इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Tejpaat Rog Mitaye Ratonraat | तेजपात रोग मिटाये रातोंरात | A Miraculous Medicine Sage Bay Leaves

तेजपत्ते के औषधीय गुण ( Aayurvedic Qualities of Bay Leaves )
तेजपात एक साधारण सा दिखने वाला पत्ता है जिसे हर रसोईघर में मसाले के रूप में इस्तेमाल किया जाता है किन्तु क्या आप जानते है कि इस साधारण सी दिखने वाली औषधि के अपने ही कुछ ख़ास चमत्कारिक गुण होते है जो अनेक रोगों के उपचार में सहायक होते है. आज हम आपको तेजपात के इन्ही चमत्कृत कर देने वाले गुणों से अवगत करायेगे ताकि आप भी जरूरत पड़ने पर इनका लाभ उठा सको.

तेजपात का रोगों में इस्तेमाल ( Use of Bay Leaves in Diseases ) :
·     जूं नाशक ( Removes Lice ) : सिर में जूं होना सामान्य बात होती है किन्तु अगर इन्हें जल्द ही खत्म नही किया तो इनकी संख्या बहुत बढ़ जाती है और ये अन्य रोगों को निमंत्रण दे सकती है. जूं से मुक्ति पाने के लिए आपको 1 ग्लास पानी में तेजपात के 5 से 6 पत्तों को उबालना है, जब आधा पानी उड़ जाए तो बचे हुए पानी से सिर की मालिश करें. सप्ताह भर में ही सभी जूं खत्म हो जायेगी. CLICK HERE TO KNOW आयुर्वेद में इमली का महत्व ... 
Tejpaat Rog Mitaye Ratonraat
Tejpaat Rog Mitaye Ratonraat
·     चाय पत्ती की जगह तेजपात ( Use Bay Leaves in Place of Tea Leaves ) : सुनने में जरुर अजीब लगता है किन्तु अगर चाय पत्ती के स्थान पर तेजपत्ते का इस्तेमाल किया जाए तो सिरदर्द, जलन, बहती नाक, सर्दी जुखाम, छींक इत्यादि में तुरंत आराम मिलता है.

·     दांतों के लिए लाभदायी ( Good for Teeth ) : वहीँ अगर तेजपात को पीसकर उसका चूर्ण मंजन की तरह इस्तेमाल किया जाए तो इससे दांतों की चमक बढती है, उनको मजबूती मिलती है और उनमें कभी कीड़ा नहीं लगता.

·     हकलाहट दूर करें ( Remove Impedimenta ) : जो लोग बात करते वक़्त हकलाते है उनको तेजपात के पत्तों को नियमित रूप से चुसना चाहियें, इससे उनका गला और जुबान खुलती है और हकलाहट में भी लाभ मिलता है.

·     खांसी भगायें ( Remove Cough ) : खांसी हो जाने पर 1 चम्मच तेजपात का चूर्ण लें और उसे शहद के साथ खाएं, जल्द ही खांसी में आराम मिलेगा. CLICK HERE TO KNOW निम्बू के औषधीय गुण ... 
तेजपात रोग मिटाये रातोंरात
तेजपात रोग मिटाये रातोंरात
·     अतिसार व पेट फूलना ( Good in Diarrhea and Stomach Enlargement ) : जबकि अतिसार होने पर आप तेजपात के पत्तों से काढा तैयार करें और उसे दिन में 2 बार पियें. ये दस्त, आँतों के घाव भरता है साथ ही इससे भूख भी लगने लगती है.

·     हृदय मजबूत करे ( Makes Heart Strong ) : हृदय की मजबूती के लिए आपको तेजपात को लगातार अपने भोजन में प्रयोग करना चाहियें.

·     आँखों की रौशनी लौटाये ( Bring Back Eyesight ) : वे लोग जिनकी आँखों की रौशनी कम होने लगी है या जिन्हें आँखों में दर्द महसूस होता है उन्हें इसके चूर्ण को सुरमे की तरह आँखों में लगाने से लाभ मिलता है. ये आँखों की नसों में ताजगी भरता है, आँखों की सफाई करता है और रौशनी तेज करता है. अगर इस प्रयोग को लगातार किया जाएँ तो ये चश्मा तक उतरवा देता है.

·     पागलपन दूर करें ( Treats Madness ) : अगर किसी को पागलपन के दौरे पड़ते है तो उन्हें तेजपात के पत्तों का चूर्ण सुबह शाम पानी या फिर शहद के साथ खिलाना चाहियें, इसके स्थान पर आप उन्हें तेजपात के पत्तों से बना हलवा भी खिला सकते हो. जल्द ही पीड़ित की मानसिक स्थिति स्थिर हो जाती है.
A Miraculous Medicine Sage Bay Leaves
A Miraculous Medicine Sage Bay Leaves
·     पेट में गैस ( Cures Gastric Problem ) : अगर पेट में गैस है और रोगी को उससे तकलीफ हो रही है तो 3 से 4 ग्राम तेजपात का चूर्ण पानी के साथ निगल जाएँ, जल्द ही गैस एसिडिटी की समस्या से छुटकारा मिलता है. इसका लगातार सेवन करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है और पेट विकारों से मुक्त रहता है.

·     पैरों की दुर्गन्ध दूर करें ( Remove Foot Odor ) : कुछ लोगों के पैरों के तलवों से बहुत बदबू आती है, ऐसे लोगों को तेजपात के चूर्ण से लेप तैयार करना चाहियें और उसे पैरों के तलवों पर लगाना चाहियें. इसके ऊपर आप मोज़े भी पहन सकते हो. इसके अलावा तेजपात के पत्तों को चबाने से मुहँ की दुर्गन्ध भी दूर होती है और इसको पाउडर की तरह इस्तेमाल करने पर बगल के पसीने से हुई बदबू से भी मुक्ति मिलती है.

·     कीड़ों से बचायें ( Protects Clothes form Insects and Worms ) : जिस तरह नीम के पत्तों को कपड़ों के बीच में रखने से कीड़े दूर रहते है ठीक उसी तरह ऊनी, रेशमी, सूती कपड़ों में तेजपात के पत्ते रखने से उनमें कीड़े नहीं लगते. आप इन्हें अनाज में भी डाल सकते है. इनकी सुगंध कपड़ों और गेहूँ दोनों को महका देती है.

तेजपत्ते के रोगों में ऐसे ही अन्य चमत्कारिक उपयोगों को जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो.
जाने तेजपत्ते के औषधीय गुण
जाने तेजपत्ते के औषधीय गुण

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

6 comments:

  1. Replies
    1. This comment has been removed by a blog administrator.

      Delete
  2. वाह बहॉत खुब हेअे उपाय

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by a blog administrator.

      Delete
  3. इस जानकारी सेबहॉत फाइदॉ थयॉसे तॉअेसे जानकारी देते रहीये धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. जयसुख भाई जी,

      आप हमारे साथ ऐसे ही बने रहें और किसी तरह का संदेह होने पर कमेंट अवश्य करें.

      संपर्क के लिए धन्यवाद
      जागरण टुडे टीम

      Delete

ALL TIME HOT