इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Har Kisi ke Jivan mein Jruri Pavitra 16 Sanskar | हर किसी के जीवन में जरूरी पवित्र 16 संस्कार | Important Sacred 16 Rites in Everyone’s Life

मनुष्य जीवन के 16 संस्कार ( 16 Rituals of Human Life )
शास्त्रों के अनुसार मनुष्य जीवन को निर्वाह करने के लिए आवश्यक नियम बनाए गए हैं, जिनका पालन करना हर मनुष्य के लिए आवश्यक माना गया हैये नियम संस्कार के रूप में जाने जाते हैये संस्कार मनुष्य के जन्म से लेकर मृत्यु तक अलग अलग समय पर किये जाते हैंसंस्कार का अर्थ शुद्धिकरण माना गया हैशरीर के उत्थान के लिए ऋषियों ने संस्कार का प्रावधान किया हैसनातन धर्म के अनुसार हमे अपने जीवन में 16 संस्कारों को अपनाना होता है. इन संस्कारों को करने का मूल अर्थ यह है कि मनुष्य ने पिछले जन्म में जो पाप किये हैंउनका प्रभाव इस जन्म में न पड़ेसाथ ही इन सोलह संस्कारों को पूरा करके हम अपने इस जन्म को बेहतर बना सकते हैं. CLICK HERE TO KNOW मांग में सिंदूर क्यों भरती है सुहागन ...
Har Kisi ke Jivan mein Jruri Pavitra 16 Sanskar
Har Kisi ke Jivan mein Jruri Pavitra 16 Sanskar
अगर ईश्वर खुद मृत्यु लोक में अवतार लेते है तो उन्हें भी इन संस्कारों का पालन करना पड़ा थाऋषि वशिष्ठ ने भगवान राम के तो ऋषि संदीपनी जी ने श्री कृष्ण के सभी संस्कारों को पूर्ण करने में अहम योगदान दिया था. ये संस्कार हमें समाज के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने की सीख देते हैंसदियों से संस्कारों का पालन करने का नियम चला आ रहा हैइन संस्कारों का अपना ही एक महत्त्व हैइन संस्कारों का निर्वाहन न करने वालों का जीवन पूरा नही माना जाता है.

कुछ ऐसे लेख है जहाँ 48 संस्कारों का वर्णन है तो महर्षि अंगीरा के अनुसार 25 संस्कार उल्लेखित किये गए है किन्तु महर्षि मुनि वेद व्यास द्वारा रचित स्मृति शास्त्र में 16 संस्कारों का ही वर्णन किया गया है और वे निम्नलिखित है.  

सोलह संस्कार ( 16 Rituals ) :
  • गर्भाधान संस्कार ( Garbhadhan ) सभी माता पिता की यह इच्छा होती है कि उनकी होने वाली संतान संस्कारी और जीवन भर खुशहाल रहेगर्भाधान संस्कार ऐसा संस्कार है जिससे हमें योग्य, गुणकारी, आदर्श और सदा खुशहाल रहने वाली संतान प्राप्त होती है. शास्त्रों के अनुसार मनचाही संतान के लिए गर्भधारण संस्कार को अपनाना पड़ता है. गृहस्थ जीवन में प्रवेश करने के बाद पहले कर्तव्य के रूप में गर्भाधान संस्कार को पहली मान्यता दी गई है जिसमें दंपति का मुख्य उद्देश्य संतान को जन्म देना होता है. उत्तम संतान प्राप्ति के लिए माता -पिता को गर्भाधान के लिए अपने तन और मन की पवित्रता बनाये रखने की आवश्यकता होती है. CLICK HERE TO KNOW क्यों दान दिया जाता है मृतक का सामान व बिस्तर ...
हर किसी के जीवन में जरूरी पवित्र 16 संस्कार
हर किसी के जीवन में जरूरी पवित्र 16 संस्कार
  • पुंसवन संस्कार ( Pumsvan ) : जब गर्भ ठहर जाये तब माता के चारों तरफ के वातावरण को महिला के अनुसार ही रखना चाहिएगर्भावस्था के दौरान महिला का व्यवहार थोड़ा चिड़चिड़ा हो जाता हैमहिला के खान पान, आचारसोच विचार, बोल चाल, चिंतन, और भाव इत्यादि सभी को संतुलित बनाने की व्यवस्था की जानी चाहिए. गर्भ ठहरने के तीसरे माह में विधिवत माता - पिता को पुंसवन संस्कार करना होता हैउन्हें यह समझाया जाता है कि किस तरह से इस स्नास्कर को अपनाया जाता हैउनसे यह संकल्प करवाया जाता है कि शारीरिक, मानसिक दृष्टि से परिपूर्ण हो जाने के बाद उन्हें अपना वंश आगे बढना है और एक सुन्दर सुशील और तेजस्वी संतान को जन्म देना है. यह संस्कार गर्भस्थ शिशु के मानसिक विकास की दृष्टि से मुख्य माना जाता है. इस संस्कार को शुभ नक्षत्र में सम्पन्न किया जाना बहुत जरूरी है. पुंसवन संस्कार का उद्देश्य स्वस्थआदर्शगुणकारी एवं उत्तम संतान को जन्म देना है.

  • सीमन्तोन्नयन संस्कार ( Seemantonayan ) सीमन्तोन्नयन को सीमन्तकरण या सीमन्त संस्कार के नाम से भी जाना जाता है, साथ ही इसका अर्थ है सौभाग्यवान संतान की प्राप्तिसीमन्त संस्कार का मुख्य उद्देश्य यह है गर्भपात रोकना और शिशु की रक्षा करना हैयह संस्कार गर्भ धारण के छठे से आठवे महीने में किया जाता है. इस संस्कार में गर्भस्थ महिला का मन खुश रखना चाहिए इसके लिए शादीशुदा महिलाएं गर्भस्थ महिला की मांग भरती है.
Important Sacred 16 Rites in Everyone’s Life
Important Sacred 16 Rites in Everyone’s Life
  • जातकर्म संस्कार ( Jatakarma ) जातकर्म संस्कार नवजात शिशु के नालच्छेदन से पहले किया जाता हैसंसार में आने वाले बालक को मेधा, बल एवं दीर्घायु के लिये गुरु मंत्र के साथ स्वर्णप्राशन कराया जाता है. दो बूंद घी तथा पाँच बूंद शहद का मिश्रण चटाने के बाद पिता प्रार्थना करते हैं कि उनका बालक बुद्धिमान होने के साथ साथ ताकतवर, स्वस्थ और लम्बी उम्र वाला हो.

  • नामकरण संस्कार ( Nama – Karana ) : बालक के जन्म के बाद सबसे पहले जिस संस्कार को अपनाया जाता है वोनामकरण कहलाता है. देखा जाये तो जन्म के बाद पहले जातकर्म संस्कार को अपनाया जाता है, किन्तु आज की बदली जीवनशैली और सोच में जातकर्म संस्कार को कम ही अपनाया जाता हैनामकरण संस्कार को इसके नाम से ही जाना जाता है क्योकि इसमें जन्मे शिशु का नाम रखा जाता हैउस बालक को एक नाम दिया जाता है जिससे उसकी पहचान बने.

  • निष्क्रमण संस्कार ( Nishkramana ) : निष्क्रमण संस्कार का अर्थ है कि शिशु का बाहर निकलनानिष्क्रमण संस्कार में सूर्य और चंद्रमा की रोशनी में शिशु को पहली बार घर से बाहर निकलने का विधान है. इस संस्कार के पीछे शिशु को तेजस्वी और दिल का नर्म बनाने की सोच निहित होता हैसूर्य और चंद्रमा की रौशनी में पहली बार शिशु बाहर निकलकर देवी - देवताओं के दर्शन कर उनसे आशीर्वाद प्राप्त करता हैदेवी देवता शिशु को दीर्घ आयु होने व यशस्वी जीवन का आशीर्वाद देते हैं.
सनातन परम्परा के सोलह संस्कार
सनातन परम्परा के सोलह संस्कार
  • अन्नप्राशन संस्कार ( Annaprashana ) अन्नप्राशन संस्कार में शिशु को तरल पदार्थ के अलावा अन्न अथवा भोजन देना शुरू कर दिया जाता हैअन्नप्राशन तब शुरू किया जाता है जब बालक के दांत निकलने शुरू हो जाते हैंदांत निकलने के बाद न सिर्फ उसे पीने बल्कि खाने के भी अनेक पदार्थ दिए जाते है.

  • मुंडन संस्कार ( Chudakarna or Mundan ) : शिशु के सिर से बालों को जब पहली बार उतारा जाता है तो इस संस्कार को मुंडन संस्कार कहा जाता है. सनातन धर्म में यह प्रचलित है कि बालक की आयु एक वर्ष से पाँच वर्ष होने तक शिशु का मुंडन अवश्य करा लेना चाहिए.

  • विद्यारम्भ संस्कार ( Vedarambha ) : मुंडन संस्कार के बाद अगले संस्कार में विद्यारम्भ संस्कार को अपनाया जाता है. जब शिशु की उम्र शिक्षा प्राप्त करने लायक हो जाये तब विद्यारम्भ संस्कार प्रारंभ कर देना चाहिएइस संस्कार में एक समारोह का आयोजन किया जाता हैताकि बच्चे में शिक्षा के प्रति जागरूकता लायी जा सकेबच्चे के माता - पिता को भी उनके कर्मों के प्रति समझाया जाता हैविद्या किसी भी बच्चे की उन्नति का साधन हैविद्यारम्भ संस्कार को शुभ मुहर्त में करना चाहिए.
Solah Sanksar Kyo Banaye Gaye
Solah Sanksar Kyo Banaye Gaye
  • कर्णवेध संस्कार ( Karn - Vedha ) : कर्णवेध संस्कार के पीछे तो एक वैज्ञानिक आधार भी हैकर्णवेध संस्कार का मूल उद्देश्य बालक की शारीरिक कठिनाइयों से रक्षा करना हैकर्णवेध संस्कार में कानों को आभूषण पहनने के लिए छेदा जाता हैजिससे सौन्दर्यबोध होता है. कान हमारे श्रवण द्वार हैं तो इससे कानों की सुनने की शक्ति में भी इजाफा होता है.

  • उपनयन या यज्ञोपवीत संस्कार ( Upanayan ) : यज्ञोपवीत अर्थात उपनयन संस्कार में जनेऊ धारण किया जाता है. मुंडन  पवित्र जल में नहाने के बाद इस संस्कार को अपनाया जाता है. यज्ञोपवीत एक पवित्र धागा होता है जो सूत से बना होता हैइस धागे को बाएं कंधे के ऊपर से दाईं भुजा के नीचे की ओर करके पहना जाता है.

  • वेदारंभ संस्कार ( Vedarambha ) : वेदारम्भ संस्कार अपने नाम से ही जाना जाता है. यह संस्कार ज्ञान प्राप्त करने से संबंधित हैशास्त्रों के अनुसार वेदों के ज्ञान ही सर्वश्रेष्ठ हैजिसे प्राप्त करने के लिए बच्चे को गुरुकुल भेजा जाता थावेदारम्भ संस्कार मनुष्य के जीवन में विशेष महत्व रखता है. यज्ञोपवीत के बाद बालकों को वेदों का अध्ययन एवं विशिष्ट ज्ञान से परिचित कराना होता है.
Naamkaran Annprashan Mundan Antyeshthi Sanskar
Naamkaran Annprashan Mundan Antyeshthi Sanskar
  • केशांत संस्कार ( Keshanta ) : गुरुकुल में वेद का ज्ञान प्राप्त करने के बाद केशान्त संस्कार को आचार्य के सामने पूरा किया जाता थावेद पुराणों के साथ - साथ अन्य विषयों में परिपूर्ण होने के बाद आचार्य के सामने छात्र को स्नातक की उपाधि दी जाती थीकेशान्त संस्कार में गुरुकुल से विदाई लेने और गृहस्थ जीवन में प्रवेश करने को बताया है.

  • समावर्तन संस्कार ( Samavartan ) : समावर्तन संस्कर गुरुकुल से विदाई लेने से पूर्व किया जाता थाइसमें सुगन्धित पदार्थों एवं औषधि युक्त जल से भरे हुए आठ घडों के जल से स्नान कराने का नियम है. यह स्नान विशेष गुरु मंत्र के साथ किया जाता थाइसके बाद शिष्य ब्रह्मचारी जनेऊ का त्याग करता है जिसे यज्ञोपवीत के समय धारण किया जाता थाइस उपाधि से शिष्य को गृहस्थ आश्रम में प्रवेश करने लायक मान लिया जाता था. शिष्य को अच्छे कपडे व आभूषण पहनाकर घर के लिए विदा कर दिया जाता था.

  • विवाह संस्कार ( Vivaha or Marriage ) : पुराने समय से ही विवाह संस्कार स्त्री और पुरुष दोनों के लिये सबसे ख़ास संस्कार माना जाता हैलगभग पच्चीस वर्ष तक ब्रह्मचर्य का पालन करने के बाद विवाह संस्कार को अपनाया जाता है. वैदिक काल के आरंभ होने से पहले समाज संगठित नहीं था तब समाज में महिलाओं का बहुत शोषण होता था. हमारे पूर्वजों ने इसे समाप्त करने के लिये विवाह संस्कार की स्थापना की थीताकि समाज को संगठित एवं नियमबद्ध किया जा सके जिसे आज हम देख सकते है.

  • अंत्येष्टि संस्कार ( Antyeshthi ) : अंत्येष्टि संस्कार को अग्नि परिग्रह या अंतिम परिग्रह संस्कार भी कहते हैहिन्दू धर्म में किसी की मृत्यु हो जाने पर उसके शरीर को सभी विधि विधान के साथ अग्नि में चिता बनाकर जलाया जाता हैजब तक मनुष्य शरीर धारण कर पृथ्वी पर निवास करता है तब तक वह अलग अलग बंधनों से बंधा रहता है. प्राण खत्म होने के बाद ही वो मोक्ष या निर्वाण को प्राप्त करता हैअंत्येष्टि संस्कार से हर मनुष्य को गुजरना ही पड़ता हैक्योंकि जिस मनुष्य ने जन्म लिया है उसका मरण भी अवश्य होगा और मरण होगा तो अंत्येष्टि भी होगी.

मनुष्य जीवन के लिए जरूरी इन सोलह संस्कारों के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
16 Sanskaar
16 Sanskaar

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT