इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Real Estate Service

Cat and Mouse Tale A Political Story - कभी मित्र कभी घोर शत्रु एक चूहे बिल्ली की कहानी Chuhe Billi ki Kahani

कभी मित्र कभी घोर शत्रु  एक चूहे बिल्ली की कहानी - Cat and Mouse Tale A Polotical Story - Chuhe Billi ki Kahani आजकल बहुत बड़ा भोचाल आ...

Karya ko Shuru Karne se Pahle Nakshatron par Dhyan Den | कार्य को शुरू करने से पहले नक्षत्रों पर ध्यान दें | Look on Constellation Before Starting of Any Work

नक्षत्र किसी कार्य को प्रारंभ करने (Effect Of Constellations on Any Work)
नक्षत्र बने होते हैं तारा समूहों से. आकाश में अनेक तारामंडल हैं जैसे सप्त ऋषि, रोहिणी, विशाखा इत्यादि. ज्योतिष शास्त्र में हर नक्षत्र एक विशेष स्थान रखता है. नक्षत्र किसी भी कार्य को प्रारंभ करने के मुहूर्त में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है. आइये जानते हैं ऐसे ही कुछ नक्षत्रों और उनके हमारे दैनिक जीवन में प्रभाव के बारे में.

1.                        अश्विनी नक्षत्र :
अश्विनी नक्षत्र केतु के अधीन है. गुड़ से बने पदार्थ जैसे गुड़ युक्त चावल, गुड़ का चूरमा, गुड़ में बनी गाजर व अन्य खाद्य पदार्थ जैसे उड़द की दाल, सीताफल इत्यादि खाकर किसी भी कार्य हेतु प्रस्थान करने से कार्य सफल होता है.

2.                        भरणी नक्षत्र :
भरणी नक्षत्र शुक्र के अधीन है. इस नक्षत्र में तिल के बने पदार्थ जैसे तिल के लड्डू, तिल के चूर्ण में मिली शक्कर इत्यादि खाकर घर से निकलने से कार्य संपन्न होता है. CLICK HERE TO KNOW कुंडली में दुसरे घर के प्रभाव ...
Karya ko Shuru Karne se Pahle Nakshatron par Dhyan Den
Karya ko Shuru Karne se Pahle Nakshatron par Dhyan Den
3.                                                                                                कृतिका नक्षत्र :
कृतिका नक्षत्र शुक्र के अधीन है. इस नक्षत्र में दही, उड़द तथा मिश्री को मिलाकर उसका सेवन करें. कार्य में शत प्रतिशत सफलता मिलेगी.

4.                                                                                                रोहिणी नक्षत्र :
रोहिणी नक्षत्र चन्द्र के अधीन है. इस नक्षत्र में शुद्ध घी में बना हलवा ग्रहण करने से लाभ मिलेगा.

5.                                                                                                मृगशिरा नक्षत्र :
मृगशिरा नक्षत्र मंगल के अधीन है. इस नक्षत्र में लाल मसूर की दाल का सेवन करने से लाभ मिलेगा.

6.                                                                                                आद्रा नक्षत्र :
आद्रा नक्षत्र राहू के अधीन है दूध की मलाई बिलो कर बनाया गया मक्खन रोटियों के साथ ग्रहण करें. जिस कार्य के लिए भी निकलेंगे उसमे सफलता प्राप्त करेंगे. CLICK HERE TO KNOW मायावी राहू की शुभ दृष्टि के प्रभाव ... 
कार्य को शुरू करने से पहले नक्षत्रों पर ध्यान दें
कार्य को शुरू करने से पहले नक्षत्रों पर ध्यान दें
7.                                                                                                पुनर्वसु नक्षत्र :
पुनर्वसु नक्षत्र गुरु के अधीन है कस्तूरी को साथ रखें व शुद्ध घी का सेवन करें.

8.                                                                                                पुष्य नक्षत्र :
पुष्य नक्षत्र शनि के अधीन है. दूध व दूध से बनी खीर का सेवन करने से लाभ मिलेगा.

9.                                                                                                अश्लेशा नक्षत्र :
अश्लेशा नक्षत्र बुद्ध के अधीन है. खाने के साथ शक्कर का सेवन करें, बिगड़े काम भी बन जायेंगे.

10.                                                                                        माघ नक्षत्र :
माघ नक्षत्र केतू के अधीन है. केसर मिला भोजन खाएं. खीर बनाते वक्त उसमे केसर मिलाएं या दूध में केसर डाल कर सेवन करें.

11.                                                                                        पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र :
पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र शुक्र के अधीन है. हरी इलायची चबाएं व भोजन में आलू का इस्तेमाल करें.

12.                                                                                        उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र :
उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र सूर्य के अधीन है. उड़द, लहसुन व आलू का सेवन इस नक्षत्र में लाभदायक है.

13.                                                                                        हस्त नक्षत्र :
हस्त नक्षत्र चन्द्र के अधीन है. सिंघाड़े का व सिंघाड़े के आटे से बनी रोटियों का सेवन लाभदायक होगा.

14.                                                                                        चित्रा नक्षत्र :
चित्रा नक्षत्र मंगल के अधीन है. मूंग की डाल से बने भोजन का सेवन करें.
Look on Constellation Before Starting of Any Work
Look on Constellation Before Starting of Any Work
15.                                                                                        स्वाति नक्षत्र :
स्वाति नक्षत्र के राहू अधीन है. केले व सेब का सेवन करने से लाभ मिलेगा.

16.                                                                                        विशाखा नक्षत्र :
विशाखा नक्षत्र गुरु के अधीन है. आंवले का सेवन लाभदायक होगा.

17.                                                                                        अनुराधा नक्षत्र :
अनुराधा नक्षत्र शनि के अधीन है. मिश्री का सेवन इस नक्षत्र में लाभदायक है.

18.                                                                                        ज्येष्ठा नक्षत्र :
ज्येष्ठा नक्षत्र बुद्ध के अधीन है. शक्करकंद व मिश्री का सेवन इस नक्षत्र में लाभदायक है.

19.                                                                                        मूल नक्षत्र :
मूल नक्षत्र केतु के अधीन है. मूली का सेवन इस नक्षत्र में फायदेमंद है.

20.                                                                                        पूर्वाषाढा नक्षत्र :
पूर्वाषाढा नक्षत्र शुक्र के अधीन है. नींबू, आंवला व मिश्री का सेवन इस नक्षत्र में फायदेमंद है.

21.                                                                                        उत्तराषाढ़ा नक्षत्र :
उत्तराषाढ़ा नक्षत्र सूर्या के अधीन है. बेलपत्र व नींबू का सेवन इस नक्षत्र में फायदेमंद है.

22.                                                                                        श्रवण नक्षत्र :
श्रवण नक्षत्र चन्द्र के अधीन है. दूध का सेवन करें, लाभ अवश्य मिलेगा.

23.                                                                                        घनिष्ठा नक्षत्र :
घनिष्ठा नक्षत्र मंगल के अधीन है. करेले व मूंग की दाल का सेवन इस नक्षत्र में लाभदायक है.

24.                                                                                        शतभिषा नक्षत्र :
शतभिषा नक्षत्र के राहू अधीन है. इस नक्षत्र में तुम्बे के बीज का सेवन करें.
कार्य प्रारंभ करने से पहले नक्षत्र
कार्य प्रारंभ करने से पहले नक्षत्र
25.                                                                                        पूर्वभाद्रपद नक्षत्र :
पूर्वभाद्रपद नक्षत्र गुरु के अधीन है. इस नक्षत्र में करेले व दही का सेवन करें.

26.                                                                                        उत्तराभाद्रपद नक्षत्र :
उत्तराभाद्रपद नक्षत्र शनि के अधीन है. इस नक्षत्र में उड़द की दाल का सेवन करें.

27.                                                                                        रेवती नक्षत्र :
रेवती नक्षत्र बुद्ध के अधीन है. पानी में उपजे फलों का सेवन इस नक्षत्र में लाभकारी है.


ग्रह नक्षत्रों की चाल और उनके जीवन में प्रभाव के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो.
27 Nakshatra or Unka Mahatv
27 Nakshatra or Unka Mahatv
Karya ko Shuru Karne se Pahle Nakshatron par Dhyan Den, कार्य को शुरू करने से पहले नक्षत्रों पर ध्यान दें, Look on Constellation Before Starting of Any Work, कार्य प्रारंभ करने से पहले नक्षत्र, Kaam Par Nakshaton ka Prabhav, Shubh Samay ka Pratik Hai Nakshatra, 27 Nakshatra or Unka Mahatv



YOU MAY ALSO LIKE  
-  अस्थमा रोग के कारण लक्षण

सोने के तरीके से जाने तक़दीर

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT