इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Apaamarg Ghatayega Aapka Fat | अपामार्ग घटायेगा आपका फैट | Reduce Fat using Apaamarg

चिढचिढ़ा के बीजों के सेवन से कम करें मोटापा ( Prickly Chaff Flower Cures Abdominal Fat )
आधुनिक युग में हर घर के व्यक्ति शरीर में बढ़ते फैट के कारण परेशान रहते है और ना जाने कितने ही तरह के पाउडर, दवाई इत्यादि इस्तेमाल करते है किन्तु इनसे उनके शरीर पर बुरा प्रभाव अवश्य पड़ता है. लेकिन अगर उन्ही की स्थान पर चिरचिटा के बीजों का इस्तेमाल किया जाए तो ये प्राकृतिक तरीके से वजन को घटाता है. 

अपामार्ग क्या है ? ( What is Apaamarg )
अपामार्ग का नाम सुन ये प्रश्न अवश्य आपके मन में आया होगा तो हम आपको बता देते है कि ये एक औषधि है जो कही भी पाई जा सकती है. देशी भाषा में लोग इसे उल्टे कांटे के नाम से भी जानते है. जब भी वर्षा होती है तो ये अंकुरित होना आरंभ कर देते है और इस ऋतू के दौरान ये विकसित होते रहते है, इसके बाद आने वाली शीत ऋतू में इनमे फुल आते है जोकि हरे और गुलाबी रंग के होते है. वहीँ गर्मियों में ये इसके फल परिपक्व हो जाते है साथ ही इसी ऋतू में ये शुष्क भी पड जाता है. अपामार्ग के बीज चावल की तरह दिखाई देते है जिन्हें तांदुल के नाम से जाना जाता है. CLICK HERE TO KNOW चिरचिटा के रोगों में अनुभूत प्रयोग ...
Apaamarg Ghatayega Aapka Fat
Apaamarg Ghatayega Aapka Fat
अपामार्ग के अन्य नाम ( Different Names of Aapaamaarg ) :
हर भाषा में इसे अलग अलग नामों से जाना जाता है. जैसेकि 

*                      अंग्रेजी ( English ) : प्रिकली चाफ फ्लावर ( Prickly Chaff Flower )

*                      हिंदी ( Hindi ) : चिरचिटा, चिचड़ा, औंगा चिचरी, लटजीरा, अपामार्ग, चिढचिढ़ा
 
*                      देशी ( Deshi ) : उल्टे कांटे

*                      मराठी ( Marathi ) : अघाडा, अधेडा

*                      बंगाली ( Bengali ) : अपांग 

मोटापे में लटजीरा का प्रयोग ( Use of Latjeera to Reduce Fat ) :
मोटापे को भागने के लिए आप लटजीरे के कुछ बीजों को लें और उन्हें अच्छी तरह से भुन लें. भुन जाने के बाद आप उनको पीसकर उनका चूर्ण बनायें और एक शीशी में डालकर सुरक्षित रख लें.  CLICK HERE TO KNOW तगर का प्रयोग कर पायें रोगों से मुक्ति ...
अपामार्ग घटायेगा आपका फैट
अपामार्ग घटायेगा आपका फैट
इसके बाद आपको इस चूर्ण को आधा चम्मच सुबह और आधा चम्मच शाम को लेना है. इसके सेवन से व्यक्ति की भूख में कमी आती है और इसी तरह से ये वजन को घाटाता भी है. आप इसका सेवन निश्चिंत रूप से कर सकते हो क्योकि ये एक आयुर्वेदिक औषधि होती है और इसका कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं होता. अगर आप इसको बना बनाया खरीदना चाहते है तो आपको ये किसी पंसारी की दूकान पर अवश्य उपलब्ध मिलता है. 

दांतों के लिए उपयोगी लटजीरा ( Latjeera useful for Teeth ) :
·     अगर दांतों में खून निकलने या पायरिया की समस्या हो तो लटजीरा की दातुन लें और उसके सारे उल्टे काँटों को निकाल दें. इसके बाद आप इस दातुन को अपने दाँतों पर रगड़ें. कुछ दिनों के इस्तेमाल से आपके दांतों की सारी समस्या दूर हो जाती है.

सेहुआ रोग में लाभदायी ( Beneficial in Sehua ) :
·     सेहुआ एक ऐसा रोग है जिसमें शरीर पर सफ़ेद धब्बे पड़ने आरम्भ हो जाते है. इस अवस्था में केले के पत्तों का क्षार, हल्दी और लटजीरा का पंचांग बनाकर एक मिश्रण तैयार करना चाहियें और उस मिश्रण को रोगी के शरीर पर पड़े सफ़ेद धब्बों पर लगाने से उसे जल्द ही आराम मिलता है.

भस्मक रोग भगायें ( Cures Bhasmak ) :
·     वहीँ अगर कोई व्यक्ति भस्मक के रोग से पीड़ित है अर्थात ऐसे रोग से पीड़ित है जिसमें व्यक्ति बहुत सारा खाना खाने के बाद भी खुद को भूखा महसूस करता है तो उसे अपामार्ग के बीजों से निर्मित खीर खिलानी चाहियें. इससे उन्हें तुरंत ही लाभ मिलता है.  
Reduce Fat using Apaamarg

Reduce Fat using Apaamarg
आधाशीशी से राहत ( Treats Migraine ) :
·     आधे सिर में होने वाले इस दर्द की एक विचित्र बात ये होती है कि ये सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक रोगी को परेशान करता रहता है और इसका दर्द सिर्फ आधे सिर में ही होता है. इस तरह इस रोग को बहुत भयंकर माना जाता है. किन्तु अगर अपामार्ग का चूर्ण बनाकर उसे रोजाना सुंघा जाएँ तो उसे आधाशीशी से भी राहत मिलती है. साथ ही अगर रोगी को मिर्गी या बेहोशी जैसी समस्या है तो वो भी कुछ दिन के इस्तेमाल से दूर हो जाती है. 

कुत्ते के कांटने पर ( Remove Dog Bites Toxic ) :
·     अगर कोई कुत्ता काट लें तो तुरंत उस स्थान पर लटजीरा का ताजा रस डाल देने से जहर नहीं फैलता. साथ ही उसके बाद लटजीरा की पत्तियों की लगूदी को उस जगह बाँध देने से कुत्ते के काटा भी जल्द ठीक हो जाता है. इस उपाय को अनेक गाँवों में अपनाया जाता है.

तो इस तरह उल्टे कांटे का ये पौधा अनेक तरीकों से लाभदायी सिद्ध होता है. इस पौधे के ऐसे ही अन्य लाभ जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो.
लटजीरा से वसा हटायें
लटजीरा से वसा हटायें

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT