इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

MutraJalan ki Samasya ka Aayurvedic Upachar | मूत्रजलन की समस्या का आयुर्वेदिक उपचार

पेशाब में जलन होने की समस्या के लिए घरेलू उपचार (Home Remedies for in Burning Sensation of Urine)  
  
1.      पेशाब में जलन होने पर सबसे पहले प्रतिदिन खूब सारा पानी पियें. क्योंकि अधिकतर रोगी इस रोग से ग्रस्त होने पर पानी पीना बंद कर देते हैं. ऐसा बिल्कुल न करें. क्योंकि कम पानी से आपके शरीर में पानी की कमी हो जायेगी और पानी की कमी होने के कारण ही आपके शरीर में अन्य समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं तथा जिसके कारण आपके मूत्र में पीलापन आना शुरू हो जाता हैं. यदि आपको पेशाब करने के बाद भी जलन होती हैं तो यह सुनिश्चित हो जाता हैं कि आपका मूत्र पथ संक्रमित हैं. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT मूत्र में शर्करा की अधिकता का घरेलू देशी ईलाज ...
MutraJalan ki Samasya ka Aayurvedic Upachar
MutraJalan ki Samasya ka Aayurvedic Upachar 

2.      पेशाब में होने वाली जलन को दूर करने के लिए आप खट्टे फलों का सेवन कर सकते हैं. यदि आपको खट्टे फल न भाते हो तो आप ऐसे फलों का सेवन करें जिसमें सिट्रस एसिड की भरपूर मात्रा उपलब्ध होती हैं. क्योंकि सिट्रस एसिड मूत्र पथ के बैक्टीरिया को नष्ट करने के लिए बहुत ही उपयोगी माना जाता हैं.

3.यदि आप आमला के रस का सेवन करें तो भी आपको इस समस्या से छुटकारा मिल जाएगा.

4.इस रोग से छुटकारा पाने के लिए इलायची का चुर्ण लें और आंवले का चुर्ण लें. अब इन दोनों को एक गिलास पानी में घोल लें इसके बाद इस पानी का सेवन करें. आपको जल्द ही इस बीमारी से निजात मिल जायगा.

5.नारियल पानी डीहाइड्रेशन के लिए तथा पेशाब में जलन होने के रोग के लिए बहुत ही फायदेमंद होता हैं. इसीलिए आप इसका प्रयोग भी इस बीमारी में कर सकते हैं. नारियल का सादे पानी के साथ – साथ आप इसमें गुड़ तथा धनिया पाउडर डाल कर भी इस पानी का सेवन कर सकते हैं.  CLICK HERE TO READ MORE ABOUT पेशाब में जलना होने के कारण और लक्षण ...
मूत्रजलन की समस्या का आयुर्वेदिक उपचार
मूत्रजलन की समस्या का आयुर्वेदिक उपचार
6.यदि आप पलाश के सूखे या ताजे फूल को पानी के साथ पीस लें और इसमें कलमी शोरा मिला लें. इसके बाद इस लेप को अपनी नाभि के नीचे पेडू पर लगाने से 5 से 10 मिनट में खुलकर पेशाब आता हैं और आपको जल्द ही पेशाब में होने वाली जलन से छुटकारा मिल जाता हैं.

7.मूत्र में जलन हो तो आप एक और आसान उपाय भी आजमा सकते हैं. इस उपाय को करने के लिए आधा गिलास चावल का मांड लें और इसमें थोड़ी सी चीनी मिला लें. इसके बाद इसका सेवन करें आपको जल्द ही इस बीमारी से राहत मिल जायेगी.

8.अगर आप रोजाना दिन में दो बार अनार के जूस का सेवन करेंगे तो भी आपको इस रोग से हमेशा – हमेशा के लिए मुक्ति मिल जायेगी. इस रोग से पीड़ित होने पर आप फालसे का प्रयोग भी कर सकते हैं.

9.इस बीमारी से निजान पाने हेतु  5 बादाम की गिरी लें और इन्हें पानी में भिगों दें. अब सात छोटी इलायची लें और कुछ मिश्री के दाने लें. अब इन दोनों को अच्छी तरह से पीसकर एक गिलास पानी में मिला लें इसके बाद इस पानी का सेवन करें. आपको पेशाब में जलन होने की परेशानी से राहत मिल जायेगी.

10.      एक गिलास पानी लें और इस पानी को किसी बर्तन में डालकर रख दें. इसके बाद इस पानी में एक चम्मच धनिया पाउडर मिला लें और इस पानी को रातभर ऐसे ही रहने दें. अगले दिन उठकर इस पानी में को छान लें और इसमें थोडा सा गुड़ और चीनी मिलाने के बाद इस पानी को पी लें. आपको जल्द ही इस रोग से छुटकारा मिल जाएगा.

11.   यदि आपकी किडनी में पथरी हो गई हैं तो मूत्र में जलन होना स्वाभाविक हैं. लेकिन इस स्थिति में भी इस जलन से राहत पाने के लिए आप एक उपाय कर सकते हैं. पथरी की बीमारी के होने पर यदि पेशाब में जलन हो तो इसके लिए सर्वश्रेष्ठ औषधि के रूप में बियर काम करती हैं. इसलिए इसका सेवन दिन में एक बार नारियल पानी के साथ अवश्य करें. बियर के साथ नारियल का पानी मिलाकर पीने से आपको इस समस्या से निजात तो मिल ही जायेगी. इसके साथ ही आपकी किडनी की पथरी भी धीरे – धीरे गल कर मूत्र मार्ग से निकल जायेगी.

12.    पेशाब में जलन होने पर इस रोग से जल्द – से जल्द छुटकारा पाने एक लिए ताजे मक्के के भुट्टे लें और एक गिलास पानी लें. अब एक बर्तन में इस पानी को डालकर इसे उबाल लें. उबालने के बाद इस पानी को छान लें और इसमें एक चम्मच चीनी मिला लें. इसके बाद इस पानी का सेवन करें. प्रतिदिन इस पानी का सेवन करने पर आपको जल्द ही रोग से मुक्ति मिल जायेगी.
Mutramarg  Or Tantra ki Jalan
Mutramarg  Or Tantra ki Jalan
13.  पेशाब में जलन होने की बिमारी से निजात पाने के लिए आप कच्चे दूध में पानी मिलाकर भी पी सकते हैं. इसके अलावा यदि आप अपनी नाभि के नीचे ठन्डे पानी में या बर्फ के पानी में कपडे को भिगोकर अधिक से अधिक देर तक रखें. आपको इन दोनों ही उपायों से बहुत ही लाभ मिलेगा.

14.        इस बिमारी से छुटकारा पाने के लिए कलमी शोरा लें, बड़ी इलायची के दाने लें, मिलाई निकला हुआ ठंडा दूध लें और थोडा पानी लें. अब कलमी शोरा और बड़ी इलायची के दानों को पीसकर महीन चुर्ण बना लें. चुर्ण बनाने के बाद एक शीशी लें और उसमें इस चुर्ण को भर दें. अब एक बर्तन लें और उसमें 300 ग्राम की मात्रा में एक समान ठंडा पानी और दूध डालकर अच्छी तरह से मिला लें. अब इस दूध को पी लें और चुर्ण को इसके साथ फांक लें. इसी प्रकार 5 – 6 दिनों तक लगातार दिन में तीन बार इस प्रकार  दूध पीने के बाद चुर्ण फांक लें. इसे आपकी पेशाब में जलन होने वाली परेशानी तो जल्द दूर होगी ही इसके साथ ही यदि आपको पित्त विकार की परेशानी हो या मुंह में चाले हो गये हो तो वह भी ठीक हो जायेंगे. यदि आप इस उपाय को ठंड के मौसम में कर रहें हैं तो दूध में थोडा गुनगुना पानी मिला कर फिर फेटें.


15. ककड़ी एक ग्रीष्म कालीन पदार्थ हैं. जिसमें कई सारे गुण भरे हुए हैं. इसी गर्मी के मौसम में लोग खाना इसलिए करते हैं क्योंकि यह बेहद ही पाचक और शीतल होता हैं. ककड़ी को खाने से एक लाभ यह होता हैं कि इसी खाने के बाद खुलकर पेशाब आता हैं. ककड़ी के बीजों में स्टार्च, तेल, शर्करा तथा राल की मात्रा भी पाई जाती हैं. ककड़ी में कुछ क्षारीय तत्व भी पाए जाते हैं. ककड़ी में स्थित यह क्षारीय तत्व मूत्र संस्थान की कार्यप्रणाली को सुचारू रूप से चलाने के लिए बहुत ही मददगार साबित होती हैं. इसके साथ ही इसका सेवन करने से पेशाब में जलन होने वाली बीमारी भी ख़त्म हो जाती हैं. यदि किसी व्यक्ति को अक्सर बदहजमी की दिक्कत रहती हैं तो उस व्यक्ति के लिए ककड़ी के बीजों से बेहतर और कोई भी खाद्य पदार्थ नहीं हैं. यदि आप बदहजमी की समस्या से निजात पाने के लिए ककड़ी के बीजों का प्रयोग करना चाहते हैं तो 8 या 10 ककड़ी के बीज लें और उन्हें मट्ठे के साथ पी लें. लेकिन ध्यान रखें कि मट्ठे का सेवन करने के आधे घंटे बाद तक किसी प्रकार का पेय पदार्थ न पिए. आपको जल्द ही बदहजमी से छुटकारा मिल जाएगा.

16.   अगर आप मूत्र में जलन होने की समस्या से अधिक परेशान हैं. तो इस समस्या से राहत पाने के लिए सुबह और शाम को एक – एक चम्मच पीसी हुई हल्दी को खाएं. आपको अत्यंत लाभ मिलेगा.
Mutrashya Prdah Rog ka Ilaaj
Mutrashya Prdah Rog ka Ilaaj 

17.  पेशाब में जलन होने पर तीन चम्मच आंवले का रस पानी में मिलाकर लगातार 7 या 8 दिन तक पीयें आपको जल्द ही इस रस का प्रभाव नजर आयेगा.

18. यदि आप इस बीमारी से पीड़ित हैं तो आप रोजाना केवल केला खाकर भी इस बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं. इसके अलावा आंवले का रस पानी में मिलाकर उसके साथ केला खाएं तो भी आपको जल्द ही इस रोग से निजात मिल जाएगा.

पेशाब में जलन डायबिटीज बहुमूत्र रोग के अन्य उपायों के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हैं.

 
Peshab Mein Jalan Hone par Aajmayen Ye Ghreloo Aushdhiy Nuskhen
Peshab Mein Jalan Hone par Aajmayen Ye Ghreloo Aushdhiy Nuskhen
MutraJalan ki Samasya ka Aayurvedic Upachar, मूत्रजलन की समस्या का आयुर्वेदिक उपचार

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

1 comment:

  1. hamari Mother ko diabetes bhi h aur Blad Pasher bhi h aur phishab may jalan 10 day say ho rhi h madicine bhi le lakin koi fayda nhi janch bhi hui lakin sab normal h.btay kya kare please please

    ReplyDelete

ALL TIME HOT