इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Bigdi Takdeer Banane Vale Chamatkaari Kainchi Dhaam ke Neeb Kairoli Baba | बिगड़ी तकदीर बनाने वाले चमत्कारी कैंची धाम के नीब कैरोली बाबा

कैंची धाम के नीब करौली बाबा ( Saint Neeb Kairoli of Canchi Hermitage )
उत्तराखंड को देवभूमि यानि के देवों की भूमि भी माना जाता है क्योकि यहाँ अनेक देवी देवताओं के मंदिर और अनेकों धाम मिलेंगेइन सब धामों के बीच में एक ऐसा धाम है जिसे कैंची धाम के नाम से जाना जाता हैयह इस प्रकार का तीर्थस्थल है, जहां पुरे साल श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती हैश्रद्धालुओं का विश्वास है कि यहाँ पर की गयी पूजा कभी व्यर्थ नही जातीकहा जाता है कि सच्ची भक्ति और श्रद्धा से यहाँ मांगी गयी हर मुराद पूरी हो जाती हैइसीलिए यहाँ साल में एक बार बहुत बड़े स्तर पर मेले और भंडारे का आयोजन भी किया जाता है और यह भंडारा हर साल 15 जून के दिन रखा जाता है. CLICK HERE TO KNOW स्त्रियों को गर्भवती बनाने वाला मंदिर ...
Bigdi Takdeer Banane Vale Chamatkaari Kainchi Dhaam ke Neeb Kairoli Baba
Bigdi Takdeer Banane Vale Chamatkaari Kainchi Dhaam ke Neeb Kairoli Baba
कैंची धाम का नामकरण ( Naming of Kainchi Dhaam ) :
कैंची धाम नैनीताल जिले के भवाली गांव में अल्मोड़ा और रानीखेत राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित हैकैंची धाम नाम सुने में अजीब सा लगता है लेकिन इस नाम के पड़ने का एक कारण है कि यहाँ की एक ऐसी सड़क है जिसमें दो बहुत ही खतरनाक मोड़ हैये मोड़ एक कैंची की भांति प्रतीत होता हैपर फिर भी कभी कोई खतरनाक दुर्घटना नहीं घटीमाना जाता है कि हनुमान जीसीताराम और मां दुर्गा के मंदिर इस कैंची धाम में उपस्थित होने के कारण कभी कोई दुर्घटना नही होती.

नीब करौली महाराज जी का कैंची धाम से सम्बन्ध ( Relation of Saint Neeb Kairoli and Kanchi Dhaam :
कैंची धाम एक ऐसे व्यक्ति के नाम से भी प्रसिद्ध हैं जिनका नाम है नीब करौली बाबाकैंची धाम बाबा नीब करौली की महिमा के लिए जाना जाता हैनीब करौली बाबा का जन्म ब्राह्मण परिवार में उत्तरप्रदेश के एक अकबरपुर नामक गांव में हुआ थाजब बाबा की आयु 11 वर्ष थी तभी उनका विवाह हो गया थाबाबा ने गृहस्थ जीवन को तो जिया परंतु कुछ सालों के बाद ही उन्होंने गृहस्थ जीवन को त्याग दिया. 17 वर्ष की आयु तक उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हो चुकी थी.

बाबा हमेशा ही कंबल ओढ़े रहते थेहनुमान जी के बहुत बड़े भक्त थे नीब करौली बाबाबाबा ने अपने समस्त जीवन काल में अनेकों मंदिरों का निर्माण करवायाजिनकी संख्या 108 के करीब हैवृंदावन की पवित्र भूमि को बाबा ने अपनी समाधी के लिए चुनाबाबा ने अपना शरीर 10 सितंबर 1973 को त्याग दियाकैंची धाम की भूमि में नीब करौली महाराज जी ने सन 1962 में कदम रखा थाकथाओं के अनुसार नीब करौली महाराज जी में कई दिव्य शक्तियां थीं जिनसे महाराज जी ने अनेकों चमत्कारी लीलाएं रची थी. CLICK HERE TO KNOW राजस्थान का शीतला माता मंदिर रहस्य ...
बिगड़ी तकदीर बनाने वाले चमत्कारी कैंची धाम के नीब कैरोली बाबा
बिगड़ी तकदीर बनाने वाले चमत्कारी कैंची धाम के नीब कैरोली बाबा
कैंची धाम की स्थापना ( Foundation of Canchi Dham :
कैंची मंदिर शिप्रा नदी पर स्थित है और इसकी स्थापना के पीछे भी एक अनसुनी कहानी जुडी हुई हैजिसके अनुसार सन 1942 में कैंची के एक निवासी पूर्णानंद तिवारी हुआ करते थेउस समय यातायात के साधनों की कमी हुआ करती थी इसलिय पूर्णानंद तिवारी पैदल ही रानीखेत से गठिया होते हुए कैंची की और लौट रहे थेतभी उन्हें एक व्यक्ति कंबल ओढ़े दिखापूर्णानंद तिवारी उस व्यक्ति को जानते नहीं थे इसलिए डर गएकंबल ओढ़े उस व्यक्ति ने बिना किसी से जाने पूर्णानंद को नाम से पुकारा और उनके वहां इस समय आने का कारण भी बता दियाइतना सुनकर पूर्णानंद तिवारी और भी डर गए कि यह व्यक्ति कौन है जो उनके बारे में सब कुछ जानता हैपूछे जाने पर उन्होंने अपना नाम नीब करौली महाराज बतायादोनों के बीच कुछ देर बात हुईफिर बाबा ने पूर्णानंद को बिना डर के आगे बढ़ने को कहालेकिन जब पूर्णानंद तिवारी ने दुबारा फेंट होने के बारे में पूछातब बाबा ने कहा कि 20 साल के बाद फिर से फेंट होगीइतना कहते ही बाबा अदृश्य हो गए.

समय गुजरता रहा और पुरे 20 साल के बाद बाबा नीब करौली महाराज अपने साथियों के साथ रानीखेत से नैनीताल जा रहे थेरास्ते में जब कैंची तक पहुंचेतभी बाबा जी रुक गए और कुछ देर तक उसी स्थान पर बैठे रहे जहाँ पर 20 साल पहले बैठे थेबाबा ने वहां पर बैठकर अपनी पुरानी बात बताई और उस स्थान पर जाने की इच्छा बताई जहाँ साधु प्रेमी बाबा और सोमवारी महाराज ने वास किया थाजहां वर्तमान में कैंची मंदिर स्थित है. वहां पर बाबा ने अपने पवित्र कदम 24 मई 1962 को रखेइस तरह से बाबा ने कैंची पहुँच कर कैंची धाम की स्थापना कीबाबा ने घास और जंगल के बीच में घिरे चबूतरे और हवन कुंड को ढकने का आदेश दिया जहाँ हवन किया जाता थासोमवारी बाबा ने इसी चबूतरे पर वास किया थाआज इस चबूतरे की जगह पर हनुमान जी का मंदिर है और इस मंदिर में सोमवारी बाबा के अवशेष पाये जाते हैंइस मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति स्थापित की गयी और तभी से 15 जून 1964 को कैंची धाम की स्थापना हुई.
महाराज नीब कैरोली कथा
महाराज नीब कैरोली कथा
मान्यताएं ( Recognition :
फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग और एप्पल के संस्थापक स्टीव जॉब्स दोना का मार्गदर्शन करने वाले नीब करौलो बाबा ही थेजब फेसबुक का दौर मुश्किल के दिनों में चल रहा थातब स्टीव जॉब्स की सलाह पर मार्क जुकरबर्ग कैंची धाम आश्रम के में आए और दो दिन तक यहाँ रुकेयहाँ उनके रुकने से उनके व्यापार में उन्हें काफी मदद मिली और तब से उन्हें सफलता प्राप्त होने लगीइस तरह से उन्होंने कभी भी पीछे मुड़ कर नही देखायही नही हॉलीवुड की एक मशहूर अभिनेत्री जूलिया राबट्र्स भी अपने मुश्किल दौर में नीब करौली बाबा की शरण में आ चुकी हैये सब कैंची धाम में अपार सफलता प्राप्त करने के लिए आये और अपने जीवन में सफलता प्राप्त की भी.

नीब करौली धाम की अनसुनी कहानी ( Untold Story of Neeb Kairoli Dhaam :
इस धाम से कई तरह की रोचक कहानियां जुडी हुई हैयह धाम शिप्रा नदी के तट पर स्थित हैयह बात उस समय की है जब 15 जून को एक विशाल भंडारे का आयोजन किया गया थाअनेकों तरह के पकवान बनाये जा रहे थे इस दौरान घी की कमी हो गयीजब यह बात बाबा को पता चली तो उन्होंने प्रसाद बनाने के लिए पास की शिप्रा नदी के पानी का उपयोग करने को कहाजैसे ही पानी प्रसाद में डलापानी घी में परिवर्तित हो गयातभी से नीब करौली बाबा अपनी दिव्या शक्ति के लिए प्रसिद्ध हो गए.

कैंची धाम के नीब कैरोली धाम और ऐसे ही अन्य चमत्कारी स्थलों के बारे में अधिक जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
Canchi Dhaam Naamkaran Sthapnaa Manyata
Canchi Dhaam Naamkaran Sthapnaa Manyata

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT