इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Nariyal Ke Ayurvedic Fayde | नारियल के आयुर्वेदिक फायदे | Ayurvedic Benefits of Coconut

नारियल

अत्यंत महत्वपूर्ण फलों में से एक नारियल है जो लोगों को बहुत पसंद है. नारियल हमारे शरीर के लिए सम्पूर्ण आहार है. आयुर्वेदानुसार नारियल को शुभ का माना गया है. नारियल एक ऐसा प्रसिद्ध और लोकप्रिय फल है जिसे पूजा पाठ में चढ़ाया जाता है. वेदानुसार नारियल के वृक्ष को कल्पवृक्ष माना गया है. 


नारियल का पेड़ बहुत ऊँचा और सीधा होता है. इसकी ऊंचाई 80 फुट या इससे भी अधिक होती है. इसके पत्ते 6 से 18 फीट लम्बे, नोकदार एवं कम चौड़े होते हैं. इसके पत्तों से 4 से 6 फीट लम्बा नारंगी या तृण वर्ण का कोशावृत पुष्प – यूह निकलता है. जिसमें स्त्री पुष्प नीचे की तरफ संख्या में कम, 1 इंच लम्बे गोल होते हैं. इसका फल अंडे के आकार का होता है. CLICK HERE TO READ MORE POSTS ...
नारियल के आयुर्वेदिक फायदे
नारियल के आयुर्वेदिक फायदे

यह फल अनेक भाषाओँ में निम्न नाम से जाना जाता है –

1.       संस्कृत में इसे नारिकेल कहा जाता है.

2.       हिंदी में इसे नारियल बोला जाता है.

3.       मराठी में हम इसे नारल कहते हैं.

4.       गुजराती इसे नारियल बोलते हैं.

5.       बंगला में नारिकेल कहा जाता है.

6.       तेलगु में इसे नारिकेलमु कहते हैं.

7.       तामिल इसे तेंन्नामारम कहते हैं.

8.       मलयालम में आप तेंगा के नाम से जानते हैं.

9.       कन्नड़ भाषा में इसे टेंगू कहा जाता है.

10.   पंजाबी में हम इसे नरेल कहते हैं.

11.   कोंकण में हम इसे माड के नाम से जानते हैं.

12.   फारसी में इसे नारगील बोला जाता है.

13.   अंग्रेजी में नारियल को coconut palm कहते हैं.

14.   लैटिन में इसे कोकस न्युसिफेरा कहा जाता है.
CLICK HERE TO READ MORE POSTS ...
Ayurvedic Benefits of Coconut
Ayurvedic Benefits of Coconut

नारियल बाहर से भूरे रंग का तथा अंदर से सफ़ेद रंग का होता है. ‘ काड लीवर आइल ‘ की जगह हम नारियल के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. यह फल हमारे लिए बहुत लाभदायक है. नारियल का फल हमारे अनेक रोगों का नाश करता है –

1.       दुर्जर 

2.       ग्राही

3.       पुष्टि

4.       वस्ति

5.       वातपित्त – रक्तविकार

6.       बलकारक

7.       मूत्राशय तथा

8.       दाह

9.       पित्तदोष

नारियल का पानी भी हमारे लिए अनेक प्रकार से लाभदायक है जैसे –

1.       स्वादिष्ट

2.       शीतल

3.       अग्निप्रदीपक

4.       वीर्यवर्धक 

5.       हृदय को हितकर

6.       हल्का प्यास

7.       पित्त तथा

8.       मूत्राशय  



नारियल की गिरी में अनेक पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं –

1.       नारियल की ताजी 100 ग्राम गिरी में 36.3 प्रतिशत आर्द्रता पाई जाती है.

2.       इसमें प्रोटीन की मात्रा 4.5 प्रतिशत होती है.

3.       इसमें 41.6 प्रतिशत तेल पाया जाता है.

4.       नारियल में कार्बोज 13 प्रतिशत होता है.

5.       इसमें रेशा 3.6 प्रतिशत होता है.

6.       इसमें चूना 0.1 प्रतिशत पाया जाता है.

7.       इसमें फास्फोरस .24 ग्राम मिलता है.

8.       इसमें लौह 1.7 मिग्रा. रहता है.

9.       इसमें विटामिन ‘ सी ‘ 1 मिग्रा. होता है.

10.   इसमें विटामिन ‘ ए ‘ तथा ‘ ई ‘ 2 मिग्रा. एवं कुछ ताम्र पाया जाता है.

11.   इसकी सूखी गिरी में तेल 57 – 75 प्रतिशत रहता है जो अन्य तेलों की अपेक्षा अधिक सुपाच्य होता है. इसे त्वचा आसानी से सोख लेती है.


 कच्चे नारियल के पानी में अनेक पदार्थ पाए जाते हैं –

1.       कच्चे नारियल के पानी में सोडियम 105 होता है.

2.       इसमें पोटेशियम 312 रहता है.

3.       इसमें कैल्शियम 29 पाया जाता है.

4.       इसमें मैग्नेशियम 30 पाया जाता है.

5.       नारियल के पानी में लौह 10 रहता है.

6.       नारियल के पानी में ताम्र 0.4 होता है.

7.       इसमें फोस्फोरस 37 मिलता है.

8.       इसमें गंधक 24 होता है.

9.       इसमें क्लोरिन 183 होता है.

10.   इसमें विटामिन ‘ सी ‘ 2.2 – 37 मिग्रा. प्रति 100 ग्राम में रहता है.

11.   इसमें विटामिन की मात्रा कम होती है.


नारियल का पेड़ एक ऐसा विशाल पेड़ जो समुद्र के आस – पास होता है. इस पेड़ पर लगने वाला फल रेशेदार होता है. जो ऊपर से कठोर होता है तथा अंदर से नरम गिरी वाला होता है. हम नारियल को ‘ श्रीफल ‘ के नाम से भी जानते हैं. इसका फल ही नहीं बल्कि फूल, तेल, छाल और जड़ भी हमारे लिए बहुत ही उपयोगी है.


नारियल का पेड़ अधिकतर समुद्र तट के आस – पास दक्षिण भारत के निम्न स्थानों में पाया जाता है –

1.       केरल

2.       पूर्वी बंगाल

3.       उड़ीसा तथा

4.       लंका वर्मा

 
Nariyal Ke Ayurvedic Fayde
Nariyal Ke Ayurvedic Fayde

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

2 comments:

  1. NARIYAL KA ANDAR EK SAFED RANG KA CHOTA SA HOTA HAI JO KI PANI SOOKHNE KE BAAD AATA HAI MERE KHAYAL SE WO NARIYAL KA FAL HAI USKE BARE ME JANNA HAI.

    ReplyDelete
  2. Can you tell me for diabetes remedy , is coconut water with asaffotida (hing) useful ?

    ReplyDelete

ALL TIME HOT