इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Khaansi ki Chikitsa | खांसी की चिकित्सा | Ayurvedic Treatment for Dry Cough

खांसी की चिकित्सा
खांसी गले के एक ऐसा रोग है मानो ज्यादा समय तक हो जाये तो फांसी के समान ही लगने लगती है. खांसी अन्य रोगों के साथ और गंभीर होती है. जैसे किसी को बुखार हुआ हो तो खांसी भी हो जाती है. आयुर्वेद में इस रोग की चिकित्सा के तरीके भी निजात किये हुए है.

आयुर्वेद में खांसी के प्रकारों की जिक्र है जो इस तरह से है :
1.       वातज
2.       पित्तज
3.       कफज
4.       उरक्षत जन्य कास या  खांसी
5.       क्षयकास ( धातुक्षय होने से होने वाली खांसी ). CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
Ayurvedic Treatment for Dry Cough
Ayurvedic Treatment for Dry Cough

वातज में खांसी के प्रकार इस तरह से होती है कि उनका दर्द शरीर के कुछ हिस्सों में होता है जैसे हृदय में दर्द, इसके साथ शरीर के बाकी हिस्सों में भी बहुत दर्द होता है जैसे कि कनपटी, पसली, उदार, और सर में. इस प्रकार की खांसी में मुख सुख जाता है. ठीक से बोलने में भी परेशानी होती है और खांसी सुखी होती है बिना कफ वाली होती है.

पित्तज प्रकार की खांसी में लक्षण विपरीत होते है. इस प्रकार की खांसी में साइन में दर्द होता है, खांसी होने पर बुखार भी महसुस होता है. मुह हमेशा कडवा रहता है. खाने में स्वाद का अनुभव भी नहीं होता. कभी कभार उल्टी भी हो  सकती है. मुह पर पीलापन आ जाता है.

कफज खांसी में सर में बहुत दर्द रहता है, व्यक्ति खाने में रूचि नहीं लेता है, हर समय शरीर भारी भारी सा लगता है. खांसी के साथ मुंह से कफ गिरता है जो बहुत ही बुरा लगता है. CLICK HERE TO READ MORE SIMILAR POSTS ...
Khaansi ki Chikitsa
Khaansi ki Chikitsa
उरक्षत जन्य कास में खांसी के कारण फेफड़ो में घाव हो जाते है. इस तरह की खांसी में छोटे छोटे काम करने से जिनमे थोडा परिश्रम करना पड़ता उनमे भी खांसी बार बार उठती है, जैसे की अधिक वजन उठाने से, ज्यदा देर तक पैदल चलने से, अधिक मैथुन करने से. शुरुआत में खांसी सुखी होती है परन्तु ज्यादा देर तक रहने से खांसी के साथ खून निकलने लगता है. इसके कारण ऐसा अनुभव होता है जैसे शरीर में सुई चुभ रही हो. इसके अलावा सरे शरीर में दर्द रहता है जैसे गले में, हृदय मे, इसके साथ ही बुखार और प्यास का अनुभव भी होता है. गले में घरघराहट होती है.

  क्षयकास में शरीर काफी कमजोर हो जाता है, शरीर के ज्यादातर अंगो में दर्द रहता है. बुखार भी कभी कभी हो जाता है, खांसी सुखी होती है और कभी कभी जोर से खांसने पर कफ की जगह पर खून भी निकल आता है. इसमें शरीर में काम कारने की शक्ति काफी कम हो जाती है और शरीर टुटा सा रहता है.

हम आपको एक लाभकारी योग के बारे में बताने जा रहे है जो सभी प्रकार की खांसी में लाभकारी होती है इस प्रकार है :

सत मुलहठी, वंशलोचन व् छोटी इलायची के 10 – 10 ग्राम दाने ले, अब इनमे दालचीनी, कीकर का गोंद, कतीरा गोंद, लेकर इनकी 5 – 5 ग्राम मात्रा लेकर व् इनके साथ छोटी पीपल 2 ग्राम लेकर बारीक कूट ले. अब इनको छान ले और इसमें शहद मिलकर रख दे. अब इस बनी हुयी दवाई के लिए शीशे या कांच दोनों में से कोई भी हो उसमे रख ले. इस औषधि को आप दिन में तीन से चार बार इस्तेमाल करे और इसके मात्र केवल 2 से 3 ग्राम तक ही ले. इससे आप पुरानी से पुरानी खांसी का इलाज मिनटों में कर सकते है. और कसी भी प्रकार की सुखी खांसी में तो यह बहुत ही असर् दारक है. तो अब आपको किसी भी प्रकार की खांसी से डरने की जरुरत नहीं है. आप इसका इलाज स्वयं ही कर सकते है.
 
खांसी की चिकित्सा
खांसी की चिकित्सा



 Khaansi ki Chikitsa, खांसी की चिकित्सा, Ayurvedic Treatment for Dry Cough, Khaansi ke Prkar, खांसी का आयुर्वेदिक इलाज, Khaansi ka  Ayurvedic Ilaaj, Dry Cough.




YOU MAY ALSO LIKE  

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT