इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Shanivar ke Din Churayen Jutte Chappal | शनिवार के दिन चुराएँ जुत्ते चप्पल | Stealing Shoe and Slippers on Saturday is Beneficial for You

जुत्ते चप्पल चुराना है अच्छी बात ( This is Good to Steal Shoes of Slipper on Saturday )
चोरी से जुडी 2 बातें है पहली तो कोई भी व्यक्ति चोरी नहीं करना चाहेगा क्योकि सभी जानते है कि चोरी करने की सजा जेल हो सकती है और अगर चोरी करते वक़्त पकडे गये तो पहले मुफ्त में अच्छी खासी पिटाई मिलती है और बाद में पुलिस तो है ही. दूसरी बात ये कि कोई ये भी नहीं चाहता कि उसका कोई भी सामान चोरी हो, चाहे वो चीज उसके काम की हो या नहीं. जहाँ चोरी को पाप कर्म या बुरा कर्म माना जाता है वहीँ ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनिवार के दिन जुत्ते चप्पल की चोरी अभूत शुभ होती है. उनका मानना है कि इस तरह शनि दोष, कष्ट और पीड़ा से निवारण के लिए बहुत राहत मिलती है. CLICK  HERE TO KNOW शनि दोष और उसके ज्योतिषी उपाय ... 
Shanivar ke Din Churayen Jutte Chappal
Shanivar ke Din Churayen Jutte Chappal
कहाँ करनी है चोरी ( Place Where You Have to Steal Slipper ) :
आपको धन की चोरी नहीं बल्कि जुत्ते चप्पलों की चोरी करनी है और वो भी घर में नहीं बल्कि मंदिरों में. जी हाँ, शनिवार के दिन आप शनिदेव के मंदिर में पूजा के लिए जाएँ और पूजा के बाद मंदिर के बाहर श्रद्धालुओं की निकली हुई चप्पलों को खुद पहन आयें और अपनी वहां छोड़ आयें. आपको बता दें कि कुछ लोग तो खुद ही अपनी चप्पल वहाँ छोड़ आते है और नंगे पैर घर चले आते है, ताकि किसी अन्य व्यक्ति को उनकी चप्पल मिल जाएँ.

क्यों होता है शनिवार को चप्पल चुराना शुभ ( Why Stealing Shoe and Slipper is Lucky ) :
ये बात आप सब जानते होंगे कि सभी ग्रहों में शनि ग्रह सबसे कठोर और क्रूर है साथ ही वे न्याय प्रिय है अगर आपने कुछ गलत किया तो आपको उसकी सजा अवश्य देंगे और सजा ऐसी हो सकती है जो आपसे आका सब कुछ छीन लें, वहीँ उनकी कृपा दृष्टि रंक को राजा भी बना देती है. जहाँ लोग शनि देव के नाम से भी घबराते है वहीँ उससे अधिक डर उन्हें उनकी साढ़े साती या ढैय्या से लगता है क्योकि ये वो समय होता है जब आपके जीवन में सब कुछ आपकी सोच के विपरीत होता है. इसके अलावा शनि देव का आपकी राशि में प्रवेश करना भी आपके जीवन में संकटों का आरम्भ होता है. CLICK HERE TO KNOW भाव में शनि होने पर कष्ट निवारण के अदभुत उपाय ... 
शनिवार के दिन चुराएँ जुत्ते चप्पल
शनिवार के दिन चुराएँ जुत्ते चप्पल
शनिवार उन्ही शनिदेव जी का दिन माना जाता है, जहाँ सभी ग्रह अपने हमारे जीवन पर प्रभाव डालते है वहीँ उनके प्रभाव से हमारा शरीर भी अछूता नहीं रहता और शनिदेव तो हमारे पैरों में वास करते है. इसीलिए पैरों व चमड़ी से जुडी चीजों का शनिवार के दिन शनि के मान पर दान दिया जाता है. इस तरह दान देने से माना जाता है कि त्वचा रोग और पैरों के रोगों से निजात मिलती है.

इस तरह आप देखेंगे तो पाओगे कि शनि देव हमारे पैरों और त्वचा के कारक देव है और अगर इनके संपर्क में रहते है हमारे जुत्ते और चप्पल. इस तरह अगर हमपर शनि देव की बुरी दृष्टि या प्रभाव होगा तो सीधी सी बात है कि उस वक़्त शनि देव जी हमारे पैरों में वास कर रहे होंगे. तो अगर आपके पैरों की चीज जिनमें शनि देव जी खुद रुष्ट होकर विराजमान है, वो चोरी हो जाए तो सीधा अर्थ ये है कि हमारी शनि दशा चोरी हो गयी और हमे शनि के बुरे प्रभावों से शांति मिल गयी. इसीलिए शनिवार के दिन अगर आपके जुत्ते या चप्पल चोरी हो जाए तो दुखी ना हो बल्कि खुश हो जाएँ. शनि दशा से बचने का सबसे सरल उपाय भी यही है कि आप शनिवार के दिन शनि मंदिर में अपनी चप्पल या जुत्तों को छोड़ आये.

रुष्ट शनि देव के प्रभावों से बचने और ऐसे ही रोचक तथ्यों और उपायों के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेन्ट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
Stealing Shoe and Slippers on Saturday is Beneficial for You
Stealing Shoe and Slippers on Saturday is Beneficial for You

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT