इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Aankhon ki Kshmta Kam Hone par Prakratik Upchar | आँखों की क्षमता कम होने पर प्राकृतिक उपचार | Natural Treatment to Improve Weak Eyes

दृष्टिदोष दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार ( Home Aayurvedic Remedies to Cure Eye Problems )
आँखें शरीर के उन ख़ास अंगों में से एक है जिसमें विकृति आने पर जीवन अधुरा प्रतीत होने लगता है, इस बात को जानते हुए भी व्यक्ति अपनी आँखों की देखभाल नहीं करते और यही कारण है कि आज लगभग हर तीसरे व्यक्ति की आँखों पर नजर का चश्मा देखा जा सकता है किन्तु आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलू प्राकृतिक उपायों से परिचित कराने जा रहे है जो आपकी इस समस्या को पल भर में छूमंतर कर सकते है. CLICK HERE TO KNOW दृष्टिदोष होने के कारण और लक्षण ... 
Aankhon ki Kshmta Kam Hone par Prakratik Upchar
Aankhon ki Kshmta Kam Hone par Prakratik Upchar
·         बिना पका हुआ भोजन खाएं ( Eat Uncooked Food ) : रोगी को बिना पका हुआ खाना खिलाएं क्योकि बिना पके हुए खाने में विटामिन ऐ, बी और सी की प्रचुर मात्रा पायी जाती है. बिना पके हुए खाने में आप उन्हें अंकुरित चने, हरी सब्जी, सलाद, दूध, दही, फल, चने और मुंग की दाल व गेहूं इत्यादि दे सकते हो.

·         मुनक्का और किशमिश ( Raisins ) : अगर दृष्टिदोष अधिक है तो पीड़ित को रात के समय कुछ मुनक्का, खजूर, अंजीर, छुहारे और किशमिश पानी में भीगने के लिए डालनी है, अगले दिन तक वे फूलकर मोटी हो चुकी होंगी, तो उन्हें पानी से निकालकर सुबह ही चबा चबाकर खा जाएँ, जल्द ही आराम मिलेगा.

·         गाजर और आंवला ( Carrot and Amla ) : आप रोजाना गाजर व आंवले के रस को मिलाकर पियें, कुछ ही दिनों में आपको प्रभाव नजर आने लगेगा.

·         पालक और गाजर ( Spinach and Amla ) : वहीँ रतौंधी अर्थात रात के समय ना दिखने के रोग से परेशान रोगियों को गाजर के जूस में पालक का रस मिलाकर पीने से लाभ मिलता है.

·         संतरा, अंगूर व पत्तागोभी ( Orange Grapes and Cabbage ) : इनके अलावा आप संतरे, पत्ता गोभी और अंगूर के रस को भी मिलाकर पी सकते हो. CLICK HERE TO KNOW नेत्रज्योति वृद्धि के लिए ... 
आँखों की क्षमता कम होने पर प्राकृतिक उपचार
आँखों की क्षमता कम होने पर प्राकृतिक उपचार
·         गाय का दूध, बादाम और कालीमिर्च ( Cow Milk Almond and Black Pepper ) : नजर सम्बन्धी सभी रोगों के उपचार के लिए एक ख़ास उपाय है जिसके अनुसार आप प्रातःकाल गाय का दूध लें और उसमें पिसे हुए बादाम व कालीमिर्च डालने. इन्हें अच्छी तरह मिलाएं और पी जाएँ.

·         सूरज की धुप ( Sun Light ) : आँखों की मसाज के लिए आप रोजाना प्रातःकाल जब सूरज निकल रहा हो उस वक़्त आँखें बंद कर सूरज की किरणों को अपनी आँखों पर पड़ने दें. सुरज की जीवनदायनी किरणें अवश्य आपकी आँखों का उपचार करती है.

·         घास पर चलें ( Walk Bare Footed on Green Grass ) : जब भी बात आँखों की रौशनी बढाने की होती है तो हर बुजुर्ग व्यक्ति पहली सलाह यही देता है कि प्रातःकाल सैर पर जाएँ और उसके बाद घासों पर नंगे पैर चले. उनकी ये सलाह बहुत पहले से चली आ रही है और वे अपने अनुभव के कारण ही ये उपाय बताते है, विज्ञान भी मानता है कि इस तरह नंगे पैर घास पर चलने से शरीर में कुछ ऐसे परिवर्तन होते है जो आँखों की रौशनी को बढाते है.

·         तेल मालिश ( Oil Massage ) : पीड़ित व्यक्ति को रोजाना अपने पैरों की मालिश करनी चाहियें, खासतौर से अपने पैरों के अंगूठों पर तेल अवश्य लगाएं.
Natural Treatment to Improve Weak Eyes
Natural Treatment to Improve Weak Eyes
·         आँखों की रौशनी बढाने के लिए व्यायाम ( Exercise to Improve Eyesight ) : जब भी आप व्यायाम करें अपनी आँखों को कसकर बंद कर लें, कुछ देर इसी तरह रहें फिर आँखों को धीरे धीरे खोलें. आँखों का ये व्यायाम आप दिन में किसी भी वक़्त कर सकते हो.

एक अन्य व्यायाम के अनुसार सबसे पहले अपनी गर्दन और सिर को सीधा करें और बिलकुल सामने देखें, इसके बाद गर्दन को दाई तरफ घुमाकर देखें, फिर बायीं तरह, अब कुछ देर आकाश की तरफ देंखें और अंत में जमीन की तरह. आँखों की रौशनी को बढाने के लिए इस व्यायाम को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है.

·         नेत्र ज्योति जल ( Water to Cure Eye Problems ) : व्यक्ति उन सभी कारणों को ध्यान में रखें जिनसे दृष्टिदोष होते है जैसेकि टीवी देखना, बारीक काम करना इत्यादि. इसके साथ साथ रोजाना आँखों में नेत्रज्योति जल भी अवश्य डालें. अगर आपके पास नेत्र ज्योति जल नहीं है तो कोई बात नहीं क्योकि इसे बनाने की विधि निम्नलिखित है.
नेत्र ज्योति जल बनाने की विधि
नेत्र ज्योति जल बनाने की विधि
नेत्र ज्योति जल बनाने की विधि ( How to Prepare Netra Jyoti Jal / Water to Improve Eyesight ) :
§  सामग्री ( Material Required ) :
-    5 ग्राम : अदरक का रस

-    5 ग्राम : प्याज का रस

-    5 ग्राम : नीम्बू का रस

-    50 ग्राम : शहद

§  विधि ( Process ) :
नेत्र ज्योति जल बनाने के लिए सबसे पहले आपको उपरलिखित सामग्री को एक कटोरे में मिलाना है, फिर उसे एक शीशी में भरें और फ्रीज में रख दें. इस जल को अधिक से अधिक सिर्फ 1 माह तक ही प्रयोग में लायें क्योकि उसके बाद ये खराब हो जाता है.

आँखों की रौशनी को बढाने के अन्य घरेलू प्राकृतिक उपचारों के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
Drishti Dosh Dur Karne ke Khaas Vyaayam
Drishti Dosh Dur Karne ke Khaas Vyaayam

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT