इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Real Estate Service

Cat and Mouse Tale A Political Story - कभी मित्र कभी घोर शत्रु एक चूहे बिल्ली की कहानी Chuhe Billi ki Kahani

कभी मित्र कभी घोर शत्रु  एक चूहे बिल्ली की कहानी - Cat and Mouse Tale A Polotical Story - Chuhe Billi ki Kahani आजकल बहुत बड़ा भोचाल आ...

Mata Pita Or Bacchon ka Sambandh | माता पिता और बच्चों का सम्बन्ध

माता – पिता अपने बच्चों के साथ कैसा व्यवहार करें (How to Behave With Your Childrens)
प्रत्येक माता – पिता प्रयास करते हैं कि वो अपने बच्चों को एक बेहतर जीवन प्रदान करें. उन्हें अच्छी शिक्षा और संस्कार दें. लेकिन अपने बच्चो को एक अच्छा व्यक्ति बनाने के लिए ही कुछ माता – पिता अपने बच्चों के साथ ज्यादा सख्ती से पेश आते हैं, उन्हें बार – बार डांटते हैं, उन्हें छोटी – छोटी बातों पर टोकने लग जाते हैं. आपने कभी सोचा हैं कि आपके इस प्रकार के व्यवहार का ही बच्चों पर विपरीत प्रभाव पड़ता हैं. बच्चे आपसे अपनी बातों को छुपाने लगते हैं, आपसे अपनी परेशानियों को बताने से डरने लगते हैं. इसीलिए अपने बच्चों के साथ ऐसा व्यवहार बिल्कुल न करें.

1.स्कूल (School) - यदि आपका बच्चा स्कूल न जाने के लिए बहाने बनायें. तो उसे डांटने की बजाय उनसे अधिक से अधिक बात करें कि वह स्कूल क्योंकि नहीं जाना चाहता, क्या उसे स्कूल में किसी प्रकार की दिक्कत हैं. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT बच्चे के जन्म का ठीक समय ...
Mata Pita Or Bacchon ka Sambandh
Mata Pita Or Bacchon ka Sambandh
2.   खेलने का समय (Time of Playing)- बच्चों को बाहर उनके दोस्तों के साथ खेलने का समय जरुर दें. उन्हें हर वक्त घर में रखने की कोशिश न करें. ऐसा करने से बच्चे का पूर्ण रूप से मानसिक विकास नहीं हो पाता और वो अधिक लोगों के साथ जुड़ने में असमर्थ होता हैं, अधिक चुप – चुप रहता हैं.

3.दोस्त (Friend)बच्चों के दोस्तों के बारे में जरुर जाने कि वह किस तरह के बच्चों के साथ रहता हैं. क्योंकि दोस्तों की साथ – संगत का भी बच्चे के व्यवहार पर काफी प्रभाव पड़ता हैं. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT गुस्से और जिद्द पर कपू कैसे पायें ...
माता पिता और बच्चों का सम्बन्ध
माता पिता और बच्चों का सम्बन्ध
4.कमजोर (Weak)- अपने बच्चों को कभी – भी यह एहसास न दिलाएं कि वह बहुत कमजोर हैं और किसी भी कार्य को ठीक ढंग से नहीं कर सकता. इसके साथं पर अधिक से अधिक बच्चों का साथ दें. उन्हें हमेशा हर कार्य को करने के लिए प्रेरित करें. लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि उन पर ज्यादा दबाव न डालें और न ही उनकी तुलना किसी न अन्य बच्चे से करें.

5.प्रतिभा (Talent)- अपनी इच्छाओं को पूर्ण करने के लिए बच्चे की प्रतिभा को नजरंदाज बिल्कुल न करें. कई माता – पिता बच्चों को उन कार्यों को करने के लिए कहते हैं. जिनमें उनका बिल्कुल मन नहीं लगता और जिसमें लगता हैं उसे करने नहीं देते. जिसका परिणाम यह होता हैं कि न ही बच्चा दोनों में से किसी भी कार्य को ठीक ढंग से नहीं कर पाता और उसकी प्रतिभा थोड़े समय के बाद दब जाती हैं.

6.अच्छा व्यवहार (Good Behavior) - बच्चों से हमेशा अच्छी तरह से तथा प्यार से बात करें. उनके साथ मित्रतापूर्ण सम्बन्ध बनाने की कोशिश करें. उनके साथ थोडा खेलने का समय निकालें, इससे आपका बच्चा आप से किसी भी बात को छुपायेगा नहीं तथा अपनी सारी बातों को आपके साथ शेयर करेगा.
Bacchon ko Acchi Parvarish Dene ke Tips
Bacchon ko Acchi Parvarish Dene ke Tips
7.सही – गलत में अंतर (Difference Between Right And Wrong) - बच्चे को हमेशा सही और गलत के बीच में अंतर समझाएं. उन्हें उदाहरणों के द्वारा उस काम को करने के बाद उसके नकारात्मक परिणामों के बारे में बताएं.

बच्चों के साथ कैसा व्यवहार करना चाहिए इस विषय के बारे में अधिक जानने के लिए आप नीचे कमेंट करके तुरंत जानकारी हासिल कर सकते हैं.
Bacchon ki Pratibha ko Najarandaj na Karen
Bacchon ki Pratibha ko Najarandaj na Karen
Mata Pita Or Bacchon ka Sambandh, माता पिता और बच्चों का सम्बन्ध, Parents Bacchon ke Sath Kaisa Vyavahar Karen, Bacchon ko Acchi Parvarish Dene ke Tips, Bacchon ke Sath Karen Mitrtapurn Vyavahar, Bacchon ki Pratibha ko Najarandaj na Karen

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT