इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Slip Disk Smay Rahte ho Upchar | स्लिप डिस्क समय रहते हो उपचार | Home Remedies to Cure Slip Disk

डिस्क क्या है ( What is Slip Disk )
चिकित्सा विज्ञान हमारी रीढ़ की हड्डी को सामान्य भाषा में वर्टिब्रल कॉलम कहता है. ये कॉलम पुरे शरीर को साधने का काम भी करता है और शरीर की रचना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. रीढ़ की हड्डी को संस्कृत में मेरु दंड कहा जाता है इसमें मेरु रज्जू भी होता है जो दिमाग से उठने वाली सभी संवेदनाओं को शरीर के हर हिस्से तक पहुंचाता है. इसी रीढ़ की हड्डी का निर्माण 33 भिन्न भिन्न कशेरुकाओं से होता है जिन्हें इंग्लिश में वेर्टेब्रे कहते है. इसमें से 24 तो गतिमान होती है जबकि 9 में कोई गति नहीं होती. इसके अलावा पुरे वर्टिब्रल कॉलम को 4 अलग अलग हिस्सों में बांटा जा सकता है. CLICK HERE TO KNOW स्लिप डिस्क के कारण और लक्षण ... 
Slip Disk Smay Rahte ho Upchar
Slip Disk Smay Rahte ho Upchar
1.गर्दन की वेर्टेब्रे / सर्वाइकल

2.धड की वेर्टेब्रे / डोर्सल

3.कमर की कशेरुकाएं / लम्बर

4.सबसे नीचे वाली वेर्टेब्रे / सेक्रल ( इसकी सारी वेर्टेब्रे फ्यूजड रहती है )

अब जानते है कि डिस्क क्या है? डिस्क एक नरम उत्तक ( Soft Issue ) से बनी हुई संरचना है, जो रीढ़ की हड्डी के अलग अलग टुकड़ों के बीच में रगड़ और घर्षण होने को बचाती है और इनको गतिमान होने में सहायता करती है. अगर डिस्क ना हो तो सभी हड्डियाँ एक दुसरे से टकराने लगेंगी और इनकी गति खत्म हो जायेगी. इस तरह देखा जाए तो डिस्क कुदरत का एक वरदान है ताकि हम चल फिर सके और बिना समस्या के अपने काम कर सके. अगर आप इस डिस्क की रचना को जानना चाहते तो आप इसकी एक गुब्बारें से तुलना कर सकते हो जिसमें लचक भी होती है और चिकनापन भी. जो फ़ैल भी सकता है सिकुड़ भी सकता है. किन्तु कभी कभी किन्ही कारणों की वजह से रीढ़ की हड्डी की झिल्ली फट जाती है और उसका जैलीनुमा तरल पदार्थ बाहर निकाल आता है, ये स्थिति नसों पर दबाव बनाती है और दर्द व सुन्नपन पैदा करती है. इसी स्थिति को स्लिप डिस्क का नाम दिया जाता है. आज हम आपको स्लिप डिस्क की समस्या को दूर करने के कुछ घरेलू आयुर्वेदिक उपायों के बारे में बताने जा रहे है. CLICK HERE TO KNOW गर्दन व कंधे के दर्द का देशी इलाज ... 
स्लिप डिस्क समय रहते हो उपचार
स्लिप डिस्क समय रहते हो उपचार
स्लिप डिस्क के उपचार के लिए जीवनशैली में परिवर्तन ( Change in Lifestyle to Avoid Slip Disk )
·     व्यायाम ( Do Exercise ) : रोजाना प्रातःकाल कम से कम 5 से 6 किलोमीटर तक पैदल चलें, इस तरह पैदल चलने को सर्वोत्तम व्यायाम माना जाता है.

·     झुक कर ना बैठें ( Don’t Lean ) : अगर आप कोई ऐसी जॉब करते है जहाँ आपको सारा दिन बैठे रहना पड़ता है तो ध्यान रखें कि आपकी कुर्सी आरामदेह होनी चाहियें, साथ ही कुर्सी में कमर को पूरा सहारा मिलना चाहियें.

·     श्रम ( Do Some Hard work / Labor ) : दिन में इतना परिश्रम अवश्य करें कि शरीर की मांसपेशियाँ को मजबूती मिलें. किन्तु इस बात को भी सुनिश्चित कर लें कि इतना भी परिश्रम ना करें कि शरीर को आधात होने लगे.
Home Remedies to Cure Slip Disk
Home Remedies to Cure Slip Disk
·     एक स्थिति में ना रहें ( Change your Position Regularly ) : किसी भी अवस्था में अधिक देर तक ना रहें. शरीर की मांसपेशियों को हिलाते रहें ताकि उनमें लचक बनी रहें. अगर आपको कहीं अधिक देर तक खडा होना पड रहा है तो पैरों के बीच में करीब 6 इंच का अंतर रखें.

·     जल्दबाजी ना करें ( Don’t Rush ) : काम करते वक़्त जल्दबाजी ना करें अर्थात ना तो किसी सामान को उठाते वक़्त या रखते वक़्त सावधानी बरतें. किसी भी कार्य में हड़बड़ी आपको ही नुकसान पहुंचाती है. अगर आपको कोई भारी सामान उठाना भी पड़ जाए तो उसे धकेल कर उठायें. झटके से खड़े होने या उठने से भी डर की संभावना बढती है.

·     हाई फील्स ( Don’t Wear Heels ) : एक शोध के अनुसार पाया गया है कि जो व्यक्ति हाई हील्स पहनता है उसे भी स्लिप डिस्क होने का ख़तरा सदा बना रहता है. जबकि बिलकुल फ्लैट चप्पल भी पैरों की आर्च को नुकसान पहुंचाती है. साथ ही सीढियाँ चढ़ते और उतरते वक़्त भी ध्यान रखें.

·     वजन ( Control Your Weight ) : अपने शरीर के वजन को भी नियंत्रित अधिक वजन और कम वजन दोनों ही अवस्था में स्लिप डिस्क होने की संभावना बनी रहती है. खासतौर से पेट के पास चर्बी तो बिलकुल जमा ना होने दें.
स्लिप डिस्क ये दर्द है घातक
स्लिप डिस्क ये दर्द है घातक
·     गद्दे ( Use Right Mattresses ) : सोते वक़्त गद्दों का चुनाव भी आवश्यक है, इसलिए ना तो सख्त गद्दे प्रयोग में लायें और ना ही नर्म गद्दे. कुछ लोग स्प्रिंग लगे हुए गद्दों पर सोते है किन्तु ऐसे गद्दे गर्दन को झटके देते है जिससे स्लिप डिस्क होने का ख़तरा बना रहता है. इसके अलावा सोते वक़्त अपनी कमर के नीचे कोई तौलिया लगा लें ताकि कमर को सहारा मिलता रहें. सिर को भी साधारण से हल्का उंचा ही रखें. 

·     गर्दन का ध्यान ( Take Care Your Neck ) : जब आपको अपने दायें या बाये देखना हो तो गर्दन के बजाये कमर या शरीर को मोड़ें. गर्दन लटकाकर काम करना भी अनुचित है. इसके अलावा अगर गाडी से लम्बी यात्रा के लिए जा रहें है तो गर्दन के पीछे कुशन लगाएं ताकि गर्दन को सहारा मिल सके.

स्लिप डिस्क से बचने के अन्य उपाय तरीकों के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो.
How to Avoid Slip Disk
How to Avoid Slip Disk

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT