इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Vajan Kam Karna Hai to Surya Mudra Karen | वजन कम करना है तो सूर्य मुद्रा करें | Do Surya Mudra to Reduce Weight

सूर्य मुद्रा ( Sun Posture or Surya Mudra )
योगसन और योग मुदा दोनों का ही जीवन में अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है, दोनों ही शारीरिक के साथ साथ आध्यात्मिकता की तरफ लेकर जाते है. किन्तु इनमें कुछ अंतर भी है जैसेकि योगासन में हमे अपने पुरे शरीर का उपयोग कर भिन्न भिन्न आसन करने पड़ते है तो वहीं योग मुद्रा में मात्रा हाथों की उँगलियों का प्रयोग होता है जिनकी मुद्राएँ बनाकर ध्यान लगाना होता है. शास्त्रों के अनुसार हाथों की पाँचों ऊँगली पंचतत्वों की प्रतिक होती है और हर ऊँगली में एक तत्व निहित होता है जिसे जाग्रत करने के लिए उस ऊँगली को एक मुद्रा में साधा जाता है. तो आओ आज सूर्य मुद्रा के बारे में जानते है और जानते है कि सूर्य मुद्रा करने के लिए किन उँगलियों से मुद्रा बनाई जाती है और ये किस तरह शरीर के लिए लाभदायी सिद्ध होती है. CLICK HERE TO KNOW रोज 15 मिनट पृथ्वी मुद्रा से फ्री में वजन बढायें ... 
Vajan Kam Karna Hai to Surya Mudra Karen
Vajan Kam Karna Hai to Surya Mudra Karen
जैसाकि हमने बताया कि योग मुद्रा कई प्रकार की होती है लेकिन सूर्य मुद्रा इनमे से बहुत ही अलग और फायदेमंद है. अनामिका अर्थात सूर्य की ऊँगली, इसे हम इंग्लिश में रिंग फिंगर के नाम से भी जानते है का सम्बन्ध सौरमंडल में स्थित सूर्य और यूरेनस ग्रह से भी माना जाता है और ये तो सब जानते है कि सूर्य शरीर में उर्जा और स्वास्थ्य का प्रतिनिधि है वहीँ यूरेनस ग्रह कामुकता, अंतर्ज्ञान और बदलाव का प्रतिनिधित्व करता है.

सूर्य मुद्रा कैसे करें ( How to Do Sun Posture or Mudra ) :
·         स्टेप 1 ( Step 1 ) : सबसे पहले नहा लें और स्वच्छ कपडे पहने, एक आसन लगाएं और पद्मासन की अवस्था में बैठ जाएँ. ध्यान को भटकने न दें और शांत रहें.

·         स्टेप 2 ( Step 2 ) : अब अपनी सूर्य ऊँगली अर्थात रिंग फिंगर को मोड़ते हुए अंगूठे के नीचे मतलब उसकी जड़ पर स्पर्श कराएं. बाकी रही तीन उंगलियो को सीधा रखे साथ ही अपनी कमर को भी सीधा कर लें, इसे मुद्रा को Suryamudra ( सूर्य मुद्रा ) कहते है.

·         स्टेप 3 ( Step 3 ) : ध्यान रहें कि सूर्यमुद्रा को रोजाना तक़रीबन 8 से 10 मिनट तक ही करे, अगर आप इससे अधिक समय तक इस मुद्रा में रहते हो तो इससे आपके शरीर में तापमान बढ़ने लगता है और आप बीमार भी हो सकते है. इसलिए इस बात को ध्यान में रखे कि इस आसन को ज्यादा देर तक ना करे. लेकिन सर्दियो में आप इस आसन की समय सीमा को बढ़ा सकते हो इससे आप गर्म महसूस करोगे. CLICK HERE TO KNOW पृथ्वी मुद्रा और उसके लाभ ...
वजन कम करना है तो सूर्य मुद्रा करें
वजन कम करना है तो सूर्य मुद्रा करें
सूर्य मुद्रा करने के लाभ ( Benefits of Sun Posture ) :
·         वजन कम करे ( Reduces Obesity ) : सूर्य मुद्रा करने से आधुनिक युग की सबसे बड़ी समस्या अर्थात बढे हुए वजन को कम करता है. इससे शरीर संतुलित और व्यक्तित्व आकर्षक बनता है.

·         कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करें ( Controls Cholesterol ) : अगर रोजाना इसका अभ्यास किया जाए तो ये शरीर के कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने नहीं देता.

·         सुजन दूर करे ( Removes Swelling ) : अक्सर मोटापे के कारण शरीर के अनेक हिस्सों में सुजन हो जाती है किन्तु ये उपाय मोटापे के साथ साथ इस सुजन को भी दूर करता है और यही वजह है कि इसको एक चमत्कारी तकनीक भी माना गया है.

·         महिलाओं के लिए उत्तम ( Good for Women ) : कई औरतो को बच्चा होने के बाद सुजन रह जाती है. उस सुजन को दूर करने के लिए महिलाओ को ये क्रिया अपनानी चाइये.
Do Surya Mudra to Reduce Weight
Do Surya Mudra to Reduce Weight
·         ऊर्जा प्रदान करें ( Gives Energy ) : इस मुद्रा में बहुत तरह के चमत्कारी गुण मिले हुए है जिसका प्रयोग करके इंसान अपने रोगों से मुक्ति पा सकता है. इसकी मदद से हमारे शरीर में उर्जा का संचार बढता है और एक नई तरह की उमंग और ताजगी शरीर में प्रवेश करती है.

·         स्लिम बनाये ( Makes you look Slim Trim ) : जो लोग शरीर से कमजोर है उन लोगों को इस मुद्रा का अभ्यास नही करना करना चाहिये वर्ना वे और भी अधिक पतले हो जायेगे, लेकिन अगर वे स्लिम ट्रिम होना चाहते है तो इसका अभ्यास कर सकते है.

·         अंतर्ज्ञान प्रदान करे ( Increase Inner Power and Knowledge ) : ये मुद्रा इंसान के शरीर को समझने की उर्जा प्रदान करती है. इस आसन से इंसान को अंतर्ज्ञान प्राप्त होता है. साथ ही ये दिमाग को शांत कर बैचनी और चिंता से भी छुटकारा दिलाता है.

·         पाचन शक्ति बढाए ( Improve Digestive System ) : अगर इस मुद्रा का अभ्यास रोजाना प्रातःकाल किया जाए तो पाचन संबंधी सभी रोग दूर हो जाते है.

·         चुस्त दुरुस्त रखें ( Makes Healthy and Disease Free ) : ये मुद्रा शरीर को चुस्त दुरुस्त रखती है गर्मियों में इसका अभ्यास करने से पहले एक ग्लास पानी अवश्य पी लें. ताकि शरीर में जल्दी गर्मी ना बनें.  

सूर्य मुद्रा या किसी अन्य मुद्रा को करने की विधि और उसके लाभों के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो.
सूर्य मुद्रा करने की विधि और लाभ
सूर्य मुद्रा करने की विधि और लाभ

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT