इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Ramayan Mhabharat Ka Ek Antr | रामायण महाभारत का एक अंतर | Difference Between Ramayan Mahabharat

रामायण को घर में रखा जाता हैं किन्तु महाभारत को नहीं
अधिकतर घरों में रामायण या श्रीमद् भागवत गीता को धर्म ग्रन्थ के नाम पर घर के पूजा स्थल पर रखा जाता हैं. क्योंकि रामायण की पूरी कथा राम जी पर आधारित हैं. राम जी को मर्यादा पुरुषोत्तम के नाम से जाना जाता हैं तथा इनकी पूजा लोग आदर्श मानव के रूप में करते हैं. हर मनुष्य की कामना यही होती हैं कि उनका पुत्र राम जी के समान चरित्रवान, आज्ञाकारी बनें. इसलिए अधिकांश घरों में रामायण को रखा जाता हैं तथा उसका पाठ भी प्रतिदिन किया जाता हैं. लेकिन महाभारत जैसे प्राचीन ग्रन्थ को घरों में नहीं रखा जाता. जबकि महाभारत की गणना चारों वेदों के बाद पांचवें वेद के रूप में की जाती हैं. अगर हम अपने घर के बड़े – बुजुर्गों से महाभारत को घर में न रखने के कारण के बारे में पूछते हैं. तो उनका इसे घर के पूजा स्थल में न रखने के पीछे यह तर्क होता हैं की घर में इस ग्रंथ को रखने से घर में अशान्तिपूर्ण तथा तनावपूर्ण माहौल बना रहता हैं तथा घर के भाइयों में झगड़े होते हैं. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POST ...
Ramayan Mhabharat Ka Ek Antr
Ramayan Mhabharat Ka Ek Antr

 महाभारत घर में न रखने का क्या यह कारण ठीक हैं. नहीं, वास्तविक रूप में महाभारत रिश्तों का ग्रन्थ हैं. यह परिवार के सदस्यों के रिश्तों को, सामाजिक तथा व्यक्तिक रिश्तों को जोड़ने वाला ग्रन्थ हैं. महाभारत में कुछ ऐसी महत्वपूर्ण बातें लिखी हुई हैं. जिन्हें बुद्धिमान व्यक्ति भी नहीं समझ पाते. इस ग्रंथ में पांच भाइयों के अलग – अलग पिता से लेकर एक ही महिला के पांच पतियों तक सभी रिश्ते बहुत ही बारीकी से बुने हुए हैं. इन रिश्तों की गंभीरता तथा पवित्रता को आम व्यक्ति नहीं समझ पाता और इसे व्याभिचार कहकर इसकी निंदा करता हैं. ऐसे व्यक्तियों का मानना हैं कि महाभारत रखने से समाजिक रिश्तों का पतन होता हैं तथा इसलिए व्यक्ति महाभारत को अपने घर में स्थान नहीं देते. क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति इस ग्रन्थ में बताये गए रिश्तों की पवित्रता तथा गंभीरता को समझने में असक्षम हैं.

महाभारत का महत्व –
1.       महाभारत हमारी प्राचीन सांस्कृतिक इतिहास का एक साक्ष्य तथा धरोहर हैं. जिसे पढ़कर हमें अपनी प्राचीन संस्कृति के बारे में जानकारी प्राप्त होती हैं.  CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POST ...
रामायण महाभारत का एक अंतर
रामायण महाभारत का एक अंतर
 
2.       महाभारत एक ऐसा प्राचीन ग्रंथ हैं. जो इंसान को सत्य, असत्य तथा मर्यादा की सीख देता हैं. यह ग्रंथ मानव को सत्य के साथ खड़े होने के लिए प्रेरित भी करता हैं.

3.        महाभारत जैसे महान ग्रन्थ को समझने के लिए गहन अध्ययन की आवश्यकता हैं. इस ग्रंथ का गहन अध्ययन करके ही हम इसके महत्व को समझ सकते हैं.

4.       महाभारत में धर्म, अधर्म की चर्चा की गई हैं तथा इनमें धर्म के महत्व के बारे में भी बताया गया हैं.

5.       महाभारत में कलयुग की शुरुआत का पुरे विस्तार से वर्णन किया गया हैं. इसमें यह बताया गया हैं कि कलयुग में मानव का स्वरूप कैसा होगा तथा वह किस तरह से अपने अधिकारों को या हक को प्राप्त कर सकता हैं.

महाभारत से सम्बन्धित अन्य तथ्यों को जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते है.
Difference Between Ramayan Mahabharat
Difference Between Ramayan Mahabharat

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT