इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Bhagavan ko Phool Kaise Arpit Karen | भगवान को फूल कैसे अर्पित करें

भगवान को पुष्प कैसे चढ़ाएं (How to Offer Flower to God)
हम सभी अपने दैनिक जीवन की शुरुआत ईश्वर की भक्ति से करते हैं तथा ईश्वर की भक्ति करने के लिए तथा उन्हें प्रसन्न करने के लिए हम विभिन्न वस्तुओं का प्रयोग भी करते हैं. जैसे – धूप , दीपक, अगरबत्ती, रोली, फल, प्रसाद तथा पुष्प. पूजा में प्रयोग की जाने वाली इन सभी सामग्रियों के द्वारा ही हम पूजा – पाठ कर विभिन्न देवी – देवताओं को प्रसन्न कर उनका आशीर्वाद प्राप्त कर पाते हैं. हम सभी की अक्सर यही कोशिश रहती हैं कि हम देवी – देवताओं की पसंद के अनुसार उनकों उनकी प्रिय वस्तु अर्पित करें. जिससे देवी – देवता प्रसन्न हो जाएँ और उनकी कृपा सदैव हमारे जीवन पर बनी रहें. आज  हम आपको बतायेंगें कि जब भी आप पूजा करें तो आपको किस प्रकार के पुष्पों को देवी – देवतों को चढाना चाहिए. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT पूजा के विशेष मन्त्र तथा देवी देवताओं के प्रिय पुष्प ...
Bhagavan ko Phool Kaise Arpit Karen
Bhagavan ko Phool Kaise Arpit Karen


1.    जब भी आप पूजा करें तो देवी – देवतों को पुष्प, फल तथा पत्ते जिस प्रकार ये वृक्ष पर उगते हैं. उसी अवस्था में इसे ईश्वर को समर्पित कर दें.

2.    जब वृक्ष पर फूल खिलते हैं तो इनका मुख ऊपर की ओर होता हैं. इसलिए जब भी किसी देवी या देवता को पुष्प चढ़ाएं. तो इनका मुख ऊपर की ओर करके चढ़ाएं. अर्थात इनका मुंह कभी – भी नीचे की ओर न करें.

3.    ईश्वर को तुलसी के पत्ते तथा दुब सदैव अपनी ओर करके चढ़ाएं तथा बेलपत्र को चढाते हुए इसका मुख नीचे की ओर कर दें. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT भगवान को फूल चढ़ाने के नियम ...
भगवान को फूल कैसे अर्पित करें
भगवान को फूल कैसे अर्पित करें


4.    भगवान को पुष्प चढाते हुए दायें हाथ के करतल को आकाश की ओर करें तथा मध्यमा, अनामिका तथा अंगूठा तथा तर्जनी उँगलियों से पुष्प चढाएं.

5.    रोजाना पूजा करने से पूर्व मंदिर में चढाये गये पुष्प, दूर्वा बेल पत्र तथा तुलसी के पत्तों को मंदिर से निकाल दें और उसके पश्चात् पूजा करें. मंदिर में चढाई गए फूल और पत्तियों को हटाने के लिए तर्जनी उंगली तथा अंगूठे का इस्तेमाल करें.

6.    भगवान को जो पुष्प चढाये जाते हैं. उन्हें निर्माल्य कहा जाता हैं. इसलिए जो पुष्प ईश्वर को चढ़ाया जाता. वह पुष्प गला हुआ, कीड़ा खाया हुआ, पृथ्वी पर गिरा हुआ नहीं होना चाहिए. इसके साथ ही इन फूलों में से किसी प्रकार की दुर्गन्ध नहीं आनी चाहिए, फूलों की पंखुडियां टूटी हुई नहीं होनी चाहिए तथा न ही यह आग में झुलसा हुआ होना चाहिए.
Bhagvaan ko Fool Chadhayen Aur Unhen Prasnn Karen,
Bhagvaan ko Fool Chadhayen Aur Unhen Prasnn Karen,

7.    यदि आप पूजा करने के लिए जा रहें हैं और आपको फूल न मिल रहे हो तो आप फूलों की कलियों को भी भगवान को समर्पित कर सकते हैं.

8.    कुछ व्यक्ति देवी – देवताओं को पुष्प चढाने से पहले इन्हें पानी में डूबाकर धो देते हैं. जब की पूजा करते समय कभी भी फूलों को धोना नहीं चाहिए. इन्हें शुद्ध करने के लिए आप इन पर जल का छिडकाव कर सकते हैं.

9.    भगवान को कभी भी बासी पुष्प तथा पत्तियां नहीं चढाने चाहिए. लेकिन गंगाजल तथा तुलसी के पत्तों को आप चढ़ा सकते हैं. क्योंकि ये दोनों ही कभी भी बासी नहीं होते, न ही बहुत दिनों तक रखने पर इनका मह्त्व कम होता हैं.

10.  आप माली के द्वारा तोड़े गये फूल और पत्तियों को चढ़ा सकते हैं. क्योंकि गंगाजल व तुलसी के पत्तों की भांति ही ये फूल भी बासी नहीं माने जाते.

भगवान को किस प्रकार के फूल अर्पित करने चाहिए इस विषय से सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण बातों को जानने के लिए आप नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हैं.
Devi Devtaon ko Phool Smarpit Karne Ki Vidhi
Devi Devtaon ko Phool Smarpit Karne Ki Vidhi




Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT