इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Laakh Koshishon ke Baad Bhi Koi Nahi Hila Paya Iss Ball ko | लाख कोशिशों के बाद भी कोई नहीं हिला पाया इस बॉल को

चमत्कारी पत्थर
दोस्तों हमारा देश कई रहस्यमयी तथ्यों और अजूबों से भरा हुआ है और कुछ ऐसी अद्भुत चीजें और स्थान भी मिले है जिन्हें देखकर उनपर यकीन करना मुश्किल हो जाता है. आज हम आपको एक ऐसे ही चमत्कारी बॉल के बारे में बताने जा रहे है जिसे लाख कोशिशों के बाद भी कोई नहीं हिला पाया है. दरअसल हम चेन्नई में स्थित महाबलीपुरम शहर की बात कर रहे है जहाँ एक बहुत बड़ी गोल पत्थर की बाल है. इस बाल को श्री कृष्ण की बटर बॉल के नाम से भी जाना जाता है.  CLICK HERE TO KNOW डरावनी गुडियों वाला आइलैंड ...
लाख कोशिशों के बाद भी कोई नहीं हिला पाया इस बॉल को
लाख कोशिशों के बाद भी कोई नहीं हिला पाया इस बॉल को
देवताओं का पत्थर :
ये बटर बॉल 250 टन वजनी, 20 फीट ऊँची और 5 मीटर चौड़ी है, लेकिन हैरत की बात ये है कि ये 4 फीट से भी कम बेस वाली पहाड़ी के ढलान पर जमी हुई है. यहाँ के लोगों का मानना है कि ये पत्थर भगवान श्री कृष्ण की बटर बॉल है, साथ ही उनका मानना है कि एक बार जब श्री कृष्ण स्वर्ग में मक्खन खा रहे थे तो थोडा सा मक्खन धरती पर गिर गया और धरती पर आने के बाद वो पत्थर की चट्टान में बदल गया. इसीलिए इसे तमिल भाषा में वनिरैकल कहा जाता है मतलब देवताओं का पत्थर.

वैज्ञानिकों का मानना है कि ये पत्थर प्रकृति ने खुद इस तरह बनाया है, वहीँ जियोलॉजिस्टस का कहना है कि कोई भी प्राकृतिक वातावरण, आपदा या पदार्थ इस तरह से इस असामान्य आकार वाले पत्थर को नहीं बनाती.

पत्थर को हिलाने की कोशिश :
एक बार पल्लव वंश के राजा ने इस पत्थर को हटवाने का निर्णय लिया लेकिन अपने कई प्रयासों के बाद और अपनी पूरी शक्ति लगाने के बाद भी राजा इस पत्थर को हटाने में सफल नहीं हो पाया.
Laakh Koshishon ke Baad Bhi Koi Nahi Hila Paya Iss Ball ko
Laakh Koshishon ke Baad Bhi Koi Nahi Hila Paya Iss Ball ko
वहीँ 1908 में मद्रास के गवर्नर आर्थर ने भी इस पत्थर को उसके स्थान से हटाने का आदेश दिया और इस काम के लिए 7 हाथियों को लगवाया लेकिन वे 7 हाथी मिलकर भी इस पत्थर को हिला तक नहीं पाए. इसीलिए श्री कृष्ण की बटर बॉल माना जाने वाला ये पत्थर आज भी रहस्य बना हुआ है और अपने चमत्कारिक आकार से लोगों को हैरान कर रहा है.

जब आप इस पत्थर को देखते हो तो आपको लगेगा कि ये पत्थर अभी गिर पड़ेगा, लेकिन ये अजूबा ही है कि कोई उसे चाहकर भी नहीं हिला पाया. इतना ही नहीं यहाँ कई बार सुनामी और भूकंप भी आया लेकिन फिर भी ये पत्थर टस से मस नहीं हुआ और लोग इस पत्थर की छाया में बैठकर खुद को एन्जॉय करते हो.

श्री कृष्ण की चमत्कारी बटर बॉल और उसके ना हिलने के रहस्य के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो.



YOU MAY ALSO LIKE



Shree Krishna ki Chamatkarik Butter Ball, Iss Patthar ko 7 Haathi Milkar Bhi Nahi Hila Paye, Khatarnak or Hairatangej Rahasy, Devtaon ka Patthar, Ek Rahasyamayi Patthar Jise Aaj Tak Koi Nahi Hila Paya

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT