इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Aloevera Jaisi Sanjivani Buti ke Aayurvedic Prayog | एलोवेरा जैसी संजीवनी बूटी के आयुर्वेदिक प्रयोग

एलोवेरा, ग्वारपाठा (Aloevera)
ग्वारपाठा को अलग – अलग जगहों पर भिन्न – भिन्न नामों से जाना जाता हैं. जैसे – इसे कुछ लोग घीकुवार के नाम से जानते हैं. कुछ क्षेत्रों में इसे रससार, एलुआ तथा मुसब्वर आदि नामों से जाना जाता हैं. ग्वारपाठा को अंग्रेजी भाषा में एलोवेरा कहा जाता हैं. CLICK HERE TO READ MORE ABOUT पहाड़ी फल किवी के फायदे ...
Aloevera Jaisi Sanjivani Buti ke Aayurvedic Prayog
Aloevera Jaisi Sanjivani Buti ke Aayurvedic Prayog
ग्वारपाठा का पौधा (Plant of Aloevera)
ग्वारपाठा एक ऐसा पौधा हैं. जिसमें केवल तना और पत्ते होते हैं. इसमें अन्य पौधों की भांति फल नहीं लगते. इसका तना काफी रसीला भी होता हैं. इस पौधे की लम्बाई करीब 60 से 100 से.मी तक होती हैं. 

ग्वारपाठे की पत्तियां (Aloevera Leaves)
ग्वारपाठे की पत्तियां भालाकार की होती हैं. ये थोड़ी मोटी और मांसल  होती हैं. इनका रंग हरा और हल्का स्लेटी होता हैं. इन पत्तियों पर सफेद रंग के कुछ धब्बे भी पाए जाते हैं. ग्वारपाठे की पत्तियों के किनारे पर सफेद रंग की छोटे – छोटे से काटें की तरह एक लाइन होती हैं. जिसमें से गर्मी के मौसम में हल्के पीले रंग के फूल उत्पन्न होते हैं.

ग्वारपाठे का स्वाद (Taste of Aloevera Leaves)
ग्वारपाठा की पत्तियों में एक प्रकार का जैल पाया जाता हैं जिसका स्वाद खाने में कडवा होता हैं. लेकिन इसका स्वाद कडवा होने पर भी इसका प्रयोग दहीं, द्रव तथा कुछ विशेष प्रकार की मिठाइयाँ बनाने के लिए किया जाता हैं.  

ग्वारपाठे के पौधे में बेशक फल नहीं लगते. लेकिन फिर भी यह पौधा बहुत ही उपयोगी होता हैं. क्योंकि इसका प्रयोग हम विभिन्न प्रकार की समस्याओं से निजात पाने के लिए कर सकते हैं. एलोवेरा का प्रयोग हम कैसे और किस – किस काम में कर सकते हैं. इस बारे में जानकारी नीचे दी गई हैं – CLICK HERE TO READ MORE ABOUT रसभरी खाएं और चिंतामुक्त हो जाएँ ...
एलोवेरा जैसी संजीवनी बूटी के आयुर्वेदिक प्रयोग
एलोवेरा जैसी संजीवनी बूटी के आयुर्वेदिक प्रयोग
ग्वारपाठे का औषधीय प्रयोग (Medicine Uses of Aloevera)
1. बालों की खूबसूरती में वृद्धि (for Hair) ग्वारपाठे का प्रयोग करने से व्यक्ति के बाल मुलायम, खुबसूरत और चमकदार बन जाते हैं. इसका प्रयोग करने से बाल जड़ से मजबूत हो जाते हैं. इससे बालों का झड़ना भी रूक जाता हैं. यह बालों से जुडी परेशानियों से राहत दिलाने के लिए बेहद उपयोगी सिद्ध होता हैं. इससे तैलीय बालों की भी समस्या ठीक हो जाती हैं. यह बालों के स्कैल्प से अतिरिक्त तेल निकाल देता हैं. जिससे बालों को नई शक्ति प्राप्त होती हैं और वो हमेशा चमकदार बने रहते हैं.
Balon ke liye Behatrin Aloevera
Balon ke liye Behatrin Aloevera 
प्रयोग (Use) बालों चमकदार, लम्बे और मुलायम बनाने पाने के लिए आप शिकाकाई तथा आंवले का भी प्रयोग कर सकते हैं. एलोवेरा का प्रयोग करने के लिए एलोवेरा की पत्तियों से जैल निकाल लें और उसे अपने सिर में लगा लें. जैल को सिर में लगाने के लगभग आधे घंटे के बाद अपने सिर को धो लें. एक महीने में यदि दो बार आप इस उपाय को करते हैं तो आपके बालों की खूबसूरती बढ़ जायेगी, ये लम्बे, चमकदार और आकर्षक बन जायेगे. यदि आपके बालों में अधिक रुसी हैं या आपके बाल अधिक गिरते हैं, बाल रूखे हो गए हैं तो एलोवेरा का प्रयोग का आप इन सभी समस्याओं से मुक्ति पा सकते हैं.

2.         गंजापन (Balding) कुछ लोगों के बाल आगे से बिल्कुल झड़ जाते हैं और उनके सिर का आधा भाग बिल्कुल गंजा हो जाता हैं. यदि आप भी इस समस्या से ग्रस्त हैं तो एलोवेरा लें और उसके जैल को अपने सिर के स्कैल्प पर शम्पू की तरह लगा लें. आपको लाभ होगा तथा कुछ ही दिनों में आपके बाल आ जायेंगे.
Aloevera Sanjivani Booti
Aloevera Sanjivani Booti 
3. प्राकृतिक एलोवेरा शैम्पू (Natural Aloevera Shampoo) आज कल एलोवेरा के शैम्पू बाजार में आसानी से मिल जाते हैं. लेकिन बाजार में मिलने वाले शैम्पू में कैमिकल की अत्यधिक मात्रा मिलाई जाती हैं. जिससे बालों पर इसका साइड इफेक्ट पड़ने का भी भय रहता हैं. यदि आप इन हानिकारक कैमिकल के प्रभाव से बचना चाहते हैं और साथ ही एलोवेरा का प्रयोग भी करना चाहते हैं तो घर पर ही एलोवेरा का शैम्पू बनाने के लिए एलोवेरा का जूस लें, दूध ले, तेल, नारियल और गेहूं लें. अब इन सभी सामग्रियों को एक साथ मिलाकर इसका प्रयोग शैम्पू की भांति करें और लगभग आधे घंटे बाद अपने सिर को पानी से धो लें. घर पर बनाये गये इस शैम्पू का प्रयोग करने से आपके सिर के बालों पर तथा आपके स्कैल्प पर इस शैम्पू का कोई अतिरिक्त प्रभाव नहीं पड़ेगा, इसका प्रयोग आप बिना डरे कर सकते हो. इस शैम्पू का प्रयोग करने से आपके सिर पर नए, मजबूत, घने बालों की वृद्धि होगी.

4. झुर्रियां (Wrinkles) – त्वचा के लिए भी ग्वारपाठा बहुत ही फायदेमंद होता हैं. चेहरे पर झुर्रियां पड़ने से कोई भी व्यक्ति अपनी उम्र से पहले ही बुढा दिखने लगता हैं. चेहरे की झुर्रियों से छुटकारा पाने के लिए आप एलोवेरा का प्रयोग कर सकते हैं. एलोवेरा का जैल लगाने से चेहरे की त्वचा अंदर तक मॉइश्‍चराइज हो जाती हैं. जिससे मुंह की त्वचा चमकदार और सुन्दर बन जाती हैं. इसके अलावा ग्वारपाठे का रस चेहरे की त्वचा को टाइट बनाता हैं. यदि ग्वारपाठे के जैल का प्रयोग नियमित रूप से किया जाए. तो इससे त्वचा में हाइड्रेट की उपस्थिति बनी रहती हैं. क्योंकि ग्वारपाठे के जैल में विटामिन “सी” और “के” की मात्रा पाई जाती हैं
Dhritkumari Prayog kar Jhuriyon Kil Munhasen Dur Karen
Dhritkumari Prayog kar Jhuriyon Kil Munhasen Dur Karen
5.       कील मुंहासे (Acne)  यदि आपके चेहरे पर कील मुंहासे अधिक संख्या में जिससे आपके चेहरे की सुन्दरता कहीं छिप सी गई हैं. तो इन कील मुंहासों से राहत पाने के लिए भी आप एलोवेरा का प्रयोग कर सकते हैं. एलोवेरा मुंह की त्वचा के लिए एक स्किन टोनर का काम करता हैं. चहरे को आकर्षक और चमकदार बनाने के लिए एलोवेरा का जैल लें और उसमें मुल्तानी मिटटी और चदन पाउडर मिला लें. आपके चहरे की रौनक लौट आएगी औएर कील मुंहासे ठीक हो जायेंगे.

6.कोमल और नर्म त्वचा (Soft Skin) – यदि आपके चेहरे की स्किन अधिक रुखी और टाइट हैं तो चहरे की त्वचा को नर्म और मुलायम बनाने के लिए थोडा सा गुलाब जल लें और उसमें एलोवेरा का रस मिला लें. इसके बाद इस रस को अपने चेहरे पर लगायें. आपके चेहरे की त्वचा नर्म और मुलायम हो जायेगी.

7.      गर्मी से बचने के लिए (For Avoid Heat) गर्मी के चलने वाली तेज गर्म हवाओं के प्रभाव से बचने के लिए भी आप एलोवेरा का प्रयोग कर सकते हैं. लू से बचने के लिए एक गिलास ठंडा नारियल पानी लें और उसमें चार चम्मच ग्वारपाठे का गूदा या रस मिला लें. इसके बाद इस पानी का सेवन करें. नियमित रूप से इस पानी का सेवन करने से आप पर गर्मी के मौसम की तेज धूप और गर्म हवाओं का प्रभाव नहीं होगा.
Aloevera Rog  Dur Karen
Aloevera Rog  Dur Karen
8. बवासीर, गर्भाशय एवं मधुमेह का रोग (Piles, Uterus And Diabetes Disease) – यदि इन तीनों रोगों में से किसी भी एक रोग से व्यक्ति पीड़ित हैं तो उस व्यक्ति को रोजाना एक गिलास एलोवेरा का जूस पीना चाहिए. क्योंकि एलोवेरा का जूस पीने से मनुष्य के पेट के सभी विकार समाप्त हो जाते हैं और उसे इन सभी रोगों से राहत मिल जाती हैं.


9. कब्ज (Constipation) – अगर आपको पेट में गई बनने की समस्या रहती हैं तो इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए रोजाना सुबह उठने के बाद ग्वारपाठे की पत्तियों के रस का सेवन करें. आपको कुछ ही दिनों में कब्ज की समस्या से मुक्ति मिल जायेगी.

10 फोड़े – फुंसी (Boils) – कई बार बारिश, अत्यधिक गर्मी पड़ने के कारण होने वाली उमस से या गंदे पानी के सम्पर्क में आने के कारण फोड़े फुंसियाँ हो जाती हैं. इन फोड़ों और फुंसियों को ठीक करने के लिए भी आप एलोवेरा का इस्तेमाल कर सकते हैं. फोड़ा या फुंसी होने पर रोजाना दिन में कम से कम चार बार ग्वारपाठे के रस को इस पर लगायें. फोड़े फुंसी ठीक हो जायेंगे.  


11.      स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks) स्ट्रेच मार्क्स तथा त्वचा से जुड़े हुए अन्य रोगों के लिए भी एलोवेरा बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता हैं. एलोवेरा में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जिनसे त्वचा पर पड़े स्ट्रेच माक्स गायब हो जाते हैं. यदि आपके शरीर के किसी भी भाग पर स्ट्रेच मार्क्स हैं तो इसके लिए एलोवेरा का ताजा गूदा लें या एलोवेरा का जूस लें और इससे स्ट्रेच मार्क्स वाली त्वचा की मालिश करें. एलोवेरा के रस या गुदे में एंजाइम भी मौजूद होते हैं जिससे जब आप त्वचा की मालिश करते हैं ये एंजाइम त्वचा की डेड स्किन को हटा देते हैं और त्वचा को हाइड्रेट करते हैं जिससे एक नई और कोमल त्वचा आती हैं. 
Stretch Marks Hatayen Aloevera
Stretch Marks Hatayen Aloevera
12.      मेक अप (Makeup) जो महिलाएं मिनरल्स युक्त मेक अप करती हैं. उनके लिए एलोवेरा बहुत ही फायदेमंद साबित होता हैं. रोजाना मेक अप करने के कारण कारण कुछ महिलाओं की त्वचा बिल्कुल रुखी हो जाती हैं. जिससे मेकअप के बिना उनके चेहरे की खूबसूरती खो सी जाती हैं. यदि आप मेक अप के बिना भी खुबसूरत दिखाना चाहती हैं तो इसके लिए रोजाना अपने चहरे पर एलोवेरा का जैल लगायें. एलोवेरा के जैल को रोजाना चेहरे पर लगाने से चेहरे का रूखापन दूर हो जाता हैं. एलोवेरा चेहरे की त्वचा की त्वचा को हानि नहीं पहुँचने देता तथा जिन तत्वों से चेहरे की त्वचा को नुकसान पहुँचता हैं, उन हानिकारक तत्वों के प्रभाव को यह नष्ट कर देता हैं, चेहरे की त्वचा को नई ऊर्जा और नई शक्ति प्रदान करता हैं. इसका प्रयोग करने से एक फायदा यह भी होता हैं कि इससे बुढ़ापा जल्दी नहीं झलकता और शरीर की नस – नाड़ियाँ साफ रहती हैं.

13.      एलोवेरा का फेस पैक बनाने की विधि (Face Pack) आप घर पर एलोवेरा का फेस पैक भी बना सकते हैं. एलोवेरा का फेस पैक बनाने के लिए एक एक चुटकी हल्दी, एक चम्मच शहद, एक चम्मच दूध और थोडा गुलाब जल लें. इसके बाद इन सभी पदार्थों को एक साथ मिला लें. अब एलोवेरा का जैल लें और उसे भी इन पदार्थों के मिश्रण में मिला लें. अच्छी तरह से सभी पदार्थों को मिलाने के बाद इसे अपने फेस पर तथा गर्दन पर लगायें और चेहरे की हल्के हाथ से मसाज करें. 15 से 20 मिनट के बाद ठंडा पानी लें और इस पानी से अपने चेहरे को धो लें. इस फेस पैक को लगाने से बाद आपके चेहरे की रंगत बदल जायेगी और आपका चेहरा पहले से ज्यादा आकर्षक और सुन्दर बन जाएगा.

14.      सन टेनिंग हटाने के लिए (Sun Tanning) गर्मी के दिनों में अक्सर सूर्य की तेज किरणों के कारण लोगों की त्वचा पर टेनिंग हो जाती हैं. इस टेनिंग को दूर करने के लिए नींबू के रस की कुछ बुँदे एलोवेरा के रस में मिला लें. इसके बाद इस रस को सन टेनिंग से प्रभावित त्वचा पर लगाकर करीब 20 से 25 मिनट रक छोड़ दें. आपकी स्किन पर से कालापन हट जाएगा.
 Ghar Par Aloe Vera ka Shampoo Face Pack Banayen
 Ghar Par Aloe Vera ka Shampoo Face Pack Banayen
15.पिग्मन्टेशन मार्क्स के लिए फेस पैक (Face Pack For Pigmentation Marks) - पिग्मन्टेशन मार्क्स को हटाने के लिए एलोवेरा के जैल में गुलाब जल मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें. इसके बाद इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाकर करीब 20 से 25 मिनट रखें. इसके बाद अपने चेहरे को ठन्डे पानी से धो लें. करीब एक हफ्ते तक लगातार इस पेस्ट को लगाने से पिग्मन्टेशन मार्क्स ख़त्म हो जायेंगे.
    

एलोवेरा के अन्य प्रयोगों के बारे में जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हैं.
Gvarapatha ke Fayde Labh Benefits
Gvarapatha ke Fayde Labh Benefits
Aloevera Jaisi Sanjivani Buti ke Aayurvedic Prayog, एलोवेरा जैसी संजीवनी बूटी के आयुर्वेदिक प्रयोग, एलोवेरा, Aloevera, Gvarapatha ke Fayde Labh Benefits, Ghar Par Aloe Vera ka Shampoo Face Pack Banayen, Dhritkumari Prayog kar Jhuriyon Rog or Kil Munhasen Dur Karen, Balon ke liye Behatrin Aloevera, Stretch Marks Hatayen Aloevera, Sanjivani Booti, संजीवनी बूटी




YOU MAY ALSO LIKE  

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT