इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Duniya ke Aath Khuni Paudhe | दुनिया के आठ खुनी पौधे | Eight Killer Trees of World

दुनिया के आठ खुनी पौधे
हर साल पेड़ पौधों को काटकर जंगल ख़त्म किये जा रहे है. मनुष्य इन पेड़ों को काटकर अपना ही विनाश करता जा रहा है. इनकी विशेषताओं का ज्ञान होते हुए भी वह ऐसा कर रहा है, यह बहुत बड़ी मुर्खता है. इसी के कारण जंगलो का क्षेत्रफल घट कर बहुत कम हो गया है. वर्तमान समय में धरती के 31 प्रतिशत क्षेत्रफल पर वन है. ये लगभग 4 बिलियन हेक्टेयर जगह पर फैले हुए है. हर साल इनमें कमी हो रही है. अगर 2000 से 2010 के बींच के अन्तराल में सर्वे के अनुसार देखा जाये तो लगभग 5.2 मिलियन हेक्टेयर से वन ख़त्म कर दिए गए है. ये एक समस्या का मुद्दा है. पेड़ हमारे बहुत हो फायदेमंद है लेकिन कुछ पेड़ ऐसे भी है जो बहुत ही खतरनाक होते है इनके पास जाने से जान जाने का खतरा भी हो सकता है. इन पेड़ों पर लगने वाले फल फूल बहुत ही जहरीले होते है. इनमे इस तरह के केमिकल होते है जिनके प्रभाव से मनुष्य कुछ ही समय में मर सकता है. देखने में ये बहुत सुन्दर और आकर्षित है लेकिन इसी कारण मनुष्य धोखा खा जाता है. इनमे कुछ पेड़ ऐसे है जिनसे ऐसी गंध आती है जो मनुष्य के सिर को घुमा देता है उसे चक्कर आने लगते है. इनमे से कुछ पौधों के बारे में आज आपको बताया जा रहा है. आप इनके बारे में जान ले कहीं अनजाने में आप इनके पास चले जायें और आप पर इनके बुरे प्रभाव असर दिखाने लगे. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POST ...
Duniya ke Aath Khuni Paudhe
Duniya ke Aath Khuni Paudhe 
सुसाइड ट्री :
इस तरह के पेड़ केरल और आस पास के इलाकों में पाए जाते है. इस पर लगने वाले फल फूलों में बहुत ही ज़हर होता है. इनका प्रभाव इतना तेज़ होता है कि कुछ ही समय में इन्सान मर भी सकता है. इसमें एल्कलाईड नामक तत्व होता है जिसे कोर्डिया टॉक्सिक कहते है. इसके सबसे ज्यादाबुरा प्रभाव हृदय पर पड़ता है. यह मनुष्य के श्वसन तंत्र को काम करने से रोकता है. केरल में इससे बहुत ज्यादा मौतें होती है अकेले इस पेड़ के फल खाने से लगभग 500 व्यक्ति हर साल मर जाते हैं. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POST ...
दुनिया के आठ खुनी पौधे
दुनिया के आठ खुनी पौधे 
डॉल्स आईज :
यह पेड़ संसार के कई देशों में पाया जाता है इनमे उत्तरी कनाडा, जॉर्जिया, और अमेरिकी स्टेट मिनसोटा आदि शामिल है. यह भी बहुत खतरनाक और ज़हरीलें पेड़ों में गिना जाता है. इसका फूल देखने में Berries के फल जैसा लगता है इनका रंग सफ़ेद और काला होता है. इसका ज़हर बहुत ही घातक है जिससे कार्डिक अटैक आ जाता है. इससे मनुष्यों के अलावा पशु पक्षियों को भी बहुत खतरा है.
Eight Killer Trees of World
Eight Killer Trees of World
वीनस फ्लाईट्रैप  :
यह पेड़ भी सबसे खतरनाक और ज़हरीले पेड़ों में से एक है और यह अमेरिका के उत्तरी और दक्षिण कैलिफोर्निया स्टेट में पाया जाता है. यह अपने भोजन के रूप में उड़ने वाले कीटों का शिकार करता है. यह पौधा मांशाहारी होता है और लगभग हर बीस सेकंड में किसी न किसी कीट को खा लेता है. अगर कीट इसकी पत्तियों पर बैठ जायें तो पत्तियां कीट को एक सेकंड में ख़त्म कर देती है.
 
सफ़ेद फूल वाला विषैला पौधा :
यह पौधा ब्रिटिश, कोलंबिया, अमेरिका के कैलिफोर्निया स्टेट और अलास्का में पाया जाता है. अमेरिका में पायें जाने वाले ज़हरीले पेड़ों में यह सबसे ज्यादा ज़हरीला पेड़ है. यह उन जगहों पर उगता है जहाँ पर बहुत ज्यादा नमी होती है. इसमें से बहुत अच्छी आकर्षित करने वाली महक आती है जिसेक कारण जानवर इसे खाने के लिए इसके पास आते है. अगर कोई जानवर इसे खा लेता है तो 15 से 20 मिनट के अंदर उसकी मौत हो जाती है. अगर इसको केवल चबाकर फैंक दिया जाये तो भी लकवे की बीमारी लग जाती है. इसके अलावा यह श्वसन तंत्र को भी प्रभावित कर सकता है.
हत्यारे वृक्ष
हत्यारे वृक्ष
पिचर प्लांट :
यह पेड़ मुख्यतः उत्तरी अमेरिका के पेन्सिल्वेनिया, कनाडा और दक्षिण अमेरिका के कुछ क्षेत्रों में उगता है. इस पेड़ की गिनती भी मांसाहारी पेड़ों में की जाती है. इसकी बनावट के कारण ही इसका नाम पिचर रखा गया है. यह कई रंगों का हो सकता है और बड़ा ही आकर्षित होता है इसी कारण बहुत से कीट और कीड़े मकौड़े इस पर आकर बैठ जाते है और इसका शिकार बनते है.

एंजेल ट्रम्पेट :
यह पेड़ कई देशों में पाया जाता है इनमे कुछ के नाम इस प्रकार है : नार्थ अमेरिका, साउथ अमेरिका, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और एशिया के कई देश. इसके नाम से लगता है कि यह बड़ा ही उपयोगी और लाभकारी पेड़ है लेकिन इसमें ऐसे कोई गुण नहीं हैं. इस पेड़ पर बड़े ही खूबसूरत फूल लगते है लेकिन उनके परिणाम उतने ही बुरे है. इसमें स्कोपोमाइन नामक तत्व पाया जाता है जिससे मतिभ्रम होता है. इसके प्रयोग से एक प्रकार का पाउडर तैयार किया जाता है जो अपराधिक घटनाओं में इस्तेमाल किया जाता है. बहुत से लोग इसका इस्तेमाल करके ऐसी घटनाओं को अंजाम देते है जो समाज के लिए बहुत दर्दनाक होती है. 
Kaner
Kaner
कनेर :
यह पेड़ भारत, चीन, अमेरिका, पुर्तगाल, मोरक्को में पाया जाता है. इसकी पैदावार बगीचों में की जाती है. इसके फूल बहुत ही अच्छी सुगंध देते है. इसमें टॉक्सिक भी काफ़ी मात्रा में पाया जाता है. अगर कोई इसे खा ले तो वह मर सकता है. एक रिपोर्ट के अनुसार 2002 में 845 मामले कनेर के कारण दर्ज हुए थे लेकिन इससे मरने वालो की संख्या केवल 3 ही थी. इसके सेवन से पेट में दर्द हो सकता है और खुनी दस्तों की स्थिति भी हो सकती है. इसके अलावा यह हार्ट अटैक और कोमा में भी पहुंचा सकता है और अगर प्रभाव ज्यादा होने तक इलाज ना हो तो मौत भी हो सकती है.

अरंडी :
भारत के अलावा या फ़्रांस, स्पेन, इटली, अमेरिका, लीबिया, तंजानिया, कीनिया आदि देशों में पैदा होता है. इसकी गिनती भी विषैले पौधों में की जाती है. यह अवगुण होते हुए भी इसकी खेती की जाती है. इसके बीज में बहुत ज्यादा ज़हर होता है. इसमें बिज में से टोक्सिन प्रोटीन नामक तत्व निकाला जाता है जो केमिकल रिएक्शन के लिए उपयोग किया जाता है. इसके प्रभाव से उलटी दस्त लग सकते है. इसके अलावा ब्लड प्रेशर और पेट दर्द की समस्या भी हो सकती है. इसका इलाज जल्दी ही नहीं किया जाये तो मौत भी संभव है.


पेड़ पौधों के बारे में अन्य रहस्य और खासियत जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
Caster
Caster
Duniya ke Aath Khuni Paudhe, दुनिया के आठ खुनी पौधे, Eight Killer Trees of World, Suicide Tree, Dolls Eyes, Venus Flytrap, Pitcher Plant, Angel Trumpet, Caster, Kaner, हत्यारे वृक्ष.



Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT