इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

SUBSCRIBE FOR ALL SCIENCE EXPERIMENTS. KIDS AND YOUNG STUDENTS CAN LEARN BETTER FROM THESE PRACTICAL EXPERIMENTS OF SCIENCE:


https://www.youtube.com/channel/UCcXJEycifFbZEOS2PHNAZ9Q

विज्ञानं की सभी ज्ञानवर्धक प्रक्टिकाल्स के लिए अभी सब्सक्राइब करें दिए गये इस चैनल को

Agar Nayi Maa ke Stan mein Dudh na Bane to | अगर नयी माँ के स्तन में दूध ना बने तो | Lack of Milk for Breast Feeding

अगर स्त्री के स्तन में दूध ना बने तो ( Remedies That Increase Milk Supply for Breastfeeding )
जब कोई माता अपने अंश अर्थात अपने शिशु को जन्म देती है तो वो उसके जीवन का सबसे खुशनुमा पल होता है. किन्तु जब से वो बच्चा अपने माँ के गर्भ में आता है तब से ही माँ को उसके प्रति अनेक दायित्वों और कर्तव्यों को पूरा करना होता है, इसी तरह जब बच्चा जन्म लेता है तो माँ का सबसे अहम दायित्व होता है कि वो अपने बच्चे को स्तनपान कराएं, क्योकि माता का दूध ही बच्चे की खुराक और शक्ति होता है. शुरुआत में करीब 10 15 दिनों तक तो माँ को पीला दूध होता है जो बच्चे के दिमाग के लिए, उसके स्वास्थ्य के लिए और उसके विकास के लिए बहुत जरूरी होता है. लेकिन कुछ महिलाओं के साथ कुछ ऐसी विडंबना हो जाती है कि उनके स्तनों में दूध ही नहीं आता और आता है तो बहुत कम आता है. CLICK HERE TO KNOW बेडौल स्तन को सुडौल बनायें ... 
Agar Nayi Maa ke Stan mein Dudh na Bane to
Agar Nayi Maa ke Stan mein Dudh na Bane to
माता के स्तनों में दूध ना आना बच्चे के विकास पर बहुत बुरा असर डालता है, ऐसे में सबसे बड़ा सवाल ये उठता है कि अगर शिशु की माँ के स्तनों में दूध ना आयें तो वो पियेगा क्या? उसके शरीर की आवश्यकता कैसे पूरी होगी? उसको अपने जीवनयापन के लिए जरूरी पौषक तत्व जो माँ के दूध से मिलते है वो कैसे मिलेंगे? बिना दूध उसका स्वास्थ्य कैसा होगा? इत्यादि. इन सवालों का जवाब सिर्फ और सिर्फ आयुर्वेद के पास है जिसमें कुछ ऐसे उपाय बताएं गएँ है जिनको अपनाकर नवजात शिशु को वो सब पौषक तत्व दिए जा सकते है जो उन्हें उनकी माँ के दूध से मिलते है. ऐसे ही कुछ आयुर्वेदिक उपाय आज हम आपको बता रहे है.

§ शतावर और दूध ( Asparagus and Milk ) : अगर माता को कम दूध आता है तो उनको 1 ग्लास दूध में 2 ग्राम शतावर मिलाकर देना चाहियें, ये उनके स्तनों में दूध की मात्रा में इजाफा करता है और माता को भरपूर दूध आता है, जिसे पीकर बच्चा अपनी भूख को भी मिटा सकता है और पौषक तत्वों को भी पा सकता है. CLICK HERE TO KNOW स्तन घटाने के आयुर्वेदिक उपाय ... 
अगर नयी माँ के स्तन में दूध ना बने तो
अगर नयी माँ के स्तन में दूध ना बने तो
§ शतावर और अश्वगंधा ( Asparagus and Ashwagandha ) : ठीक इसी तरह आप अश्वगंधा, रुद्रवंती और शतावर को बराबर मात्रा में मिलाकर एक चूर्ण तैयार करें और उसको रोजाना दिन में दो बार ( सुबह और शाम ) 2 3 ग्राम की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ लें.

§ शतावर और पिप्पली ( Asparagus and Long Pepper ) : बच्चे को हष्ट पुष्ट रखने के लिए और माता के स्तनों में दूध की मात्रा को बढाने के लिए माता को नियमित रूप से 2 ग्राम शतावर का चूर्ण और 1 ग्राम पिप्पली का चूर्ण मिलाकार लेना है.

§ शतावर और मुलहेठी ( Asparagus and Liquorices ) : वे माताएं जो इस समस्या से पीड़ित है उन्हें मुलहेठी और शतावर के पाउडर को दूध में पकाना है और उस दूध को पीना है. इस तरह उनके स्तनों में दूध बनने लगता है और इस दूध को पीकर बच्चा भी स्वस्थ रहता है और उनके दिमाग का शीघ्र विकास होता है.
Lack of Milk for Breast Feeding
Lack of Milk for Breast Feeding
§ शतावर और कदम्ब का फल ( Asparagus and Kadamb Tree Fruit ) : कदम्ब का पेड़ आयुर्वेद में अनेक रोगों से मुक्ति के लिए प्रयोग में लाया जाता है और अगर इसके फलों का चूर्ण और शतावर का चूर्ण बराबर मात्रा में मिलाकर प्रयोग किया जाएँ तो ये उन माताओं के लिए बहुत लाभदायी होता है जिनको प्रजनन के बाद दूध नहीं निकलता.

§ शीशम के पत्ते ( Rosewood Leaves ) : कुछ शीशम के पत्ते लें और उन्हें पीसकर लुगदी तैयार करें, इस लुगदी के स्तनों पर कुछ घंटे लगा रहने से स्तनों में दूध की मात्रा में आश्चर्यजनक तरीके से बढ़ोतरी होती है. जिसे नवजात शिशु पीकर अपने स्वास्थ्य को बनायें रख पाता है.

§ करेले ( Bitter Gourd ) : करेला खाने में तो बहुत कडवा होता है किन्तु इसके लाभ बहुत मीठे होते है, अगर माताएं ( जिनको दूध ना आने की समस्या है ) रोजाना इसकी सब्जी खाएं तो उनके स्तनों में जल्दी दूध खत्म नहीं होता. साथ ही अक्सर देखा गया है कि प्रजनन के बाद महिलाओं को जोड़ों में दर्द होना आरम्भ हो जाता है किन्तु करेला उनके शरीर को उर्जावान भी बनायें रखता है और उनके जोड़ों को भी स्वस्थ रखता है.

जानवरों में दूध की मात्रा कम होने पर ( Lack of Milk in Animals for Feeding ) :
·     शतावर ( Asparagus ) : अगर पशुओं में ये रोग पाया जाए तो उसे थनैला रोग के नाम से जाना जाता है. उनको भी इस समस्या से मुक्त कराने के लिए शतावर बहुत उपयोगी होती है. आप उन्हें उनके चारे में 50 ग्राम शतावर का चूर्ण मिलाकर दें और देखें तुरंत ही उन्हें इस रोग से निजात मिल जायेगी.
स्त्री के स्तनों में दूध बनाने के उपाय
स्त्री के स्तनों में दूध बनाने के उपाय
·     शीशम की लुगदी ( Rosewood Pulp ) : जिस तरह महिलाओं को शीशम की लुगदी अपने स्तनों पर कुछ घंटे लगानी थी ठीक उसी तरह पीड़ित पशु के स्तनों पर शीशम के चूर्ण से बनी लुगदी को 7 8 घंटों को लिए लगा रहने दें. इससे उनके स्तनों में भी दूध की मात्रा बढती है.

·     मुलेठी ( Liquorices ) : एक अन्य उपाय के अनुसार पशुओं को चारे में 100 ग्राम मुलेठी की जड़ का चूर्ण खिलाये. ये उपाय उनके पेट के विकारों को दूर करता है और उनके स्तनों में दूध की मात्रा को बढाने में मदद करता है. साथ ही जो इंसान इन पशुओं का दूध पीता है उनके भी शरीर के रोग दूर होते है और वे रोगमुक्त रहते है.

माताओं या पशुओं के स्तनों में दूध की कमी को पूरा करने के अन्य आयुर्वेदिक उपायों को जानने के लिए आप तुरन्त नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
Navjaat Bacche ke Mata ka Dudh Kam Hone Par
Navjaat Bacche ke Mata ka Dudh Kam Hone Par

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

15 comments:

  1. 2 mahine se maan ko doodh nahi ho raha hai bachche ko bahar ka doosh hazam nahi ho raha hai kya kiya jaye

    ReplyDelete
    Replies
    1. Aap bacche ke dudh mein chhot illaychi ke daane or uska patta alag krke ubaalen or fir thanda hone par bacche ko pilaayen. Isse dudh halka ho jaata hai or bacche ko pachane mein aasaani rahti hai. Fir bhi aapko koi doubt ho to aap dobara comment avashya karen.

      Sampark ke Liye Dhanyavaad
      Jagran Today Team

      Delete
    2. Doodh kaunsa dena hai gay ka ya bhains ka abhi to powder wala pila rahe the Farex

      Delete
    3. Wasiq ji,

      Gaay ka Dhoodh best hai lekin agar na mile to bhains ka Dhoodh jaror prayog karen ...

      Dhanyawaad

      Delete
    4. Teen din pehle bachcha janam hua hai
      Maa ko doodh nahi hota hai Kya karen

      Delete
  2. Sir,
    Ye safed elaichi hai kitne doodh men kitni matra honi chahiye

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ek glass dhoodh mein 1 ya 2 ilaichi bas ...

      Delete
  3. Hello..
    Ager koi pre mectour bacche h 7 month ..to un maa-o ko kya Dood deer se aay ga .aur kaise aayga

    ReplyDelete
  4. अगर एक स्तन से दूध न आये या स्तन न खुले तो क्या करे

    ReplyDelete
  5. सबा महीने तक माँ बच्चे को ठीक तरह से दूध पिला रही थी अब आचनक से माँ को दूध नही आ रहा प्लीज। ......... माँ को दूध आने लगे ऐसा कोई उपचार बता दिजिये

    ReplyDelete
  6. meri wife ke delivery operation se huyi he delivery ke bad baccha bhi svasth he or wife ko doodh bhi acche se ho raha tha kintu 15 din ke bad achank se stan me doodh hi nahi raha or baccha bhukha hi rah jata he. so please isaka koi upaay bataye

    ReplyDelete
  7. aap hame bataiye ki agar koi ouret 5 saal pahle miscerege ki wajh se maa na ban sake WO apne adopted bachche ko apna doodh pila sakti he plz tell me

    ReplyDelete
  8. Feed karane bali may kya alsi kha sakti hai

    ReplyDelete
  9. Mera bacha 6 month ka h usne mera dhudh pina band kr diya h to me kya kru plz batae

    ReplyDelete
  10. Mera 6 mahine ka bacha h pr wo sirf sote time hi mera dhudh pita h baki time nhi ab me kya kru jise wo mera dhudh kbhi bhi piye

    ReplyDelete

ALL TIME HOT