इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Slip Disk Ke Karan or Lakshan | स्लिप डिस्क के कारण और लक्षण | Causes and Symptoms of Slip Disk

कैसे होती है स्लिप डिस्क ( Slip Disk )
अगर देखा जाएँ तो स्लिप डिस्क तो कोई बिमारी होती ही नहीं, बल्कि ये तो शारीरिक मशीनरी में एक तरह की तकनीकी समस्या होती है जिसे स्लिप डिस्क का नाम दे दिया गया है. असल में तो रीढ़ की हड्डी ( Spinal Cord ) थोडा बाहर की तरफ निकल आती है. इस डिस्क के बाहरी हिस्से में एक मजबूत झिल्ली होती है जबकि बीच में तरल जैली जैसा पदार्थ. जिस व्यक्ति को स्लिप डिस्क की समस्या होती है उस व्यक्ति का ये तरल पदार्थ वाला हिस्सा अपने कनेक्टिव टिश्यूज के घेरे से बाहर की तरफ निकल आता है और जो हिस्सा आगे होता है वो रीढ़ की हड्डी में अंदर की तरफ दबाव डालने लगता है. जिसके कारण दर्द पैदा होने लगता है. CLICK HERE TO KNOW स्लिप डिस्क समय रहते हो उपचार ... 
Slip Disk Ke Karan or Lakshan
Slip Disk Ke Karan or Lakshan
जैसे जैसे व्यक्ति की उम्र बढती रहती है वैसे वैसे ये तरल पदार्थ सुख जाता है और एक दिन अचानक किसी झटके के कारण झिल्ली फट जाती है. तब ये जैली नुमा तरल पदार्थ बाहर निकाल आता है और नसों पर दबाव बनाता है जिससे पैरों में सुन्नपन या दर्द रहने लगता है. आज करीब 25 % से भी अधिक लोग इस समस्या से जूझ रहे है.

स्लिप डिस्क होने के कारण ( Causes of Slip Disk ) :
·     गलत पोजीशन ( Wrong Position ) : अगर आप लेटकर या झुककर कोई काम करते है या पढ़ते है तो स्लिप डिस्क हो जाती है. सारा दिन कंप्यूटर के आगे बैठे रहना भी इसका आम कारण होता है. अधिक वजन उठाने, कमर पर अचानक झटके लगने, देर तक गाडी चलाने, अनियमित दिनचर्या के चलते और गलत तरीके से खड़े होने या बैठने के कारण भी ये समस्या होना लाजमी है.

·     सुस्त जीवनशैली ( Lazy Life ) : आलसी लोग जो सारा दिन एक ही जगह पड़े रहते है और कोई शारीरिक गतिविधि नहीं करते, व्यायाम नहीं करते उनकी मांसपेशियाँ कमजोर हो जाती है. जिसके कारण उन्हें अधिक थकान का अनुभव होता है और उनकी रीढ़ की हड्डी कमजोर पड जाती है. फिर एक दिन ऐसा आता है कि अचानक ही उन्हें ये समस्या शुरू हो जाती है. CLICK HERE TO KNOW गर्दन का दर्द भगायें ये जादुई नुस्खे ... 
स्लिप डिस्क के कारण और लक्षण
स्लिप डिस्क के कारण और लक्षण
·     उम्र बढना ( Due to Increase Age ) : उम्र के साथ साथ शरीर में अनेक बदलाव आते है, साथ ही हड्डियाँ कमजोर हो जाती है जिसका प्रभाव सीधे रीढ़ की हड्डी पर पड़ता है, जिससे स्लिप डिस्क होने का ख़तरा बढ़ जाता है.

·     जन्मजात कारण ( Congenital Causes ) : कुछ लोगों को जन्म से ही कोई संक्रमण होता है या कोई विकृति होती है जिसका भुगतान उन्हें अपनी सारे जीवन में करना होता है.

स्लिप डिस्क के लक्षण ( Symptoms of Slip Disk ) :
§ नसों पर दबाव ( Pressure on Nerves ) : स्लिप डिस्क की समस्या होने पर पीड़ित व्यक्ति को अपनी नसों पर दबाव महसूस होने लगता है, उनकी कमर पैरों और एड़ियों में दर्द दर्द होने लगता है, उँगलियाँ सुन्न हो जाती है.

§ कमजोरी ( Weakness ) : धीरे धीरे उनके पैरों के अंगूठों और पंजों में कमजोरी आ जाती है.

§ सुन्नपन ( Numbness ) : शरीर के अंगों में सुन्नपन इसका एक विशेष लक्षण है क्योकि जैसे ही रीढ़ की हड्डियों पर दबाव पड़ता है वैसे ही हिप्स और सातल के आसपास के हिस्सों का सुन्न होना आरम्भ हो जाता है.

§ यूरिन स्टूल ( Problem in Urine Stool ) : जैसे जैसे पीड़ित की समस्या बढती जाती है वैसे वैसे उन्हें यूरिन स्टूल पास करने में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

§ दर्द ( Pain ) : रोगी की सबसे पहले अपनी रीढ़ की हड्डी के नीचे दर्द होना आरम्भ होता है फिर सुन्न हुए हिस्सों में भी दर्द रहने लगता है. इसके अलावा नसों पर दबाव पड़ने से पीड़ित को खुद का शरीर भारी लगने लगता है जिस कारण वो सारा दिन बिस्तर पर पड़ा रहता है.
Causes and Symptoms of Slip Disk
Causes and Symptoms of Slip Disk
§ चलने फिरने में दिक्कत ( Problem in Mobility ) : क्योकि रीढ़ की हड्डी हर मनुष्य के शरीर की संरचना का आधार होता है और उसी में दर्द रहने लग जाएँ या उसी की झिल्ली फट जाए तो मनुष्य किसी काम को करने में समर्थ नहीं रहता. ऐसे लोगों को उठने बीतने, चलने फिरने, सामान्य काम करने, खांसने और झुकने तक में दर्द और करंट का अनुभव होने लगता है.

समस्या का मुख्य समय ( Time of Slip Disk Problem ) :
वैसे तो ये समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है किन्तु अधिकतर स्लिप डिस्क की समस्या 30 से 50 वर्ष की उम्र के बाद ही होता है. किन्तु आजकल 20 से 25 वर्ष की उम्र के युवाओं में भी स्लिप डिस्क समस्या दिन प्रतिदिन बढती जा रही है.

जबकि 40 से 50 वर्ष की उम्र में आते आते लोगों को सर्वाइकल वर्टिब्रा सताने लगता है, ये दर्द गर्दन के पास होता है.

स्लिप डिस्क होने के अन्य कारण लक्षण और उनके घरेलू आयुर्वेदिक उपचार के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

9 comments:

  1. Kindly tell me about home remadies

    ReplyDelete
  2. Slip disc ki surgery ke bad urine karne m problem hona

    ReplyDelete
  3. किसी भी एक्सरसाइज के द्वारा हरनाइटेड डिस्क की समस्या को जड़ से खतम किया जा सकता हैं...

    ReplyDelete
  4. Kindly tell me about home remedies for slip disc

    ReplyDelete
  5. Read ki haddi ke niche kafi pain hota hai. Legs me sunpan mehsus hota hai. Body me thakan feel hoti hai. Iska koi gharelu ilaj bataiye

    ReplyDelete
  6. Aaj morning se hi read ki haddi ke niche pain ho raha hai. Legs me bhi sunpan mehsus hota hai. Body me thakan feel ho rahi hai. Iska koi gharelu ilaj bataiye.

    ReplyDelete
  7. Slip disk ke karan mere dono pairo ke panje v anguthe kamjor ho gaye hai bal dete hi panja gir jata hai mujhe kya karna chahiye doctor operation ke liye bol rahe hai

    ReplyDelete
  8. Mere pair ke panjo me kamjori aur anguliyo me kamjori ke karan mai bahut paresan hun doctor operation ke liye bol rahe hai slip disk ka mujhe kya karna chahiye

    ReplyDelete

ALL TIME HOT