इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Raashi or Kundali mein Mangal | राशी और कुंडली में मंगल | Astrological Mangal in Horoscope and Zodiac

मंगल ग्रह को जानें
ज्योतिष शास्त्र में लाल किताब के अनुसार मंगल के दो रूपों का बखान किया गया है जिनमे एक है शुभ व दूसरा है अशुभ. शुभ मंगल में हनुमान जी को इस ग्रह का देवता माना जाता है जबकि अशुभ मंगल में इस ग्रह के देव भूत व पिशाच माने जाते हैं. विवाह के काल में आने वाली समस्त समस्याएं मंगल की देन हैं. CLICK HERE TO KNOW सभी ग्रहों के लिए रत्न विज्ञान ...
Raashi or Kundali mein Mangal
Raashi or Kundali mein Mangal
·     कुंडली में क्या है मंगल की स्तिथि :
यदि कुंडली में मंगल विपरीत स्तिथि में हो तो आपको अनेक प्रकार की मानसिक व शारीरिक पीडाओं का सामना करना पड़ सकता है. कहते हैं कि मंगल ग्रह यूं तो पराक्रमी है पर स्वभाव से अहंकारी है, यदि ये बौद्धिक राशि में हो तो समझने लगता है कि गुरु की अपेक्षा मैं अधिक जानता हूँ.

·     मंगल बिगड़ता है शनि से :
शनि के साथ मंगल का किसी भी प्रकार का योग होने से शनि बिगड़ जाता है. शनि के साथ कोई भी योग होने से भयंकर अपघात जैसी स्तिथियाँ भी मंगल की वजह से उत्पन्न होने का ख़तरा रहता है. शनि आपकी कुंडली में अधिक रहता है जबकि मंगल बहुत कम.

मंगल के इन राशियों में सामान्य होने से मिलता है विशेष फल :
मिथुन का मंगल प्रबल वाणी देता है व आपको स्वाभिमानी बनाता है. तुला राशी का मंगल आपके अन्तः करण को स्फूर्ति देता है. बौद्धिक राशि में आते ही मंगल समझने लगता है कि गुरु की अपेक्षा मैं अधिक जानता हूँ. पंचम या लाभ में मंगल क्रूर नक्षत्र में हो तो गर्भपात करा देता है. CLICK HERE TO KNOW ग्रह शान्ति के ज्योतिषी उपाय ...
राशी और कुंडली में मंगल
राशी और कुंडली में मंगल
मंगल का हमारी ज़िन्दगी में रिश्तों पर प्रभाव :
मंगल के हमारी कुंडली में किसी भी घर में बैठा होने पर हमारी ज़िन्दगी में कई रिश्तों पर असर पड़ सकता है. आइये जानते हैं मंगल ग्रह के हमारी कुंडली में किस घर में बैठा होने से किस रिश्ते पर प्रभाव पड़ता है.

1.         प्रथम घर में मंगल की वस्तुयें हैं दांत, सफेद अनाज की रोटी इत्यादि. मंगल के इस घर में होने से हमारा हमारे भाई के साथ रिश्ता खराब हो सकता है.

2.         दुसरे घर में मंगल की वस्तुएं हैं चिंता व मृग और इस घर में मंगल के होने से हमारा हमारे बड़े भाई के साथ रिश्ता खराब हो सकता है.

3.         तीसरे घर में मंगल की वस्तुएं हैं पेट, होंठ व छाती. इस घर में मंगल के होने से हमारा हमारे पिता के बड़े भाई यानि हमारे ताऊ के साथ हमारा रिश्ता खराब हो सकता है.

4.         चौथे घर में मंगल की वस्तुएं हैं तलवार व डेक का वृक्ष. इस घर में मंगल के होने से हमारा हमारे मामा के साथ हमारा रिश्ता खराब हो सकता है.
Astrological Mangal in Horoscope and Zodiac
Astrological Mangal in Horoscope and Zodiac
5.         पांचवें घर में मंगल के होने से हमारा हमारे मित्र के साथ हमारा रिश्ता खराब हो सकता है. इस घर में मंगल के अधीन वस्तुएं हैं हमारा भाई व नीम का वृक्ष.

6.         छठे घर में मंगल के होने से हमारा हमारे बेहनोई (जीजा) के साथ हमारा रिश्ता खराब हो सकता है. इस घर में मंगल के अधीन वस्तुएं हैं नाभि व छछून्दर.

7.         सातवें घर में मंगल के होने से हमारा हमारे बड़े भाई या साले के साथ हमारा रिश्ता खराब हो सकता है. इस घर में मंगल के अधीन वस्तुएं हैं वृक्ष, फलदार पौधे, बेलें, लताएं.

8.         आठवें घर में मंगल के होने से छोटे भाइयों के लिए जो दुष्ट भाई हो उसके साथ उनका रिश्ता खराब हो सकता है. इस घर में मंगल के अधीन वस्तुएं हैं बिना बाहों का शरीर.

9.         नौवें घर में मंगल के होने से दादा के भाई के साथ हमारा रिश्ता ख़राब हो सकता है. इस घर में मंगल के अधीन वस्तु है लाल रंग.
मंगल ग्रह को जाने
मंगल ग्रह को जाने
10.      दसवें घर में होने से पिता के धर्म भाई के साथ हमारे सम्बन्ध खराब हो सकते हैं. इस घर में मंगल के अधीन वस्तुएं हैं देशी खांड, शहद व मीठा भोजन.

11.      ग्यारहवें घर में होने से पिता के दिखावे के भाई के साथ हमारा सम्बन्ध खराब हो सकता है. इस घर में मंगल के अधीन वस्तु है लाल रंग का सिन्दूर.

12.      बारहवें घर में होने से बड़े भाई के खून के प्यासे भाई के साथ हमारा सम्बन्ध खराब हो सकता है. इस घर में मंगल के अधीन वस्तु है ऊंची आवाज अथवा सुर.


मंगल ग्रह के कुंडली, राशि और 12 घरों में शुभ अशुभ प्रभाव, उनके परिणामों को जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट कर जानकारी हासिल कर सकते हो.
Mangal Prakrami ya Ahankaari
Mangal Prakrami ya Ahankaari
Raashi or Kundali mein Mangal, राशी और कुंडली में मंगल, Astrological Mangal in Horoscope and Zodiac, मंगल ग्रह को जाने, Mangal Grah ko Jaane, Mangal Grah ke 2 Roop, Shubh or Ashubh Mangal, Mangal ka 12 Gharon mein Prabhav, Mangal Prakrami ya Ahankaari




YOU MAY ALSO LIKE  
-  राशी और कुंडली में मंगल
ज्योतिषशास्त्र में ऋण की परिभाषा

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

2 comments:

  1. dob-10/9/1967 time-11.50am place- chandwak, utter Pradesh name- shailesh kumar singh
    kundali ke dwara upay.

    ReplyDelete
  2. Mangal aathve Ghar me hai
    Uski shanti k upay bataye please
    Arun
    15/11/1985
    13:10 time

    ReplyDelete

ALL TIME HOT