन के लिए आटे का प्रयोग .. 
Chintiyan bhi Bnaati Hai Shauchalya
Chintiyan bhi Bnaati Hai Shauchalya
कैसे किया शोध ( How Did They Research ) :
जर्मनी का ये शोधकर्ता चींटियों के रोजाना के कार्यों को बड़ी बारीकी से अध्ययन कर रहा था तभी उन्होंने इस बात पर गौर फरमाया कि उनके हर घोसले के एक कोने में भूरे रंग का पदार्थ जमा रहता है. फिर उन्होंने इस भूरे पदार्थ की जांच की और इस निष्कर्ष पर निकले की ये पदार्थ चींटियों का मल है. उन्होंने अपने अध्ययन के पुख्ता सबूतों के लिए सफ़ेद प्लास्टर के घोसलों में बसी चींटियों को नीले और लाल रंग का खाना खिलाकर निरिक्षण किया. तब भी उन्हें यही मिला कि उनके घोंसले के एक कोने में लाल और नीले रंग का पदार्थ इक्कठा होने लगा है.

सफाई का ध्यान ( Attentive Towards Hygiene ) :
ध्यान देने वाली बात ये रही कि उनके मल का पदार्थ उनके घोंसले के सिर्फ एक ही हिस्से में मिलेगा, बाकी घोंसले में मल का नामो निशान तक नहीं होता जो बताता है कि वे सफाई का पूरा ध्यान रखते है, साथ ही इससे ये भी पता चलता है कि घोंसले की सभी चींटियाँ रोजाना घोंसले के इसी हिस्से में मल त्याग करती है. CLICK HERE TO KNOW सांप के विष का दुश्मन पौधा ... 
चींटियाँ भी बनती है शौचालय
चींटियाँ भी बनती है शौचालय
शौचालय की जगह ( Place of Toilet ) :
एक और बात गौर फरमाने की ये थी कि हर घोंसले में बने शौचालय की दिशा एक ही थी और वो भी घोंसले के बिलकुल कोने पर होता था. साथ ही ये भी देखा गया है कि चींटियाँ अपने घोंसले में से सभी अपशिष्ट पदार्थ और कूड़ा कचरा खुद ही बाहर निकाल देती है. चींटियों की इस ख़ास आदत से मनुष्य भी बहुत कुछ सिख सकते है और अपने घर और अपने आसपास की जगह में सफाई बनाये रख सकते है. वैसे भी घर या घर के आसपास कूड़ा कचरा या गन्दगी होने से आपको व आपके परिवारजन को तरह तरह की बीमारियाँ होने का ख़तरा बना रहता है.

ऐसे ही अन्य मजेदार और रोचक तथ्यों और जानकारियों को हासिल करने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट  करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
The Ant’s Toilet
The Ant’s Toilet

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT