इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Sach mein Ban Chuki Hai Time Machine | सच में बन चुकी है टाइम मशीन

बन चुकी है टाइम मशीन
दोस्तों, टाइम मशीन और टाइम ट्रेवल हमेशा से ही रोमांचक विषय रहे है, इसीलिए इनके होने या ना होने पर मतभेद होना भी स्वाभाविक है. जहाँ कुछ वैज्ञानिक मानते है कि अगले 50 साल में मनुष्य टाइम ट्रेवल कर पायेगा वहीं कुछ इसे सिर्फ साइंस फिक्शन स्टोरी मानते है जो कभी सच नहीं हो सकती. लेकिन इतिहास में एक ऐसी घटना भी दर्ज है जिसके अनुसार टाइम ट्रेवल ना सिर्फ पॉसिबल है बल्कि एक ऐसी मशीन भी बनायीं जा चुकी है जो टाइम ट्रेवल को पॉसिबल बनाती थी. ये मशीन 20वीं शताब्दी में हिटलर की तानाशाही में जर्मनी में बनी थी और इस मशीन को The Nazy Bell के नाम से जाना जाता है.  CLICK HERE TO KNOW यहाँ मौजूद है टाइम मशीन का रहस्य ...
सच में बन चुकी है टाइम मशीन
सच में बन चुकी है टाइम मशीन
The Henge – यहाँ रखी जाती थी टाइम मशीन :
दरअसल द्वितीय युद्ध के बाद दक्षिणी पोलैंड के Ludwikowice की घाटियों में पत्थरों का एक Ring के जैसा स्ट्रक्चर मिला जिसे The Henge या Fly Trap भी कहा जाता है. विशेषज्ञ मानते है कि इस जगह पर पहले एनर्जी प्रोडक्शन प्लांट था और उस प्लांट में इस स्ट्रक्चर को कुलिंग टावर के सपोर्ट बेस के रूप में बनाया गया था. लेकिन हिटलर के शासन काल में यहाँ इतने सारे सैन्य संसाधनों का प्रयोग हुआ है कि इस बार पर विश्वास करना बहुत मुश्किल है कि यहाँ सिर्फ एनर्जी प्लांट था. कई शोधकर्ताओं के अनुसार यहाँ एक बहुत उन्नत मशीन को बनाया और उसका परीक्षण किया गया था, इस बात के कई साबुत भी मिले है कि यहाँ The Father of Rocketry कहे जाने वाले Hermann Oberth और Wernher Von Braun अपनी टीम के साथ एक घंटी के आकार जैसे दिखने वाले एयरक्राफ्ट पर एक्सपेरिमेंट कर रहे थे. ख़ास बात ये है कि ये एयरक्राफ्ट Electromagnetic और Anti-Gravity थ्योरी पर बेस्ड था.

द नाजी बेल टाइम मशीन या एयरक्राफ्ट :
जर्मनी के एक लेखक Igor Witkowski ने सन 2000 में अपनी एक बुक The Truth About The Wonder Weapon में भी इस सीक्रेट एक्सपेरिमेंट और मशीन का जिक्र किया है. अपनी बुक में उन्होंने लिखा कि ये मशीन इतनी शक्तिशाली थी कि अगर इसे युद्ध के अंतिम दिनों में भी सोवियत सेना के खिलाफ इस्तेमाल किया जाता तो युद्ध का परिणाम कुछ और होता. जब इस बेल जैसी दिखने वाली मशीन के चित्र मिले तो लग रहा था कि इसकी लम्बाई करीब 10 फीट और चौडाई 5 फीट रही होगी साथ ही मशीन को चीनी मिटटी से कवर किया हुआ था. लेकिन अगर ये कोई एयरक्राफ्ट था तो इसकी बनावट एक होवरक्राफ्ट जैसी होने के कारण ये ऊपर नीचे तो आसानी से हो सकता होगा पर, इसका किसी प्लेन की तरह आगे बढ़ पाना संभव नहीं लग रहा था. ऐसे में ये तो साफ़ हो जाता है कि ये कोई एयरक्राफ्ट नहीं था, तो आखिर ये मशीन थी क्या?
Kahan Maujud Hai Asli Time Machine
Kahan Maujud Hai Asli Time Machine
अगर Ancient Astronaut विशेषज्ञों की माने तो ये मशीन एक टाइम ट्रेवल मशीन थी. लेकिन फिर वही सवाल कि क्या टाइम ट्रेवल पॉसिबल है? इसका जवाब जर्मनी के ही एक महान विज्ञानिक Elbert Einstein से मिलता है जिनका मानना था कि सिद्धांतिक तौर पर टाइम ट्रेवल करना संभव है.

द्वितीय विश्व युद्ध में टाइम मशीन के साबुत :
वैसे ऐसा कोई साबुत नहीं है जिससे ये कहा जा सके कि दुसरे विश्वयुद्ध में इस मशीन का इस्तेमाल हुआ लेकिन, एक हैरान कर देने वाली बात ये है कि युद्ध के अंतिम समय में जब जर्मनी हार की कगार पर था  तब इस मशीन के प्रोजेक्ट के कमांडर Hans Kammler, उनकी टीम और ये मशीन रहस्यमयी तरीके से गायब हो गये और दोबारा भी उन्हें कभी नहीं देखा गया. कुछ विशेषज्ञों के अनुसार ये मशीन एक टाइम मशीन थी जो उन सभी कोई समय के दुसरे डायमेंशन में ले गयी.
Sach mein Ban Chuki Hai Time Machine
Sach mein Ban Chuki Hai Time Machine
लेकिन कई सालों के बाद Kecksburg Pennsylvania में एक ऐसी घटना हुई जिसके अनुसार वहाँ के स्थानीय लोगों ने एक घंटी के जैसे फ्लाइंग ऑब्जेक्ट को देखा. जो दिखने में बिलकुल नाज़ी बेल की तरह था, जिसके साथ कमांडर Hans और उनकी टीम गायब हुए थे.

बाद में आर्मी ने उस फ्लाइंग ऑब्जेक्ट को जब्त कर लिया लेकिन उन्होंने इस बात को नकार दिया कि उन्हें ऐसी कोई मशीन या ऑब्जेक्ट मिला है. इसके बाद वहाँ UFO Researchers की एक टीम आई और छानबीन के बाद बताया कि वहाँ कोई UFO या Aircraft तो नहीं लेकिन घंटी की आकृति की कोई मशीन जरुर आई थी. कहा जाता है कि The Nazi Bell में एंटी ग्रेविटी जैसी खूबी भी थी इसीलिए उसे The Henge में बाँध कर रखना पड़ता था.

दोस्तों आपको क्या लगता है कि क्या 20वीं सदी में ही टाइम मशीन को बना लिया था? क्या The Henge के नाम से जाना जाने वाले ये स्ट्रक्चर आज तक के सबसे बड़े एक्सपेरिमेंट का गवाह रहा है? अपनी राय कमेंट में जरुर बताएं.

नाज़ी बेल और टाइम मशीन के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो.



YOU MAY ALSO LIKE



Nazi Bell Time Machine Mystery, Die Glocke, The Henge, Fly Trap, Kahan Maujud Hai Asli Time Machine, Kahan Rakhi Jati Thi Time Machine, Dvitiya Vishva Yudh mein Bani Thi Time Machine

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT