इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Hastrekha Kismat Gyan | हस्तरेखा किस्मत ज्ञान | Palmistry Fortune Knowledge

हस्तरेखा बताएगी भाग्य

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हमारे हाथ में दिखाई देने वाली रेखाएं और हमारे जीवन का गहरा संबंध होता है. अगर हम इन रेखाओं का अध्ययन करे तो हम अपने भविष्य और भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारे में जान सकते है. वैसे तो हाथो की हर रेखा का अलग अलग महत्व होता है. आदमी के मान सामान, पैसे के बारे में सभी जानकारियां भी व्यक्ति के हाथो से ही प्राप्त होती है.

ज्योतिष शास्त्र में हाथो की रेखाओं के अलग अलग क्षेत्र होते है, जिनको हस्तरेखा शास्त्र में हथेली पर्वत कहा जाता है, इन पर्वतो को चुम्बकीय केन्द्र भी कहा जाता है. साथ ही ये भी माना जाता है कि इन चुम्बकीय केंद्रों का हमारे मस्तिष्क से गहरा संबंध होता है और ये हमारे मनोभाव पर नियंत्रण करते है. शास्त्री मोहनमुरारी जी का कहना है कि जब शिशु अपनी माता के गर्भ में होता है उसी वक़्त उसके हाथो  की हथेलियों में लकीरों का जाल बनना प्रारंभ हो जाता है. ये रेखाएं व्यक्ति के जन्म से लेकर उसकी मृत्यु तक रेखाओं के रूप में हाथों में विद्यमान रहती है. इसीलिए इन्हें हस्त रेखाएं भी कहा जाता है. 


माना जाता है कि एक व्यक्ति के जीवन की सभी रेखाएं उसकी 16 वर्ष की उम्र तक बदलती रहती है, किन्तु 16 वर्ष के बाद व्यक्ति के जीवन की 4 प्रमुख रेखाएं ( जीवन रेखा, भाग्य रेखा, हृदय रेखा और मस्तिष्क रेखा ) स्थिर हो जाती है, परन्तु बाकी रेखाएं हमारे कर्मो पर आधारित होती है और ये हमारे कर्मो के आधार पर हमारे जीवन के अंतिम क्षणों तक छोटे बड़े परिवर्तनों के रूप में बदलती रहती है. हस्त रेखाओं को विज्ञान के कर्मो पर आधारित माना जाता है, इसीलिए मनुष्य जैसे कर्म करता है उसकी रेखाओं में उसी आधार पर परिवर्तन होता है. 


जब भी किसी व्यक्ति का हाथ देखा जाता है तो सबसे पहले उस व्यक्ति के हाथ की बनावट को देखा जाता है, उसके बाद उस व्यक्ति के हाथ में ये देखा कि व्यक्ति का हाथ मुलायम है या सख्त. साथ ही पुरुषो का हमेशा दायाँ हाथ देखा जाता है और स्त्रियों का बायाँ. किन्तु अगर कोई पुरुष अपने कार्यो को करने के लिए अपने बाएं हाथ का प्रयोग करता है तो उस स्थिति में पुरुष का बांया हाथ देखा जाता है. इसके अलावा एक मान्यता ये भी है कि हाथ में जितनी कम रेखाएं हो उतना ही अधिक भाग्य साथ देता है और ऐसा हाथ भाग्य की दृष्टी में बहुत ही सुन्दर माना जाता है. तो आओ जानते है हस्त रेखा में वे 4 प्रमुख रेखाएं जिनका हमारे जीवन पर सबसे अधिक प्रभाव होता है. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
Palmistry Fortune Knowledge
Palmistry Fortune Knowledge

·         जीवन रेखा : हमारे हाथ में जीवन रेखा की शुरुआत भाग्य रेखा के उपरी भाग से होती है और ये मणिबंध पर जाकर समाप्त हो जाती है. जीवन रेखा भाग्य रेखा के साथ साथ चलती है, किन्तु कुछ मनुष्य ऐसे भी है जिनके हाथ की हथेली में जीवन रेखा, उनकी हृदय रेखा से निकलती हुई भाग्य रेखा के किसी बिंदु पर जाकर मिलती है. हस्त शास्त्र में जीवन रेखा को तभी उत्तम माना जाता है जब उसे कोई अन्य रेखा न कटे, साथ ही आपकी जीवन रेखा जितनी लम्बी होती है, उतनी ही लम्बी आपके जीवन की अवधि मानी जाती है. अगर आपकी जीवन रेखा को कोई अन्य रेखा न काटे तो आपका जीवन भी सुखमय तरीके से व्यतीत होता है, किन्तु आपकी जीवन रेखा का कटे हुए होना और छोटे होना, आपके जीवन को संघर्षपूर्ण बनता है. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
Hastrekha Kismat Gyan
Hastrekha Kismat Gyan

·         भाग्य रेखा : भाग्य रेखा की शुरुआत हमारी हृदय रेखा के बीच में से होती है और ये भी मणिबंध पर जाकर समाप्त होती है. ये एक सीधी रेखा होती है. अगर आपके हाथ में भाग्य रेखा स्पष्ट रूप से दिखाई देती है तो इसका अर्थ है कि आपका भाग्य आपके साथ है, किन्तु अगर आपकी भाग्य रेखा को कोई अन्य रेखा काट रही है तो आपको भाग्य प्राप्ति में कई रूकावटो का सामना करना पड़ता है. भाग्य रेखा के काटने के पीछे ये भी माना जाता है कि जिस बिंदु पर भाग्य रेखा को कोई दूसरी रेखा काटती है, आपको सिर्फ उसी वर्ष भाग्य में दिक्कते आती है. कुछ लोगो के हाथो में पाया गया है कि उनकी हथेली में भाग्य रेखा ही नही होती, ऐसी स्थिति में वे लोग या तो बिलकुल ही असाधारण हो जाते है या फिर वे बहुत ही भाग्यशाली हो जाते है. भाग्य रेखा के न होने की वजह से ऐसे व्यक्ति कभी भी माध्यम वर्ग का जीवन व्यतीत नही कर पाते.


·         हृदय रेखा : हर व्यक्ति के हाथ की हथेली के ठीक बीच में एक रेखा एक भाग से दुसरे भाग तक लेटी होती है, उस रेखा को हृदय रेखा कहते है. ये या तो बिलकुल सीधी होती है या इसमें थोडा सा घुमाव होता है. साथ ही ये भी माना जाता है कि हृदय रेखा का लहराने का मतलब ये होता है कि आपको आपके जीवन में बीमारियों से पीड़ित रहना पड़ेगा. अगर इस रेखा को किसी दूसरी रेखा ने काटा हुआ है तो आपको हृदयाघात ( Heart attack ) का भी सामना करना पड़ता है. 


·         मस्तिष्क रेखा : वो रेखा जो आपकी उंगलियों के पर्वत और हृदय रेखा के सामानांतर रेखा हो और जो हथेली के एक भाग से दुसरे भाग तक जाती है उसे मस्तिष्क रेखा कहते है. मस्तिष्क रेखा का हथेली के एक भाग से दुसरे भाग तक जाना जरुरी नही होता, ये आपकी हथेली के एक भाग से शुरू होकर आपकी उंगलियों के बीच में जाकर भी समाप्त हो सकती है. ऐसा माना जाता है कि अगर आपकी हृदय रेखा और आपकी मस्तिष्क रेखा एक दुसरे से ना जुड़े तो आपके लिए ये बहुत ही अच्छा होता है और आपका जीवन स्पष्ट और बाधा रहित रहता है. कुछ व्यक्तियों के हाथो में देखा गया है कि उनकी मस्तिष्क रेखा एक छोर पर दो हिस्सों में विभाजित हो जाती है, ऐसे व्यक्ति भ्रमित रहते है और इन व्यक्तियों का स्वभाव भी हमेशा अस्थिर रहता है. 


लाल किताब के अनुसार समुद्र शास्त्र में दिया हुआ है कि किसी भी व्यक्ति की जन्मकुंडली का निर्माण पामिस्ट्री ( Palmistry ) के आधार पर होता है और कुंडली बनाते वक़्त व्यक्ति के ग्रहों के साथ साथ व्यक्ति के हाथो की रेखाओं का भी अहम ध्यान रखा जाता है.   

Hastrekha Kismat Gyan
Hastrekha Kismat Gyan

 Hastrekha Kismat Gyan, हस्तरेखा किस्मत ज्ञान, Palmistry Fortune Knowledge, Hastrekha Gyan, Palmistry Knowledge, हस्तरेखा ज्ञान.



YOU MAY ALSO LIKE 

-   कुंडली में राहू और शनि एक साथ
नियम पालन करेंगे उपाय या कार्य सिद्ध
- चूहे काट  लें तब ये देशी आयुर्वेदिक उपचार करें
- यदि कुत्ता काट ले तो क्या करें
- अपना ब्लॉग वर्डप्रेस पर कैसे बनायें WordPress Blog
- ब्लॉगर से अपना ब्लॉग बनाईये  Blogger Blog

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

1 comment:

  1. I want to know the meaning of light brown spot between Shani and Surya parvat in my right hand

    ReplyDelete

ALL TIME HOT