इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Mutra Mein Sharkra ka Deshi Gharelu Ilaaj | मूत्र में शर्करा की अधिकता का घरेलू देशी ईलाज

मूत्र में शर्करा की अधिकता
1.                  बहुमूत्र (Diabetes Insipidus) यदि किसी व्यक्ति को थोड़ी – थोड़ी देर में मूत्र आता हैं तो उस व्यक्ति को सेब का सेवन प्रतिदिन करना चाहिए.

2.                  बहुमूत्र से पीड़ित व्यक्ति यदि रात के समय पालक की सब्जी खाकर सोये तो उसे शीघ्र ही बहुमूत्र की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT बहुमूत्र रोग के कारण लक्षण ...
Mutra Mein Sharkra ka Deshi Gharelu Ilaaj
Mutra Mein Sharkra ka Deshi Gharelu Ilaaj

3.                  बहुमूत्र की बीमारी को दूर करने के लिए एक छटांक भुने हुए या सिकें हुए चने लें और उन्हें खाकर थोड़ा सा गुड़ खा लें. 10 से 12 दिनों तक लगातार चने के साथ गुड़ का सेवन करने से बार – बार पेशाब आने की बीमारी ठीक हो जायेगी. यदि किसी वृद्ध व्यक्ति को यह समस्या हैं तो उस व्यक्ति को अधिक दिनों तक रोजाना इन दोनों पदार्थों का सेवन करना चाहिए.

4.                  बार – बार पेशाब आने के रोग से पीड़ित व्यक्ति को रोजाना 250 ग्राम गाजर का रस पीना चाहिए. यदि किसी व्यक्ति के मूत्र का रंग पिला हो तो उसे इस रोग से छुटकारा पाने के लिए शहतूत का सेवन करना चाहिए.

5.                  अगर किसी व्यक्ति को दिन में बार – बार पेशाब आता हो तथा इसके साथ ही उसका गला भी बार – बार सुखता हो और अधिक प्यास लगें. तो ऐसी स्थिति में 10 ग्राम पीसी हुई हल्दी लें और रोजाना इसे एक गिलास पानी के साथ फांक लें. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT  मधुमेह एक भयंकर रोग ...
मूत्र में शर्करा की अधिकता का घरेलू देशी ईलाज
मूत्र में शर्करा की अधिकता का घरेलू देशी ईलाज

6.                  बहुमूत्र की समस्या से निजात पाने के लिए एक कप पानी अच्छी तरह से गर्म कर लें. अब इस पानी में से आधा कप पानी अलग कर लें और आधे कप पानी में गुलाबी रंग के तीन सदाबहार फूल डाल दें. अब इस पानी को दुबारा उबालने के लिए रख दें और करीब पांच मिनट तक इस पानी को उबालें. अब इस पानी में से फूलों को निकाल कर फेंक दें और पानी को छान कर पी लें. लगातार 7 दिन तक इस पानी का सेवन करने के बाद आधा कप गर्म पानी पी लें. आपको इस परेशानी से अवश्य ही मुक्ति मिल जायेगी.

7.                  गुर्दे की बीमारी (Liver Disease) अगर कोई व्यक्ति गुर्दे से सम्बन्धित रोग से पीड़ित हैं. जिसके कारण उसे पेशाब न आता हो तो इसके लिए उसे रोजाना 2 ओंस मूली का रस पीना चाहिए. मूली के रस को पीने से सामान्य रूप से पेशाब आना शुरू हो जाएगा.
Bahumutr ke Rog ke Liye Ghareloo Chikitsa
Bahumutr ke Rog ke Liye Ghareloo Chikitsa
8.                  जिन व्यक्तियों को पेशाब रुक – रुक कर आता हो या बिल्कुल न आता हो तो वह इस बीमारी से राहत पाने के नींबू के बीजों को लें और उन्हें पीसकर अपनी नाभि पर रख लें और इसके बाद नाभि पर ठंडा पानी डालें. उसे लाभ मिलेगा.  
    
9.                  पेशाब न होने की परेशानी के निदान हेतु जीरा लें और थोड़ी चीनी लें. अब इन दोनों को मिलाकर खूब बारीकी से पीस लें. इसके बाद इस चुर्ण को 2 चम्मच की मात्रा में लें और फांक लें. आपको पेशाब खुलकर आएगा.
10.          मूत्र न आने की स्थिति में केले का रस चार चम्मच लें, घी दो चम्मच लें. अब इन दोनों को एक साथ मिलाकर दिन में दो बार सुबह और शाम को पियें.

11.          मूत्र में शर्करा की अधिकता – यदि आपको डायबिटीज की बीमारी हैं जिसके कारण आपके मूत्र में शर्करा की मात्रा अधिक हो तो इस परेशानी को दूर करने के लिए आधा चम्मच जामुन का चुर्ण लें और एक गिलास पानी लें. अब इस चुर्ण को पानी के साथ फांक लें. इसके अलावा यदि आप जामुन की गुठली को तथा करेले को सुखाकर इन दोनों को एक साथ पीसकर खूब बारीक़ चुर्ण बना लें और इस चुर्ण का सेवन सुबह और शाम को दो बार एक – एक चम्मच की मात्रा में करें. तो आपको इस रोग से छुटकारा मिल जाएगा.

12.          डायबिटीज के रोग से ग्रस्त व्यक्ति भिंडी की डॉड का भी प्रयोग कर इस बीमारी से मुक्त हो सकता हैं. इसके लिए लिए कुछ भिंडी लें और उनकी डॉड काट लें. अब इन डॉडों को छाया में सुखा लें. जब ये अच्छी तरह से सुख जाएँ तो इन्हें मैदा की छलनी से छान लें. छानने के बाद इसमें चीनी मिला लें और रोजाना सुबह खाली पेट इसके आधे चम्मच चुर्ण का सेवन करें. इस चुर्ण का सेवन करने से आपको डायबिटीज के रोग में बहुत ही आराम मिलेगा.

डायबिटीज बहुमूत्र रोग के अन्य उपायों के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हैं.

Sharkra ki Matra ko kam Kaise Karen
Sharkra ki Matra ko kam Kaise Karen  


Mutra Mein Sharkra ka Deshi Gharelu Ilaaj, मूत्र में शर्करा की अधिकता का घरेलू देशी ईलाज, बहुमूत्र, मूत्र में शर्करा की अधिकता मात्रा, Bahumutr ke Rog ke Liye Ghareloo Chikitsa, Madhumeh ka Upchar, Sharkra ki Matra ko kam Kaise Karen.



YOU MAY ALSO LIKE  
- देवी सावित्री का ब्रह्मा जी को अभिशाप

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

2 comments:

  1. Bar bar peshab aana aur muter marg main jalan hona female. Aise leg raha hai ki peshab aa raha hai

    ReplyDelete
  2. Peshab main jalan hona aur bar bar dard ke saath peshab aana.

    ReplyDelete

ALL TIME HOT