इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Real Estate Service

Cat and Mouse Tale A Political Story - कभी मित्र कभी घोर शत्रु एक चूहे बिल्ली की कहानी Chuhe Billi ki Kahani

कभी मित्र कभी घोर शत्रु  एक चूहे बिल्ली की कहानी - Cat and Mouse Tale A Polotical Story - Chuhe Billi ki Kahani आजकल बहुत बड़ा भोचाल आ...

Batuk Bhairav Pooja Kaise Karen | बटुक भैरव पूजा कैसे करें | How To Do Batuk Bhairav Worship

बाधाओं से मुक्ति पाने के लिए बटुक भैरव की साधना कैसे करें -  
साधना का दिन - बटुक भैरव की साधना कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन से या किसी भी मंगलवार के दिन से शुरू करें.

साधना का समय – बटुक भैरव की साधना को करने के लिए रात्रि का समय उत्तम माना जाता हैं. बटुक भैरव की साधना रात्रि को 10.00 बजे के बाद ही प्रारम्भ करनी चाहिए.

साधक के वस्त्र – बटुक भैरव की साधना करने के लिए साधक को लाल रंग के वस्त्र धारण करना चाहिए तथा लाल रंग के आसन पर बैठकर पूजा करनी चाहिए. CLICK HERE FOR MORE SIMILAR POST ...
Batuk Bhairav  Pooja Kaise Karen
Batuk Bhairav  Pooja Kaise Karen 
पूजन की विधि –
1.       बटुक भैरव की पूजा का आरम्भ गुरुपूजन और गणेश पूजन से करें.

2.       गुरुपूजा और गणेश पूजा के समाप्त होने के बाद साधक अपने सामने भगवान बटुक भैरव की एक तस्वीर या मूर्ति को स्थापित कर लें.

3.       अब भगवान बटुक भैरव की सामान्य पूजा करें और अपने गुरुमंत्र का उच्चारण करें.

4.       अब बटुक भैरव की मूर्ति या तस्वीर के आगे एक तेल का दीपक जलायें. दीपक को जलाने के लिए आप किसी भी तेल का प्रयोग कर सकते हैं.

5.       दीपक जलाने के बाद साधक भगवान को भोग लगायें. भोग लगाने के लिए साधक दूध से बनी हुई मिठाई का ही केवल प्रयोग करें.

6.       इसके बाद साधक अपनी समस्याओं से निदान पाने के लिए बटुक भैरव से प्रार्थना करें. प्रार्थना करने के बाद निम्नलिखित मन्त्रों की 11 माला का जाप करें. CLICK HERE FOR MORE SIMILAR POST ...
बटुक भैरव पूजा कैसे करें
बटुक भैरव पूजा कैसे करें 
मन्त्र -  
ॐ क्रीं भ्रं बटुकाय आपदुद्धारणाय भ्रं क्रीं फट्

7.       जाप सम्पूर्ण होने के बाद साधक प्रसाद स्वयं ग्रहण करें. इस प्रसाद को किसी और को न दें. इस प्रसाद को केवल आप ही ग्रहण कर सकते हैं.

8.       बटुक भैरव की विधि पूर्वक पूजा लगातार 4 दिन तक करें.

9.       बटुक भैरव की पूजा करने के बाद माला का विसर्जन न करें. इस जाप की माला का प्रयोग साधक कई बार कर सकते हैं.

बटुक भैरव की पूजा करने से साधक को सारी परेशानियों से मुक्ति मिल जाती हैं. बटुक भैरव की पूजा भविष्य में आने वाली समस्याओं से बचने के लिए भी की जा सकती हैं. बिना किसी परेशानी के आये बटुक भैरव की पूजा करने से आप पर भैरव की कृपा हमेशा बनी रहती हैं.


इसी तरह अन्य कष्ट निवारण उपायों और पूजन विधियों को जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते है.
How To Do Batuk Bhairav Worship
How To Do Batuk Bhairav Worship
Batuk Bhairav  Pooja Kaise Karen, बटुक भैरव पूजा कैसे करें, How To Do Batuk Bhairav Worship, Batuk Bhairav Saadhna, Baadhaon se Mukti ka Din Smay Vastra, Batuk Bharirav Mantra, Guru Pujan, Batuk BhiravPujan, बटुक भैरव साधना करने की विधि.


YOU MAY ALSO LIKE  

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT