इस वेबसाइट पर किसी भी तरह के विज्ञापन देने के लिए जरूर CONTACT करें. EMAIL - info@jagrantoday.com

Paan se Ghatayen Motapa | पान से घटायें मोटापा | Use Betel to Reduce Obesity Fat

वजन कम करता है पान का सेवन ( Betel Can Reduces Weight )
मोटापे से लगभग हर तीसरा व्यक्ति परेशान है किन्तु क्या आप जानते है कि पान का सेवन आपकी इस समस्या को दूर कर सकता है. जी हाँ जिस पान का सेवन खाना खाने के बाद या शौकिया तौर पर अधिक किया जाता है उससे आपके वजन को घटाया जा सकता है, किन्तु ऐसा होता क्यों है? आपके ऐसे ही कुछ सवालों का जवाब आज हम अपनी इस पोस्ट में देने जा रहे है. CLICK HERE TO KNOW पान के औषधीय गुण ... 
Paan se Ghatayen Motapa
Paan se Ghatayen Motapa
·     खाने को हजम कर वजन बढ़ने से रोके ( Helps in Digestion of Food ) : पान पुराने समय से ही लोगों की पसंद रहा है पहले तो इसे रहिसों की पहचान तक समझा जाता है इसका उदहारण आप फिल्मों से ले सकते है जहाँ हर रहिस व्यक्ति के हाथ में पान से भरा एक डब्बा होता था और मुहँ पान की लाली से सना रहता था. पुराने जमाने में तो शादी में खाना खाने के बाद सबको पान भी दिया जाता था क्योकि ये खाने को पचाने में सहायक होता है. इसका सेवन करने से शरीर को खाना हजम करने की शक्ति मिलती है जिससे वजन नहीं बढ़ पाता.

·     पान में काली मिर्च ( Betel with Black Pepper ) : वहीँ अगर पान में काली मिर्च को भी मिला दिया जाएँ तो इसके गुणों में असरदार रूप से वृद्धि होती है और मोटापा कम करने के साथ साथ इसके कुछ अन्य स्वास्थ्य लाभ भी होते है. माना जाता है कि काली मिर्च वाला पान खाने से 8 हफ़्तों में आपका तोंद खत्म हो जाता है. लेकिन ध्यान रहे इसके लिए आपको सिर्फ पान का पत्ता और काली मिर्च ही खानी है नाकि उसमें सुपारी तंबाकू इत्यादि डलवाना है. CLICK HERE TO KNOW एक बार आजमायें वजन घटायें ... 
पान से घटायें मोटापा
पान से घटायें मोटापा
·     एसिडिटी होने से रोके ( Stops Acidity ) : एक स्टडी के दौरान पाया गया है कि पान का पत्ता बहुत शक्तिशाली गुणों से भरा होता है. ये शरीर के मेटाबोलिज्म को बढाने में सहायक होता है जिससे पेट में एसिडिटी नहीं होती. इसीलिए खाना खाने के बाद इसे सर्वोत्तम फिनिशर माना जाता है. ये मुहँ  में जाते ही थूक बनाना आरम्भ कर देता है, जिसके बाद ये पेट के पास सिग्नल भेजता है और पाचन तंत्र को खाना पचाने के लिए तैयार करता है. जैसे ही खाना पचना आरंभ होता है ये सभी विषैले पदार्थों को अलग करना आरम्भ कर देता है, इस तरह ये पेट की सम्पूर्ण देखभाल करता है.

·     भूख लगती है ( Increase Hunger ) : आयुर्वेद मानता है कि पान की पत्तियों से शरीर में मेधा धातु अर्थात बॉडी फैट का नाश होता है जो वजन कम करने में सहायक सिद्ध होता है. इसीलिए रोजाना नाश्ते के साथ पान का सेवन करने से सही से भूख लगती है, इसका कारण इसमें पाया जाने वाला यूजीनॉल अवयव होता है.
Use Betel to Reduce Obesity Fat
Use Betel to Reduce Obesity Fat
·     नींद लाता है ( Gives Good Sleep ) : वहीँ रात के भोजन के बाद पान में अजवायन और नमक मिलाकर खाने से अच्छी नींद आती है. इसमें मौजूद पेप्पेरिन तत्व सोते वक़्त भी पाचन क्रिया को चालु रखता है और मोटापे को बढ़ने नही देता. इसका एक लाभ ये भी होता है कि ये शरीर से पसीने और मूत्र दोनों को संतुलित मात्रा में बाहर निकालने में भी सहायक होता है. जिससे शरीर में ना तो अधिक गर्मी बनती है, ना गंदगी और ना अधिक पानी रहता है.

·     चयापचय बढायें कब्ज मिटाये ( Removes Constipation ) : जो व्यक्ति पान को चबा चबाकर खात है उनके मुहँ में अधिक लार बनती है और यही लार चायपचय को भी बढाती है, इसमें पाया जाने वाला फाइबर शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है और कब्ज की समस्या से राहत दिलाता है.

·     गले के लिए लाभदायी ( Beneficial for Throat ) : अगर किसी का गला बैठा हुआ है उन्हें पान के पत्ते में मुलेठी का चूर्ण डालकर खाना चाहियें या फिर रात को सोते समय आप 1 ग्राम मुलेठी के चूर्ण को मुहँ में रखकर चबाते रहें. सुबह तक आपका गला पूरी तरह साफ़ व खुल जाएगा. ये उपाय गले में दर्द या सुजन होने पर भी अपनाया जा सकता है. 
बड़े काम का होता है पान
बड़े काम का होता है पान
पान के पत्तों का प्रयोग सेवन ( Use of Betel Leaves ) :
·     सबसे पहले 1 पान का पत्ता लें, अब उसमें काली मिर्च के 5 साबुत दाने रखें और उसे मोड़कर मुहँ में डालें. अब आप इसे तब तक चबाते रहें जब तक की ये खत्म ना हो जाएँ. खाने में आपको ये थोडा तीखा जरूर लगेगा किन्तु वो इसके फायदों के आगे कुछ भी नहीं. आपको इस प्रयोग को 8 सप्ताह तक रोजाना खाली पेट करना है. इस बात को भी ध्यान रखें कि पान को धीरे धीरे चबाना है ताकि पान से बनने वाली लार पेट में अंदर तक जा सके और अपनी पौष्टिकता से पेट को लाभ पहुंचा सके.

·     सदा पान की ताजा पत्तियों का ही प्रयोग करें अर्थात पत्तियाँ हरी और नाजुक हो तो बेहतर होता है. पीली और सुखी हुई पत्तियाँ आपके किसी काम की नहीं क्योकि इनके सारे पौषक तत्व उड़ चुके होते है. वहीँ काली पत्तियों का अर्थ है कि वे सड चुकी है ऐसी पत्तियों के सेवन से आपके पेट को लाभ के स्थान पर हानि होती है.

पान के पत्तों से मोटापे को कम करने के अन्य उपाय तरीकों को जानने के लिए आप तुरंत नीचे कमेंट करके जानकारी हासिल कर सकते हो. 
Vajan Kam Kare Paan ka Sevan
Vajan Kam Kare Paan ka Sevan

Dear Visitors, आप जिस विषय को भी Search या तलाश रहे है अगर वो आपको नहीं मिला या अधुरा मिला है या मिला है लेकिन कोई कमी है तो तुरंत निचे कमेंट डाल कर सूचित करें, आपको तुरंत सही और सटीक सुचना आपके इच्छित विषय से सम्बंधित दी जाएगी.


इस तरह के व्यवहार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !


प्रार्थनीय
जागरण टुडे टीम

No comments:

Post a Comment

ALL TIME HOT